तीन घोड़िया एक घुड़सवार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:28

Phikar na karo dever ji ab tumhari mummy jaldi hi tumhe puri nangi hokar apni chut me tumhe sama legi, bas intjar karo, bhabhi u r very sweet aur ajay ne apni bhabhi ki moti chuchiya maslte huye uske sar ke peeche apna hath le jakar apni bhabhi ke chehre ko apne chehre ke pas lakar, bhabhi apni jeebh mujhe dikhao, aarti ajay ki ichcha samajh gai aur usne apni rasili jeebh jaise hi apne muh ke bahar nikali ajay ne apni bhabhi ki rasili jeebh ko apne muh me bharkar uska ras peene laga aur kas kas ke apni bhabhi ki chuchiyo aur chutado ko dabane laga. Do minute tak bhabhi ki jeebh chusne ke bad aarti ki chut me pani aa gaya, are dever ji tum chahe jab mujhe garam kar dete ho aur phir hum gharwalo ke dar se chudai bhi nahi kar pate aur mai tadapti rah jati hu. Are bhabhi lao me tumhari chut chat kar tumhe thoda aaram deta hu jaldi se apni sadi uthao me 5 minute ke liye darwaja band kar deta hu,

aarti ne jaldi se apni sadi kamar tak utha kar bed ke kinare mutne ke andaj me baith gai aur ajay bet ke neeche beth kar apni bhabhi ki mastani bhosdi ka ras jaldi jaldi chusne laga, do minute me hi aarti apni gand hilane lagi tab ajay ne apni bhabhi ko tange bed ke neeche jhulakar use ulta kar diya aur apni bhabhi ki moti gand ko phailakar chatne laga, tabhi aarti boli ajay ha bhabhi, ajay meri gand tum apni mummy ki moti gand samajh kar chato, tumhe bahut maza ayega, ajay thik hai bhabhi aba jay ne apni bhabhi ke mote chutado ko dono hatho se puri tarah pahilakar kalpna karne laga ki vah apni mummy ki moti gand ko puri nangi karke pahila phaila kar chat raha hai, vakai ajay ka maza daboul ho gaya aur vo kas kas kar apni bhabhi ki gand apni mummy ki moti gand samajh kar chatne laga, do teen minute me hi aarti kahane lagi ki vah jhadne wali hai to ajay ne apna land nikal kal apni bhabhi ki chut me peeche se pel diya aur kas kas kar dhakke marte huye kahne laga oh mummy teri chut marne me bada maza aa raha hai aah aah o mummy aah, udhar aarti bhi apni chut ki jabardast thukai se kahne lagi aur chod aur chod beta apni mummy ko phad de apni mummy ki mastani chut ko, khub chod beta apni mummy ko, kas kas ke apni mummy ki chut mar aur isi ke sath aarti jhadne lagi aur ajay bhi apni bhabhi ko apni ma samajh kar chod chod ke jhad gaya. Dono phataphat durust hokar aarti apne kamre me chali gai

Dopahar ko geeta apne bed par pade pade ajay ke land se chudne ke liye tadpne lagi, subhah ki ajay ke mote land ki vo chubhan apni gand aur chut me use rah rah kar mehsus ho rahi thi aura b vah kisi bhi tarah apne bête ka land apni chut me lene ke liye tarasne lagi aur sochne lagi kya ajay use chodega lekin kaise, phir usne socha ajay khud use chodna chahta hai agar ajay ko thoda moka diya jay to vah jarur apni ma ki chut marne ko taiyar ho jayega, bas mujhe ajay ko apni nangi chut ke darshan karwane ka moka dena hoga, agar ajay ne uski nangi chut ko karib se dekh liya to vah jarur apni ma ki chut marne ko taiyar ho jayega, geeta ne socha vaise bhi vah apni ma ki panty ko kaise sungh sungh ke apna land hila raha tha, matlab vah apni ma ki chut ko sunghna aur chatna bhi chahta hai, yah vichar geeta ke man me aate hi uski chut me ek bhayanak khujli hone lagi aur vah aankhe band karke us seen ki kalpna karne lagi ki kaise uska apna beta uski nangi chut ko sungh sungh ke chat raha hai. Geeta in sab bato ko soch soch kar apne bête ke nam ki ek jordar muth mar chuki thi aur phir apne bête ke mote land se chudne ke khwab dekhti so gai..

