चाचा चाची की चुदाई compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: चाचा चाची की चुदाई

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:03

कालू ने अगले तीन दीनो तक निशा को जानवरो की तरह चोडा. निशा उसको चाचिजी से ज़्यादा मज़े देना चाहती थी. तीन दीनो बाद सूरज, चाचिजी और गीता आ गये. " क्यू मेमसाहिब कैसा है मेरा बेटा चुदाई मे? कैसा लगा उसका लंड?" गेटा ने निशा से पूछा. " मेरे हज़्बेंड से तो हर मामले मे अच्छा है,' निशा बोली. " अब मुझे सिर्फ़ वो ही चोदेगा उसको ही मे एक बच्चे का बाप बनौँगी,' निशा ने सॉफ कह दिया. "लेकिन सूरज बाबू?" गीता ने पूछा. " उन्होने चार बच्चे दो चुतो से पैदा कर दिए तुमको तुम्हारी बेटी को तुम्हारी मा को अपनी चाची को और और भी ना जाने कितनी चूटे उन्होने चोदि होगी अब वो मुझे कैसे रोकेंगे? वो अपनी चाची को चोदे मेरी चूत तो अब नये लंड ही खाएगी,' निशा बोली.

गीता ने जा कर सारी बात चाचिजी और सूरज को बता दी,'अब आप की और चाचिजी के चुदाई और आपसे उनके दो बच्चो के बारे मे मे कुछ नही कहूँगी लेकिन अगर मेरी चुदाई को लेकर आप कुछ बोले तो मे दुनिया को ये सब बता दूँगी,' निशा ने सूरज को बता दिया. अब ये तय हो गया की एक कमरे मे कालू निशा को चोदेगा तो दूसरे मे सूरज चाचिजी को. गीता दोनो कमरो मे आ जा सकती थी. कालू को चाचिजी को चोद्नेने की मनाही थी. अपनी मा को वो चोद सकता था. कालू ने अपने मोटे अंडकोषो का पानी निशा की चूत मे खाली करना जारी रखा. कोई दो महीनो बाद ये कन्फर्म हो गया की निशा के पेट मे कालू का बच्चा ठहर गया है. निशा उसको जन्म देने पीहर चली गयी. उसको लरका हुआ. बच्चा होने के बाद भी वो कोई साल भर तक वही रही. सूरज को पता चला की वो अपने मोहल्ले की रांड़ बन गयी थी. दो बच्चो के बाद उसने नसबंदी करा लीथी.

उधर सूरज चाचिजी और गीता को चोद चोद कर बोर हो गया था. गीता और चाचिजी भी नया लंड तलाश रही थी. एक दिन गीता ने कहा की उनका कोई रिश्तेदार नेपाल से काम करनेवालो को लाता है. चाचिजी ने उस से कहा की हो सके तो पूरा परिवार ले आओ ताकि सबकी चुदाई हो सके. कोई एक महीने बाद नेपाल से एक परिवार उनसे मिलने आया. कोई 45 साल का आदमी था, उसकी वाइफ 40 की होगी, एक लरका था 16 साल का, दो लरकिया, 18 और 14 की. सब गोरे चित्ते और चिकने थे. गीता ने आँख मारी,' देखो हुमारे यहा पेर भी बहुत सारा काम रहता है तुम चाहो तो हुमारी पीछे के सेवन्त क्वॉर्टर मे रह जाना. चाचिजी का साबुन और पेपड बनाना का धंधा था. काम मे बहुत सारी औरते और आदमियो की ज़रूरत पड़ती थी. चाचिजी आदमी को बड़ा बहादुर और उनके लरके को छ्होटा बहादुर कहती थी. बड़ी लर्की को वो बार्की और छ्होटी को चुटकी कहती थी. कोई 3-4 महीनो मे पूरा परिवार वाहा सेट हो गया. गीता की भी उनसे दोस्ती हो गयी. " अभी भी तुम्हारी चुदाई चलती हा क्या?" गीता ने एक दिन उस औरत से पूछा,' इतने छ्होटे कमरे मे चुदाई की सुविधा ही नही मिलती,' वो औरत बोली. उसका नाम अनुराधा था. गीता ने बतो बतो मे उसके पति के औज़ार और उसकी ताक़त का पूछ लिया,' देखो, मेमसाहब बिल्कुल मस्त है, तुम्हारा मूड हो तो मुझे बता देना, मे उनसे कह दूँगी तुम बंगले मे आ कर कमरे मे चुदाई कर लेना,' उसने कहा. अनुराधा ने अपने पति को ये बताया, दोनो चुदाई को तरस रहे थे, उसने गीता से कह दिया. उसी दिन रात मे गीता ने उनको छत वाले कमरे की चाबी दी और कहा,' देखो तुम दोनो अंडर चले जाना, मे बाहर से ताला बुन्द कर दूँगी, जुब चुदाई हो जाए तो दरवाज़ा खटखटा देना मे खोल दूँगी.' दोनो अंडर गये गीता ने ताला लगा दिया. उसने पहले ही दरवाज़े मे बड़ा च्छेद कर रखा था. चाचिजी को भी बुला लिया. उधर बहादुर ने आव देखा ना ताव अपनी पॅंट खोली और अपनी पत्नी का पेटिकोट अप्पर कर दिया. एक ही मिनिट मे भूखा बहडूर बीवी पेर टूट पड़ा. वो ऊहह आ करती रही. उत्तेजित बहादुर एक ही मिनिट मे झाड़ गया. " गीता इसका लंड तो चिकना और मज़बूत है, मोटाई भी अच्छी है सिर्फ़ ज़िसे 6 इंच से ज़्यादा नही है,' चाचीज़ बोली. " दूसरी बार की चुदाई देख ले मेमसाहिब उस से पता चल जाएगा चलता कितना है,' गीता बोली. दो मिनिट मे बहादुर का लंड फिर से खड़ा था इस बार उसने कोई 15-20 मिनिट तक अपनी बीवी की मारी,' पास हो गया ये मर्द, बाक़ी हुम्से सीख जाएगा,' गीता को चाचिजी ने कहा. बहादुर ने दरवाज़ा खटखटाया और गीता ने खोल दिया. उसने बहादुर को आँख मारी बहादुर उसका मतलब समझ गया

