कमीना compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कमीना

Unread post by rajaarkey » 10 Nov 2014 13:44


payal- ravi kya kar raha hai abhi chod dega kya apni didi ko
ravi- ha didi me to kab se tumhe chodane ke liye tadap raha hu
payal- pagle abhi mujhe chod kahi bhabhi na dekh le, yah sab rat ko karege
ravi- payal ke hontho ko chumta hua, thik hai didi jaisa tum kaho aur phir ravi bahar aa jata hai, jab ravi bahar aata hai
to nisha uske chehre ko gaur se dekhti hai aur ravi usko dekh kar muskurata hua uske samne aakar baith jata hai

ravi- kya dekh rahi ho bhabhi
nisha- muskuraate hue dekh rahi hu ki apni didi ki ek aawaj me kaisa bhaga-bhaga jata hai
ravi- muskuraate hue, kabhi aap bhi aawaj dekar dekho aapke liye to isse bhi tej dod kar aa jauga
nisha- mujhe to teri kisi bhi help ki jarurat hi nahi hai
ravi- apna koi kam karwa kar to dekho bhabhi phir aapko hamesha meri hi help ki jarurat padegi
nisha- kyo tu itna expert hai kya
ravi- muskurata hua bhaiya se bhi jyada expert hu me kabhi aajma kar dekho aap bhi yaad karogi
nisha- achcha itna vishwas hai apne aap par
ravi- apne aap par nahi apne kam karne ke tarike par
nisha- muskuraate hue aisa kya tarika use karta hai tu
ravi- bhabhi vah to me kar ke hi dikha sakta hu kabhi moka do to bata
nisha- muskuraate hue sochungi
ravi- are bhabhi isme sochna kya, bas ek bar ishara karo banda hajir ho jayega
nisha- aur agar tere bhaiya ne kaha ki ravi se koi bhi kam kyo karwati ho to phir
ravi- are bhabhi bhaiya ko batane ki jarurat hi kya hai
nisha- aur agar unhe phir bhi pata chal gaya to
ravi- bhabhi aap itni to samajhdar hai hi ki bhaiya ko kya pata lagna chahiye aur kya nahi yah tay kar le
nisha- muskura kar tujhe meri help karne me badi dilchaspi hai
ravi- apne man me bhabhi tumhare jaisa gadraya mal jab samne ho to kiski dilchaspi nahi hogi tumhe chodane me,
ravi- kya karu bhabhi mujhe apne ghar ki aurto ki help karne me bada maza aata hai
nisha- apni didi ki bhi help karta hai kya
ravi- muskura kar aapko kya lagta hai
nisha- apne man me sochti hui mujhe to lagta hai kamine tu apni didi ko jarur chodata hoga, tere hontho par lagi lipstick
is bat ka sabut hai, payal dikhne me to badi bholi banti hai par mujhe ab yakin ho gaya hai ki tu jarur use chodata hai aur
vah bhi khub kas kar tujhse apni chut marwati hai,
ravi- kya hua bhabhi kya sochne lagi
nisha- kuch nahi me to yah soch rahi thi ki payal kya teri help lene ko taiyar ho jati hogi
ravi- kyo kya burai hai mujhme
nisha- vahi to me soch rahi hu
ravi- bhabhi ab jyada socho mat jaldi se koi phaisla lo
nisha- kyo tujhe badi jaldi hai meri help karne ki mujhe to abhi teri help ki jarurat nahi hai ha payal ko jarur teri help ki
jarurat padti hogi

