Recession Ki Maar -रिसेशन की मार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:37

रिसेशन की मार पार्ट--32

गतान्क से आगे..........

सेक्सी स्वीट छोटी सी खूबसूरत, इनोसेंट ममता और उसके छोटे से मस्त बूब्स

दो वीक्स के बाद ही मैं और डीके दुबई के डीलर्स से मीटिंग करने के लिए आ गये. दुबई मे उस टाइम पे ट्रेड फेर चल रहा था और किसी होटेल मे भी अकॉमडेशन नही मिल सकता था तो मैं ने बोला के हमारे साथ यही शोरुम के ऊपर ठहर जाना तो उसने भी मान लिया और मेरे साथ ही ऑफीस अकॉमडेशन पे चले आए. वाहा ममता को देखा तो देखते ही रह गये

और बोले के वाउ ममता तुम तो बोहोत ही सुंदर हो तो वो शर्मा गयी और गर्दन नीचे झुका का थॅंक यू सर बोला बस. हम तीनो रेडी हो के ट्रेड फेर को चले गये जहा पे कुछ डीलर्स से मिलना भी था और फेर देखना भी था. दुबई का ट्रेड फेर एक दम से मस्त होता है बोहोत प्रमोशन्स चल रहे होते है दुनिया भर से लोग आते रहते है. हर किसम की लड़किया हर किसम के ड्रेसस और सारी दुनिया के रेस्टोरेंट्स जहा मज़े मज़े के खाने मिलते है. रात तकरीबन 10 बजे तक हम फेर मे घूमते रहे. खाना भी वही एक अरब रेस्टोरेंट मे खाया. अरब खाने भी बोहोत आछे होते है वो लोग अपने खानो मे वो मसाले नही डालते जो हम इंडियन अपने खानो मे डालते है इसी लिए अरब्स के खाने बोहोत लाइट होते है और टेस्टी भी.

हम रात 11 बजे के करीब अपने अकॉमडेशन पे वापस आ गये तो डीके ने मुझ से पूछा के क्या प्रोग्राम है स्नेहा, आँख मार के बोले के कुछ पिलाओगी या ऐसे ही प्यासा रखोगी तो मैं उनकी बात समझ गयी और बोला के अरे डीके आपको खिलाउंगी भी और पिलाउंगी भी, तो डीके ने बोला के सच ? क्या खिलाओगी. मैं ने ममता से बोला के फ्रिड्ज से विस्की और शॅंपेन की बॉटल निकल लाए. ममता के जाने के बाद डीके को आँख मार के बोला के ममता को खाओगे ? तो डीके की आँखो मे चमक आ गयी और पूछा क्या ? तो मैं ने आपनी दोनो आँखें बंद कर के और अपने सर को धीरे से हिला के इशारा दिया के हा. डीके ने बोला के अरे यार यह इतनी छोटी तो है तो मैं ने बोला के तुम फिकर ना करो मैं उसको तय्यार करलूंगी बॅस तुम एक कुँवारी चूत को चोदने की तय्यरी करो तो डीके ने मेरा हाथ पकड़ के अपने खड़े हुए लोहे जैसे लंड पे रख लिया और बोला के देखो यह तो रेडी हो गया अब तुम जल्दी से काम करदो और मेरे लंड को चूत दिलवा दो तो मैं ने उनके लंड को ज़ोर से दबाते हुए कहा के थोड़ा तो सबर करो अभी मिलेगी ममता की कुँवारी चूत. उसकी चूत बोहोत ही छोटी है ज़रा धीरे से उसकी सील तोड़ना तो उसने बोला के तुम्है कैसे मालूम के उसकी चूत छोटी है तो मैं ने बोला के अरे यार मैं देख चुकी हू और टेस्ट भी कर चुकी हू तो डीके हस्ने लगे और बोले के तुम बोहोत शैतान होती जा रही हो और हम दोनो हस्ने लगे इतने मे ममता शराब और 2 ग्लास ले आई तो मैं ने बोला के अरे 2 ग्लास क्यों 3 लाओ तो उसने बोला के नही मेडम मैं ड्रिंक्स नही लेती तो मैं ने बोला के अरे यार चलो आओ थोडा सा कंपनी देदो ना तुम्है कोन एक दिन मे शराबी बना देगा. थोड़े से सीप लेना और हमारा साथ देना बॅस तो वो उठ के गयी और एक ग्लास और ले की आ गयी.

मैं तो अब आछे तरीके से ड्रिंक्स लेने की आदि हो गई थी. ममता का यह पहले टाइम था तो वो डर रही थी. उसको शॅंपेन का ग्लास दिया तो उसने थोड़ा सा

सीप लिया और मूह बनाने लगी तो हम दोनो हंस दिए और बोला के कोई बात नही थोड़ा थोड़ा लो टेस्ट आएगा तो वो भी थोड़ा थोड़ा सीप करने लगी और ऐसे ही सीप ले ते ले ते उसने आधे से ज़ियादा ग्लास ख़तम कर दिया. डीके ने पूछा कोई फिल्म हो तो लगाओ तो मैं ने ममता से पूछा के कोई फिल्म है क्या तो उसने बोला के हा मेडम आप के सीडी बॉक्स मे बोहोत सारी फिल्म्स है मैं ने देखी नही तो मैं ने बोला के ठीक है इधर लाओ बॉक्स और उस्मै से एक ब्लू फिल्म की सीडी निकाल के ममता को दे दिया और बोला के पहले अपना ग्लास ख़तम करो उसके बाद सीडी लगाना. ममता अपनी जगह पे बैठ गयी और धीरे धीरे सीप करने लगी तो मैं ने बोला के तुम ऐसे ही इतनी देर तक सीप लेती रहोगी तो मज़ा नही आएगा. एक टाइम मे ही सारा अपने हलक मे उंड़ेल लो तो मज़ा आएगा तो उसने ऐसा ही क्या. शॅंपेन उसके हलक से नीचे उतर गयी पर ममता अपने गले को पकड़ के खांसने लगी. थोड़ी देर तक खांसने के बाद वो ठीक हो गयी. अब ममता को शराब का नशा चढ़ने लगा था. उसकी आँखें और उसका चेहरा एक दम से लाल टमाटर हो गया था.

ममता अपने आप मे मुस्कुराने लगी और हस्ने लगी तो मैं समझ गयी के अब इसको नशा चढ़ने लगा है. मैं अपनी जगह से उठी और सीडी प्लेयर पे फिल्म लगा के वापस आ गयी और अपनी सीट से थोड़ा हट के बैठ गयी. अब पोज़िशन ऐसी थी 4 सीटर वाले बड़े सोफे पे के ममता बीच मे बैठी थी. एक तरफ मे और दूसरी तरफ डीके बैठे थे. यह 4 सीटर स्पेशल सोफा भी बोहोत बड़ा और स्पेशियस था. इतना बड़ा था के इस पे एक आदमी बोहोत आराम से सो सकता था. फिल्म जैसे ही स्टार्ट हुई नंबरिंग के साथ बड़े बड़े लंड वाले मेल्स और नखरे करती चूत वाली लड़कियाँ आती गयी जिन्है देखते ही ममता का चेहरा लाल हो गया और वो मेरी तरफ देखने लगी तो मैं ने उसको सामने देखने का इशारा किया तो वो फिर से टीवी की तरफ देखने लगी जहा पहले सीन शुरू हो चुक्का था. सीन मैं भी वो आदमी का बोहोत ही बड़ा और बोहोत मोटा लंड था और उसके साथ वाली लड़की भी छोटी सी ही थी जो उसके लंड को अपने हाथो से मसल रही थी और फिर घुटनो के बल बैठ के उसके लंड को चूसने लगी. ममता की हालत देखने की थी वो अपनी नाइटी के ऊपेर से ही अपनी चूत को ऐसे मसाज कर रही थी जैसे कमरे मे वो अकेली हो. डीके ने अपना हाथ ममता के थाइ पे रख दिया और सहलाने लगा साथ मे उसकी चूत को भी सहलाने लगा तो ममता ने अपना हाथ अपनी चूत से हटा लिया. डीके ने मोका देख कर ममता का हाथ पकड़ा और अपने खड़े हिलते हुए लंड पे रख लिया. ममता को शराब का नशा तो चढ़ने ही लगा था. उसने डीके के पॅंट की ज़िप खोल दी और उसके लंड को पॅंट से बाहर निकाल के दबाना शुरू कर दिया. उसका लंड इतना बड़ा था के ममता के दोनो हाथो मे समा नही रहा था. मैं झुक के ममता की नाइटी को उतार दिया और उसके बूब्स को चूसने लगी. ममता जोश मे पागल सी हो गयी थी

और उसके मूह से आआआआअहह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स फफफफफफफफफफफफफ्फ़ जैसी आवाज़ें निकल रही थी.

