रंगीन आवारगी

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: रंगीन आवारगी

Unread post by rajaarkey » 09 Dec 2014 16:26

Rangeen Awaargi - 4

gataank se aage...................

Iski gaand ka chhed bilkul resham jaisa mulayam tha, ajeeb taste tha uska lekin main to us wakt vasna me andhi ho chuki thee, Ab maine bhi Shahi ki tarah hi uski chut me pura haath dhakel diya aur uski chut me fisting karne lagi. Mujhe hairani hui jab mera haath kalayi tak us chalu gashti ki chut me sama gaya. Chut bahut garam thee andar se aur ras ki dhara mere haath par gir rahi thee. Hum dono hawas ki aag me jalti hui ek dusri ki dohri chudayi karne lagi, yani chut aur gaand dono ki!!

Shashi ne apni gaand ko dheela chod diya. Shayad ye mere liye ek hint tha kyo ki us ke baad meri unglian uski gaand me asani se jane lagi thee. Maine bhi apni gaand ke muscles ko dheela chhod diya. Ab meri gaand asani se Shashi ki ungli apne andar lene lagi aur mujhe ek naya maza aaney laga. Ab malum ho raha tha ki gaand marwane ka shauk kyo hota hai ladkon aur ladkyo ko. Vasna ki charm seema aa chuki thee. Chut aur gaand ki chusayi aur chudayi zoron par thee. Kamra "FUCH, FUCH aur PUCH, PUCH"ki awazon ase goonj raha tha. Mera pura haath Shashi ki chut kha gayi thee. Meri kalayi hi uski chut ke bahar thee. Shashi ne bhi ab meri gaand ki chudayi aur tez kar dee aur main kisi kuttia ki tarah haanf rahi thee jis ki chut me kisi tagade kutte ka lund ghus chuka ho. Chut aur gaand ko dohri chudayi ka kya maza hota hai mujhe pata chal chuka tha aur main apne chuttar zor se hila hila kar maze le rahi thee.

Meri chut ka ubalta hua lava oopar chadhne laga. Shashi ka bhi yahi haal tha. Uski garam saans meri chut se takra rahi thee. Usne achanak meri chut se unglian nikal lee aur chut chaatne lagi aur apne free haath se mere chuttar par thapad marne lagi. Meri harami saheli ki chapat bhi mujhe anandit kar rahi thee. Jitni zor se vo thapad marti utna hi dard hoti aur utna hi mera man karta ki vo aur zor se mare meri gaand par apna haath. Mujhe ye bhi pata chala ki chudayi me peeda bhi anandit hoti hai.

Chut ki gehrayi se chut ka lava zor se uchhal pada aur main pagalon ki tarah chudne lagi. Meri speed se Shashi ki bhi manzil aa gayi aur vo bhi chudayi ki charnm seema ko chhoone lagi aur uski choot ka eas ek foware ki shakal me mere mukh par girne laga, Chudayi ab pagalapan ki had tak pahunch chuki thee. Hmare nangi jism ainth rahe the, akad rahe the aur hamari chut se ras ki ganga jamna beh rahi thee."OOOOOOOO.....AAAAAAAAHHHHHHHHH.......UUUUUGGGGGGHHHHHH!!!!!" Awazen hamare halk se nikal rahi thee lekin ye pata nahi chal raha tha ki kaun see awaz kis ki hai. Ek ke baad ek ras ki dhaara hamari chut se bahar nikali aur hum thak kar ek dusri ke bahon me let gayi.

10 minute tak koi nahi hila. Jab maine chehra oopar uthea to dekha ki bistar ki chadar par chur ras ka talab laga hua tha. Itne bade paimane par meri choot aaj tak na chhooti thee. Shashi ankhen band kar ke padi rahi aur main uthi aur kapde pahanane lagi. Vo bistar se hi boli,"Kyo Rani dekha lesbian sex ka maza kya hota hai. Kal ka program bana kar raat ko tujhe phone karungi ki kitne lund tujhe chodenge."