ravi- nisha ki gadaraai jawani ko upar se niche tak kha jane wali najro se dekhta hua, bhabhi aapko dekh kar to aisa lagta
hai ki aap ko bahut jyada meri help ki jarurat hai
nisha- ravi ki bat sun kar uski aankho me ghurti hui mujhe teri help ki abhi koi jarurat nahi hai
ravi- nisha ke mote-mote doodh ko dekhta hua lagta hai bhabhi aap meri help lene me dar rahi hai
nisha- bhala me kyo darne lagi tujhse
ravi- nahi bhabhi aap jarur dar rahi hai nahi to aapka andaj to yahi sabit karta hai ki aap bhi meri help lene ke liye mari
ja rahi hai
nisha- tujhe kya malum me mari ja rahi hu ya nahi
ravi- agar aap mari nahi ja rahi hai to phir me aapko itna achcha kyo lagta hu
nisha- usko ghur kar dekhti hui kisne kaha ki tu mujhe achcha lagta hai
ravi- didi hi kah rahi thi
nisha- ashcharya se ravi ko dekhti hui kya kah rahi thi payal
ravi- yahi ki ravi bahut hi achcha ladka hai apne bhaiya se bilkul alag hai aur me aisa hi dever chahti thi jo din bhar
mera khyal rakhe
nisha- mene aisa kab kaha payal se
ravi- achcha to kya me jhuth bol raha hu, abhi me didi ko bula kar puchwa deta hu ki usne aisa kaha tha ki nahi mujhse
nisha- nahi-nahi rahne de ho sakta hai mene kaha ho, mujhe thik se yaad nahi hai
ravi- muskrata hua, to ab sach-sach bataao me aapko achcha lagta hu na
nisha- ravi ki bat sun kar muskuraate hue apne munh se hi apni tarif karwa raha hai mujhse
ravi- please bhabhi ek bar to bata do
nisha- muskura kar kya bata du
ravi -yahi ki aap mere bare me kya sochti ho
nisha- muskura kar "tu bahut bada kamina hai"
ravi -muskuraate hue to phir bhabhi ab ye bhi bata do ki is kamine ko kab moka dogi apni help karne ka me bahut tadap
raha hu aapke liye, mera matlab hai aapki help ke liye
nisha- muskura kar ravi tu aisa soch bhi kaise leta hai ki me tujhse....
ravi- bhabhi me to aapke liye bahut kuch sochta hu
nisha- usko dekhti hui kya sochta hai
ravi- muskura kar uske samne hi uske mote-mote doodh ko kha jane wali najro se ghurta hua, bata du
nisha- apni najre churate hue, kya
ravi- yahi ki me aapke bare me kya sochta hu
nisha- usko ghur kar dekhti hui, nahi koi jarurat nahi hai, me sab janti hu tu kya sochta hai
ravi- muskuraate hue to phir aap hi bata do me kya sochta hu
nisha- mujhe nahi malum
ravi- muskurata hua, thik hai bhabhi aap to mujhe kuch nahi bataaogi par me bhi sab janta hu ki aap mere liye kya sochti
hai, aur me yah bhi janta hu ki aap mere room ke darwaje par khadi -khadi kya dekh rahi thi
nisha- uski bat sun kar ek dam se sakpaka jati hai aur kya-kya dekh rahi thi me, mene kab dekha, me thode hi vaha thi
ravi- bhabhi aap kitna hi chupa lo mene to aapki us bat ko didi ko bhi bata diya hai

nisha- ek dam ghabrakar kya bata diya hai tune payal se
ravi- apni bhabhi ka ghabraya hua chehra dekh kar are bhabhi itna ghabra kyo rahi ho me to majak kar raha hu, mene
didi ko kuch nahi bataya hai ki aap us waqt kya dekh rahi thi chup kar
ravi- ki bat sun kar nisha kuch sharma jati hai aur apni gardan niche karti hui apni najre jhuka leti hai
ravi baitha-baitha nisha ko dekhta rahta hai aur phir nisha jab apni najre utha kar ravi ko dekhti hai to ravi ek dam se
nisha ko aankh mar deta hai aur nisha sharm se pani-pani ho jati hai, ravi uth kar nisha ke pas jakar baith jata hai aur
nisha apni najre jameen se gadaye rahti hai
ravi- bhabhi, aur nisha apni najre utha kar ravi ko dekhti hai uska chehra aisa dikhai de raha tha jaise usko kisi ne range
haatho chori karte hue pakad liya tha,
ravi- nisha ki aankho me dekhte hue, bhabhi aap bahut khubsurat ho, nisha uski bat sun kar apni najre niche karti hai
to ravi uski thodi ko apne haatho se pakad kar uske chehre ko upar uthata hai aur bhabhi i love u
ravi ki bat sun kar nisha uth kar jane lagti hai to ravi uska hath pakad leta hai aur
ravi- bhabhi kaha ja rahi ho
nisha- apne hath ko chudane ki koshish karti hui mujhe jane de ravi
ravi- kahda hokar nisha ke haatho ko kas kar pakadta hua uski moti gaanD se apne lund ko satata hua, bhabhi phir mujhse
kab apni help karwaogi
nisha- apne hath ko chuda kar usko sofe par dhakelti hui muskura kar kabhi nahi aur apne mote-mote chutaDo ko
matkati hui payal ke room ki aur jane lagti hai,
ravi- piche se aawaj lagata hua, bhabhi agar aapne mujhse help nahi karwai to me aap wali bat didi ko bata dunga
nisha ravi ko kuch kahti usse pahle hi payal room se bahar aati hui
payal- kya bata dega ravi
payal ki bat sun kar nisha ke hosh ud jate hai aur vah ravi ko na me gardan hilate hue use ishare se chup rahne ko
kahti hai
ravi- nisha ko muskuraate hue dekh kar kuch nahi didi me tumhe bad me batauga
payal- kya bat hai abhi bata na
ravi- nahi didi abhi nahi pahle bhabhi se to puch lu ki me tumhe batau ki nahi
payal- off ho paheliya kyo bujha raha hai batana hai to bata nahi to mat bata uar bhabhi ke pas aakar bhabhi aap hi
bataao kya bat hai
nisha- ghabrate hue kuch nahi, ravi to majak kar raha hai, aur ravi ko ghur kar dekhti hui, hai na ravi
ravi- bhabhi pahle bolo help ka jawab yas hai ya no
nisha- usko ghur kar dekhti hui ha, ha yas hai ab to khus
ravi- are didi me to majak kar raha tha darasal mene bhabhi se ek paheli puchi thi aur bhabhi uska jawab nahi de pai
aur shart ke mutabik me ab jo bhi bhabhi se maguga bhabhi ko mujhe dena padega
kramashah.........................




rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कमीना

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 03:13

कमीना--21

गतान्क से आगे.............................

रवि- निशा को देख कर क्यो भाभी मे जो भी मांगूगा आप दोगि ना

निशा- रवि की ओर देख कर मुस्कुराते हुए, हाँ, हाँ जो तुझे चाहिए ले लेना

रवि- निशा की गदराई जवानी पर उसकी आँखो के सामने ही नज़र मारते हुए, भाभी तुम जानती हो मुझे क्या चाहिए, अब

बाद मे जब मे मांगूगा तो मुकरना नही, नही तो और पायल को बता देने का इशारा करता है और निशा की ओर मुस्कुरा

कर आँख मारता हुआ अपने रूम मे चला जाता है

उसके जाने के बाद निशा गहरी सांस लेती हुई पायल बड़ा ही कमीना है तेरा भाई

पायल- क्यो क्या हो गया भाभी, सच पूछो तो मे आप दोनो की गोल मोल बात को समझ ही नही पाई

निशा- पायल को देख कर मुस्कुराते हुए यह सब तेरा ही किया धरा है तू क्या-क्या कहती रहती है रवि से मेरे बारे मे

पायल- निशा को आश्चर्या से देखते हुए मेने क्या कहा है

निशा- अब जाने दे, मुझे तो तूने फसा ही दिया है

पायल- अरे भाभी मुझे सच मे कुछ नही मालूम आख़िर हुआ क्या है

निशा- वो सब छोड़ मे तुझे बाद मे बताउन्गि पहले यह बता कि रवि को क्यो बुलाया था अपने कमरे मे

निशा की बात सुन कर पायल एक दम से झेप जाती है और उसके चेहरे के बदलते एक्सप्रेशन को देख कर निशा मुस्कुराने

लगती है,

निशा- क्या हुआ मेने कुछ ग़लत पूछ लिया क्या

पायल- सकपका कर नही वो ऐसा है भाभी

निशा- मुस्कुरा कर कैसा है, बड़ा कमीना है ना

पायल- कौन

निशा- अरे वही अपना रवि

पायल- थोड़ा मुस्कुरा कर हाँ वो तो है

निशा- तुझे कैसे पता कि वह बहुत कमीना है

पायल- फिर से झेप्ते हुए मुझे क्या पता मे तो आपकी हाँ मे हाँ मिला रही हू

निशा- बिना सोचे समझे

पायल- ओफ्फ हो भाभी अब कोड वर्ड मे बाते करना बंद भी करो और साफ-साफ कहो आप क्या कहना चाहती हो

निशा- पायल के गाल को खिचती हुई, साफ-साफ कह दू

पायल- घबरा कर, बात पलटती हुई भाभी आज खाने मे क्या बनाना है,

निशा- मुस्कुरा कर अरे अभी तो बहुत समय है आ थोड़ी देर बैठ कर बाते करते है

पायल- घबराती हुई वो भाभी मुझे ज़रा बाथरूम जाना है

निशा- मुस्कुराते हुए, अच्छा जा मे तेरा यही वेट करती हू

पायल जल्दी से बाथरूम मे जाकर घुस जाती है और लंबी-लंबी साँसे लेती हुई, भाभी कैसी बाते कर रही है कही इन्हे

