घर के रसीले आम compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: घर के रसीले आम

Unread post by The Romantic » 10 Dec 2014 07:59


हरिया भी बड़े ही मस्ताने अंदाज मे अपनी मम्मी के चुतडो को पागलो की तरह खूब कस-कस कर मसल्ने लगा था और अपने हाथ को अपनी मम्मी की गान्ड की दरार मे भर कर गहराई तक अपनी मम्मी की गान्ड दबाने लगा

कमला अब पागलो की तरह अपने बेटे का लंड मसल रही थी
और हरिया अपनी 46 साल की गदराई मम्मी की उठी हुई गान्ड को खूब अपने हाथ के पंजो से दबोचता हुआ अपनी मम्मी के रसीले होंठो को चूमने लगा था, कमला का बदन काफ़ी भरा हुआ और उसकी टाँगे काफ़ी लंबी थी उन कसी हुई लंबी टांगो को सहारा दिए हुए उसकी मोटी मखमली जाँघो और उन जाँघो के उपर से बहुत ज़्यादा उभर कर आने वाले उसके चूतड़,

अपनी मम्मी की उसी मोटी गदराई गान्ड का दीवाना हो चुका था हरिया, उसका मन अब अपनी मम्मी की गान्ड को चाटने का होने लगा था,
दोनो एक दूसरे से पूरी तरह से चिपके हुए थे और एक दूसरे से बाते कर रहे थे
कमला- बेटे ये क्या कर रहा है क्या तू अपनी मम्मी को चोदेगा

हरिया- हाँ मम्मी मे तुम्हे खूब कस कर चोदना चाहता हू
कमला- अपने बेटे के मोटे लंड को अपने हाथो से मसल्ते हुए, बेटे तेरा लंड तो बहुत मोटा है,
हरिया- अपनी मम्मी की फूली हुई चूत को अपनी हथेली मे भर कर दबोचता हुआ, मम्मी तुम्हारा भोसड़ा भी तो किसी से कमजोर नही है,

कमला- हरिया के लंड को दबाते हुए, लगता है तुझे अपनी मम्मी की चूत बहुत अच्छी लग रही है इसी लिए इसे बार-बार छु रहा है

हरिया- मम्मी मे तो तुम्हारी चूत का रस पीना चाहता हू, और फिर हरिया अपनी मम्मी के पैरो की तरफ आ जाता है और कमला अपनी दोनो जाँघो को फैला कर अपने बेटे को अपनी गुलाबी रस से भीगी हुई चूत दिखा देती है, हरिया अपने दोनो हाथो को अपनी मम्मी की गान्ड के नीचे लेजा कर उसकी चूत को उभार लेता है और फिर अपनी मम्मी की रसीली चूत की दोनो मोटी-मोटी फांको को फैला कर अपनी जीभ सीधे अपनी मम्मी की चूत के छेद मे डाल देता है और उसकी इस हरकत से कमला अपनी गान्ड ज़ोर से अपने बेटे के मुँह पर मारती है और हरिया की जीभ अपनी मम्मी की चूत के गुलाबी छेद मे गहराई तक घुस जाती है, बस फिर क्या था हरिया अपनी मम्मी की रसीली चूत को खूब कस-कस कर पीने लगता है और कमला कसमसाती हुई,बेटे अपने पेर मेरी तरफ करले ना, हरिया समझ गया उसकी मम्मी भी उसका मोटा लंड पीना चाहती है,
हरिया और उसकी मम्मी दोनो एक दूसरे की और पेर करके चिपकते हुए हरिया अपनी मम्मी की दोनो मोटी जाँघो को खूब फैला कर उसकी रसीली चूत मे मुँह धर कर पागलो की तरह चाटना शुरू कर देता है और कमला अपने बेटे का मोटा लंड खूब अपने हाथो मे कस-कस कर दबोचते हुए चूसने लगती है.

हरिया- मम्मी तुम्हारी चूत बहुत फूली हुई और सुंदर है और यह कितनी बड़ी और गोरी है और इसको मे जितनी बार चाटता हू यह और ज़्यादा लाल हो जाती है और जब मे तुम्हारी चूत को खूब कस कर चूस्ता हू तो और भी लाल हो जाती है और मेरा दिल करता है कि तुम्हारी पूरी चूत को खूब चाटू खूब चुसू,

कमला- अपने बेटे के लंड को अपने मुँह से बाहर निकाल कर हाँ बेटे खूब कस कर चूस अपनी मम्मी की चूत खूब चाट-चाट कर लाल कर दे बेटे आह आह आहह और फिर कमला अपने बेटे के मोटे लंड को अपने हाथो से खूब दबाते हुए खूब कस-कस कर चूसने लगती है, दोनो मा बेटे एक दूसरे के लंड और चूत को चाट-चाट कर लाल कर देते है,