Agle din vijay teen din ke liye out of city chala gaya, ajay ke papa office ja chuke the ajay sophe par baitha baitha apni mummy, bhabhi aur apni bahan rashmi ko ghar ka kam karte huye dekh raha tha, kabhi uski bhabhi aarti apne mote doodh hilati hui idhar se udhar hoti, kabhi uski bahan rashmi apne mote chuche aur must gori gori pindliya ko apne chhote se skirt jo ghutno ke upar tak hota tha se apni bahan ki uthti jawani ko niharta aur kabhi uski mummy geeta apne mote mote phaile huye chutad matkate huye ghar ke kam kar rahi thi, ajay sophe par news paper lekar bas chori chori un teeno mastani ghodiyo ko dekh dekh ke apna land masal raha tha, bhabhi aarti aur bahan rashmi uske pas se jab bhi gujarti to ek chudas se bhari hui smile de deti aura jay bhi apna land maslte huye muskura deta, tabhi rashmi ajay ke samne baith kar pharsh par pocha lagane lagi, uske baith kar ponchha lagane se uski mast makhmali janghe aur white panty mai kasi uski mast phuli hui bur ka ubhar ajay ko saph dikhai dene laga aura jay apna land masalte huye apni bahan ki jangho ki gahrai mai apni najre gadaye huye apni bahan ki uthati hui jawani ka ras apni aankho se peene laga, rashmi ne jab dekha ki ajay uski jangho ki jado mai dekh kar apna land masal raha hai to rashmi ke chehre par muskan phail gai, tabhi rashmi ko jane kya sujha ki vah uthkar bathroom mai gai aur thodi der mai vapas aakar phir ponchha lagane lagi ajay ne jaise hi rashmi ki jangho ki jado mai dekha uska land buri tarah jhatke marne laga jise dekh rashmi ne ajay ki taraph aankh mar kar muskurane lagi. Darasal rashmi bathroom mai jakar apne chutado par kasi hui panty ko utar kar kewal skirt mai hi bahar aagai aur apni dono jangho ko ajay ki aur karke pochha lagane lagi jisse ajay ko apni bahan ka phula hua pura bhosda najar aane laga aur vah apni bahan ki gulabi chut aur uski phuli hui phanke jo ki ab vipreet disha mai phail kar pure rasile bhosde ko khole huye thi, ajay ka land jhatke mar raha tha, kuch der bad rashmi pochha lagakar hasti hui ajay ke samne se chali gai, aur phir balkani mai jakar apne hath raling par tika kar khadi ho gai jisse uski moti moti gand peeche ki taraph uth gai, ajay ne dekha mummy bathroom mai kapde dho rahi hai vah chupchap apni didi ke pas jakar khada ho gaya aur apna hath rashmi ki skirt ke andar ghusa kar uski moti moti gand aur gand ke beech ki gahrai mai apna hath phairne laga, rashmi muskurate huye road par dekhti hui apne bhai se apni gand maslwane ka nanad lene lagi, kuch hi der mai ajay ne peeche se hi apni didi ki chut ke chhed mai apni ek ungli gusa kar dabane laga, rashmi ka chehra lal shurkh ho gaya aur uski chut se ras rista hua uski jangho ke sahare bathe huye uske ghutno tak aane laga, rashmi ne ek bar apne bhai ke land ko kas kar daba diya aur phir apni chut ka pani apne hatho ki ungli se ponchti hui ajay ko apni ungli dikhane lagi ajay ne jhat se apni didi ki chut ras se bhigi ungli ko apne muh mai lekar chat liya, rashmi muskurate huye andar bhag gai, aur bhabhi ke pas kichan mai ja kar bate karne lagi.