शक तो नही हो गया, ज़रूर उस कमिने ने कुछ किया है तभी तो भाभी मुझसे ऐसी बाते कर रही है कही रवि ने उन्हे

कुछ बता तो नही दिया, उसका कोई भरोशा नही है, अब क्या करू मे बाहर कैसे जाउ, भाभी फिर से कुछ पूछने लगी तो

मे क्या जवाब दूँगी, तभी बाहर से निशा की आवाज़ आती है पायल कितना देर लगाएगी, पायल घबराती हुई आई भाभी, हे

भगवान आज तो बचा ले मुझे, कहा फसा दिया इस कमिने ने, तभी निशा का फोन बजता है और दूसरी ओर रोहित उससे

बाते करने लगता है,

पायल धीरे से दरवाजा खोल कर बाहर आती है और भाभी को दूसरी ओर मुँह करके बात करते देखती है और चुपचाप दबे

पाँव अपने रूम मे भाग जाती है. निशा फोन कट करने के बाद बाथरूम का दरवाजा खोल कर अंदर देखती है और फिर

मुस्कुराती हुई, सोचती है हो ना हो इन दोनो के बीच ज़रूर कोई ना कोई लेफ्डा चल रहा है लेकिन मे कैसे मालूम करू पायल तो मुझे बताने से रही, अब तो मुझे इन सब बातो की सच्चाई सिर्फ़ रवि से ही पता चल सकती है पर यह भी सच है कि अगर

मे यह सब बाते जानना चाहती हू तो मुझे रवि से अपनी चूत मर्वानी पड़ेगी, वह कमीना भी तो मेरी चूत के पीछे हाथ

धो कर पड़ा है, वैसे उसका लंड बहुत ही बड़ा है जो भी उसके लंड से चुदेगि उसे तो मज़ा आ जाएगा, अरे यह क्या मेरी

चूत क्यो गीली हो गई और मुस्कुराते हुए रवि के मोटे लंड के बारे मे सोचेगी तो चूत तो गीली होगी ही ना,

................................

उधर सोनिया को देखने के लिए लड़के वाले आ जाते है और सोनिया काफ़ी दुखी मन से अपने मा-बाप के सामने लड़के वालो के सामने जाती है, लड़के वाले सोनिया को देखते ही रिश्ता पक्का कर देते है और यह कह कर चले जाते है की एक आख़िरी बार वह सोनिया का फोटो अपने बेटे के पास भेज रहे है अगर उसे भी लड़की पसंद आ गई तो जल्द ही शादी की डेट तय कर दी जाएगी, सोनिया यह सब सुन कर काफ़ी उदास हो जाती है और रोने लगती है, और रवि को फोन करके सब बाते उसे बताने लगती है, और रवि से कहती है वह उसे आकर ले जाए नही तो वह जहर खा कर अपनी जान दे देगी,

रवि- ओफ्फ हो सोनिया पागलो जैसी बात क्यो करती हो तुम फिकर मत करो मे कुछ ना कुछ रास्ता निकाल लूँगा और अगर कुछ नही हुआ तो तुम्हारे मरने से पहले मे उसे मार दूँगा जो तुमसे शादी करने चला है, और सोनिया को कॉन्फिडेन्स मे लेकर चुप करा देता है और फोन रख देता है, तभी उसके पास करण का फोन आता है और

कारण- हेलो रवि कहाँ है

रवि- घर पर बोल क्या बात है

कारण- अबे एक खुशी की बात है

रवि- अच्छा वह क्या

कारण- अरे मेरे मम्मी-पापा ने मेरे लिए एक लड़की पसंद कर ली है और उसकी तस्वीर कल तक मेरे पास आ जाएगी तू एक काम कर कल सनडे भी है तू कल मेरे फ्लॅट मे आ जा हम कल इंजोय करते है,

रवि- ओके डियर मे सुबह ही पहुच जाउन्गा पर साले कल भी तू मुझे दिन मे ही वोड्का पिलाएगा क्या,

कारण- अबे जब मस्ती मारना हो तो दिन क्या और रात क्या आजा मज़ा आ जाएगा

रवि- चल ठीक है मे आता हू बाइ

रात को रोहित और निशा अपने रूम मे घुस कर चुदाई शुरू कर देते है और दूसरी तरफ रवि अपनी दीदी के रूम मे जाकर