बहादुर और उसकी बीवी अब दो दिन मे एक बार चाबी लेकर चुदाई करते रहे. एक दिन गीता ने बहादुर को बुलाया और बोली,' बहडूर तुम चुदाई तो बहुत अच्छी करते हो मैने और चाचिजी ने छुप छुप कर कई बार देखी है,' बहादुर शर्मा कर हस्ने लगा. गीता को कोई शर्म नही थी, उसने नीचे बेठे बठे ही अपना पेटिकोट उँचा किया और अपनी बालो वाली मोटी चूत बहादुर को दिखा कर बोली, ' अब मेरी चूत मे अपना लंड कब डालोगे?" बहडूर शर्मा कर चला गया मगर उसने आज तक ऐसी औरत नही देखी थी जो खुद का पेटिकोट अप्पर कर के लंड माँगे. उसकी पत्नी तो बहुत शरमाती थी. बहादुर को अब दिन रात ख़यालो में गीता की बालो वाली चूत दिखाई देने लगी. उधर गीता सही मौके का इंतज़ार करने लगी, एक दिन उसने बहादुर को छत के कमरे की सफाई के लिए बुलाया और कुण्डी लगा दी. गीता ने बहादुर को कस कर पकड़ा और हाथ नीचे ले जाकर उसकी पॅंट के उप्पेर से ही उसके लंड को आटे की तरह मसालने लगी. जैसी ही उसके हाथो मे बहादुर का लंड सामने नही लगा वो बिस्तेर पेर लेटी और अपना पेटिकोट उप्पेर कर के पाव चौडे कर दिए,' आजा राजा चोद अपनी इस रानी को.' बहादुर अब रुक नही सकता था. उसने अपना गोरा लंड गीता की चूत मे डाला जो रस से पूरी गीली थी और मशीन की तरह उसको चोदने लगा. " चोद राजे चोद निकाल मेरे भोस्डे की गर्मी तेरे नेपाली लंड से,' वो बोली. बहादुर हॅफ्टा हुआ दो मिनिट मे ही झद गया. गीता ने अब लगभग हर रोज़ बहादुर को चोद्नना शुरू कर दिया. जब दोनो बिल्कुल खुल गये तो गीता बोली,' आज रात को तुम हुमारे घर मे ही सोना कुछ काम का बहाना कर के मे तुझे मेमसाहिब को चुदवाउ गी.'



बहडूर रात का इंतज़ार करने लगा. चाचिजी मे अभी भी डम था. बड़े बड़े बूब्स मोटी गांद सूजे हुए होतो वाली चूत और पूरा जोश. रात मे बहादुर को गीता ने बेडरूम मे बुलाया. बहादुर अंडर गया तो उसने देखा की चाचिजी गाउन पहने लेटी हुई थी. ' बहादुर मेमसाहिब के बदन मे बहुत दर्द है आ जा तू और मे दोनो मिल कर मालिश कर देते है.' गीता ने एक पिंडली और बहादुर ने दूसरी पिंडली पेर मालिश शुरू कर दी. गीता बड़ी उस्ताद थी मालिश करते करते उसने चाचिजी का गाउन उनकी गॅंड तक सरका दिया था,' चाचिजी उप्पेर भी दर्द है क्या?" उसने पूछा,' हा गीता पूरे बदन मे दर्द है,' चाचिजी बोली.' लेकिन बहादुर है,' गीता बोली,' अरे बहादुर घर का ही आदमी है इस से क्या शरमाना,' चाचिजी उल्टे लेट हुए बोली.

गीता ने चाचिजी का गाउन कमर तक उप्पेर कर दिया. " मे गाउन उतार ही देती हू,' चाचिजी बोली. उन्होने गाउन उतारा और चड्डी और ब्रा मे ही लेट गयी. चाचिजी ने काली चॅड्डी और काली ब्रा पहनी हुई थी. उल्टी लेते चाचिजी की पहाड़ जैसी मोटी गेंड देख कर बहादुर का लंड बेक़ाबू हो गया. गीता को उसका फूला हुआ पॅंट देख कर सब पता चल रहा था पेर वो चाहती थी लोहा गरम हो तभी हाथोरे की चोट हो. गीता अब चड्डी की साइड से चाचिजी की गेंड भी मसालने लगी. उसने धीरे से चाचिजी की चड्डी को उनकी गेंड की छेद मे डाल दिया. अब चाची जी की गेंड के दोनो चूतर सॉफ दिख रहे थे,' बहादुर एक गॅंड तुम मसालो एक मे मसलती हू,' बहादुर चाचिजी की गेंड मसल्ने लगा. उसका लंड एकद्ूम गीला हो चुक्का था. " बहादुर तुम्हारे कपड़े तेल से गीले हो जाएँगे तुम उप्पेर के सारे कपड़े उतार दो सिर्फ़ चड्डी पहन कर ही मालिश कर दो,' गीता बोली और बोलते बोलते खुद के सारे कपड़े उतार दिए. बहादुर की हालत पतली हो गयी एक औरत पूरी नंगी थी दूसरी आधी. बहादुर ने अपना शर्ट और बनियान उतार दिया लेकिन पॅंट पहनी हुई थी गीता ने उसके पॅंट की ज़िप खोली और जबरन उसे नीचे खेचने लगी, बहादुर ने खुद ही उसको नीचे खिसका दिया. बहादुर अब धरीदार कछे मे था जिसमे से उसका सीधा खड़ा लंड सॉफ दिख रहा था. गीता ने चाचिजी की चड्डी नीचे खेच दी. चाचिजी ने जैसे ही गेंड उप्पेर की बहादुर ने उनकी सॉफ चूत की झलक देखी. चाचिजी ने चूत के सारे बॉल सॉफ कर रखे थे.