Tabhi geeta ne bharhroom se ajay ko aawaj di beta jara idhar aao, ajay bathroom mai aakar ha ma kya hai, geeta bête ye dhule huye kapde chat par sukhane ke liya dal dena bas do char aur dho du do minute ruko, geeta apni sadi ko apne ghutno ke upar tak karke kapde dho rahi thi aur uski moti chuchiyo se uska pallu hata hua tha aur blause ke do batan khule huye the, jisse geeta ki aadhi se jyada moti moti chuchiya blause se bahar nikli aa rahi thi, ajay apni ma ki mastani jangho aur moti moti chuchiyo ko dekh kar vahi ma ke samne baith gaya aur apni aankhe phad phad ke apni ma ke gadraye badan ko dekhne laga, geeta jab kapdo ko brash se ghisti to uski moti moti chuchiya puri tarah hilne lagti thi aur ajay ke muh mai pani aane laga, geeta apne bête ki najro ko samajh chuki thi aur vah khadi hokar apni sadi aur blause bhi nikal kar balti mai jhuk kar galane lagi ajay apni ma ko white color ki bra aur petikot mai dekh kar uska land jhatke dene laga, phir geeta ne apne petikot ko apni moti jangho tak chadha kar ajay ke samne baith gai, ajay kin ajar petikot ke andar tak ka jayja lene lagi aur use apni ma ki chut ki jhalak milne lagi, matlab vah panty nahi pahne thi geeta ne side mai padi apni panty uthai aur dho kar ajay ke samne hi balti mai rakh diya ajay bade gor se apni ma ke adhnange jism ka ras apni aankho se peene laga, geeta bête kya dekh raha hai, ajay ma mai dekh raha hu meri pyari ma kitna kam karti hai, ha bête vo to hai, par beta in sab kamo se meri kamar aur hath pairo mai kaphi dard hone lagta hai aur apne aur ek angdai lete huye geeta ne bra mai kaid apni moti moti chuchiyo ko bilkul ubhar diya aura jay ki aur dekhne lagi, ajay ne apni ma ki bra mai kaid madak golai ki aur dekhte huye ma tum mujhse kah diya karo mai tumhara pura badan daba dunga tab tumahare badan ka sara dard khatam ho jayega, geeta beta mai to kab se apne badan ko tujhse dabwana chahti hu lekin tu kaha apni ma ka khyal karta hai, ajay nahi ma aaj se roj rat ko pahle mai tumhara pura badan achche se dabaya karunga uske bad hi tum sona, par bête mai to chahti hu ki tu dono time mere badan ko achche se daba diya kar taki mere badan mai jo dard uthne laga hai vo jaldi hi khatam ho jaye, kyo nahi ma aaj se mai dono time tumhare pure badan ko achchi tarah daba kar tumhare badan ka sara dard dur kar dunga, aur geeta ne kapde dete huye ajay ko kaha le beta inko chat par dal aa mai ab naha leti hu, thik hai ma, ajay jaise hi khada hua uske khade land ko dekh kar geeta sihar gai, aura jay jaldi se kapde lekar apna land maslte huye chat ki aur chala gaya,

kramashah.....................

.


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:29

raj sharma stories

तीन घोड़िया एक घुड़सवार--8

गतान्क से आगे...................

कपड़े डालते हुए अजय अपनी मा की पॅंटी निकालकर उसे पागलो की तरह सूंघने लगा, तभी छत पर आरती आ गई और उसने अजय को अपनी मा की पॅंटी सूंघते हुए देख लिया और मुस्कुराते हुए इतना मत तड़पो मेरे देवेर जी अपनी मा की पॅंटी सूंघने के लिए अब तो जल्दी ही तुमको सीधे अपनी प्यारी मम्मी की चूत सूंघने को मिलने वाली है और अजय के मोटे डंडे को अपने हाथो से मसल दिया, फिर दोनो देवेर भाभी नीचे आ गये, नीचे आकर आरती अपने रूम मे चली गई, तभी रश्मि अजय के पास आकर क्यो भैया तुझमे तो बड़ा ही दम है, अजय वो क्यो, रश्मि अपने भाई के पाजामे के अंदर हाथ डाल कर उसके लंड को मसलते हुए वो इसलिए कि तू मुझे चोदने के बाद भी अपने रूम मे मम्मी के नाम की मूठ मार लेता है, अजय रश्मि की मोटी गंद की दरार मे हाथ फेरते हुए क्या करू दीदी जिसका लंड अपने घर की सारी औरतो को चोदने का करेगा उसको तो दिन भर ही मूठ मारना पड़ेगी, रश्मि अजय का लंड मसलते हुए अच्छा ये बता मम्मी को नंगी देखना है, जा जल्दी जा मम्मी बाथरूम मे पूरी नंगी होकर नहा रही है मैं भाभी के रूम मे जा रही हू, और रश्मि मुस्कुराते हुए आरती के रूम की ओर अपनी मोटी गंद हिलाते हुए चल दी, अजय मुस्कुराता हुआ उसकी लहराती गंद देखता रहा, फिर अजय जल्दी से जाकर बाथरूम के दरवाजे के छेद से अपनी आँखे सटा देता है, अंदर गीता खड़ी खड़ी अपने पूरे नंगे बदन पर साबुन लगा कर कभी अपने मोटे चुचो को मसलती कभी अपनी चूत को रगड़ती और कपभी अपनी मोटी गंद की दरार मे साबुन लगा लगा कर अपने गंद के छेद को अपनी उंगलिओ से दबा रही थी अजय ने वही अपना लंड बाहर निकाल लिया था आज सुबह से ही वह काफ़ी उत्तेजित था अपनी मम्मी की गदराई जवानी देख देख कर वही अपना लंड हिलाने लगा, और जब तक गीता नंगी नहाती रही वह अपनी मा को नंगी देख देख कर मूठ मारता रहा और फिर अपना पानी वही गिरा कर चुपचाप सोफे पर आकर बैठ गया,