Shashi ke ghar se main jab nikali to mere kadam kamzor ho gaye the. Uske saath jo visfotak lesbian anubhav hua usne mujhe thaka diya lekin mera sharir ek phool ki tarah khil gaya tha.

Meri apne shahr me vapisi itni manoranjak hui thee ki ab ye sochna pad raha tha ki yahan meri kismat me aur kya kuchh hone wala hai. Shashi jitni besharam thee utni hi sexy aur pyari bhi thee. Sab se badi baath ye thee ki vo mujhe zindagi ka har anand dilana chahti thee. Shayad ab meri zindagi se sex ki boriat ka any hone ja raha tha. Apni saheli ki chuchi ki chumna aur usko apni zuban se anandit karne ki yaad se meri chut bhir uttejit hone lagi thee. Ghar ke gate par pahunchi to mera bhai Sanjay bahar aa raha tha," Bindu didi, itni der kahan laga dee?

Main kab se cricket khelne jana chahta tha aur ghar khula bhi nahi chhod sakta tha. Mummy apni sahelion ki party par gayi hui hain, Chabi lo aur mujhe jane do. Sham ko 6 baje lautunga,"

Sanjay mere gale lag kar jane laga. Mera bhai ab pura mard dikh raha tha. Uska kad koi 5 feet 11 inch tha ayr badan kasarati. Jab usne mujhe gale se lagaya to mujhe apne seene se bheench liya aur main uski grift me ekdum khilauna see lag rahi thee. Uske muh se cigarette ki mehak aayi. Main usko puchhne hi wali thi ki kya tum cigrette peete ho lekin vo bhag khada hua.

Ghar me parvesh karte hi mujhe nahane ka man hua. Gate band kar ke maine apne kapde uttar diye aur nangi ho gayi. Mujhe apne mayake ghar me puran nagan ho kar ghuma bahut pasand tha. Ghumti hui main Sanjay ke room me chali gayi. Table per cigrette ka pack pada hua tha. Maine sheeshe ke samne nange kahdi ho kar cigerette jalaya aur kash lagane lagi. Vaise me cigarette nahi peeti lekin aaj mere man vo sab kam karne ko chah raha tha jo maine nahi kya tha, Mirror ke samne main maderzaat nangi khadi thee aur apne ko khud bhi sexy lag rahi thee. Main table ke samne ek chair par baith gayi aur kash lagati rahi. Cigarette se meri chut geeli hone lagi. Shayad isme bhi koi nasha hota hai. Mera haath apne aap meri chut par chala gaya aur usko masalne laga," Sali Bindu, yahan khali ghar me bhi lund ke sapne dekh rahi hai, tu kuttia? Ab to tujhe har wakt lund hi nazar aata hai!!!" Mere man ne mujhe jhidka.

Tabhi meri nazar computer screen par padi. Sanjay kisi se chaat karta hua beech me hi chala gaya aur computer band karna hi bhul gaya tha. Jab main dhyan se dekha to vo kisi GF se chaat kar rah lagata tha. Maine timepass karne ke liye chaat history shuru se padhni shuru kar dee.

Sanjay "Kaisi ho Mona darling?

Mona "Tere lund ko yaad kar rahi hoon mere Raja"

Sanjay "Sali behnchod mera lund hi yaad kar rahi hai ya mujhe bhi?"

Mona "Behnchod to tu hai sale jo mere saath kisi aur ladaki ko ek saath chodna chahte ho."