गीता का विचार कुछ अलग था. उसने चाचिजी की गेंड की च्छेद मे खूब सारा तेल डाला और उनकी दरार मे हाथ फिरने लगी. फिर उसने चाचिजी की गेंड के छेद मे तेल डाला और अपनी उंगली अंडर बाहर करने लगी और तेल डालने लगी. बहादुर चाचिजी के विशाल चूटर मसले जा रहा था. चाचिजी की गांद मे धीरे धीरे गीता ने अपनी तीन उंगलिया डाल दी और उनकी गांद चोद्नेने लगी. पता नही गीता को क्या ख़याल आया वो उठी नंगी ही किचन तक गयी और वाहा से एक खीरा उठा लाई. खेरे को उसने तेल पिलाया और चाचिजी की खुली गांद मे उसका मूह घुसा दिया,' ये क्या कर रही है तू गीता?" चाचिजी ने पूछा,' बहादुर के साथ आज आपकी सुहाग रात है चूत तो आपकी चुद चुद कर बड़ी हो गयी गांद मे अभी तक कोई दूसरी चीज़ नही गयी, आज इस से आपकी गान्द मर्वौन्गि,' गीता बोली.' " देख मुझे दर्द हुआ तो मे इसका गरम लंड तेरी सुखी गांद मे डलवा दूँगी,' चाचिजी लेते लेते ही बोली. गीता को पता था अब चाचिजी की गांद पूरी तरह खुल चुकी है उसने बहादुर से कहा,' देर मत कर राजा चोद इस पहाड़ को.' बहडूर ने अपना कच्छा उतारा और चाचिजी की गान्द के च्छेद पेर अपने लंड का गुलाबी सुपरा रखा. गीता ने उसको आगे से पकर कर आधा सुपरा चाचिजी की गांद के च्छेद मे डाल दिया. लंड अपने आप अपना रास्ता खोज लेता है. बहादुर ने थोडा धक्का दिया तो उसका सुपरा चाची की गांद मे पूरा समा गया, चाचिजी दर्द से थोडा चीखी. ये सुन कर बहादुर मे और जोश आया, उसने लंड अंडर खिसकना जारी रखा,' ओह मदारचोड़ तू मेरी कुवारि गांद फाड़ डालेगा क्या भोसड़ी के,' चाचिजी बोली.' हा चाचिजी इसका लंड ही आपकी कुवारि गांद का रास्ता खोजेगा,' गीता बोली. बहादुर तब तक रास्ता समझ चक्का था. अब वो लंड अंडर बाहर करने लगा. चाचिजी भी अपनी गांद हिलाने लगी. गीता दोनो के पीछे आ गयी. एक हाथ से उसने चाचिजी की चूत सहलाना शुरू कर दिया और उनकी क्लाइटॉरिस दबाने लगी और दूसरे हाथ से बहादुर के गुलाबी अंडकोष से खेलने लगी. बहादुर बहुत उत्तेजित था. दो औरते उस से खेल रही थी. उधर चाचिजी चरम सुख मे ज़ोर से चीखी और इधर उनकी गांद मे बहादुर का पानी छुत गया. उस रात बहादुर को दोनो चुड़क्कड़ औरतो ने खूब चोदा.


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: चाचा चाची की चुदाई

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:04

बहादुर अब तीनो औरतो का सामूहिक चोदन करता रहा. गीता, चाचिजी और अपनी पत्नी तीनो को वो जम कर चोद्ता. उधर सूरज ने बहादुर की पत्नी की चुदाई चालू कर दी. दो आदमी और तीन औरते रोज़ रात दिन चोदने लगे. सूरज की नज़र अब बहादुर की दोनो बेटियो पेर थी. दोनो पति पत्नी जानते थे की अब दोनो बेटी चुदाई ने एक्सपर्ट हो कर रहेगी. मगर एक दिन यकायक निशा वापस घर चली आई. कालू अब कही मज़दूरी करने जाता था. निशा को घर मे घुसते ही पता चल गया की उसकी सास ने बहडूर की और उसके हरामी पति ने उसकी पत्नी की चुदाई शुरू कर दी है और सूरज की नज़र अब दो कुवारि चुतो पर है.



मगर निशा की कामुक नज़रो ने शिकार ढूँढ लिया. उसको लगा की इस से पहले की चाची छ्होटे बहादुर को चोदे उस से पहले ही उसे उसको अपनी गिरफ़्त मे लेना परेगा. निशा ने बच्चे की देखभाल के लिए छ्होटे बहादुर को अपने यहा बुला लिया. वो उसके सामने ही आराम से कपड़े बदल लेती और नहा कर नंगी ही बाहर आ जाती. एक दिन नहाते वक़्त उसने उसको अंडर बुलाया और अपनी पीठ रगर्ने को कहा. बहादुर नंगी निशा की पीठ रगर्ने लगा. वो अब पूरा जवान हो चक्का था. निशा ने उस से कहा,' बहादुर तुम्हारे कापरे गीले हो जाएगे इनको उतार दो,' बहादुर शरमाने लगा. निशा तुरंत खड़ी हुई और उसका शर्ट और निक्केर उतार दिया. वो चड्डी बनियान नही पहनता था. बहादुर का कुवरा चमरी वाला लंड एकद्ूम सीधा खरा था. इतना ताज़ा लंड देख कर निशा के मूह मे पानी आ गया. उसने अपने होटो से उसके चमरी को पीछे किया और उसका गुलाबी सुपरा लॉलीपोप की तरह चूसने लगी. इस से पहले की बहादुर कुछ समझता उसका जवान वीरया निशा के गले के ज़रिए उसके पेट मे उतार गया. अब कुछ भी बाक़ी नही था. एक कमरे मे निशा और छ्होटा बहादुर, दूसरे मे गीता, चाचिजी, बड़ा बहादुर, उसकी पत्नी और सूरज चोद्ते. पूरी रात भेंचोड़ मदर चोद और लंड चूत की टकराहतो की आवाज़े घर मे गूँजती.