उसके साइड मे लेट जाता है और फिर दोनो भाई बहन एक दूसरे का चेहरा देखते हुए एक दूसरे की आँखो मे देखने लगते

है और दोनो बिना एक दूसरे को छुए ही गरम होने लगते है,

रवि- पायल की आँखो मे देखता हुआ धीरे से अपने हाथ को अपनी दीदी के गदराए दूध पर रख कर हल्के-हल्के दबाते

हुए, मेरी जान तुम कितनी सेक्सी और खूबसूरत लगती हो, काश तुम मेरी बीबी होती,

पायल- रवि के मोटे लंड को उसके पाजामे के उपर से ही दबाती हुई, दीदी समझ कर हो चोद रवि तुझे ज़्यादा मज़ा आएगा

बीबी को तो हर कोई चोद लेता है पर अपनी दीदी को तो नसीब वाले ही चोद पाते है,

रवि - पायल के मस्ताने दूध को कस कर मसलता हुआ, दीदी अगर तुम्हारे जैसी गदराई दीदी जिसकी भी होगी वह उसे ज़रूर चोदने के लिए मरा जाएगा,

पायल- उसके मोटे लंड को दबाती हुई, बेटे तेरे जैसा लंड भी जिस लड़की के भाई का होगा वह ज़रूर उसे अपनी फूली हुई चूत मे लेने के लिए मचल जाएगी

रवि अपनी दीदी से बाते भी करता जा रहा था और बीच-बीच मे कभी उसके मोटे गदराए दूध को मसलता कभी उसके

रसीले होंठो को चूस्ता और कभी अपना हाथ पीछे ले जाकर उसकी मोटी गान्ड को दबाता,

रवि- दीदी तुम्हारे चुतड कितने भारी हो गये है ऐसा लगता है जैसे तुम खूब कस कर अपनी गान्ड मरवाती हो

पायल- मुझे लगता है आज तू मेरी गान्ड मरने के मूड मे है,

रवि- दीदी तुम कहो तो आज मे तुम्हारी गान्ड को खूब कस कर चोद दू,

पायल- मुस्कुरा कर पर मुझे ज़्यादा दर्द होगा तो

रवि- नही दीदी मे इस तरह से तुम्हारी गान्ड मारूँगा कि तुम्हे ज़्यादा दर्द नही होगा

पायल- और मेरी चूत जो सुबह से रस छोड़ रही है उसका क्या होगा

रवि- दीदी तुम फिकर क्यो करती हो मे तुम्हारी चूत का सारा रस अपने मुँह से पी जाउन्गा, और तुम मेरे मुँह मे ही अपना सारा रस छोड़ देना

पायल- नही तू थोड़ी देर मेरी गान्ड मार ले लेकिन फिर मुझे अपनी चूत मे तेरा मोटा लंड चाहिए

रवि- अच्छा ठीक है और पायल की गदराई गान्ड को दबोचते हुए, लेकिन दीदी तुम्हारी गान्ड मे ज़्यादा दर्द ना हो इसके लिए

मुझे तेल लगा कर तुम्हारी गान्ड को चिकना बनाना पड़ेगा, पायल अपनी स्कर्ट और टीशर्ट उतार कर तुरंत नंगी हो जाती है और फिर अपनी ब्रा और पेंटी उतार कर खड़ी हो जाती है और रवि की ओर मुस्कुरा कर देखती हुई मे कैसी लग रही हू

रवि- अपनी दीदी की नंगी गदराई जवानी उसके मोटे-मोटे कसे हुए दूध और फूली हुई चूत को देख कर मस्त हो जाता है

और खुद भी अपने सारे कपड़े उतार कर पूरा नंगा हो जाता है उसका मोटा लंड सर उठाए खड़ा रहता है और वह अपनी

दीदी के पास जाकर उसकी नंगी गदराई जवानी को अपनी बाँहो मे भर कर पागलो की तरह चूमने लगता है, दोनो भाई बहन

एक दूसरे से पूरे नंगे खड़े होकर चिपके हुए एक दूसरे की गान्ड और पीठ को सहलाते हुए एक दूसरे के मुँह, होंठ को

चूमने लगते है

रवि- दीदी चलो ड्रेसिंग टेबल के शीशे मे एक दूसरे को नंगा देखते है

पायल- उसके लंड को अपने हाथो से पकड़ कर अपनी गान्ड मतकती हुई धीरे-धीरे रवि के लंड को अपने हाथो से खिचते

