प्यार का रिश्ता (pyaar ka rishta) compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: प्यार का रिश्ता (pyaar ka rishta)

Unread post by raj.. » 29 Oct 2014 03:33

" जानते हो जब मैने तुम्हे तुम्हारी अफीशियल पार्टी मे पहली बार देखा तो पहली ही नज़र मे तुमको अपना सबकुछ बना बैठी..... मैने उसी पल सोच लिया था और ठान लिया था की एक ना एक दिन तुमको पा के रहूंगी..... " और उसी समय से मैं तुम्हारे पीछे लग गई..."

मुझे सब कुछ पता है तुम्हारे बारे मे... अब कुछ नही हो सकता ......" मैं तुम्हारी दासी हू तुम चाहे मेरे साथ जो भी करो मुझे मंजूर है"

मैने उससे कहा " शिवानी मुझे तुम्हारा शरीर तो अछा लगा पर जब हम दोनो मिले तो तुम्हारे लिए मेरे मन मे भी पवित्र प्रेम और भाव जाग गये" उसमे वासना कही दूर चली गई.....

और अब मैं भी उसको चूम रहा था हम दोनो दो शरीर एक हो कर एक दूसरे हुए किसे पेड़ पर जैसे लता चिपकती है ऐसी चिपके हुए थे उसके मम्मे मेरी छाती मे उसकी टाँगो के बीच मे मेरी जाँघ और मेरा लंड जो अब पूरा खड़ा हो चुका था उसके पेट पर गाड़ा हुआ था..... मैं शिवानी को चूमे जा रहा था और उसे लिपताए हुए उसकी पीठ और गर्दन और मस्त गांद सहलाए जा रहा था.. ना जाने कितनी देर तक हम दोनो ऐसे ही लिपटे रहे एक दूसरे की बाँहो मे.....

फिर मैने शिवानी को अपने से अलग किया और उसे साथ लेकर बेड पर आ गया ... हम दोनो अगाल-बगल बैठे थे बेड पर पैर ज़मीन मे लटकाए हुए.....

मैने शिवानी को बोला "बाथरूम कहा है...."

"वो उस तरफ.." एक दरवाजा की तरफ इशारा करते हुए शिवानी ने बताया

चोकी मेरा लंड तना हुआ था और मुझे लग रहा था कि शायद चुदाई हो तो कही जल्दी ना झाड़ जाऊ इसलिए मैं बाथरूम मे गया और मूठ मारकर वापिस आ गया ....

तब तक शिवानी ने भी कपड़े बदल लिए थे अब वो नाइट गाउन मे आ गयी थी.... कमरे मे हॉट ब्लोवर चालू था इसलिए ठंड का ऐएहसास नही हो रहा था....

मैं आकर जैसे ही पलंग पर बैठा तो शिवानी ने कहा मनु कपड़े बदल लो और मेरे को एक गाउन दे दिया.....

गाउन लेकर मैं फिर बाथरूम गया और अपनी जीज़्न्स, स्वेटर वगैरह उतारकर वो रोब पहनकर आ कर बैठ गया ....

मैने शिवानी से कहा " तुम इतने पैसे वाली रुतबे वाली होकर मुझ जैसे आदमी पर क्यों मर मिटी"

शिवानी ने कहा " देखो मनु तुम भले ही शादी शुदा हो पर एक औरत का दिल नही जानते'''

' एक औरत अपने लिए एक मजबूत बाहों का घेरा, दिल मे बहुत सा प्यार और इज़्ज़त की प्यासी होती है" और यह सभी के सभी मैने तुममे देखे....

मैने तुम्हारे दोस्तों का पता किया कोई मुस्किल नही हुई तुम्हारे बारे मे पता करने मे और सभी ने कहा की मनु आज के समय का इंसान नही है वो बहुत ही सीधा सादा और लविंग पर्सन है. मनु के दिल मे दूसरों के लिए दर्द है प्यार है वो हर कीमत पर अपना वादा निभाना जानता है.... बस फिर क्या था मेरी मन की मुराद पूरी हो गई....


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: प्यार का रिश्ता (pyaar ka rishta)

Unread post by raj.. » 29 Oct 2014 03:33

मैने निर्णय कर लिया की मेरा शरीर, मेरी आत्मा सब कुछ तुम्हे ही सोपूंगी... मैं तुम्हारी मीरा बन कर रहूंगी....

"शिवानी मुझे अपनी किस्मत पर विश्वास नही हो रहा की कोई इतनी खूबसूरत, इतनी सेक्सी और तो और रुतबे वाली लड़की मेरे पर मरसकती है"

'नही शिवानी नही...... प्लीज़ अपने आप को रोक लो नही तो इस प्यार के मारे मेरे दिल की धड़कन ही ना बंद हो जाए".....मैं इतना अछा नही हू जितना तुम सोचती हो मैं बहुत ही बुरा इंसान हू.....

" तुम जानते हो तुम्हारी सबसे बड़ी खूबी क्या है' शिवानी ने मुझे बेड पर लिटाते हुए कहा...."

"नही" मैने जवाब दिया....

यही की तुम बहुत ही भोले और दिल के सॉफ इंसान हो.....