ममता अब पूरी तरह से नंगी हो चुकी थी. मैं ने भी अपनी नाइटी निकाल दी और मैं भी नंगी हो गयी. और सोफे पे थोड़ा कोरसस हो के बैठ गयी और ममता के मूह मे अपनी चुचिओ को दे दिया जिसे वो फॉरन ही चूसने लगी. ममता शराब के नशे मे पूरी तरह से डूब चुकी थी. उसको कुछ पता ही नही था के उसके साथ क्या हो रहा है. डीके ममता की चुचिओ को चूस रहे थे और साथ ही उसकी चूत का मसाज भी कर रहे थे. ममता की टाँगें पूरी तरह से खुल चुकी थी और अपनी गंद उठा उठा के डीके की उंगली से चुद रही थी. उसकी कुँवारी चूत से कंटिन्यू जूस निकल रहा था. ममता की आँखें मस्ती मे बंद हो गई थी. मैं अपनी जगह से उठी और नीचे ममता की टाँगो को खोल के उनके बीच मे घुटनो के बल बैठ गयी और ममता की चूत पे किस किया तो उसने फॉरन ही अपना हाथ डीके के लंड से हटा लिया और मेरा सर पकड़ के अपनी चूत मे घुसा लिया. उसकी गंद सोफे से काफ़ी ऊँची उठ चुकी थी और अपनी चूत को मेरे मूह मे रगड़ रही थी. यह देख के डीके अपनी जगह से उठे और सोफे के ऊपेर ममता के पैरो के दोनो तरफ अपने पैर रख के ऐसे खड़े हो गये के उनका मस्ती मे लहराता लंड ममता के मूह के सामने झटके मारने लगा जिसे ममता ने फॉरन ही अपने मूह मे ले लिया. उस बेचारी के मूह मैं डीके के लंड का सिर्फ़ सूपड़ा ही घुस पाया. डीके ममता का सर पकड़ के उसके मूह को चोदने लगे. थोड़ी देर की कोशिश के बाद डीके उसके मूह मे आधा लंड घुसाने मे कामयाब हो गये थे. ममता भी बड़े मज़े से लंड चूस रही थी, कभी दोनो हाथो से लंड के डंडे को पकड़ के मूठ जैसा मारती तो कभी एक हाथ से उनके गोल्फ बॉल जैसे टॅटू को मसल्ति और अपने मूह को आगे पीछे कर के ऐसे एक्सपर्टीस स्टाइल से चूस रही थी जैसे लगता था के वो लंड चूसने मे बड़ी एक्सपर्ट है और बचपन से यही करती आई है और लौदे चूसना उसके बाएँ हाथ का खेल है जब के ममता ने आज पहली बार ही किसी मर्द के लंड को अपने सामने देखा, उसको पकड़ा और चूसा था. आज से पहले ममता ने कभी किसी का लंड नही देखा था वो बेचारी तो बोहोत ही मासूम थी. उसकी चूत बिना चुदी और एक दम से कुँवारी थी.

ममता डीके का मोटा लंड चूस्ते हुए

नीचे से मैं उसकी चूत को चाट रही थी. ममता तो जैसे पागल हो गयी थी और उसकी चूत पता नही कितने टाइम झाड़ चुकी थी. ममता के इस मस्त तरीके से लंड चूसने को डीके भी ज़ियादा देर तक बर्दाश्त नही कर पाए और उसका सर पकड़ के हलक तक लंड घुसा दिया और अपनी मलाई का फव्वारा छ्होर्ने लगे जिसे वो बड़े मज़े से पी गयी.

डीके ने अपना लंड उसके मूह से बाहर निकल लिया और साइड मे बैठ के उसकी चूत को सहलाने लगे और उसके बूब्स को चूसने लगे. ममता वासना की आग मे बुरी तरह से जलने लगी और फॉरन ही डीके के लंड को फिर से अपने हाथो मे पकड़ के मूठ मारना शुरू कर दिया. ममता बोले जा रही थी आअहह मादडामम्म ब्ब्बूहहूवततत्त म्‍म्माआज़्ज़्ज़्ज़ाआ आआ र्र्र्ररराआआ हहाा हहीएईईइ ऊऊईईइ म्‍म्म्माऐईयईई गग्ग्गाआययययए और उसने मेरा सर बड़ी ज़ोर से पकड़ लिया और अपनी चूत को मेरे मूह मे दबा दिया और वो मेरे मूह मे झड़ने लगी.

अब ममता वासना की आग मे बुरी तरह से जलने लगी थी अब उसकी चूत को एक आछे मोटे लंड की ज़रूरत थी. ममता की चूत झड़ती ही चली गयी और उसकी आँखें बंद हो गयी थी और मैं उसकी चूत को कंटिन्यू चाट रही थी. ममता बे दम हो के सोफे पे टेढ़ा लेट गयी थी. डीके ने ममता को उठाया और बेड पे लिटा दिया और उसके ऊपेर झुक के उसके बूब्स को चूसने लगे. डीके का रॉकेट लंड ममता की चूत के पंखदिओं के बीचे मे था. ममता से अब रहा नही जा रहा था और उसने डीके के लंड को अपने हाथो मे पकड़ लिया और अपनी चूत मे घिसने लगी. इतनी देर मे, मैं ममता के मूह पे च्चढ़ गयी और उसके मूह के ऊपेर अपनी चूत को रख के बैठ गयी. मेरी चूत को अपने मूह के सामने देख के ममता ने मेरे चूतदो नो पकड़ा और अपनी ओर खेच लिया और मेरी चूत को चूसने और चाटने लगी. मैं इतनी देर से यह सब देख रही थी जिस से मेरी चूत एक दम से गीली हो चुकी थी और झड़ने के कगार

पर थी. इधर मे अपनी चूत ममता के मूह मे रगड़ रही थी उधर ममता डीके का लंड पकड़ के अपनी चूत मे रगड़ रही थी. डीके के लंड से मोटे मोटे कतरे प्री कम के निकल रहे थे और चूत बोहोत ही स्लिपरी हो गयी थी. डीके ने एक झटका मारा और लंड का सूपड़ा ममता की कुँवारी चूत के सुराख मे फँस गया. ममता का मूह एक दम से खुल गया पर मेरी चूत उसके मूह के ऊपेर होने से वो चिल्ला ना पाई.