हुए ड्रेसिंग टेबल की ओर जाने लगती है और रवि अपनी दीदी के गदराए चुतडो की मस्तानी थिरकन को देखता हुआचल देता

है, ड्रेसिंग टेबल के शीशे के सामने जाकर दोनो एक दूसरे से नंगे ही चिपक जाते है और शीशे मे एक दूसरे का चेहरा

देख कर मुस्कुराते हुए एक दूसरे के नंगे बदन को सहलाने लगते है, पायल अपनी मोटी गदराई गान्ड को शीशे के सामने

करके थोड़ा अपनी गान्ड को बाहर निकाल कर रवि को दिखाती है और रवि अपनी दीदी की मस्तानी गान्ड को शीशे मे देखते हुए

उसकी गदराई गान्ड के मोटे-मोटे पाटो को सहलाता हुआ अपनी दीदी की गहरी गुदा मे अपने हाथ की उंगलिया फेर-फेर कर

सहलाने लगता है और पायल अपने भाई के मोटे लंड के टोपे को खोल कर उसके टोपे को सहलाने लगती है,

तभी रवि द्रीसिंग टेबल के उपर रखी ऑमंड ड्रॉप्स की शीशी को उठा कर उससे तेल निकाल कर अपनी दीदी की मोटी गान्ड की दरार मे तेल लगा कर उसकी गदराई मोटी गान्ड के छेद मे अपनी उंगली घुसा-घुसा कर तेल लगाने लगता है तभी पायल अपनी हथेली को आगे करके रवि को अपने हाथ मे तेल डालने का इशारा करती है और रवि उसके हाथो मे तेल डाल देता है और पायल अपने हाथो मे तेल लेकर रवि के मोटे लंड मे तेल लगा-लगा कर उसे सहलाने लगती है, रवि अपनी दीदी के मोटे गदराए चुतडो को पूरा तेल से भिगो देता है और खूब कस-कस कर अपनी दीदी के मस्ताने चुतडो की मालिश करने लगता है, वह जितनी ज़ोर से अपनी उंगलियो को अपनी दीदी की गान्ड की दरार मे भरता है पायल भी उतनी ही तेज तरीके से अपने हाथो को अपने भाई के लंड पर कस-कस कर तेल मलने लगती है,

करीब 10 मिनिट तक दोनो एक दूसरे की गान्ड और लंड मे तेल लगा-लगा कर पूरी तरह चिकना कर देते है उसके बाद रवि अपनी दीदी को बेड से सटा कर पेट के बल बेड के नीचे टाँगे झुला कर लिटा देता है और फिर अपनी दीदी की मोटी गान्ड के छेद को अपने हाथो से फैलता है तो पायल उसके हाथ को हटाते हुए अपने हाथो से अपनी गदराई मोटी गान्ड को खूब कस कर फैलाती है और अपने भाई को अपनी गान्ड का कसा हुआ छेद दिखा कर ले रवि अब डाल अपने लंड को अपनी दीदी की गदराई गान्ड मे, रवि पायल की बात सुन कर अपने लंड को अपनी दीदी की गान्ड के छेद मे लगा कर एक तगड़ा धक्का मारता है और उसका

लंड अपनी दीदी की गान्ड के छेद को फैलता हुआ लगभग आधा अंदर धस जाता है और पायल की गान्ड फॅट जाती है और वह ज़ोर से सीसियाते हुए आह रवि बहुत मोटा है तेरा लंड आ रवि प्लीज़ मे मर जाउन्गि, रवि रुक जा रवि आ, रवि अपने आधे लंड को फसाए हुए अपनी दीदी की गान्ड के मोटे-मोटे पाटो को दबोच-दबोच कर सहलाते हुए अपने लंड को धीरे-धीरे

अपनी दीदी की मोटी गान्ड मे गाढ़ने लगता है,

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कमीना

Unread post by rajaarkey » 12 Nov 2014 03:14

पायल आह-आह करती हुई अपनी गान्ड के छेद को कभी सिकोडती है कभी फैलाती है, रवि लगातार अपनी दीदी की गान्ड के मोटे- मोटे पाटो को मसल-मसल कर सहलाता रहता है जब पायल कुछ शांत दिखाई देती है तो रवि अपने लंड को एक दम से कस कर अपनी दीदी की मोटी गान्ड मे पेल देता है और उसका मोटा लंड उसकी दीदी की मोटी गान्ड को फाड़ता हुआ पूरा अंदर फिट हो जाता है और पायल की गान्ड फॅट जाती है और वह ज़ोर-ज़ोर से सीसियाते हुए अपनी गान्ड के छेद को सिकोड़ने लगती है, रवि अपनी