रात को अपनी प्लॅनिंग के हिसाब से अजय ने अपने पापा के दूध मे दो नीद की गोलिया चुपके से मिला दी, जिसे बाद मे गीता ने अपने पति राजेश को दे दिया, अजय रात को 10 बजे के बाद रश्मि के रूम मे आ गया और चुपके से खिड़की खोल कर परदा सरका दिया, रश्मि अपनी फ्रेंड द्वारा दी गई सेक्स की किताब को पढ़ कर रही थी अजय को देखते ही वह उठ कर बैठ गई, अजय मेरी प्यारी दीदी क्या पढ़ रही है, भैया ये राज शर्मा की चुदाई की कहानी की किताब है मेरी सहेली नेहा ने मुझे दी थी, अजय इसमे किस किस्म की स्टोरी है, रश्मि भैया इसमे एक भाई अपनी बड़ी बहन को कैसे चोद्ता है उसके बारे मे लिखा है, अजय रश्मि की मोटी चुचियो को दबाते हुए अरे दीदी अब आपको स्टोरी पढ़ने की क्या ज़रूरत है आपका भाई तो सीधे भाई बहन की पिक्चर ही बना रहा है, अरे मेरे प्यारे भाई अजय का लंड अपने हाथो से मसल्ते हुए, जब मैं यह स्टोरी पढ़ती हू तो मुझे ऐसा लगता है जैसे तू मुझे चोद रहा है और अपनी चूत सहलाते सहलाते यह स्टोरी पढ़ने मे बड़ा मज़ा आता है, उसके बाद जब मैं तुझसे अपनी चूत मरवाती हू तो एक अलग ही मस्ती मेरे पूरे बदन मे दौड़ जाती है, सच दीदी मुझे भी अपनी प्यारी दीदी की चूत मारने मे बड़ा मज़ा आता है, रश्मि अजय का हाथ अपनी चूत के उपर दबाते हुए तो मार न मेरे भाई अपनी दीदी की चूत मैं तो कब्से अपनी चूत खोले बैठी हू अजय इतना सुनते ही अपनी दीदी की फूली हुई चूत पे अपना मूह रख कर चाटने लगता है, रश्मि बड़े प्यार से अपने भाई के बालो मे हाथ फैरने लगती है, रश्मि अजय रुक ज़रा और घूम कर घोड़ी बन जाती है ले अजय अब पीछे से चाट और साथ साथ मेरी गंद का छेद भी चाटना, अजय अपना मूह अपनी दीदी की गंद के दोनो पाटो को फैला कर उसकी गंद से लेकर चूत तक चटाई शुरू कर देता है और रश्मि सीसीयाने लगती है, अजय अपनी दीदी की गंद और चूत दोनो को अपने हाथो से फैला फैला कर चाटने लगता है, रश्मि आह आह की आवाज़ निकालने लग जाती है, थोड़ी देर तक अजय से अपनी चूत और मोटी गंद चटवाने के बाद रश्मि पलटकर झट से अजय का लंड अपने मूह मे भर कर लॉलिपोप की तरह चूसने लग जाती है और अजय अपनी दीदी के मोटे मोटे आमो को अपने दोनो हाथो से दबोच दबोच कर उनका रस निकालने लग जाता है, दीदी तुम लंड चूसने मे बहुत एक्सपर्ट हो रश्मि लेकिन भैया तुझसे अच्छी चूत कोई नही चाट सकता है, एक बार तू जिसकी चूत चाट ले वह तुझे दिनभर अपनी चूत मे ही तेरा मूह घुसेडे पड़ी रहेगी, अजय क्या मैं इतनी अच्छी तरह से चूत चाट ता हू,