मैं अपने हाथ आगे कर के ऐसे लेट गयी के मेरे दोनो घुटने ममता के सर के दोनो तरफ थे और मेरा बदन बेड के दूसरे तरफ और मैं अपनी गंद उठा उठा के अपनी चूत को ममता के मूह पे पटक रही थी. उसके दाँत लगने से मेरी चूत मे एक हलचल होने लगी. उधर डीके अपने लंड के सूपदे को उसकी चूत के सुराख मे अंदर बाहर करते करते एक पवरफुल झटका मारा तो डीके का मूसल ममता की चूत को फड़ता हुआ उसकी चूत के अंदर ऑलमोस्ट आधा घुस गया और वो बोहोत ज़ोर से चिल्लाई आआआआआईयईईईईईई म्‍म्म्माआआआअ और मैं ने उसके मूह को अपनी चूत से दबा दिया. डीके ममता की छोटी सी चूत मई अपना आधा लंड घुसा के ऐसे ही लेते रहे. उनके लंड को ममता की चूत के मसल्स ने टाइट पकड़ा हुआ था.

ममता की कुँवारी चिकनी चूत मैं डीके का लंड

मैं बोहोत ही बेचैन हो गयी थी और मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था और फिर मैं ममता के मूह मे अपनी चूत को रगड़ते रगड़ते झाड़ गयी. मेरी चूत से जूस की धारा बहती रही और मैं अपनी चूत को ममता के मूह मे दबाए गहरी गहरी साँसें लेती हुई ढेर हो गयी.

डीके का लंड ममता की टाइट चूत मे फँसा हुआ था और वो तकलीफ़ से छटपटा रही थी. डीके को अपने ऊपेर से धकेलने की पूरी कोशिश कर रही थी और शराब के नशे मे बोल रही थी हट साले मेरे ऊपेर से हट भेन्चोद यह मूसल डाल दिया मेरी छोटी सी चूत मे निकाल इसे क्या समझा है तेरी मा की चूत है यह साले निकल. डीके ने कुछ नही बोला और झुक के उसके ऊपर आ गये

और उसके बूब्स को चूसने लगे. और ममता को किस करने लगे तो थोड़ी देर मे वो रिलॅक्स हो गयी और अपने टाँगें उसके बॅक पे लपेट ली. अब उसको भी डीके का लंड अपनी चूत मे अछा लगने लगा था.

डीके का मोटा लंड ममता की चूत मे आधा घुस गया

डीके ममता को आधे लंड से ही चोद्ते रहे और ममता एंजाय करती रही. इतनी देर मे मेरी साँसें कुछ ठीक हो गयी थी तो मैं अपनी जगह से उठी और ममता के बूब्स को चूसने लगी. ममता को भी मज़ा आने लगा था और उसने मेरे सर को अपने सीने मैदबा लिया. उधर डीके ममता को चोद रहे थे. लगता था के अभी ममता की सील नही टूटी थी.

ममता तकलीफ़ से चिल्लाई ऊओईई म्‍म्म्माआआआआअ

डीके अब ममता के ऊपेर झुक गये और धीरे धीरे उसको चोदने लगे. उसकी चूत से जूस निकलता रहा और चूत गीली हो गयी थी. अब ममता डीके के लंड से शाएद अड्जस्ट हो गयी थी. अब डीके को उसकी छोटी सी चूत को चोदने मे बोहोत मज़ा आ रहा था. वो ममता के ऊपेर पूरा झुके हुए थे और उसके शोल्डर्स को अपने हाथो से टाइट पकड़ लिया. ममता ने अपनी टाँगें डीके की बॅक पे लपेट ली. अब डीके ममता की चूत को कुँवारी चूत को चोद के ममता जैसी कच्ची कली को फूल बनाने वाले थे. ममता के बूब्स डीके के सीने से चिपक गये थे. डीके उसको पॅशनेट किस करने लगे और अपनी गंद उठा उठा के धीरे धीरे चोदने लगे. और फिर एक ही झटके मे अपने लंड को उसकी चूत से पूरा बाहर तक खेच लिया और पूरी ताक़त से उसकी चूत मे घुसेड दिया. ममता बड़ी ज़ोर से चिल्लाई म्‍म्म्मममाआआअरर्र्र्र्र्र्ररर गगग्गगाआईईई हहाआआआआआआईईईई फफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ और उसकी आँखो से आँसू निकलने लगे. डीके ममता के बदन पे ऐसे ही पड़े रहे और ममता भी बिना हरकत करे डीके के नीचे पड़ी गहरी गहरी साँसें लेती पड़ी रही. उसकी कुँवारी चूत की सील टूट चुकी थी, चूत फॅट के पूरी तरह से खुल चुकी थी और एक कच्ची कली फूल बन गयी थी.

डीके का लंड ममता की चूत मे पूरा धँस गया

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--32

gataank se aage..........

Sexy Sweet Choti si Khubsurat, Innocent Mamta aur uske chote se mast boobs

Do weeks ke bad hi mai aur DK Dubai ke dealers se meeting karne ke liye aa gaye. Dubai mei uss time pe Trade Fair chal raha tha aur kisi hotel mai bhi accommodation nahi mil sakta tha to mai ne bola ke hamare sath yahi showroom ke ooepr thair jana to usne bhi maan lia aur mere sath hi office accommodation pe chale aye. Waha Mamta ko dekha to dekhte hi reh gaye

aur bole ke wow Mamta tum to bohot hi sundar ho to wo sharma gayee aur gardan neeche jhuka ka thank youir Sir bola bas. Ham teeno ready ho ke Trade Fair ko chale gaye jaha pe kuch dealers se milna bhi tha aur fair dekhna bhi tha. Dubai ka trade fair ek dum se mast hota hai bohot promotions chal rahe hote hai dunya bhar se log aate rehte hai. Har kisam ki ladkiyah har kisam ke dresses aur sari dunya ke restaurants jaha maze maze ke khane milte hai. Rat takreeban 10 baje tak ham fair mai ghoomte rahe. Khana bhi wahi ek Arab restaurant mai khaya. Arab khane bhi bohot ache hote hai wo log apne khano mai wo masaale nahi dalte jo ham Indian apne khano mai dalte hai isi liye Arabs ke khaane bohot light hote hai aur tasty bhi.

Ham rat 11 baje ke kareeb apne accommodation pe wapas aa gaye to DK ne mujh se poocha ke kia programme hai Sneha, aankh maar ke bole ke kuch pilaogi ya aise hi pyasa rakhogi to mai unki bat samajh gayee aur bola ke arey DK aapko khilaungi bhi aur pilaungi bhi, to DK ne bola ke sach ? kia khilaogi. Mai ne Mamta se bola ke fridge se whiskey aur champaign ki bottle nikal laye. Mamta ke jane ke bad DK ko aankh marke bola ke Mamta ko khaoge ? to DK ki aankho mai chamak aa gayi aur poocha KIA ? to mai ne aapni dono aankhein band kar ke aur apne sar ko dheere se hila ke ishara dia ke HAA. DK ne bola ke arey yaar yeh itni choti to hai to mei ne bola ke tum fikar na karo mai usko tayyar karlungi bass tum ek kunwari choot ko chodne ki tayyari karo to DK ne mera hath pakad ke apne khade hue lohe jaise Lund pe rakh lia aur bola ke dekho yeh to ready ho gaya ab tum jaldi se kaam kardo aur mere Lund ko choot dilwa do to mai ne unke Lund ko zor se dabate hue kaha ke thoda to sabar karo abhi milegi Mamta ki kunwari choot. Uski choot bohot hi choti hai zara dheere se uski seal todna to usne bola ke tumhai kaise malum ke uski choot choti hai to mai ne bola ke arey yaar mai dekh chuki hu aur taste bhi kar chuki hu to DK hasne lage aur bole ke tum bohot shaitan hoti ja rahi ho aur ham dono hasne lage itne mai Mamta sharab aur 2 glass le ayi to mai ne bola ke are 2 glass kyon 3 lao to usne bola ke nahi madam mai drinks nahi leti to mai ne bola ke are yaar chalo aao thoda sa company dedo na tumhai kon ek din mai sharabi bana dega. Thode se sip lena aur hamara sath dena bass to wo uth ke gayee aur ek glass aur le kea a gayee.