शिवानी अब मेरे ऊपेर चड़ी चली आ रही थी एक तो उसका गदराया सोने जैसा बदन ऊपेर से उसके बंदन से उसके कवरेपन की आती मादक खुसबू और उसकी गरम जवानी और उसके रूम का माहौल मुझे नसीला बना रही थी मेरा लंड फिर से जवान हो गया था ....

शिवानी का बेड बहुत ही मुलायम और मखमली था और उपर से शिवानी का मखमली बदन अब मैं अपने आपे मे नही रह पा रहा था मैने भी शिवानी को अपने ऊपेर खींच कर उसके गर्दन पर कान के पीछे उसके बूब्स के ऊपेर गालों पर आँखों पर वेट किस करना शुरू कर दिया और साथ ही साथ शिवानी की चूत को अपने खड़े लंड पर दबा रहा था और उसके मस्त गांद की गोलैईयों को मसल रहा था..... वो तूफान दोनो तरफ उमड़ रहा था...

पर मैं यह प्रेम पवित्र रखना चाहता था... और इंतेज़ार कर रहा था की जब तक शिवानी ना कहेगी उसको चोदुन्गा नही .....

शिवानी की साँसे बहुत तेज़ चलने लगी थी.... उसके औंठ थरथराने लगे थे उसकी आवाज़ निकलनी बंद हो गई थी वो तो पागलो की भाँति अपना बदन मेरे बदन से रगड़ रही थी और उसने मेरे रोब खोल कर मेरे सीने पर किस करना चालू कर दिया था वो मेरे निपल चूस रही थी........ उसके ऐसा करने से मेरे लंड मे तनाव बढ़ता जा रहा था... मेरी प्रतिग्या मुझे टूत्तती हुई से नज़र आ रही थी...... पर शिवानी रुकने का नाम ही नही ले रही थी.....

" हा मनु.....ह्म्‍म्म्मममम ....ह्म्‍म्म्मम आइ......ल्ल्ल्लोवे. .. उउउ वेरी मच... मैं तुम्हारी हू मेरा शरीर तुम्हारा है मेरी आत्मा तुम्हारी है.......मनुव्व मुझे अपने मे समा लो.... प्ल्ज़्ज़ मनु.... मेरे को ना जाने क्या हो गया है मुझे नही पता..."

क्रमशः...................


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: प्यार का रिश्ता (pyaar ka rishta)

Unread post by raj.. » 29 Oct 2014 03:34

प्यार का रिश्ता --2

mai uske muh se pehli baar kisi chudwane jaise shabd ko sunkar chounk pada..... par maine koi bhaav uske saamne pradarshit nahi kiya......

"kya hua mere raja!!!! sann reh gaye kyaa mere muh se chudwane jaisa sabd sunkar" shivani gadi chalate hue meri taraf dekhe bina keh gai.......

" nahi aisa bilkul bhi nahi hai rani!!!.... maine wo kisi aur maqsad se poocha tha...."

" par jab tum badi berukhi se boli to mai chup ho gayaa'''''' khair koi baat nahi''''' maine kaha

thodi der gadi mai sirf kishore kumar ke romantic gaane gadi ke music system par bajte rahe... sabhi khamohs rahe......

tabhi shivani ne apna haath badakar meri gardan mai dalkar apni aur kheenchaa aur mere gaal par puppi de di..... ab ki baar mai vastav mai chaunk gaya thaa

" raja maine bahut bahut ladke aur aadmi dekhe tumse handsome bhi the par sab ke sab mujhe mere sharir ke bhooke nazar aaye par naa jaane tum me kya kasis hai mai samajh nahi paayi ab tak"

" madam apne aap ko sambhaliye jara!!!! aur kaboo mai rakhiye !! mai ek adad bibi ka pati aur do bachiiyon ka baap hoo" maine kaha.....

" yar tum bhi dakiyanoosi baatain karte hoo.......dosti aur pyar mai yeh sab nahi dekha jaata bas dil ki baat maani jaati hai aur tumhi ne to kaha tha ko tumhara jo dil kehta hai wo hi karte ho"

' ha maine kaha tha aur wo sahi bhi hai par kya hai na ki meri ek adat hai ki kisi apne ki bhavnaoo ka poora kadar karta hoo... wo chahe bb ho dost ho koi ho...."

"yeh batao mai kaun hu tumhari..." shivani ne achanak pooch liyaa

' dekho hum kuch ghanto pehle ek doosre ko bilkul bhi nahi jaante the par abhi aisa lag raha hai ki hum tum bahut purane sambandhi hai.......is naate ek achi si dost ...hmmmmmmmm. .. balki usse bhi jyada...." maine kaha.....

" kyaa yar shivani itni der se tum drive kare ja rahi ho..... kahi mera kidnap to nahi kar rahi.!?!'

" are jaani thoda sabar karoo....... abhi bas pahuchne hi wale hai"

usne gaadi ek paush coloney ke gate mai ander kar di waha bade hi sunder sunder bunglow bane hue the......

aise hi ek bungle ke gate ke same pahuch kar kisi suspance film ki bhanti usne 3 baar horn diya to gateman ne gate window se dekha aur gate khol diya.......

gadi jakar porch mai khadi ki aur hum utar gaye....

usne main gate khola aur kaha mere dilbar aaiye mere garib khane par aapka swagat hai.........

aur wo ander dakhil hokar mujhe bhi ander kiya.......