दीदी की गान्ड को बड़े प्यार से सहलाता हुआ धीरे-धीरे अपने लंड को अंदर बाहर करने लगता है और पायल आह-आह रवि सी आह-आह ओह रवि बहुत दर्द हो रहा है रवि प्लीज़ रुक जा आह-आह, रवि अपनी दीदी के मोटे चुतडो को कस-कस कर अपने हाथो से भिचता हुआ उसकी गान्ड मारने लगता है और पायल अपने हाथो के पंजो से चादर को पकड़े हुए अपने भाई का मोटा लंड अपनी गदराई गान्ड मे लेने लगती है,

रवि करीब 10 मिनिट तक अपनी दीदी को धीरे-धीरे लेकिन गहरे धक्के मारता हुआ उसकी मोटी गान्ड चोदता रहता है, उसके बाद रवि अपनी दीदी की गान्ड को उमच-हुमच कर चोदना शुरू कर देता है और पायल आह-आह ओह रवि बहुत खुजली हो रही है आह रवि बहुत अच्छा लग रहा है थोड़ा तेज चोद आह-आह ओह रवि तू कितना अच्छा है थोड़ा कस कर मार रवि आह-आह, चोद ना रवि थोड़ा तेज चोद रवि प्लीज़ आह-आह ओह मे मर जाउन्गि रवि और तेज मार और तेज, रवि अपनी दीदी की गान्ड को सतसट चोदने लगता है और उसके चुतडो पर हल्के-हल्के थप्पड़ मारते हुए उसकी गान्ड मे सतसट लंड पेलने लगता है, करीब 20 मिनिट तक अपनी दीदी की गान्ड को मारते हुए रवि का लंड उसकी कसी हुई गान्ड मे पानी छोड़ देता है और हान्फता हुआ उसकी कमर के उपर झुक जाता है और पायल बेड पर पेट के बल पसर जाती है, रवि सीधा अपनी दीदी की गान्ड मे लंड फसाए उसके

उपर लेट जाता है और करीब 2 मिनिट बाद उसका लंड उसकी दीदी की गान्ड से बाहर निकल आता है, पायल अधमरी सी गहरी-गहरी साँसे लेती हुई पड़ी रहती है और रवि उसकी गोरी-गोरी पीठ को सहलाता रहता है करीब 2 मिनिट तक रवि उसके उपर लेटा रहता है उसके बाद उठ कर अपनी दीदी की गान्ड मे एक थप्पड़ मारते हुए

रवि- दीदी अब उठो भी कब तक पड़ी रहोगी

पायल- पलट कर पीठ के बल लेटती हुई, कामीने कितना ज़ोर से चोद रहा था तू

रवि- लो कर लो बात खुद ही तो कह रही थी कि रवि और ज़ोर से चोद खूब कस कर चोद और अब कह रही हो कितना ज़ोर से चोद रहा था,

पायल- मुस्कुरकर अरे उस समय होश रहता है क्या, पर तुझे तो सोचना चाहिए था कि तेरी दीदी की क्या हालत होगी, मेरा तो सारा बदन दर्द करने लगा है अब मुझसे उठा भी नही जा रहा है,

रवि- अरे दीदी तुम फिकर क्यो करती हो मे तुम्हे अपनी गोद मे उठा लेता हू और रवि अपनी दीदी को अपनी गोद मे उठा लेता है और पायल उसके सीने से चिपक जाती है, रवि अपनी दीदी के होंठो को चूमता हुआ,

रवि- दीदी तुम्हारी गान्ड बहुत मस्त है

पायल- मुस्कुरा कर अपनी दीदी को नंगी करके अपनी गोद मे उठाते हुए तुझे शरम नही आती है

रवि- तुम्हारे जैसी दीदी को पूरी नंगी करके गोद मे उठाने और अपने लंड मे चढ़ने मे बहुत मज़ा आता है और

अपनी दीदी की चूत की फांको को फैलाकर देखते हुए देखो तो दीदी तुम्हारी चूत कितना पानी छोड़ रही है, जानती हो यह क्या कह रही है

पायल- मुस्कुरा कर क्या कह रही है

रवि- दीदी यह कह रही है की रवि अपने मोटे लंड को मेरे अंदर फसा कर खूब कर कर मेरी चूत मार दे