Mai to ab ache tarike se drinks lene ki aadi ho gai thi. Mamta ka yeh pehle time tha to wo dar rahi thi. Usko champaigne ka glass dia to usne thoda sa

sip lia aur muh banaane lagi to ham dono hans diye aur bola ke koi bat nahi thoda thoda lo taste ayega to wo bhi thoda thoda sip karne lagi aur aise hi sip le te le te usne aadhe se ziada glass khatam kar dia. DK ne poocha koi film ho to lagao to mai ne Mamta se poocha ke koi film hai kia to usne bola ke haa madam aap ke CD box mai bohot sari films hai mai ne dekhi nahi to mai ne bola ke theek hai idhar lao box aur usmai se ek blue film ki CD nikal ke Mamta ko de dia aur bola ke pehle apna glass khatam karo uske bad CD lagana. Mamta apni jagah pe baith gayee aur dheere dheere sip karne lagi to mai ne bola ke tum aise hi itni der tak sip leti rahogi to maza nahi ayega. Ek time mei hi sara apne halak mai undel lo to maza ayega to usne aisa hi kia. Champaigne uske halak se neeche utar gayee par Mamta apne gale ko pakad ke khansne lagi. Thodi der tak khansne ke bad wo theek ho gayee. Ab Mamta ko sharab ka nasha chhadhne laga tha. Uski aankhein aur uska chehra ek dum se laal tamatar ho gaya tha.

Mamta apne aap mai muskurane lagi aur hasne lagi to mai samajh gayee ke ab isko nasha chhadhne laga hai. Mai apni jagah se uthi aur CD player pe film laga ke wapas aa gayi aur apni seat se thoda hat ke baith gayee. Ab position aisi thi 4 seater wale bade sofe pe ke Mamta beech mai baithi thi. Ek taraf mai aur doosri taraf DK baithe the. Yeh 4 seater special sofa bhi bohot bada aur spacious tha. Itna bada tha ke iss pe ek aadmi bohot araam se so sakta tha. Film jaise hi start hui numbering ke sath bade bade Lund wale males aur nakhre karti choot wali ladkiyan aati gayee jinhai dekhte hi Mamta ka chehra laal ho gaya aur wo meri taraf dekhne lagi to mai ne usko samne dekhne ka ishara kia to wo phir se TV ki taraf dekhne lagi jaha pehle scene shuru ho chukka tha. Scene mai bhi wo aadmi ka bohot hi bada aur bohot mota Lund tha aur uske sath wali ladki bhi choti si hi thi jo uske Lund ko apne hatho se masal rahi thi aur phir ghutno ke bal baith ke uske Lund ko choosne lagi. Mamta ki halat dekhne ki thi wo apni nighty ke ooper se hi apni choot ko aise massage kar rahi thi jaise kamre mai wo akeli ho. DK ne apna hath Mamta ke thigh pe rakh dia aur sehlaane laga sath mai uski choot ko bhi sehlaane laga to Mamta ne apna hath apni choot se hata lia. DK ne moka dekh kar Mamta ka hath pakda aur apne khade hilte hue Lund pe rakh lia. Mamta ko sharab ka nasha to chhadhne hi laga tha. Usne DK ke pant ki zip khol di aur uske Lund ko pant se baher nikal ke dabana shuru kar dia. Uska Lund itna bada tha ke Mamta ke dono hatho mai sama nahi raha tha. Mai jhuk ke Mamta ki nighty ko utar dia aur uske boobs ko choosne lagi. Mamta josh mai pagal si ho gayee thi

aur uske muh se aaaaaaaaahhhhhhhhhhh ssssssssssssssss ffffffffffffff jaisi awazein nikal rahi thi.

Mamta ab poori tarah se nangi ho chuki thi. Mai ne bhi apni nighty nikal di aur mia bhi nangi ho gayee. Aur sofe pe thoda corss ho ke baith gayee aur Mamta ku muh mai apni chuchion ko de dia jise wo foran hi choosne lagi. Mamta sharab ke nashe mai poori tarah se doob chuki thi. Usko kuch pata hi nahi tha ke uske sath kia ho raha hai. DK Mamta ki chuchion ko choos rahe the aur sath hi uski choot ka massage bhi kar rahe the. Mamta ki tangein poori tarah se khul chuki thi aur apni gand utha utha ke DK ki ungli se chud rahi thi. Uski kunwari Choot se continue juice nikal raha tha. Mamta ki aankhein masti mai band ho gai thi. Mai apni jagah se uthi aur neeche Mamta ki tango ko khol ke unke beech mai ghutno ke bal baith gayee aur Mamta ki choot pe kiss kia to usne foran hi apna hath DK ke Lund se hata lia aur mera sar pakad ke apni choot mai ghusa lia. Uski gand sofe se kaafi oonchi uth chuki thi aur apni choot ko mere muh mai ragad rahi thi. Yeh dekh ke DK apni jagah se uthe aur sofe ke ooper Mamta ke pairo ke dono taraf apne pair rakh ke aise khade ho gaye ke unka masti mai lehraata Lund Mamta ke muh ke samne jhatke marne laga jise Mamta ne foran hi apne muh mai le lia. Us bechari ke muh mai DK ke Lund ka sirf supada hi ghus paya. DK Mamta ka sar pakad ke uske muh ko chodne lage. Thodi der ki koshish ke bad DK uske muh mai aadha Lund ghusane mai kamyaab ho gaye the. Mamta bhi bade maze se Lund choos rahi thi, kabhi dono hatho se Lund ke dande ko pakad ke muth jaisa marti to kabhi ek hath se unke golf ball jaise tattoo ko masalti aur apne muh aage peeche kar ke aise expertise style se choos rahi thi jaise lagta tha ke wo Lund choosne mai badi expert hai aur bachpan se yehi karti ayi hai aur Loude choosna uske bayen hath ka khel hai jab ke Mamta ne aaj pehli bar hi kisi Mard ke Lund ko apne samne dekha, usko pakda aur choosa tha. Aaj se pehle Mamta ne kabhi kisi ka Lund nahi dekha tha wo bechari to bohot hi masoom thi. Uski choot bina chudi aur ek dam se kunwati thi.

Mamta DK ka mota Lund chooste hue

Neeche se Mai uski choot ko chaat rahi thi. Mamta to jaise pagal ho gayee thi aur uski choot pata nahi kitne time jhad chuki thi. Mamta ke iss mast tarike se Lund choosne ko DK bhi ziada der tak bardasht nahi kar paye aur uska sar pakad ke halak tak Lund ghusa dia aur apni malayee ka fawwara chhorne lage jise wo bade maze se pi gayee.

DK ne apna Lund uske muh se baher nikal lia aur side mai baith ke uski choot ko sehlaane lage aur uske boobs ko choosne lage. Mamta vasna ki aag mai buri tarah se jalne lagi aur foran hi DK ke Lund ko phir se apne hatho mai pakad ke muth marna shuru kar dia. Mamta bole ja rahi thi aaahhh maaddaammm bbboohhhoootttt mmmaaazzzzaaaa aaaa rrrrrraaaaaa hhhhaaaa hhheeeiiii ooooiiiii mmmmaaaiiiii ggggaaaayyyyeee aur usne mera sar badi zor se pakad lia aur apni choot ko mere muh mai daba dia aur wo mere muh mai jhadne lagi.