Sanjay "To theek hai, teri Shashi didi aa rahi hai usko shamil kar lo apne bed me aur hamari trikoni shrankhla bhi ho jayegi"

Mona " Sale agar meri didi aa rahi hai to kya hua. Teri bhi Bindu didi aa rahi hai. Usko bhi to apne bhai ka lund achha hi lage ga aur jo har wakt behnchod, behnchod bolta rehta hai teri vo ichha bhi puri ho jayegi. Main khud pane haathon se tera 8 inch ka lauda daalungi apni pyari nanad ki vivahit chut me. Kyo Sanju, sale teri behan kya chut shave kar ke takhati hai ya jhanton wali bur hai uski. Chuchi to meri nanad ki bhi meri saasu maa jaisi moti aur kadak hai!!!"

Sanjay"Achha bas kar ab, Chhod meri didi ko ab. Aj raat aa rahi hai na padhayi ke bahane? Sari raat chodunga tujhe, meri rani!"

Mona,' Sale chhod nahi Chod apni Bindu didi ko!! Yaad hai tumne hi kaha tha ki teri Bindu didi, bilkul Bindu film actress jaisi dikhati hai. Mujhe to film actress bhi teri behan jaisi chudakad hi lagati hai aur behnchod main to khud tujhe apni Bindu ko chodane ko nimantarit kar rahi hoon. Main khud ek bhai ko apni behan ki chut me lund daalte hue dekhna chahti hoon. Agar Bindu didi ko pata lo to main to hazir hoon tere liye mere raja"

Sanjay 'Achha ab band kar apni bakwas. Main naha kar ground me jane laga hoon, raat ko hoga apna milan meri rani"

Mona" Milan to hoga lekin do ka nahi teen ka, bye"

Mujhe ehsaas hua ki mere haath ki unglian meri chut me sama chuki thee aur main apni chut me athani talash kar rahi thee jo mujhe mil nahi rahi thee. To mera Sanja bhaiya meri saheli Shashi ki behan Mona se ishk lada raha tha? Aur sale dono ashik mujhe apne bistar me 3some ki plan bana rahe the!!! Khas taur par Mona. Jaise maine apna pati Shashi ke saath share kya tha, ab Mona apne hone wale pati yani mere bhai ko mere saath share karna chahti thee. Meri chut vasna ki aag me tapne lagi ye sab soch kar. Main uthi aur kitchen se coke ki ek bottle le aayi aur baith kar peene lagi.

Tabhi meri nazar table par padi ek book par padi. Vo ek dairy thee aur vo bhi Sanjay ki. Uske pages par kai jagah lal nishan lage hue the.

Pehla lal nishan "June 11, 2005. Aj pehli bar mummy ko nahate hue nanga dekha. Ohhhh mummy ki bur...aur us par kale kale bal!!! mera lund bekabu ho gaya...mummy ko chodna chahta hoon tabhi se...kash mummy meri ho jati!!)

Dustra lal nishan (August 12, 2006 Bindu didi ko kapde change karte dekha...Didi ki shaved chut aur ubhare nitambh mujhe pagal bana rahe hain. Didi ki gaand me lund daal sakta kash main....shayad bhenchod ki yahi bhavna hai)

Teesra lal nishan (October 10, 2006. Didi aur Vimal jijja ji ki chudayi dekhi khidki se...bahut irsha hui jijja ji se...unki jagah lena chahta hoon main. Didi ki khuli janghon ke beech phuli hui chut na bhul payunga kabhi aur sari umar tadapta rahunga ki Bindu ko na chod payunga kyo ki vo meri behan hai mashuk ya patni nahi.)

Agla lal nishan,(March 12, 2008 Mona ko pata kar choda. Bahut na nukar karti thee lekin maine jabardasto chod daala. Agar Bindu didi ko patni na bana saka to Mona se shadi karunga) Agla lal nishan June 15, 2009. Mona ko shak ho gaya ki main apni behan ko chodane ki niyat rakhta hoon aur usne mujhe bahut pareshan kya)

kramashah.....................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: रंगीन आवारगी

Unread post by rajaarkey » 11 Dec 2014 04:28

रंगीन आवारगी - 5

गतान्क से आगे...................