हरिया अब अपनी मम्मी को पूरी नंगी करके उल्टी लिटा देता है और अपनी मम्मी की मोटी गान्ड को जब अपने दोनो हाथो से फैला कर देखता है तो अपनी मम्मी की गान्ड की दरार मे कसा हुआ बड़ा सा छेद देख कर वह सीधे अपने मुँह को अपनी मम्मी के दोनो चुतडो के बीच की गहराई मे डाल कर खूब कर कर अपनी मम्मी की गान्ड चाटना शुरू कर देता है

हरिया अपनी मम्मी के भारी भरकम चुतडो को अपने दोनो हाथो से खूब कस कर दबोचते हुए कभी अपने होंठो से उसकी चूत को पकड़ लेता है कभी अपनी जीभ निकाल कर उसकी गान्ड के छेद और चूत के गुलाबी छेद को चूसने लगता है, कमला इस तरह की चुसाइ से पागलो की तरह अपने पेर फेकने लगती है, हरिया अपनी मम्मी को सीधी करके उसकी चूत को अपने दोनो हाथो से चौड़ी करके अपनी जीभ से चाटने लगता है और कमला आह आह करते हुए सिसकिया भरने लगती है
हाँ बेटा ऐसे ही आह आह और ज़ोर से चूस आ आ

हरिया लगातार अपनी मम्मी की बुर को पीता जा रहा था और कमला अपने बेटे के सर को अपनी फूली हुई चूत मे दबाए उसे अपना मस्त भोसड़ा चूसाए जा रही थी, जब हरिया अपनी मम्मी की गान्ड और चूत पूरी तरह चाट-चाट कर लाल कर देता है तब कमला उसे पकड़ कर अपने उपर खींच लेती है और अपने हाथो से हरिया के मोटी लॅंड को पकड़ कर अपनी चूत के लपलपते छेद मे जैसे ही रखती है हरिया एक ज़ोर का झटका अपनी मम्मी की गुलाबी रस से भरी चूत मे मार देता है और उसका पूरा लंड जड़ तक उसकी मम्मी की रस से भरी चूत मे समा जाता है,

हरिया अपनी मम्मी के मोटी-मोटी चुचियाँ को अपने हाथो मे कस कर थामते हुए अपनी कमर के गहरे और तेज धक्के अपनी मम्मी की चूत मे ठोकने लगता है और बीच-बीच मे अपनी मम्मी के होंठो और जीभ को पीते हुए अपने मोटे लंड से अपनी मम्मी की चूत मारने लगता है,

कमला आह आह करती हुई अपनी मोटी गान्ड को उठा-उठा कर अपने बेटे के लंड मे मारने लगती है, हरिया की स्पीड लगातार बढ़ती ही जा रही थी और वह पागलो की तरह अपनी गदराई मम्मी की जवान चूत को खूब हुमच-हुमच कर चोद रहा था और कमला अपनी दोनो जाँघो को खूब फैलाए हुए अपने बेटे का मोटा लंड अपनी चूत मे ले रही थी, दोनो तरफ से धक्के बड़ी तेज़ी से पड़ रहे थे जिससे दोनो को बहुत ही मज़ा आ रहा था,

हरिया उपर से जब तेज झटका अपनी मम्मी की चूत मे मारता तब नीचे से कमला अपनी मोटी गान्ड उठा कर अपने बेटे के मोटे लंड पर मार देती और इस तरह उनकी रफ़्तार बढ़ने लगी और फिर हरिया ने जब देखा कि उसकी मम्मी उसके बदन से बुरी तरफ चिपकने लगी थी तब हरिया ने अपनी मम्मी की गान्ड के नीचे अपने हाथ को भर कर अपनी मम्मी के चुतडो को कस कर दबोचा और फिर उसे थोड़ा उपर उठा कर सतसट खूब तगड़े झटके अपनी मम्मी की चूत मे मारने लगा और जब उसने 10-15 तेज-तेज धक्के अपनी मम्मी की रसीली चूत मे मार दिए तब दोनो का पानी बह निकला और


दोनो ने अपने चूत और लंड को एक दूसरे से बुरी तरह से जाकड़ लिया,
हरिया अपनी मम्मी की गान्ड को दबाता हुआ अपने लंड को अपनी मम्मी की चूत मे जड़ तक पेलता हुआ झड़ने लगा था और कमला अपने बेटे से पूरी तरह चिपकी हुई थी और उसकी चूत का दाना बुरी तरह फदाक रहा था,