छ्होटा बहादुर धीरे ढेरे चुदाई मे बड़ा बन गया. निशा ने उसको एक नंबर का चुड़क्कड़ बना दिया था. शुरू शुरू मे उसकी पिचकारी जल्दी छुट्टी थी मगर निशा ने उसको आँड खाली करने मे जल्दबाज़ी से बचना भी सीखा दिया. उधर एक दिन कालू निशा से मिलने आया, निशा बड़ी खुश हुई वो भी अपने बेटे को देख कर बड़ा खुश था. निशा ने उसके लड़के की लंगोट खोली और उसकी छ्होटी मगर काली नून्न्ी दिखा कर कहा देख ले एक्दुम बाप पेर गयी है इसकी नुन्नि, कालू हस्ने लगा. दोनो ने इस मुलाक़ात मे भी खूब जूम कर चुदाई की,' कालू अब तू तो आता नही मुझे कोई मस्त लंड खाने की इच्छा होती है तू ही ढूँढ ला,' निशा उससे बोली. कालू ने निशा से वादा किया.



कोई दो दिन बाद कालू एक 60 साल के बूढ़े को लेकर आया,' बीबीजी ये साधुरम है मेरे दूर के रिश्ते मे ताऊ लगता है, आपसे मिलवाने लाया हू,' उसने कहा. उस बुड्ढे ने धोती पहनी हुई थी. मेला सा कुर्ता था. पाओ मे भी चप्पल थे. निशा ने उन दोनो को छाई पिलाई फिर उनको रवाना कर दिया. अगले दिन जुब कालू वापस मिलने आया तो निशा बोली,' साले भद्वे मैने तुझे कोई तगड़ा लंड ढूँढने को कहा और तू बुद्धा ले आया, ये तो चोद्ते चोद्ते मेरे उप्पेर ही मार जाएगा,' वो बोली. " ग़लत बीबीजी ऐसा लड पूरे कस्बे मे किसी का नही, खड़ा हो जाए तो ऐसे लगे जैसे कोई गढा हो, एकद्ूम क़ाला और बcचे की कलाई जितना मोटा,' कालू बोला.' मुझे तो विश्वास नही होता,' निशा बोली.' नही बीबीजी ये रोज़ मेरी गांद मारता है चोदना शुरू करता है तो मदारचोड़ का पानी ही नही निकलता,' कालू बोला.' तू तो पूरा मर्द है, तू कब से गांद मरवाने लग गया?" निशा ने असचर्या से पूछा. " बस इस दुनिया मे ऐसा ही है मेमसाहिब जिसके पास जितना बड़ा लंड उसके पास उतनी ही ताक़त, साधुरम का हथियार ज़्यादा मज़बूत है इसलिए मे हार गया,' कालू बोला. " ये मुझे संतुष्ट तो कर देगा?" निशा ने पूछा.' ये बुद्धा चुदाई की मशीन है, पूरी रात भर हम दोनो की मार देगा फिर भी खुद नही झदेगा,' कालू ने कहा. " ठीक है फिर कल रात को इसको ले आ मगर पहले इसको नहलाना धुलना, सफाई वगेरह करना,' निशा बोली.



अगले दिन रात को कालू और साधु आए. कालू उसको बाथरूम मे ले गया और पहले उसको रगर रगर कर साबुन से नहलाया फिर रेज़र से उसके आँड और लंड के पास के बॉल सॉफ किए. साधु अब खुश्बू मार रहा था. निशा ने उसके लिए नये धोती कुर्ते ला रखे थे. उधर कालू नेभी निशा की दी हुई नयी पॅंट और शर्ट पहनी. दोनो निशा के बेडरूम मे आए. गीता को सब पता था,' चाचिजी अब बहू की चुदास इतनी बढ़ गयी की बुद्धो के लंड भी लेने लग गयी,' वो बोली,' हूमे क्या वो जाने और उसकी चूत जाने तू तो अपनी चुदाई से मतलब रख,' चाचिजी बोली.



निशा बिस्तेर पेर लेटी थी डाई तरफ और साधु उसकी बाई तरफ आ गये. उसने सिर्फ़ ब्लॅक कलर की नाइटी पहनी थी, अंडर कुछ भी नही था. कालू ने धीरे धीरे उसका दया बूब दबाना शुरू किया, उधर बुद्धा निशा का दूसरा बूब मसल रहा था. दोनो ने उसकी नाइटी पेट तक नीचे खिसका दी थी, निशा के नरम और गोरे बूब्स पेर दो सख़्त और काले हाथ थे. दोनो ने अब उसके निपल्स को चूसना शुरू कर दिया. पहली बार कोई संभ्रांत महिला के नर्म और गोरे बूब्स इन भूखे ग़रीबो को मिले थे, भूखो की तरह वो उसके बूब्स को लगभग खाने लगे. निशा को दर्द हो रहा था मगर उसे मज़ा भी आ रहा था, जो चीज़ सूरज कीट ही उसे वो सड़कच्छप लोगो मे लूटा कर अच्छा महसूस कर रही थी. उसे लगता था उसके रूप यौवन की उसके पति ने बेइज़्ज़ती की इसलिए वो इसका बदला लेकर रहेगी.