पायल- तो फिर देख क्या रहा है जैसा वह कह रही है वैसा करता क्यो नही

रवि- क्यो नही अभी कर देता हू और रवि पायल की दोनो टाँगो को अपनी कमर से लपेट कर उसकी चूत के छेद मे अपने लंड को जैसे ही सेट करता है पायल अपनी चूत का धक्का उसके लंड पर मार देती है और रवि का लंड अपनी दीदी की फटी हुई चूत मे सॅट से अंदर घुस जाता है और पायल अपने भाई के सीने से चिपक जाती है और रवि खड़े-खड़े ही अपनी दीदी को चोदने लगता है,

पायल रवि के होंठो को चूसने लगती है और रवि अपनी दीदी की गान्ड को दबोचे हुए उसकी चूत को मारने लगता है, पायल

अपने भाई के खड़े लंड पर झूलते हुए अपनी चूत को रगड़ने लगती है, थोड़ी देर बाद रवि पायल को सीधा बेड पर लेटा

देता है और पायल अपनी मोटी-मोटी गदराई जाँघो को पूरा खोल कर अपने पेरो को उपर कर लेती है और उसकी फूली हुई चूत पूरी खुल कर फैल जाती है, रवि अपनी दीदी की गुलाबी रस से भीगी चूत को देख कर अपने लंड को अपनी दीदी की चूत मे रख कर एक तगड़ा शॉट मारता है और उसकी चूत मे उसका लंड पूरा जड़ तक समा जाता है और फिर रवि अपने पेरो के पंजो के बल बैठा-बैठा अपनी दीदी की चूत को कस-कस कर चोदने लगता है, पायल आह-आह करते हुए अपनी चूत को अपने भाई के लंड पर मारने लगती है, दोनो और से डचा डच ठुकाई चालू हो जाती है एक धक्का रवि अपनी दीदी की चूत मे मारता है तो दूसरा धक्का पायल अपने भाई के लंड पर मार देती है इस तरह टू वे कम्यूनिकेशन शुरू हो जाता है और फिर रवि अपनी स्पीट को पूरी रफ़्तार पर लाकर अपनी दीदी की चूत को कस-कस कर ठोकने लगता है, और फिर रवि अपनी दीदी के नंगे बदन पर सो जाता है और उसके दूध को दबोचता हुआ उसके होंठो को पीने लगता है और उसका लंड सतसट अपनी दीदी की चूत को चोदने लगता है, करीब 20 मिनिट तक दोनो और से तगड़े धक्के पड़ते है और फिर पायल की चूत पूरी तरह चिकनी होकर सिकुड़ने और फैलने लगती है और वह एक दम से आह-आह रवि आ रवि कहते हुए रवि को कस कर अपने सीने से चिपका लेती है और उसकी चूत पानी छोड़ देती है और रवि भी अपनी दीदी की कसी हुई चूत मे अपने लंड को जड़ तक फसा कर रुक-रुक कर पिचकारी मारने लगता है, और दोनो एक दूसरे के साथ कस कर चिपक जाते है,

करीब 2 मिनिट तक दोनो गहरी साँसे लेते हुए एक दूसरे से चिपके रहते है उसके बाद रवि साइड मे लेट जाता है और पायल उसके सीने से चिपक कर सो जाती है, रवि अपनी दीदी के सर के बालो को सहलाता हुआ उसे प्यार करने लगता है

सुबह-सुबह रवि नहा धोकर तैयार होकर पायल को कहता है कि वह अपने एक दोस्त से मिलने जा रहा है और शाम तक

लोटेगा, पायल अपना मुँह बनाते हुए,

पायल- रवि दिन भर तो मे तेरे बिना बोर हो जाउन्गि और भाभी से तूने क्या कहा है जो वह हाथ धोकर मेरे पीछे पड़ी हुई

है और फिर तू नही रहेगा तो वह ना जाने क्या-क्या सवाल करेगी, मे कैसे क्या कहुगी उनसे,

रवि- दीदी उन्हे कुछ भी नही बताना और उल्टे उनसे ही सवाल पूछना, ध्यान रहे उनकी बातो मे आने की बजाय तुम्हे उन्ही

से कुछ ना कुछ उगलवाना होगा, बाकी मे तुम्हे बाद मे बताउन्गा, अपना ख्याल रखना मे शाम तक आ जाउन्गा और पायल

के होंठो को चूम कर अपने घर से निकल जाता है और अपनी बाइक को करण के फ्लॅट की ओर दौड़ा देता है.

क्रमशः.........................