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:30

रश्मि हाँ भैया तेरी चूत चटाई से तो कोई भी औरत पागल हो जाएगी, अजय मम्मी भी, रश्मि हाँ भैया तू मम्मी की चूत एक बार अगर चाट लेगा ना तब मम्मी तुझे बेटा बेटा करती करती दिन भर अपना भोसड़ा फैला कर दिन रात तेरा मूह अपनी फूली हुई चूत से लगाए रहेगी, वैसे भी मुझे लगता है आजकल मम्मी की चूत तेरे नाम से कुछ ज़्यादा ही बहने लगी है, कैसे भी करके एक बार तू मम्मी की चूत चाट ले फिर देखना जैसे उसने बचपन मे तुझे अपना दूध खूब पिलाया है अब जवानी मे तुझे अपनी चूत भी खूब पिलाएगी, ओह मेरे प्यारी बहन और रश्मि के गुलाबी होंठो को अपने मूह मे भर कर चूसने लगता है, रश्मि अच्छा भीया एक बात बता, अजय हाँ बोलो दीदी, अजय तुझे अपनी भाभी कैसी लगती है, अजय कुछ सोचते हुए अच्छी लगती है क्यो, अरे अच्छी लगने से मतलब क्या तू भाभी को भी चोदना चाहता है, अजय दीदी चोदना तो चाहता हू पर क्या भाभी मुझसे चुदवाने को राज़ी हो जाएगी, रश्मि ये तो पता नही पर भाभी का फिगर भी मस्त है, और वो मुझे काफ़ी सेक्सी नज़र आती है, अजय वो कैसे, मैने कई बार उन्हे अपनी चूत मे पड़े पड़े उंगली करते देखा है, अजय फिर तो भाभी भी ज़रूर खूब चुदास से भरी होगी, अजय अगर भाभी की चूत तुझे चोदने को मिल जाए तो, अजय फिर तो दीदी मे भाभी को पूरी नंगी करके कस कस कर उसकी चूत मारूँगा जैसे तुम्हे चोद्ता हू, और फिर तुम्हे और भाभी को दोनो को नंगी कर के एक साथ तुम दोनो को चोदुन्गा, और रश्मि की चुचियो के निप्पल अपने होंठो से चूसने लगता है और रश्मि अपने भाई के मोटे लंड को मूह मे भर कर पीने लगती है, तभी चुपके से दरवाजा खोल कर अंदर आ जाती है और रश्मि और अजय अपनी भाभी को देख कर एक दम से अलग हो जाते है,