पाँच मिनिट तक किसी औरत के बूब्स से दो मर्द एक साथ खेले तो उसकी चूत तो गीली होगी ही और वो उत्तेजित भी हो जाएगी. निशा पहले तो दोनो के बॉल सहला रही थी फिर उसके हाथ उनके गुप्तांगो पेर चले गये. एक हाथ से उसने कालू के लंड को दबाना शुरू किया दूसरे से साधु का औज़ार नापने लगी. निशा के हाथ से साधु का लंड बार बार फिसल रहा था. उसको लगने लगा की कालू झूट नही बोल रहा था. कालू ने अपने सारे पपड़े खोले और निशा की नाइटी भी उतार दी. वो खड़ा हुआ और निशा के मूह के पास अपना लंड लाया. निशा ने पहले तो उसके सुपरे को किस किया फिर उसके पूरे लंड और आंदियो को चूमने लगी. कालू का लंड फंफनाने लगा. निशा ने कालू के लंड की चमरी पीछे की और उसके मोटे सुपरे पेर जीभ फेरने लगी. कालू का सुपरा लहू के प्रवाह से फटा जर आहा था. साधु ने पहली बार किसी औरत को लंड चूस्ते हुए देखा था. उसकी भी इच्छा हो आई की वो भी अपना लंड निशा के मूह मे दे.' उधर निशा ने कालू के लंड को उसके पेट से सटा दिया और वो आइस्क्रीम की तरह उसको चाटने लगी उसकी जीभ अंडकोष से शुरू कर लंड की टिप तक जाती. थोड़ी देर बाद निशा ने उसका लंड लगभग आधा मूह मे लिया और उसको चूसने चाटने लगी. उसका एक हाथ कालू की गोटियो को धीरे धीरे मसल रहा था ताकि उसो दर्द भी ना हो और मज़ा भी ना आए,' कालू तेरी इन गोलियो को मे बहुत प्यार करती हू क्यूकी यही से मेरा बेटा आया है,' ये कह की ब उसने उसकी एक गोली मूह मे ली और कॅंडी की तरह चूसने लगे. बारी बारी से वो उसकी गोलिया चुस्ती रही, कालू इतना उत्तेजित हो गया की उसका लावा फूटने को आया,' ओह भेंचोड़ मेरा पानी च्छुतने को है, इसको गटक मदारचोड़ नही तो तेरी गांद मार दूँगा रंडी,'' कालू बोला. " हा मेरे राजा तेरा वीरया तो मेरा अमृत है भर दे मेरे पेट को इसकी बूँदो से,' निहा ये कह कर उसके आँड थोड़ा ज़ोर से मसालने लगी. कालू ज़ोर से चीखा और निशा के गले मे झाड़ गया. उसकी गांद कपने लगी.



साधु ने अपनी धोती उतार फेंकी और कालू जैसे ही हटा वो अपना औज़ार लेकर निशा के मूह के सामने आ गया. निशा ने अपनी अब तक की ज़िंदगी मे ऐसी चीज़ नही देखी थी. उसके पास इंची टेप तो नही था मगर कोई एक फुट बड़ा तो उसका हथियार था ही. खाली सुपरा किसी चीकू के आकर का था. साधु के क्लुंड की मोटाई इतनी थी उसके हाथ के घेरे मे शायद वो आधा ही नही सीमतेगा,' कालू ये क्या है?" निशा विस्मित हो कर बोली,' बीबीजी लंड है और क्या असली लंड,' कालू बोला.' मगर ये आदमी का लंड तो नही ऐसा लगता है किसी राक्षस का लंड है या किसी गधे का,' वो बोली. निशा की नज़र अब उस विकराल लंड के नीचे के ठेले पेर पड़ी. उसे लगा जैसे वाहा दो बड़े बड़े चिकू लटक रहे हो,' पूरी दुनिया का वीरया इसने अपने आंदियो मे ही भर लिया क्या?" निशा ने पूछा. मगर उतेज़ित साधु ने अपना मोटा सुपरा निशा के होटो पेर लगा दिया,' चूस रंडी इसको चूस,' उसने कहा. निशा आग्या मानते हुए उस महके लंड को चूसने चूमने चाटने लगी. उसकी चूत का पानी बह कर उसकी पूरी गंद को भिगो चक्का था. कालू ने उसकी चूत के फेक फैलाई और अपनी जीभ अंडर घुसा दी. साधु निशा का मूह चोद रहा था और कालू अपनी जीभ से निशा की चूत चोद रहा था.


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: चाचा चाची की चुदाई

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:06

हालाँकि साधु का कंट्रोल मशहूर था मगर पहली बार लंड चूस्ते देख वो बेहद उत्तेजित था और 4-5 मिनिट मे उसने अपना गढा क्रीम निशा के पेट मे उतार दिया,' पी जमेरा पानी भेंचोड़ बुझा अपनी प्यास चुड़क्कड़ रांड़, ये कहते हुए वो छ्छूट गया. " निशा के मूह मे चूँकि उसका लंड था इसलिए वो बोल तो कुछ भी नही पाई मगर कालू चुप नही था,' हा उस्ताद ये रंडी आंडरास की शौकीन है, खाली कर दो अपने चीकु इसके अंडर,' वो बोला. उधर निशा कालू के मूह पेर झड़ने को थी,' हा कालू चोद मेरी चूत, चॉड भद्वे चोद्ता जा रुक मत,' ये कह कर वो गांद उप्पेर नीचे करने लगी. कालू ने एक हाथ से तो उसकी चूत के बाहर के हॉट फैलाए हुए थे दूसरे से वो उसकी गांद मे उंगली कर रहा था. निशा की गांद एकद्ूम चिकनी थी. एक सेकेंड मे पूरी उंगली सॅट्ट से भीतेर सरक जाती थी. गांद पेर एक भी बॉल भी नही था. कालू उसकी क्लाइटॉरिस को सॉफ्ट्ली चबा रहा था जो फूल कर किसी बच्चे के लंड जितनी बड़ी हो गयी थी. निशा ने ज़ोर से चीख लगाई, इतनी ज़ोर से की उसके पति और सास को दूसरे कमरे मे सॉफ सुनाई दी,' ये रंडी चुदाई मे हम सबको पीछे छ्चोड़ देगी,' चाचिजी बोली.