मेरा सारा बदन पसीना पसीना हो रहा था. मेरा सगा भाई मुझे चोदने की सोच रहा था और मुझे पता भी नही था. काम वासना मेरे दिलो दिमाग़ पर हावी होने लगी. चूत की आग भड़क उठी और मेरा मन कोई ठीक ढंग से सोचने के काबिल ना रहा. मैं बाथरूम मे गयी और नहाने लगी. मन उल्टे पुल्टे विचारों से भरा पड़ा था. बाहर आ कर मैं एक छ्होटी सी निक्केर और छोटी से टी शर्ट पहन कर लेट गयी. जब आँख खुली तो 6 बज रहे थे. जब मैने देखा तो संजय मुझे घूर रहा था. मुझे एहसास हुआ कि वो मुझे इस अर्ध नग्न अवस्था मे काफ़ी देर से देख रहा था. मैने भी अब आगे झुक कर अपने भाई को अपनी चुचि के भरपूर दर्शन करवा दिए और मन मे कहा," संजू मेरे भाई, अगर तू मुझे इतना चाहता है कि मुझे पत्नी बनाना चाहता है तो देख ले अपनी बेहन की चुचि. मेरा पति अगर बेहन्चोद बन गया है तो क्या फरक पड़ता है कि भाई भी बन जाए!!

'मम्मी कब तक आएँगी?' मैने पुछा. "दीदी मम्मी तो अपनी पार्टी से रात के दो दो बजे तक आती हैं. क्यो क्या बात है?" संजू ने पुछा."कुच्छ नही, मैं तो सोच रही थी कि अगर मम्मी लेट आएँगी तो क्यो ना आज कुच्छ जशन हो जाए? पीते हो क्या? कोई बियर या वोडका ले आयो, मज़े करेंगे!!" संजू एक दम खुश हो गया लेकिन बोला" दीदी आज तो मोना भी यहाँ आने वाली है पढ़ाई करने." मैं सब प्लान कर चुकी थी कि आज मुझे क्या करना है.

"मोना कौन? ओह शशि की बेहन? संजू उसके साथ क्या चक्कर चल रहा है तेरा, मेरे भाई?

तेरी गर्लफ्रेंड है क्या? सच बोल, तेरी शादी करवा सकती हूँ मैं. कैसी दिखती है वो? शशि से सुंदर है या नही? अच्छा भाई बुला लो उसको. मैंभी तो देखूं मेरे भाई की पसंद. तीनो पार्टी करते हैं यार!!" संजू पहले झिजका लेकिन फिर मान गया और शराब लेने चला गया.

उसके जाते ही मैने मोना को फोन लगाया."हेलो" मोना की आवाज़ सुनाई पड़ी,'हेलो मोना भाबी!!' मैने कहा.'हू ईज़ दिस!!!!" वो गुस्सा लगती थी."मोना यार मैं बिंदु, तेरी ननद, यही रिश्ता बनता है ना हमारा? जल्दी से आ जाओ हमारे पास और देखते हैं कि संजू भैया की पसंद कैसी है. अभी तक तो जो दिखाया है तुमने सिर्फ़ संजू को ही दिखाया है" मोना घबराहट मे बोली,'बिंदु दीदी? नमस्ते! मैं आ रही हूँ मैं और संजू आज पढ़ाई करने वाले है"

मैं भी किसी से कम नही थी,"मोना यार ये पढ़ाई के दिन हैं क्या? जवानी के दिन पढ़ाई के नही चुदाई के दिन होते हैं!! यार जल्दी आ जाओ, संजू पार्टी का समान लेने गया है. तुम किताब वग़ैरा मत ले आना मुझे दिखाने के लिए. मैं खुले विचारों वाली बेहन हूँ. मेरी तरफ से तुम लोगों को पूरी आज़ादी है. ऐश करो!!!"