अपनी चूत मरवाने के बाद कमला जब नंगी उठ कर खड़ी हो गई और बाथरूम की तरफ जाने लगी तब अपनी मम्मी के भारी भरकम गोरे-गोरे नंगे फैले हुए चूतड़ देख कर हरिया का लंड फिर से झटके मारने लगा था
कमला अपने बेटे के सामने खूब अपने भारी-भारी चुतडो को मटका कर गई थी, हरिया जल्दी से उठा और अपनी मम्मी के पीछे बाथरूम मे चला गया जहाँ कमला बैठ कर मूत रही थी, हरिया ने अपनी मम्मी के पीछे जाकर बैठ गया और अपना हाथ उसकी गान्ड की ओर से भर कर उसकी मुतती चूत को पकड़ लिया और कमला का मूत एक दम से रुक गया,

कमला- ये क्या कर रहा है बेटे
हरिया- कुछ नही मम्मी, तुम मुतती जाओ मे तुम्हारी चूत सहलाता जाता हू, कमला सिसकिया लेते हुए मूतने लगती है और हरिया अपनी मम्मी की चूत को सहलाता जाता है कमला रुक-रुक कर मुतती है और हरिया उसकी पूरी चूत को अपने हाथ से सहलाता जाता है,

कुछ देर मूतने के बाद कमला खड़ी हो गई और हरिया अपनी मम्मी की मोटी गान्ड को थोडा झुका कर उसकी गान्ड को अपने मुँह से दबाने लगता है, कमला वन्हि बाथरूम की दीवार पकड़ कर झुक जाती है और हरिया एक हाथ से अपनी मम्मी की चूत को सहलाते हुए उसकी गान्ड मे थूक लगा-लगा कर अपनी उंगली उसकी गान्ड मे भरने लगता है,

कुछ देर तक हरिया अपनी मम्मी की गान्ड और चूत को सहलाता रहता है उसके बाद हरिया खूब सारा थूक अपने लंड पर लगा कर अपने लंड के सूपदे को अपनी मम्मी की मोटी गान्ड के छेद मे लगा कर बड़े प्यार से उसकी कमर को अपने हाथो से थाम लेता है और फिर एक करारा धक्का अपनी मम्मी की मोटी गान्ड मे मार देता है और कमला एक दम से सीधी खड़ी होने लगती है लेकिन हरिया अपनी मम्मी की कमर को कस कर दबोच लेता है और बहुत ताक़त से उसकी मोटी गान्ड मे अपने लंड को अंदर तक पेल देता है और कमला आह आह मर गई रे कहती हुई फिर से झुक जाती है,

हरिया धीरे-धीरे लेकिन गहराई तक अपनी मम्मी की गान्ड को अपने मोटे लंड से चोदने लगता है और कमला की गान्ड का छेद हरिया के मोटी लंड की मोटाई के बराबर नज़र आने लगता है, हरिया अब अपने लंड से खूब करारे धक्के अपनी मम्मी की मोटी गान्ड के छेद मे मारते हुए अपना एक हाथ आगे लेजा कर अपनी मम्मी की फूली हुई चूत को सहलाने लग जाता है, हरिया को जैसे-जैसे मज़ा आने लगता है वह अपने लंड से खूब कस-कस कर अपनी मम्मी की मोटी गान्ड को चोदने लगता है,

कुछ देर बाद कमला भी अपनी मोटी गान्ड को अपने बेटे के लंड पर मारने लग जाती है, हरिया एक बार जब अपने लंड को बाहर निकाल कर अपनी मम्मी की गान्ड का छेद देखता है तो उसे अपनी मम्मी की गुदा चुद-चुद कर पूरी गुलाबी नज़र आने लगी थी और वह अपनी मम्मी की ऐसी गुलाबी गुदा देख कर पागल हो जाता है और अपने लंड को अपनी मम्मी की गान्ड मे डाल कर खूब कस-कस कर चोदना शुरू कर देता है,


हरिया बार-बार अपने लंड को अपनी मम्मी की गुदा से बाहर निकाल कर अपनी मम्मी की गुदा को फैला-फैला कर देखता है और जब अपनी मम्मी की गुलाबी गुदा देखता है तब और भी जोश मे आकर खूब कस-कस कर अपनी मम्मी की गान्ड की ठुकाई करता है, हरिया ने जितना समय अपनी मम्मी की चूत मारने मे लिया था उससे डबल समय तक वह अपनी मम्मी की मोटी गान्ड मारने मे ले चुका था,

उस रात हरिया रात भर अपनी जवान गदराई 46 बरस की मस्तानी मम्मी को चोदता रहा, कभी आगे से कभी पीछे से सारी रात उसने कभी अपनी मम्मी की चूत मारी कभी गान्ड मारी और जब वह दोनो तक जाते तब दोनो मा बेटे एक दूसरे का लंड और चूत चाटने लगते थे, इस तरह हरिया ने पूरी रात अपनी मम्मी को खूब जी भर कर चोदा.
भाई लोगो इस तरह दोनो जिंदगी का मज़ा लेने लगे दोस्तो कहानी कैसी लगी ज़रूर बताना

दा एंड