निशा तो झाड़ गयी मगर कालू अब दुबारा तय्यार था. उधर साधु का लंड दुबारा खड़ा होने मे टाइम लेता था मगर वो इस वक़्त का इस्तेमाल करना चाहता था. अब उस्ताद के कहे अनुसार कालू नीचे लेट गया निशा उस पेर उल्टी लेट गयी. कालू उसकी चूत चाट रहा था और वो कालू के लंड को तय्यार कर रही थी. साधु एक और कला मे माहिर था. वो गांद ऐसे चाटता था जैसे कोई प्यासा जानवर तालाब का पानी पीता हो. उसने कालू के मूह के अप्पर पड़ी निशा की गोरी मगर मज़बूत गांद का गुलाबी च्छेद ढूँढा और उसके च्छेद पेर अपनी जीभ लगा दी. निशा को सनसनी हुई, कोई पहली बार उसकी गांद के च्छेद को ऐसे चाट रहा था. साधु ने धीरे धीरे अपने थूक और उंगली से उसकी गांद को खोलना शुरू कर दिया, निशा को लगने लगा आज साधु उसकी गांद फड़ेगा. उसे पता चल गया दोनो कुत्ते अपने अपने च्छेद ढूंड चुके है. कोई 5 मिनिट मे साधु ने अपनी तीन उंगलियो से निशा की गांद चोदना शुरू कर दिया. निशा की गांद ऐसे खुल गयी थी जैसे कोई कमल का फूल सुबह सुबह खिलता हो. कोई 4-5 मिनिट बाद साधु ने आलू जैसे मोटे सुपरे को निशा की गांद के च्छेद मे सरका दिया. दर्द और एग्ज़ाइट्मेंट मे उसने कालू के लंड को काट लिया,' भांचोड़ रंडी मुझे हिजड़ा बनाएगी क्या, ' कालू बोला. कालू की आँखो के बिल्कुल उप्पेर उसके चुदाई के उस्ताद की आंड झूल रहे थे जिनको द्देख उसके मूह मे पानी आ रहा था. साधु धीरे धीरे अपना औज़ार निशा की गांद मे अड्जस्ट करने लगा.निशा चीखने लगी,' कालू ये बुद्धा मदारचोड़ मेरे गांद फाड़ देगा उसको रोक,' वो बोली.' उस्ताद रंडी को मज़ा आ रहा है पूरा थुस दो,' कालू बोला. साधु ने पूरा लंड घुसा दिया था. निशा चीख पड़ी.

कालू के सामने उस्ताद के विशाल आँड नाच रहे थे. उसने अपना हाथ बढ़ाया और साधु की गोटिओ को धीरे धीरे मसालने लगा. साधु उतीजित हो कर निशा की गांद कुत्तो की तरह मारने लगा. " कालू ये भड़वा मेरी गांद फाड़ देगा मे पॉटी तक नही जा पौँगी, इसको कह मेरी चूतड़ छोड़ दे और अपना मूसल वाहा से निकाल दे,' निशा बोली.' " नही मेमसाहबशुरू शुरू मे गांद मे दर्द होगा बाद मे ये भी चूत जितना ही मज़ा देगी,' कालू बोला. साधु अब अपना पूरा लंड बाहर निकलता और फिर उसको पूरा अंडर पेल देता, निशा चीक्ख परटी,' ओह मा मर गयी,' उधर कालू ने अपनी दिशा चेंज कर ली. वो निशा के नीचे आया और उसकी चूत मे अपना लंड अड्जस्ट करने लगा,' ओह चुदु तुम दोनो मेरे दोनो च्छेद एक साथ फड़ोगे क्या?" निशा बोली,' भेंचोड़ रंडी तेरे च्छेद चुड़ाने के लिए ही तो बने है, तू क्या सोचती है हम तेरी गांद और चूत की अगरबत्ती करेंगे,' साधु बोला और उसने स्पीड बढ़ा दी.' कालू अब तक नीचे से पूरा लंड निशा की चूत मे घुसा चक्का था. साधु और कालू के आँड एक दूसरे से टकरा रहे थे. निशा की चूत और गांद के बीच की पतली चमरी से दोनो को एक दूसरे का लंड एक दूसरे के लंड पेर रगारता महसूस हो रहा था. कालू नीचे से निशा को किस जकर रहा था. उधर साधु ने निशा के गोरे लटकते हुए बूब्स दबा रखे थे. वो गांद मारते मारते निशा की गांद पेर ज़ोर ज़ोर से थप्पड़ मारे जा रहा था. पिटाई से निशा की गांद लाल हो गयी थी मगर उसको मज़ा आ रहा था. उसको लग रहा था जैसे दो जंगली जानवर उसकी ऐसी तैसी कर रहे है. " मे मार जौंगी कालू धीरे धीरे लो मेरी, तुम्हारी ही दौलत है मेर चूत और गांद, एक दिन मे ही लूट लोगे क्या?" " साली ये दौलत तो लूटने से बढ़ती है अभी तो पूरी रात बाकी है,' साधु बोला.



कोई 10 मिनिट तक निशा की भयानक चुदाई हुई कोई 5 बार उसको ऑर्गॅज़म हो गया. वो इंतेज़ार करने लगी की दोनो बेरहम चुड़क्कड़ कब अपने भरे हुए अंडकोष उसके पेट मे खाली करेंगे,' अब निकालो अपना पानी और बुझा दो मेरी चूत और गांद की प्यास,' वो बोली.' गर्र्र्र की आवाज़ करते हुए पहले कालू खल्लास हुआ, उसने इतना पानी छोड़ा को वो निशा की चूत से बह कर उसके काले अंडकोषो को पूरा भिगो गया. उसके बाद, ' ले रंडी मेरा पानी ले तेरी गांद को आज इस से भर दूँगा,' ये कह कर चीख कर साधु निशा की गांद मे झाड़ गया. बिस्तेर पेर वीरया ही वीरया बिखरा हुआ था. चीखे सुन तीनो औरते सूरज को छोड चली आई, पीछे पीछे सूरज भी चला आया, बहादुर बी, पाँचो ने ऐसी भयानक चुदाई का द्रश्य आज तक नही देखा था. उधर साधु का लॉडा देख पाँचो की आँखे फटी रह गयी,' चुदाई पूरी होने के 5 मिनिट बाद तीनो को होश आया. " आओ बेटा तुम्हारा और तुम्हारे इस दोस्त का लंड धो देती हू,' गीता बोली. वो साधु के लंड को इसी बहाने हाथ मे लेना चाहती थी. दोनो मर्द गीता के साथ बाथरूम मे गये तो निशा बोली,' मे तो आपके कमरे मे आकर आपकी चुदाई नही देखती आप यहा क्यू आए?" उसने चाचिजी से पूछा.' बहू हम तो तेरी चीख सुन कर घबरा गये थे,' चाचिजी बोली.' " आप जैसी चुड़क्कड़ औरत क्या चुदाई की चीख नही पहचानती?" निशा ने पूछा. ये सुन कर सूरज और चाचिजी बाहर चले गये. गीता मौके का फयडा उठा कर वही रुक गयी.