Ab Mamta vasna ki aag mai buri tarah se jalne lagi thi ab uski choot ko ek ache mote Lund ki zaroorat thi. Mamta ki choot jhadti hi chali gayee aur uski aankhein band ho gayee thi aur mai uski choot ko continue chaat rahi thi. Mamta be dum ho ke sofe pe tedha let gayee thi. DK ne Mamta ko uthaya aur bed pe lita dia aur uske ooper jhuk ke uske boobs ko choosne lage. DK ka rocket Lund Mamta ki choot ke pankhadion ke beeche mai tha. Mamta se ab raha nahi ja raha tha aur usne DK ke Lund ko apne hatho mei pakad lia aur apni choot mai ghisne lagi. Itni der mei, mai Mamta ke muh pe chhadh gayee aur uske muh ke ooper apni choto ko rakh ke baith gayee. Meri choot ko apne muh ke saamne dekh ke Mamta ne mere chootado no pakda aur apni or khech lia aur meri choot ok choosne aur chaatne lagi. Mei itni der se yeh sab dekh rahi thi jis se meri choot ek dum se geeli ho chuki thi aur jhadne ke kagaar

par thi. Idhar mai apni choot Mamta ke muh mai ragad rahi thi udhar Mamta Dk ka Lund pakad ke apni choot mai ragad rahi thi. DK ke Lund se mote mote katre pre cum ke nikal rahe the aur choot bohot hi slippery ho gayee thi. DK ne ek jhatka mara aur Lund ka supada Mamta ki kunwari choot ke surakh mei phans gaya. Mamta ka muh ek dum se khul gaya par meri choot uske muh ke ooper hone se wo chilla nah payee.

Mai apne hath aage kar ke aise let gayee ke mere dono ghutne Mamta ke sar ke dono taraf the aur mera badan bed ke doosre taraf aur mai apni gand utha utha ke apni choot ko Mamta ke muh pe patak rahi thi. Uske dant lagne se meri choot mai ek halchal hone lagi. Udhar DK apne Lund ke supade ko uski choot ke surakh mai ander baher karte karte ek powerful jhatka mara to DK ka musal Mamta ki choot ko phadta hua uski choot ke ander almost aadha ghus gaya aur wo bohot zor se chillaayee aaaaaaaaaaiiiiiiiii mmmmaaaaaaaaa aur mei ne uske muh ko apni choot se daba dia. DK Mamta ki choti si choot mai apna aadha Lund ghusa ke aise hi lete rahe. Unke Lund ko Mamta ki choot ke muscles ne tight pakda hua tha.

Mamta ki Kunwari chikni choot mai DK ka Lund

Mai bohot hi bechain ho gayee thi aur mujhe bohot hi maza aa raha tha aur phir mai Mamta ke muh mai apni choot ko ragadte ragadte jhad gayee. Meri choot se juice ki dhara behti rahi aur mai apni choot ko Mamta ke muh mai dabayee gehri gehri saansein leti hui dher ho gayee.

DK ka Lund Mamta ki tight choot mai phansa hua tha aur wo takleef se chatpata rahi thi. DK ko apne ooper se dhakelne ki poori koshish kar rahi thi aur sharab ke nashe mai bol rahi thi hat sale mere ooper se hat bhenchod yeh musal dal dia meri choti si choot mai nikal ise kia samjha hai teri maa ki choot hai yeh sale nikal. DK ne kuch nahi bola aur jhuk ke uske ooepr aa gaye

aur uske boobs ko choosne lage. Aur Mamta ko kiss karne lage to thodi der mai wo relax ho gayee aur apne tangein uske back pe lapet li. Ab usko be DK ka Lund apni choot mai acha lagne laga tha.

DK ka Mota Lund Mamta ki choot mai aadha ghus gaya

DK Mamta ko aadhe Lund se hi chodte rahe aur Mamta enjoy karti rahi. Itni der mai meri saansein kuch theek ho gayi thi to mai apni jagah se uthi aur Mamta ke boobs ko choosne lagi. Mamta ko bhi maza aane laga tha aur usne mere sar ko apne seene maidaba lia. Udhar DK Mamta ko chod rahe the. Lagta tha ke abhi Mamta ki seal nahi tooti thi.

Mamta takleef se chillayee oooiiii mmmmaaaaaaaaaaa

DK ab Mamta ke ooper jhuk gaye aur dheere dheere usko chodne lage. Uski choot se juice nikalta raha aur choot geeli ho gayee thi. Ab Mamta DK ke Lund se shaed adjust ho gayee thi. Ab DK ko uski choti si choot ko chodne mai bohot maza aa raha tha. Wo Mamta ke ooper poora jhuke hue the aur uske shoulders ko apne hatho se tight pakad lia. Mamta ne apni tangein DK ki back pe lapet li. Ab DK Mamta ki choot ko kunwari choot ko chod ke Mamta jaisi Kacchi Kali ko phool banaane wale the. Mamta ke boobs Dk ke seene se chipak gaye the. DK usko passionate kiss karne lage aur apni gand utha utha ke dheere dheere chodne lage. Aur phir ek hi jhatke mai apne Lund ko uski choot se poora baher tak khech lia aur poori takat se uski choot mai ghused dia. Mamta badi zor se chillayee mmmmmmaaaaaaarrrrrrrrrr gggggaaaaeeeeee hhhhhhhhaaaaaaaaaaaaaaeeeeeeeee ffffffffffffffffff aur uski aankho se aansoo nikalne lage. DK Mamta ke badan pe aise hi pade rahe aur Mamta bhi bina harkat kare DK ke neeche padi gehri gehri saansein leti padi rahi. Uski kunwari choot ki seal toot chuki thi, chooot phat ke poori tarah se khul chuki thi aur ek kacchi kali phool ban gayee thi.

DK Ka Lund Mamta ki choot mai poora dhans gaya

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:38

रिसेशन की मार पार्ट--33

गतान्क से आगे..........

थोड़ी देर के बाद डीके उसके ऊपेर से थोडा सा ऊपेर उठे और उसको चोदने का प्लान बना रहे थे तो देखा के उसकी तो आँखें पूरी तरह से बंद है और वो गहरी गहरी साँसें लेती पड़ी है. डीके समझ गये के उसको चूत फटने का शॉक लगा है. डीके ने मुझ से बोला के स्नेहा तुम थोड़ा सा ठंडा पानी लाओ और इसके मूह पे छीटें मारो. मैं अभी इसकी चूत से लंड बाहर नही निकालूँगा. अगर अब इस टाइम पे मैं अपना लंड इसकी चूत से बाहर निकाल लूँगा तो फिर यह ज़िंदगी भर किसी से नही चुदवायेगी. इसको बोहोत बुरी तरह से शॉक लगा है. मैं अपनी जगह से उठी और फ्रिड्ज से ठंडा पानी निकाल लाई और ममता के मूह पे छीटें मारने लगी. 1 मिनिट के अंदर ही ममता अपने मूह कोझटक के आँखें खोल के देखने लगी. उसका नशा उतर चुका था और पहले मेरी तरफ देखा फिर डीके की तरफ देखा और फिर झुक के अपनी चूत की तरफ देखा जिसके अंदर डीके का मूसल गढ़ा हुआ था. पहले तो उसकी समझ मे कुछ नही आया फिर मैं ने ममता को किस करना शुरू किया और बोला के सब ठीक हो जाएगा तुम फिकर ना करो जो होना था सो हो चुका है. तुम्हे बोहोत मुबारक हो अब तुम कुँवारी नही रही. आज तुम लड़की से औरत बन गयी हो और शूकर करो के तुमने ऐसे शानदार लंड से अपनी कुँवारी चूत की सील तुडवाई है. ममता मुस्कुरा के मुझे और डीके की तरफ देखने लगी.