"अच्छा दीदी, मैं आती हूँ" मैने उसको रोका," ठहरो, मोना. तुमने अपनी वो...सॉफ की हुई है...मेरा मतलब चूत? और सुनो तुम पॅंटी और ब्रा मत पहन कर आना. संजू को सर्प्राइज़ देना है तुमको, और कोई सेक्सी ड्रेस पहन कर आना मेरी भाबी जान!! शशि है क्या घर पर?" मोना कुच्छ सोचने लगी फिर बोली,"नही, दीदी, शशि दीदी तो पापा के पास गयी है. आती ही होगी"

मैं अब संजू का इंतज़ार करने लगी. संजू एक बॉटल वोड्का की और ऑरेंज जूस ले आया और साथ मे तन्दूरि मुर्गा और फ्राइड फिश भी. हम दोनो भाई बेहन ने सारा समान टेबल पर सजाया और मोना की वेट करने लगे. तभी मैं बोली,'संजू, मुझे मोना की लेटेस्ट फोटो तो दिखायो. देखूं तो सही अब वो कैसी दिखती है? कितनी सेक्सी है जो उसने मेरे प्यारे भाई को लूट लिया है" संजू एक दम शर्मा गया लेकिन फिर बोला, "अभी दिखाता हूँ, दीदी. मेरे कंप्यूटर मे है उसकी फोटो" मैने अपने भाई के चूतर पर चपत लगाई और बोली," हां भाई तेरे कंप्यूटर मे तो बहुत कुच्छ होगा, तेरी गर्लफ्रेंड का"

जब संजू ने मोना की फोटो दिखाई तो वो मुझे बहुत सुंदर लगी. जिस्म भरा हुआ लेकिन बहुत सेक्सी दिख रही थी. एक फोटो मे उसका साइड पोज़ था तो मैने देख कर कहा"यार संजू, तेरी मोना के नितंभ तो बहुत भारी हैं. इसी लिए तो नही हुआ इसका आशिक़ तू? तुझे भारी चूतर पसंद हैं ना? मुझे पता है जब तू मुझे और मम्मी के पिच्छवाड़े को चोरी चोरी निहारते थे. और मोना का सीना भी काफ़ी भरा हुआ है. वाह भाई तू तो लकी है!! मोना की शकल वैसे शशि से काफ़ी मिलती है, सच भाई"

तभी बेल बजी. मोना ही थी. मैने डोर खोला और वहाँ मोना एक ब्लॅक स्कर्ट और रेड टॉप पहने खड़ी थी. उसकी स्कर्ट घुटनो तक थी और उसकी गोरी टाँगें काफ़ी लंबी थी. मुझे अपनी चूत मे पानी आता हुआ महसूस हुआ जब मैने सोचा कि मोना स्कर्ट के नीचे नंगी थी अगर उसने मेरा कहा माना है तो. "मोना, कितनी सुंदर हो तुम. संजू बहुत लकी है और मैं भी. तेरे जैसी भाबी मिल गयी मुझे.

अब मैं शशि को भी कह सकती हूँ कि मैं उसकी भाबी हूँ और उसकी बेहन मेरी भाबी है. आओ अंदर भाबी. संजू तेरा इंतज़ार कर रहा है." मोना शरमाती हुई ड्रॉयिंग रूम मे चली गयी और मैं किचन से आइस, ग्लासस प्लेट्स लेने चली गयी.

जब मैं ड्रॉइग्रूम के दरवाज़े पर पहुँची तो संजू मोना को किस कर रहा था.

दोनो एक दूसरे से लिपटे हुए थे और संजू ने अपनी माशूक को गांद से पकड़ कर ऊपर उठाया हुआ था और मोना मेरे भाई के लंड को मसल रही थी,"ओह मोना, भेन्चोद साली, तुमने पॅंटी नही पहनी क्या? तेरे चूतर बिल्कुल नंगे महसूस हो रहे हैं!! तुझे पता है ना कि तेरे चूतर पर हाथ लगाते ही मेरे लंड का क्या हाल हो जाता है.