चाचिजी बहादुर और सूरज के लंड से अब कहा सन्तुस्ट होने वाली थी? उनकी आँखो के सामने साधु का विकराल लंड घूम रहा था. उस रात उन्होने चुदाई बड़े बुझे मन से की और निशा से उनको खूब ईर्ष्या हुई. सूरज भी अपनी बीवी की गांद और चूत मे मोटे लंड जाते देख हीनभावना से भर गया. चाचिजी को उम्मीद थी की गीता कोई रास्ता निकल लेगी.



उधर निशा के कमरे मे दोनो मर्द लंड सॉफ कर के वापस आ गये थे. साधु दोनो तरफ चलता था. कालू को पता था उसको अपनी गांद का प्रसाद चाड़ना परेगा. उसको लगा वो निशा से कैसे कहे,' मा अब साधु मेरी गांद की ऐसी तैसी करेगा तू इसको थूक या तेल वेल से चिकना कर इसके मुस्टंडे के लिए खोल दे,' ये कह के उसने अपने चुतताड बिस्तेर के कोने पेर उँचे कर दिए. मा अपने ही लाल को उसकी दूरगत के लिए तय्यार कर रही थी. वो अंडर जीभ डाल कर उसकी गांद खोलने लगी, कालू को बड़ा मज़ा आ रहा था. साथ ही वो नीचे हाथ बढ़ा कर अपने बेटे का आधा खड़ा लॉडा भी दबाने लगी और धीरे धीरे उसके आंदियो पेर थपकीया देने लगी.' कालू को बहुत मज़ा आ रहा था,' अब मेरी गांद छोड़ मा,' वो बोला. गीता ने अपनी एक उंगली उसकी गांद मे सरका दी और अंडर बाहर करने लगी,' मा और समान डाल इस भद्वे साधु ने चोद चोद कर मेरी गांद का च्छेद मोटा कर दिया है तेरी एक उंगली का कुछ असर नही होगा,' वो बोला. गीता ने धीरे धीरे अपनी चार उंगलिया डाल दीं अगर कालू शांत नही हुआ,' मा और कुछ डाल गांद की खाज मिटी नही, उसने कहा. गीता ने अब अपना पूरा हाथ कलाई तक कालू की गांद मे सरका दिया. पहली बार उसने इतना बड़ा गांद का च्छेद देखा था,' हा मा अब कुछ महसूस हुआ चोद्ति जा,' कालू ने कहा. गीता अपना हाथ उसकी गांद मे अंडर बाहर करने लगी,' मेरे लाल तेरी गांद का तो इस मदारचोड़ ने भुर्ता बना दिया पता नही कितनी बार किस बेरहमी से चोदा है तुझे,' गीता बोली. " मे तो इसके लॉड का घुलाम हू मा,' कालू ने कहा. " उस्ताद मेरी चूत तुम्हारे हथोदे की चोट के लिए तय्यार है,' कालू साधु से बोला.



उधर निशा साधु को चूस कर उसको कालू के लिए तय्यार कर रही थी. साधु तो नीचे खड़ा था और निशा बिस्तेर पेर बैठी थी,' साले रांदबाज़ ऐसा औज़ार ले करके अब तक कहा च्छूपा हुआ रहा?" निशा ने कहा.' कस्बे की सारी औरते मर गयी थी जो तू आदमियो की गांद मारता फिर रहा था?" उसने कहा और लॉलीपोप की तरह साधु का गुप्तन्ग चाटने चूसने लगी,' चाट भोसड़ी की रंडी चाट मेरा हथोदा,' साधु निशा के बॉल पकर कर बोला. निशा हल्के हल्के उसके विशाल सूपदे पेर दाँत भी गाड़ा रही थी जिससे साधु और उत्तेजित हो रहा था. साधु ने कोई 5 मिनिट मे विकराल रूप धारण कर लिया अब निशा का मूह छ्होटा परने लग गया, वो उसके लंड के चारो तरफ जीभ फिरने लगी, इन अंडू को भी चट, ' ये कह कर साधु ने अपने टटटे उसके मूह मे एक एक कर के डाल दिए. निशा पागल हो रही थी उसकी चूत का रस बह कर उसके घुटनो तक आ गया.