इतनी देर मे उसका दरद कम हो गया था. डीके उसको अब धीरे धीरे चोदने लगे. ममता अब अपनी गंद उठा उठा के डीके के लंड को अपनी चूत के अंदर ले रही थी. ममता को अब चुदवाने मे बोहोत मज़ा आ रहा था और वो नीचे से बोल रही थी आअहह ड्ड्ड्ड्ख्ख्ख्ख्ख्ख्ख्ख्ख्ख्ख्क ब्ब्ब्बूओह्ह्ह्हूऊओत्त्त्त्त म्‍म्माआज़्ज़्ज़्ज़ाआअ आआआअ र्र्र्राआअह्ह्ह्ह्हाआ हीईएईईईईईई आईई म्‍म्माआ उउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ उसको थोड़ी तकलीफ़ भी हो रही थी और मज़ा भी आ रहा था और फुल मस्ती मे चुदवा रही थी. आज वो सही मानो मे एक कच्ची कली से पूरी तरह से जवान हो गयी थी. डीके अब पूरी रफ़्तार से घचा घच चोद रहे थे और ममता नीचे पड़ी ऐसे हिल रही थी जैसे वो किसी रन्निंग ट्रेन मे सवार हो. अभी तक उसकी चूत से एक क़तरा भी खून का नही टपका था क्यॉंके डीके का मोटा लंड उसकी चूत मे एक दम से फिट बैठा और एक मिल्लिमेटेर की जगह भी खाली नही थी जहा से खून बाहर आता. डीके ने चोदने की रफ़्तार तेज़ कर दी थी और अब तो ममता की चूत को बिल्कुल किसी दीवाने की तरह से चोद रहे थे लंड कब चूत के अंदर जाता और कब बाहर आता पता ही नही चल रहा था और नीचे पड़ी ममता प्लेषर के पीक पे पोहोच चुकी थी और उसकी चूत से कंटिन्यू जूस निकल रहा था और जूस चूत के अंदर ही रुका हुआ था जिसकी वजह से पच पॅक की आवाज़ें आ रही थी और वो बोल रही थी आअहह म्मीरीए सस्शहीएररर ब्बूहहूवततत म्‍म्माआज़्ज़्ज़ाआ एयाया र्राअह्ह्ह्हाअ हाऐईयइ आआआआआआहह ऊऊऊऊऊऊहह हह सस्स्स्स्सस्स हाआाआअँ आआआआआआईईई ईईईईईईईईईईई बोहुत अच्छााआआअ लग रहाआआआ हाआईईईईइ. आऐईएसस्सीए हहीए कक्चहूओद्दद्डूऊऊ और फिर ममता का बदन बोहोत ज़ोर से अकड़ गया और फॉरन ही वो किसी सूखे पत्ते की तरह से हिलने लगी और झड़ती ही चली गयी.

इधर डीके भी अब आने के लिए रेडी हो गये थे. धना धन चोद रहे थे दोनो के बदन पसीने से भर गये थे. डीके का लंड ममता की चूत मा फूलने लगा था और पूरा अंदर तक घुस के उसकी बच्चे दानी के सुराख मे जा के ठोकर मार रहा था और उधर ममता ऐसे मस्त चुदाई से बे हाल हो चुकी थी और दीवानो की तरह से बड़बड़ा रही थी डीके भर दो मेरी चूत को अपने गरम गरम शेहेद से भर दो मुझे और मेरी चूत को भर दो आआअहह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स और वो एक बार फिर से झड़ने लगी. डीके मस्ती मे चोद रहे थे और बोल रहे थे ममता मैं आने वाला हू मैं आने वाला हू मैं आ रहा हूओन्न तो ममता ने बोला के आआअहह द्दददककककक एयाया जाआओ एम्मीयीयिरर्रईयियी प्प्प्य्य्य्याअस्स्स्सीई कककचहूऊतततत म्‍म्मीइ आप्प्पन्न्नाआ गग्ग्गाआररर्राआंम्म ग्ग्गारराययाम ल्ल्ल्ल्लाआववववाअ दद्दालल्ल्ल दूऊव आआआहह. डीके ज़ोर से चिल्लाए मैं आअय्य्याआअ आआआआआईईईईई मैआआ र्र्रएययेयीययाया हूऊऊन्न्‍नननणणन् म्‍म्म्माआंम्म्ममतत्त्त्त्ताआआआआआआआआआआआ आआआआहह आआआआररर्र्र्ररराआआआआअहहाआआआआअ हहूऊवन्न्‍ननणणन् ययईएहह ल्ल्ल्लूऊऊऊओ न्न्न्नियैआइयैयीयिक्क्क्क्क्क्क्क्क्ल्लायाआयाययाया म्‍म्म्मईएररर्राआ आआआआअहह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स हाआाआअँ सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ऊऊऊऊओह हह हाआआआआआआआआ आआअन्न्‍नननननणणन् ईईईईईईईईई ईहह आआआआआआआहह हह लो भाआआआआआअर राआआआहह आआआआआआ हूऊऊऊऊऊऊवंन्न न्‍न्‍नणणन् लो लो लो लो लो लो लो लो हाआआआआआआं उउउउउउउउउउउह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह हह. एक फाइनल झटका बोहोत ज़ोर से मारा और लंड को ममता की चूत के अंदर दफ़न कर दिया और बोहोत ही तेज़ी से डीके के लंड से गरम गरम मलाई की पिचकारी निकली. पहली पिचकारी चूत के अंदर लगते ही फॉरन ही ममता की चूत एक बार फिर से काँपने लगी और एक बार फिर से झड़ने लगी और वो उठ के डीके के बदन से चिपक गयी और उनको बोहोत टाइट पकड़ लिया और झड़ती ही चली गयी और साथ मे अपनी चूत मे डीके के लंड से गिरती एक एक बूँद को महसूस करती रही. दोनो की आँखें बंद हो गयी थी और दोनो ही गहरी गहरी साँसें ले रहे थे और डीके ममता के बदन पे ढेर हो गये.

दोनो एक दूसरे से लिपटे पड़े रहे. डीके ने धीरे से ममता के कान मे कहा ममता यू आर सिंप्ली वंडरफुल तुम्है चोदने मे जितना मज़ा आया किसी को चोदने मई नही आया तो ममता उसके नीचे पड़े ही पड़े मुस्कुरा के बोली "डीके आज मैं पूरी हुई हूँ. एक लड़की बिना लंड के औरत

बन ही नही सकती और तुम ने मुझे आज एक कुँवारी लड़की से औरत बना दिया. एक औरत की चूत बिना लंड के अधूरी होती है और आज तुमने मुझे ऐसे शानदार लंड से चोद के पूरा कर दिया. आज मैं पूरी हुई हूँ".

जैसे ही डीके ने अपना लंड ममता की चूत से बाहर खेच के निकाला, ममता की चूत से जैसे खून का फव्वारा निकल पड़ा. इतना खून देख के ममता घबरा गयी और रोने लगी. मैं ने ममता को समझाया के ऐसा तो होता ही है फर्स्ट टाइम चुदाई मे जब सील टूट ती है और कुँवारी चूत जब कली से फूल बनती है तब हर चूत से खून ज़रूर निकलता है. तुम्हारी चूत लकी है के डीके के शानदार लंड से तुम्हारी चूत की सील टूटी है. ममता थोड़ी थोड़ी देर मे अपनी चूत को सहलाने लगी. उसकी चूत सूज के बोहोत मोटी और लाल हो गयी थी. उसकी चूत का सुराख किसी इंग्लीश के " ओ " की तरह से खुल गया था. उस रात ममता और ना चुदवा सकी. डीके ने ममता के सामने जब मेरी चूत और गंद मारी तो ममता हैरत से देखने लगी. उसकी चूत बोहोत दुख रही थी. अगले दिन डीके ने और मैं ने मिल के ममता को फिर से शराब मे डुबो दिया और डीके ने मार मार के उसकी गंद फाड़ डाली. उसकी गांद मे से भी ढेर सारा खून निकला और एक बार फिर ममता बोहोत रोई. अब तो खैर ममता भी एक दम से चुड़क्कड़ हो गयी है. अब उसको भी छोटे लंड से चुदवाने मे मज़ा नही आता अब तो वो डीके और राज के लंड से चुदने के बाद ही संतुष्ट होती है.