आरती नाटक करते हुए रश्मि ये क्या कर रही है, तुझे शर्म नही आती अपने सगे भाई के सामने नंगी होकर उसका लंड चूस रही है, और अजय तुझे शर्म नही आई अपनी सग़ी बहन के साथ इस तरह नंगे होकर चिपकने मे, मैं अभी जाकर मा जी को सब बता देती हू, अजय और रश्मि दोनो उठ कर भाभी के पैरो मे गिर जाती है, और नही भाभी ऐसा गजब मत करना हमे माफ़ कर दो भाभी अब हम ऐसा कभी नही करेगे प्लीज़ हमारी पहली ग़लती समझ कर माफ़ करदो, रश्मि बनते हुए मैं तुम्हे एक ही शर्त पर माफ़ कर सकती हू, रश्मि वो क्या भाभी, आरती तुझे अब मेरे सामने ही अपने भाई का लंड चूसना होगा मैं देखना चाहती हू कि कैसे ईक बहन अपने सगे भाई के लंड को चुस्ती है, रश्मि अपनी गर्देन नीचे कर लेती है, आरती चुस्ती है या मैं जाउ मा जी के पास, रश्मि नही भाभी और धीरे से ज़मीन पर बैठते हुए अजय का लंड अपने मूह मे लेकर चूसने लगती है, अजय और आरती दोनो की नज़रे एक दूसरे से मिलती है और दोनो के चेहरे पर एक कुटिल सी मुस्कान फैल जाती है. आरती जल्दी से अपने कपड़े उतार कर रश्मि के पीछे अपने दोनो पैरो के पंजे पर बैठते हुए उसकी मोटी मोटी चुचियो को अपने हाथो मे पकड़ लेती है और अपनी बड़ी बड़ी चुचियो को रश्मि की पीठ पर दबाने लगती है, अपनी भाभी की इस हरकत से रश्मि सिसकते सिसकते अजय का लंड कस कस कर चूसने लग जाती है आरती अपना एक हाथ नीचे लेजकर रश्मि की चूत के छेद मे अपनी दो उंगलिया एक साथ पेल देती है रश्मि सिहर उठती है और अजय का लंड छ्चोड़ कर पलट कर अपनी भाभी से बुरी तरह चिपक जाती है और अपनी भाभी के रसीले होंठो को चूसने लग जाती है. आरती ज़मीन पर पालती मार कर बैठ जाती है और रश्मि आरती की कमर के आस पास अपनी दोनो टाँगे करके अपनी भाभी की गोद मे चढ़ जाती है, और दोनो एक दूसरे के कभी होंठो को चुस्ती है कभी एक दूसरे की मोटी मोटी चुचियो की चुस्ती और दबाती है, तभी अजय अपनी भाभी और दीदी के मूह के पास आकर अपना लंड दोनो के मूह के बीच रख देता है, अब नज़ारा यह रहता है कि आरती पालती मारे ज़मीन पर बैठी है उसकी ननद अपनी दोनो टाँगे फैलाए अपनी भाभी की गोद मे चढ़ कर बैठी है और दोनो ननद भाभी अजय के मोटे लंड को दोनो और से चूसना शुरू कर देते है और साथ ही दोनो ननद भाभी एक दूसरे की चुचिया भी दबाने लगती है. फिर आरती अजय के लंड की टोपी चूसने लगती है और रश्मि अपने भाई की बाल्स को अपने मूह मे भर कर चूसने लगती है इस तरह जब दो दो मूह से अजय के लंड की चूसा होती है तो वह आनंद के गहरे सागर मे गोता खाने लगता है, दोनो ननद भाभी मे लंड और बाल्स चूसने की एक होड़ सी लग जाती है, अजय अपने सामने दो दो नंगी जवान घोड़ियो की कामुकता देख कर मस्त हो जाता है.

इधर गीता पड़े पड़े अपनी पॅंटी उतार कर अपनी चूत सहलाती हुई काफ़ी देर से गरम हो रही थी और सोच रही थी कि आज तो राजेश भी जल्दी ही सो गया है और ना भी सोता तो कॉन सा मुझे ठंडी कर देता, उसे रह रह कर लंड की चाहत महसूस हो रही थी उसे बार बार अपने बेटे के मोटे लंड की याद सता रही थी और वह मन ही मन सोच रही थी अजय का लंड कितना मोटा है, कैसे अजय उसकी पॅंटी सुन्घ्ता है जब भी मेरे पास बैठता है कैसे मा मा कहता हुए मुझे अपनी बाहो मे कस लेता है हे उस समय मुझे भी कितना मज़ा आता है, पर वह आगे क्यो नही बढ़ता है, मेरी चूत अपने हाथो मे भर कर क्यो नही दबाता है, मेरी गंद तो वह कई बार सहला देता है, मैं जब कपड़ो मे अपने बेटे को इतनी अच्छी लगती हू तो उसे नंगी कितनी अच्छी लगुगी, वो भी मुझे नंगी देखने के लिए तरसता होगा पर क्या करू कुछ समझ मे भी नही आता उपर से घर मे सभी लोग रहते है, अपनी चूत मसलते हुए हाय एक बार कैसे भी करके चोद दे बेटे अपनी मा को, और चूत तेज तेज घिसने लगी, तभी उसने सोचा क्यो ना अजय के रूम मे झाँका जाय शायद अजय अपना लंड निकाल कर हिला रहा हो और उसे कम से कम उसके मोटे तगड़े लंड के दर्शन ही हो जाएँगे तो वह भी शांति से मूठ मार सकेगी, बस यह ख्याल आते ही उसके कदम अपने बेटे के रूम की ओर चल पड़े,