देख इसका हाल क्या बना दिया है तुमने" मोना नकली गुस्सा दिखाती हुई बोली,"संजू, अपनी बेहन से बोलना था कि वो मुझे ऐसा ना करने को कहती. साले भेन्चोद मैं नही तू है. तेरी प्यारी बिंदु दीदी ने ही मुझे कहा था कि भैया को सर्प्राइज़ देना है, पॅंटी और ब्रा मत पहनना. साले तुम भाई बेहन क्या क्या बातें करते हो मेरे बारे मे. और तेरी बिंदु दीदी तो बहुत चालू लगती है. लगता है मेरे साथ वो भी चुदने वाली है आज!!"

मैं दोनो को आलिंगन मे देख कर मुस्कुराती हुई कमरे मे गयी और मज़ाक से बोली,"संजू, बहुत बेसबरे हो तुम. अभी तो बेचारी आई है, ज़रा आराम तो करने दे इसको. आते ही दबोच लिया है इसको. और हां मोना तेरी ननद बहुत चालू है, लेकिन तेरी शशि दीदी से कम चालू है. मैं तुम दोनो को मौका दे रही हूँ ऐश करने का और तुम सालो मेरी बुराई कर रहे हो. अगर मेरे भाई ने तुझे प्यार क्या है तो उसका हर हक बनता है तुझ पर मोना रानी. खैर छ्चोड़ो पहले पेग बना लें फिर देखेंगे कि क्या प्रोग्राम बनता है. संजू ने पेग बनाए और हम तीनो सोफे पर बैठ गये और चुस्की लेने लगे.

मैं देख रही थी कि मोना कसमसा रही थी और कभी मेरी तरफ और कभी संजू की तरफ देख रही थी. दो पेग पीने के बाद हम सभी रिलॅक्स हो गये और मोना पेग ले कर संजू के पास गयी तो मेरे भाई ने उसको गोद मे खींच लिया. मैने देखा की फॅन की हवा ने मोना की स्कर्ट ऊपर उठा दी तो उसकी जंघें और शेव की हुई चूत भी साफ झलक दिखाने लगी. मोना ने अपनी बाहें अब संजू के गले मे डाल दी.

"संजू तुम सिगरेट भी पीते हो क्या" मैने पूछ लिया. मेरे भाई पहले सकपकाया लेकिन फिर बोला,"हाँ दीदी कभी कभी. लेकिन आपके सामने नही पीऊँगा. मुझे शरम आती है. अच्छा दीदी मैं सिगरेट पी कर आता हूँ तुम दोनो बातें करो ज़रा" संजू वहाँ से निकल पड़ा तो रह गयी मोना और मैं अकेली. मोना कुच्छ नशे मे थी और या फिर आक्टिंग कर रही थी. वो उठ कर मेरे पास आई और मुझ से लिपट गयी."दीदी, आपके कहने पर मैने वो सब किया जो आपने कहा था. अब आपकी बारी है मेरी बात मान लेने की. चलो अपने रूम मे. मैं बताती हूँ कि आपको क्या पहनना है. मंज़ूर?"

मैं भी नाटक करती हुई बोली,"मंज़ूर!!" मैं जान लेना चाहती थी कि मोना का क्या प्लान है. मेरे रूम मे आ कर उसने मेरा सूटकेस खोला और उस मे सफेद सिल्क की लेस वाली पॅंटी और ब्रा निकाली और बोली,"दीदी, ये है आज की रात के लिए आपकी ड्रेस. इस मे आप बहुत सेक्सी लगें गी, सच! इसमे आपकी चूत साफ नज़र आएगी और आपकी गांद आधी से अधिक नंगी रहे गी.

संजू बड़ी चुचि और बड़ी गांद का दीवाना है. देखते है कि अपनी बेहन के जिस्म को देख कर उसके लंड खड़ा होता है या नही. मेरा यकीन है कि शराब पी कर आदमी काफ़ी हद तक माशूक और बेहन मे फरक कम ही करता है खास तौर पर संजू जैसा मर्द. खैर आप ये पहन तो लो, प्लीज़!!"