ममता डीके का लंड चूत मे घुसते देख रही है

ममता की चूत एक ही चुदाई मे भोसड़ा बन गयी.

कच्ची कली से फूल बन के ख़ुसी से मुस्कुराने वाली ममता

लड़कियों का ड्रीम लंड जिस से हर लड़की चुदवाना पसंद करे

जब कभी भी डीके का दुबई आना होता तो वो ममता को इतना चोद्ते इतना चोद्ते के ममता ऐसी चुदाई से बे हाल हो जाती और 4 – 5 दीनो तक चलने के काबिल नही रहती.

मैं तो हमेशा ही डीके के साथ रहती. वो मुझे दिन मे 2 – 3 बार तो ज़रूर चोद्ते और अब मेरी चूत भी उनके लंड से इतनी घुल मिल गयी थी के जब तक कम से कम 3 टाइम चुदाई ना हो मुझे मज़ा ही नही आता और लगता जैसे मैं भूकि हू और मेरी चूत प्यासी है.

राज भी जब हमारे साथ होता तो हम 3सम करते और अगर राज, डीके और मैं बॅंगलुर मे होते तो उर्मिला भी आ जाती और हम सब मिल के चुदाई समारोह मनाते.

उर्मिला तो सतीश के साथ ही रहती थी और वो दोनो किसी वाइफ हज़्बेंड की तरह से ही रहने लगे. सतीश भी आजकल बोहोत ही बिज़ी हो गया था और जब भी मौका मिलता उर्मिला उस से चुदवा लेती.

हम सब अपनी अपनी जगह बोहोत खुश रहने लगे थे.

कभी कभी जब मैं अपनी पस्त ज़िंदगी के बारे मे सोचती तो यही ख़याल आता के सतीश के बिज़्नेस को रिसेशन की मार लगी हो या ना लगी हो मेरी चूत को तो रिसेशन की मार ज़रूर लगी और ऐसी लगी जिसने मेरी ज़िंदगी मे खुशियाँ ही खुशियाँ भर दी. "हॅट्स ऑफ टू दिस लव्ली रिसेशन"

दा एंड

दोस्तो अब मैं यह फॅंटेसी यही ख़तम करता हू,

कहानी पढ़ के मुझे ज़रूर बताना के कैसी लगी. इस कहानी को लिखते लिखते ऑलमोस्ट 3 मंत्स हो गये है. कभी टाइम नही मिलता था ओरजब टाइम मिलता तो मूड नही होता था. खैर अब तो कहानी तय्यार हो चुकी है आपको बस पढ़ना और एंजाय करना है.

दोस्तो आपको एक बात का पता होना चाहिए के हमे कहानी लिखने मे 3 – 3 महीने लग जाते है और आप लोग इसको 3 घंटे के अंदर पढ़ लेते है. ज़रा सोचिए के हम इतनी लंबी कहानी कैसे लिख लेते है. कभी सोचा आप ने ???

दोस्तो प्लीज़ डॉन'ट फर्गेट टू मैल मी के आपको यह फॅंटेसी कैसी लगी.

दोस्तो पढ़ कर ज़रूर बताना के यह मेरी लिखी हुई कहानी आप को कैसी लगी. मैं आपके मैल का वेट करूगा. थॅंक्स फॉर रीडिंग माइ स्टोरी.

आपका ग्रेटवॉरियर

हिन्दी डबिंग-राज शर्मा

Recession Ki Maar part--33

gataank se aage..........

Thodi der ke bad DK uske ooper se thoda sa ooper uthe aur usko chodne ka plan bana rahe the to dekha ke uski to aankhein poori tarah se band hai aur wo gehri gehri saansein leti padi hai. DK samajh gaye ke usko choot phatne ka shock laga hai. DK ne mujh se bola ke Sneha tum thoda sa thanda pani lao aur iske muh pe cheetein maro. Mai abhi iski choot se Lund baher nahi nikalunga. Agar ab iss time pe mai apna Lund iski choot se baher nikal lunga to phir yeh zindagi bhar kisi se nahi chudwayegi. Isko bohot buri tarah se shock laga hai. Mai apni jagah se uthi aur fridge se thanda pani nikal layee aur Mamta ke muh pe cheetein marne lagi. 1 minute ke ander hi Mamta ape muh jhatak ke aankhein khol ke dekhne lagi. Uska nasha utar chuka tha aur pehle meri taraf dekha phir DK ki taraf dekha aur phir jhuk ke apni choot ki taraf dekha jiske ander DK ka musal gadha hua tha. Pehle to uski samajh mai kuch nahi aaya phir mai ne Mamta ko kiss karna shuru kia aur bola ke sab theek ho jayega tum fikar na karo jo hona tha so ho chuka hai. Tumhai bohot mubarak ho ab tum kunwari nahi rahi. Aaj tum ladki se aurat ban gayee ho aur shukar karo ke tumko aise shandaar Lund se apni kunwari choot ki seal tudwayee hai. Mamta muskura ke mujhe aur DK ki taraf dekhne lagi.

Itni der mai uska darad kam ho gaya tha. DK usko ab dheere dheere chodne lage. Mamta ab apni gand utha utha ke DK ke Lund ko apni choot ke ander le rahi thi. Mamta ko ab chudwane mai bohot maza aa raha tha aur wo neeche se bol rahi thi aaahhhhhh DDDDKKKKKKKKKKKk bbbbooohhhhooooottttt mmmaaazzzzaaaaa aaaaaaa rrrraaaaahhhhhaaaa hhhheeeeeiiiiiii aaeeee mmmaaaa uuuuuufffffffffffff usko thodi takleef bhi ho rahi thi aur maza bhi aa raha tha aur full masti mai chudwa rahi thi. Aaj wo sahi mano mai ek kacchi kali se poori tarah se jawan ho gayee thi. DK ab poori rafter se ghacha ghach chod rahe the aur Mamta neeche padi aise hil rahi thi jaise wo kisi running tain mei sawar ho. Abhi tak uski choot se ek katra bhi khoon ka nahi tapka tha kyonke DK ka mota Lund uski choot mai ek dum se fit baitha aur ek millimeter ki jagah bhi khali nahi thi jaha se khoon baher aata. DK ne chodne ki raftaar tez kar di thi aur ab to Mamta ki choot ko bilkul kisi deewane ki tarah se chod rahe the Lund kab choot ke ander jata aur kab baher aata pata hi nahi chal raha tha aur neeche padi Mamta pleasure ke peak pe pohoch chuki thi aur uski choot se continue juice nikal raha tha aur juice choot ke ander hi ruka hua tha jiski wajah se pach pack ki awazein aa rahi thi aur wo bol rahi thi aaahhh mmeereee ssshheeerrr bboohhooottt mmmaaazzzaaaa aaaaa rraaahhhhaaa haaaiiii aaaaaaaaaaaahhhhhhh oooooooooooohhhhhhh hhhhhhh ssssssss haaaaaaaaan aaaaaaaaaaaaeeeeeee eeeeiiiiiiiiiii bohut achchaaaaaaaaa lag rahaaaaaaaa haaaaiiiiiiiii. Aaaeeessseee hhheee ccchhhoooddddoooooo aur phir Mamta ka badan bohot zor se akad gaya aur foran hi wo kisi sookhe patte ki tarah se hilne lagi aur jhadti hi chali gayee.