अब साधु को अपनी मंज़िल पता थी. उसने निशा के मूह से लंड हटाया और कालू की गांद के च्छेद पेर रख दिया. गीता ने उसके सूपदे को च्छेद पेर रख कर दबा दिया,' मार मेरे बेटे की गांद मेरे सांड चोद इस भद्वे को,' गीता बोली. साधु लगभग हर रोज़ कालू को चोद्ता था. उसे पता था उसे क्या करना है. उसने एक ज़ोर का झतका दिया और आधा लंड कालू की गांद मे सरका दिया,' मर गया उस्ताद रहम करो,' कालू चीखा. कालू की चीख कम से कम पूरे घर मे सुनाई दी. जिग्यासा वश चाचिजी, सूरज वगेरह सब भी पर्दे के पीछे से देखने लगे. कालू की गांद मे फासे हुए साधु के विकराल लंड को देख उनके पसीने छ्छूट गये,' ये तो कालू को मार डालेगा ज़ालिम,' चाचिजी बोली. मगर साधु रुका नही थोड़ा बाहर खीच कर उसने एक और झटका मारा इस बार तीन चौथाई लंड अंडर था,' छ्चोड़ दो उस्ताद फट जाएगी मेरी गांद,' कालू चीखा.' " तेरी मा और तेरी रंडी बैठी तो है सीलने के लिए तू तो ऐसे नखरे कर रहा है जैसी किसी कुँवारी रांड़ की सुहग्रात हो,' साधु बोला और लंड खिसकता रहा. कोई दो मिनिट बाद उसका पूरा गधे जैसा लंड कालू की गाड़ ने खा लिया,' शॅबहश मेरे लाल जुग जुग जीओ, तूने आज तेरे उस्ताद का पूरा लंड खा लिया,' गीता बोली.' साधु अब चुदाई शुरू कर चक्का था. कालू भी अब पूरी मस्ती मे था,' चोदो उस्ताद फाडो इस भद्वे की गांद,' कालू बोला. साधु की स्पीड बढ़ गयी थी. कालू का मूह लाल था. निशा अपने बेटे के बाप के नीचे सरक गयी और कालू का गीला ओर छ्होटा लंड चूसने लगी, उसे असचर्या था उतीज्न के बावजूद कालू का लंड नरम कैसे था जबकि खूब सारा प्रिकूं उसके सुपरे पेर लगा हुआ था,' तुम्हे अच्छा तो लग रहा है कालू?" निशा ने पूछा.' हा बहुत अच्छा लग रहा है थोड़ी देर मे तुम्हारे मूह मे पानी छ्चोड़ दूँगा,' कालू ने कहा.' मगर इतने नरम लंड से कैसे पानी छूतेगा?" निशा ने पूछा.' अरे भेंचोड़ जब गांद मे मूसल हो तो लंड खड़ा कैसे होगा? ऐसे ही नरम लंड पानी छ्चोड़ देगा भाडवी,' कालू बोला. निशा कालू के अंडकोष पेर भी उंगलिया फिरने लगी और उन पेर हल्का हल्का दबाव देने लगी. उधर गीता ने साधु के लंड का बेस कस के पाकर लिया और उसकी विशाल गोलियो को एके क कर के दबाने लगी,' अब छ्चोड़ दे मेरे बेटे की गॅंड मे अपना पानी मेरे साड,' गीता बोली.' अभी कहा अभी तो साले को इतना चोदुन्गा की दो दिन तक टट्टी जाना भूल जाएगा,' साधु ने कहा और पूरा बेरहम हो गया.' सूरज की चीखे जारी रही, गीता के उस्ताद हाथ वन कालू का काम आसान कर दिया, साधु इस बार 5 मिनिट मे ही झाड़ गया. उधर कालू नरम लंड से ही निशा के मूह मे झाड़ गया. ये द्रश्य चाचिजी और सूरज के रोंगटे खड़ा कर गया. मदारचोड़ ऐसा चुड़क्कड़ आदमी ये रंडी कहा से ढूँढ लाई? चाचिजी ने कहा.



उस रात चुदाई का भयंकर द्रश्य था घर मे साधु के लंड से चूटे और गांडे चुद चुद कर घायल हो रही थी. मगर चाचिजी को अब हर कीमत पेर साधु का लंड चाहिए था. उनको पता था गीता के सिवई यह काम कोई नही कर पाएगा. गीता मालकिन के लिए साधु के लंड के बंदोबस्त मे अगले दिन से ही लग गयी. एक दिन निशा का अच्छा मूड देख कर वो बोली,' मेमसाहिब, साधु इतना भयंकर चुड़क्कड़ है की एक रात मे आपको और मेरे बेटे को चोद कर संतुष्ट करने के बाद भी कम से कम दो तीन और लोगो की मार ले,' वो बोली. " हा गीता है तो वो मदारचोड़ सांड कुछ ऐसा ही,' निशा ने कहा. " तो फिर आप उस से चाचिजी की बुद्धि चूत क्यू नही चूड़ने देती?" " उसने मेरे पति को मुझसे छ्चीना है उस रंडी को मे कभी चुदाई का असली मज़ा लेते हुए नही देख सकती, जो मुझे चोदेगा वो उस बुद्धि भिस्दी को नही,' निशा ने कहा. कोई दो दिन बाद निशा यकायक गीता से बोली,' सुन गीता में साधु को चाचिजी को चोदने दे सकती हू मगर मेरी एक शर्त है,' उसने कहा.' " क्या शर्त है मेमसाहिब?" गीता ने पूछा. " साधु और कालू सूरज की गांद मारेंगे,' निशा बोली.' और हा चाचिजी को अगर साधु से चूड़ना है तो फिर सूरज का लंड छ्चोड़ना पड़ेगा और उसकी गांद मेरे सांड से मर्वानी पड़ेगी, सूरज अब सिर्फ़ चुड पाएगा, चोद नही पाएगा, ये अगर चाचिजी को मंज़ूर हो तो मुझे बता देना,' निशा बोली.



गीता ने अगले ही दिन सब चाचिजी को बता दिया. चाचिजी की आँखो के सामने दिन रात साधु का विकराल लॉडा घूमता था. वो सूरज को मानने मे जुट गयी,' बेटा, तूने इतनी चुदाई कर ली, गांद मरवाने का भी तो मज़ा है, तेरे चाचजी नेभी तो कितने सौक से मरवाई, तू अपनी गांद मरवा ले बेटा ताकि तेरी चाचिजी को साधु का गरम लॉडा मिल सके,' उन्होने कहा.' सूरज मना करता रहा. मगर गीता और चाचिजी दोनो ने संकल्प ले रखा था. अगले दिन जब सूरज चाचिजी पेर चढ़ कर उनको चोदने लगा तो गीता ने कुछ नया काम शुरू कर दिया. वो सूरज के आँड की मालिश तो करती ही थी चुदाई के वक़्त उनसे खेलती भी थी, मगर उस रात उसने आँड के तेल मालिश करते करते काफ़ी सारा तेल सूरज की गांद मे लगा दिया और एक हाथ से सूरज की आंड मसालते मसालते दूसरे से उसकी गांद के च्छेद से खेलना शुरू कर दिया. सूरज लंबा चोद्ता था. गीता ने धीरे धीरे अपनी उंगलिओ से उसकी गांद मारनी शुरू कर दी, सूरज की भी अच्छा लग रहा था. वो तोड़ा जल्दी झाड़ा. ऐसे कोई 5-7 दिन मे गीता चुड्ती तो चाचिजी सूरज की गांद मारती और चाचिजी चुड्ती तो गीता उसकी गांद मारती. धीरे धीरे सूरज गांद मरवाने का अभ्यस्त हो गया. दोनो औरते अब उसकी गांद मे गाजर मूली तक सरकने लगी. अब मंज़िल दूर नही थी.