मैं भी मोना का शुरू किया हुआ खेल खेलना चाहती थी. इस लिए अपने कपड़े उतार कर नंगी हो गयी. मोना ने जब मुझे नग्न रूप मे देखा तो उसने ज़ोर से विज़ल बजाई और मुस्कुरा कर बोली,"वाउ दीदी!!!! आप तो बहुत मस्त हो. आप जैसा जिस्म देख कर संजू तो क्या भगवान भी ईमान छ्चोड़ दे आपको चोदने के लिए. वाह दीदी, मुझे इस माखन जैसे जिस्म को स्पर्श तो करने दो!!! इस सीने के उठान को देखने दो!! इस गोरे पहाड़ पर काली चुचि को मसल देने दो. वाह दीदी क्या नितंभ हैं आपके, बिल्कुल मखमली पर्वत और आपकी नाभि से जाती हुई ये नदी जो इस मस्त त्रिकोने मे मिल जाती है. दीदी, सच कहती हूँ कि अगर आपके भैया से इश्क ना करती होती तो आप की हो के रह जाती. सच दीदी, इस सोने मे तराशे हुए जिस्म को चूम लेती और चूमती रह जाती सारी ज़िंदगी!!!!!!"


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: रंगीन आवारगी

Unread post by rajaarkey » 11 Dec 2014 04:29

मोना सच मे मेरी तरफ बढ़ी और मुझे आलिंगन मे ले कर चूमने लगी, मेरा जिस्म सहलाने लगी, मेरे चूतर मसल्ने लगी, मेरी चूत पर हाथ फेरने लगी. आज सुबह ही तो मैं शशि के साथ जीवन का पहला लेज़्बीयन अनुभव कर के आई थी जिसका नशा भी मेरे बदन पर था और यहा उसकी छ्होटी बेहन मुझे लेज़्बीयन लवर बनाने की बात कर रही थी. मैं भी जोश मे आ गयी और मोना के लिप्स किस करने लगी. लड़की वाकई ही बहुत गरम थी. मेरा भाई वाकई ही लकी था!!

मोना ने जब उंगली मेरी चूत पर फेरी तो उस पर मेरा रस लगा हुआ था," दीदी, आप ये पॅंटी और ब्रा पहन लो वेर्ना संजू के आने से पहले ही मैं उसकी बेहन की मखमली चूत खा रही हूँगी. सच दीदी, मुझे तो आप संजू से अधिक सेक्सी लग रही हैं. मुझे संजू के लंड से आपका नंगा जिस्म सेक्सी लग रहा है. ऐसे तो मुझे आज तक किसी औरत ने उत्तेजित नही क्या है.दीदी, मेरी इच्छा है की आज रात हम तीन, आप, मैं और आपका भाई हुम्बिस्तर हों.

आप अपने भाई को मेरे अंदर लंड पेलता हुआ देखें और मैं चाहती हूँ के संजू का लंड पकड़ कर आपको चुदवा डालूं उस से. दीदी आप भी चुदासि हो रही है ना? संजू आता ही होगा, प्लीज़ जल्दी से ये ब्रा और पॅंटी पहन लो" मैने भी मोना के प्लान को अपनाते हुए सफेद पॅंटी और ब्रा पहन ली. असल मे वो पॅंटी और ब्रा मुझे छ्होटी थी और उसके अंदर मेरे चूतर और मम्मे काफ़ी बाहर रह जाते थे और मुझे अपने आपको नंगा महसूस होता था. लेकिन नशे मे होने से मैं बेख़बर थी. मोना ने मुझे सोफे पर लेट जाने को कहा और खुद मेरे सामने चेर रख कर बैठ गयी. उसने मेरे चेहरे को हाथों मे लिया और एक फ्रेंच किस करने लगी.