Idhar DK bhi ab aane ke liye ready ho gaye the. Dhana dhan chod rahe the dono ke badan paseene se bhar gaye the. DK ka Lund Mamta ki choot mai phoolne laga tha aur poora ander tak ghus ke uski bache dani ke surakh mai ja ke thokar maar raha tha aur udhar Mamta aise mast chudai se be haal ho chuki thi aur deewano ki tarah se badbada rahi thi DK bhar do meri choot ko apne garam garam shehed se bhar do mujhe aur meri choot ko bhar do aaaaahhhhhhhhhh ssssssssssssssssss aur wo ek bar phir se jhadne lagi. DK masti mai chod rahe the aur bol rahe the Mamta mai aane wala hu mai aane wala hu mai aa raha hooonn to Mamta ne bola ke aaaaahhhhh DDDDKKKKK aaaaa jaaaooo mmmeeerrriii pppyyyyaaassssiiii cccchhhhooootttt mmmeeiii aapppnnnaaaa ggggaaaarrrraaaammm ggggaaaarrrraaammm lllllaaaavvvvaaa dddaallll dooooo aaaaaahhhhhhhhh. Dk zor se chillaye Main aaayyyaaaaa aaaaaaaaaaeeeeeeeeee maiaaaa rrrraaaahhhaaaaaaaa hhhoooooonnnnnnnn Mmmmaaaammmmmttttttaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa aaaaaaaahhhhhhhh aaaaaaaarrrrrrrraaaaaaaaaaahhhhhhhhhaaaaaaaaaaa hhhhhhhooooonnnnnnn yyyeeehhhh llllooooooooo nnnniiiiiiikkkkkkkkkllllllllaaaaaaaa mmmmeeerrrraaaa aaaaaaaaahhhhhhhhhh sssssssssssssss haaaaaaaaan sssssssssssssssss ooooooooohhhhhhhhhh hhhh haaaaaaaaaaaaaaaaaa aaaaannnnnnnnnn yeeeeeeeeeeeeeeeeee eehhhhhhhhh aaaaaaaaaaaaaahhhhh hhhhh lo bhaaaaaaaaaaaaar raaaaaaaahhhhhhhhhh aaaaaaaaaaaa hooooooooooooooonnn nnnnnn lo lo lo lo lo lo lo lo haaaaaaaaaaaaaan uuuuuuuuuuuhhhhhhhh hhhh. Ek final jhatka bohot zor se mara aur Lund ko Mamta ki choot ke ander dafan kar dia aur bohot hi tezi se DK ke Lund se garam garam malayee ki pichkari nikli. Pehli pichkari choot ke ander lagte hi foran hi Mamta ki choot ek bar phir se kaampne lagi aur ek bar phir se jhadne lagi aur wo uth ke DK ke badan se chipak gayaa aur unko bohot tight pakad lia aur jhadti hi chali gayee aur sath mai apni choot mei Dk ke Lund se girti ek ek boond ko mehsoos karti rahi. Dono ki aankhein band ho gayee thi aur dono hi gehri gehri saansein le rahe the aur DK Mamta ke badan pe dher ho gaye.

Dono ek doosre se lipte pade rahe. Dk ne dheere se Mamta ke kaan mai kaha Mamta you are simply wonderful tumhai chodne mai jitna maza aaya kisi ko chodne mai nahi aaya to Mamta uske neeche pade hi pade muskura ke boli "DK AAJ MAI POORI HUYEE HOON. EK LADKI BINA LUND KE AURAT

BAN HI NAHI SAKTI AUR TUM NE MUJHE AAJ EK KUNWARI LADKI SE AURAT BANA DIA. EK AURAT KI CHOOT BINA LUND KE ADHOORI HOTI HAI AUR AAJ TUMNE MUJHE AISE SHANDAR LUND SE CHOD KE POORA KAR DIA. AAJ MAI POORI HUYEE HOON".

Jaise hi DK ne apna Lund Mamta ki choot se baher khech ke nikala, Mamta ki choot se jaise khoon ka fawwara nikal pada. Itna khoon dekh ke Mamta ghabra gayee aur rone lagi. Mai ne Mamta ko samjhaya ke aisa to hota hi hai first time chudai mai jab seal toot ti hai aur kunwari choot jab kali se phool banti hai tab har choot se khoon zaroor nikalta hai. Tumhai choot lucky hai ke DK ke shandar Lund se tumhari choot ki seal tooti hai. Mamta thodi thodi der mai apni choot ko sehlaane lagi. Uski choot sooj ke bohot moti aur laal ho gayee thi. Uski choot ke surakh kisi English ke " O " ki tarah se khul gaya tha. Uss raat Mamta aur na chudwa saki. DK ne Mamta ke samne jab meri choot aur gand mari to Mamta hairat se dekhne lagi. Uski choot bohot dukh rahi thi. Agle din DK ne aur mia ne mil ke Mamta ko phir se sharab mai dubo dia aur DK ne maar maar ke uski gand phaad dali. Uski gaand mai se bhi dher sara khoon nikla aur ek bar phir Mamta bohot roi. Ab to khair Mamta bhi ek dum se chudakkad ho gayee hai. Ab usko bhi chote Lund se chudwane mai maza nahi aata ab to wo DK aur Rajj ke Lund se chudne ke bad hi santusht hoti hai.

Mamta DK ka Lund choot mai ghuste dekh rahi hai

Mamta ki choot ek hi chudai mai bhosda ban gayee.

Kacchi Kali se phool ban ke Khusi se muskurane wali Mamta

Ladkiyon ka Dream Lund Jis se har Ladki chudwana pasand kare

Jab kabhi bhi DK ka Dubai aana hota to wo Mamta ko itna chodte itna chodte ke Mata aisi chudai se be haal ho jati aur 4 – 5 dine tak chalne ke kabil nahi rehti.

Mai to hamesha hi DK ke sath rehti. Wo mujhe din mei 2 – 3 baar to zaroor chodte aur ab meri choot bhi unke Lund se itni ghul mil gayee thi ke jab tak kam se kam 3 time chudai na ho mujhe maza hi nahi aata aur lagta jaise mai bhooki hu aur meri choot pyasi hai.

Rajj bhi jab hamare sath hota to ham 3some karte aur agar Raj, DK aur mai Bangalore mai hote to Urmila bhi aa jati aur ham sab mil ke chudai samaro manaate.

Urmila to satish ke sath hi rehti thi aur wo dono kisi wife husband ki tarah se hi rehne lage. Satish bhi aajkal bohot hi busy ho gaya tha aur jab bhi mouka milta Urmila us se chudwa leti.

Ham sab apni apni jagah bohot khush rehne lage the.

Kabhi kabhi jab mai apni past zindagi ke bare mai sochti to yehhi khayal aata ke Satish ke business ko Recession ki maar lagi ho ya na lagi ho Meri choot Ko to Recession ki maar zaroor lagi aur aisi lagi jisne meri zindagi mai khushiyan hi khushiyan bhar di. "HATS OFF TO THIS LOVELY RECESSION"

THE END

Dosto kahani kuch zaroorat se ziada hi lengthy hoti chali ja rahi hai. Ab mai yeh fantasy yahi khatam karta hu,

Kahani padh ke mujhe zaroor batana ke kaisi lagi. Iss kahani ko likhte likhte almost 3 months ho gaye hai. Kabhi time nahi milta tha aurjab time milta to mood nahi hota tha. Khair ab to kahani tayyar ho chuki hai aapko bas padhna aur enjoy karna hai.

Dosto aapko ek baat ka pata hona chahiye ke hamei kahani likhne mai 3 – 3 mahine lag jate hai aur aap log isko 3 ghante ke ander padh lete hai. Zara sochiye ke ham itni lambi kahani kaise likh lete hai. Kabhi socha aap ne ???

Dosto Please Don't forget to mail me ke aapko yeh fantasy kaisi lagi.

Dosto Padh kar zaroor batana ke yeh meri likhi hui kahani aap ko kaisi lagi. Mai aapke mail ka wait karuga. Thanks for reading my story.