उसका एक हाथ मेरे मम्मे पर था और दूसरे से वो मेरी जंघें सहला रही थी. तभी संजू कमरे मे आया औट ठिठक गया. मोना ने मेरे होंठों से अपने होंठ अलग करते हुए कहा," संजू.एर यार तुमने ये नही बताया कि तेरी बेहन कितनी नमकीन है!!! बिंदु दीदी तो बहुत मस्त है. अगर सच पूच्छो तो मुझे तुम दोनो बहुत पसंद हो. तेरा लंड मस्ती भरा है तो बिंदु दीदी का पूरा बदन मस्त है. काश मैं तुम दोनो को प्यार कर सकती!!"

संजू का मूह खुला का खुला रह गया जब उसने अपनी बड़ी बेहन को टाइट पॅंटी और ब्रा मे देखा."दीदी, आपने ये क्या पहना है? मेरा मतलब......आप तो नंगी हैं....." उसकी ज़ुबान लड़खड़ा रही थी. "संजू, एक तो अपनी माशूक से कह दे कि मुझे ऐसे कपड़े पेननाने को मत कहे. मोना ने कहा और मैने मान लिया. और वैसे भी गर्मी बहुत है, अगर तुम कहते हो तो उतार देती हूँ!!" मैने उठने की कोशिश की तो मोना ने मुझे फिर नीचे धकेल दिया," दीदी. जब आपने मुझे बिना पॅंटी और ब्रा के आने को कहा था मैने आपका कहना माना था ना? अब मेरा कहना आप माने. संजू इस पॅंटी मे बिंदु दीदी तुझे सेक्सी नही लगती क्या? गोरे मांसल बदन पर सफेद रेशम वा कितना सेक्सी लगता है. संजू तुम नया पेग बनाओ तब तक मैं दीदी के साथ एंजाय करती हूँ.

संजू तेरी दीदी मुझे बहुत गरमा चुकी है. क्यो ना हम तीनो एक हो जाएँ. दीदी भी आज सेक्स की आग मे जल रही है, संजू! ज़रा देख अपनी बेहन की चूत का उभार, कैसे जल रहा है!!!" संजू अब मुझे बिना किसी शरम के घूर्ने लगा और नया पेग पी कर बोला, दीदी, क्या तुम भी उत्तेजित हो चुकी हो? नशे मे मुझे तो तुम दोनो ही बहुत सेक्सी लग रही हो. अगर एतराज़ ना हो तो हम तीनो हुम्बिस्तर हो जाएँ? मोना मेरे लंड का क्या हाल हो रहा है ज़रा देखतो सही"

संजू की हालत देख कर मैने उसके लंड को पॅंट के ऊपर से स्पर्श क्या तो मुझे लगा किसी लोहे की रोड पर हाथ रख दिया हो. उसका लंड इतना मोटा और गरम था कि मेरे होश उड़ गये. संजू भी मेरे बालों मे हाथ फेरने लगा अजब की मोना मेरे निपल्स मसल रही थी. मेरी चूत ने पानी छ्चोड़ना शुरू कर दिया. मैने अब मोना की शर्ट नीचे सरकानी शुरू कर डाली.

जब उसकी स्कर्ट नीचे गयी तो उसके गोरे चूतड़ चमक उठे. सच कहूँ मोना के नितंभ बहुत सेक्सी थे, बिल्कुल भरे हुए और मुलायम!! मैने एक हाथ उसकी चूत पर फेरा तो देखा कि उसने अपनी चूत ताज़ी शेव की हुई थी और उस मे से रस टपक रहा था. मैने फिर संजू की पॅंट की ज़िप खोल दी और उसका ख़तरनाक दिखने वाला लंड बाहर निकल आया. उसका गुलाबी सूपड़ा बहुत मज़ेदार लग रहा था.

क्रमशः.....................