प्यास बुझती ही नही compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:39


Raj: hi..is saadi me tum kamal lag rahi…ho…..
Rashmi: hmmmm thanks…ye saadi meri shaadi ki saadi hai…….suhaagraat me yahi saadi pehni thee.
Raj ne use pichhe se pakad liya aur uske boobs ko apne haatho me lekar misne laga….
Rashmi: are…ye kya kar rahe ho…hato….abhi to bahut samay hai…..
Raj ne use chod diya…aur phir use pucha : ye magazine kaun padhta hai.
Rashmi: ye magazine…aapke bhai padhte hai……uske best friend Ms Rambha nedi hai.
Raj: to kya ladkiya bhi istarah ki magazine padhti hai.
Rashmi: kyo??? Ham ladkyo ka dil nahi hota kya? Ham bhi to sex ki bhuki hoti hai?
Raj: lagta hai ki rajesh ko rambha kuchh jyada hi pasand hai
Rashmi: hmmmmmmmm janab ko meri jarurat kaha ?
Raj: are nahi yaar…aisa mat kaho..wo tumhe bahut pyar karta hai….
Rashmi: sirf dikhata hai
Raj: aur me……..?
Rashmi: aap to…………………. Aur ruk gayee…
Raj: me kya?????
Rashmi: aap jam kar chudai karte hai……………….me kayal ho gayee aapke pyar ka….aapke lund ka.
Raj: oh….aisa kya????????............................ THANKX
Rashmi: me to aapki diwani hu…….
Raj: meri yaa mere lund ki?
Rashmi: dono ki???
Raj: sach?
Rashmi: jee…
aur wo Raj ki kaafi karib aa gaye…..Raj ne use banoho me le liya aur uske lips, honth, gaal, chehre ko chumne, chatne laga……rashmi pagal si ho gayee….wo bhi Raj ke gale me banhe dal di aur uske kurte ke batan ko kholne lagi……………Raj samajh gaya ki loha garam hai….hathoda marna hoga……………………..wo ab rashmi ko aajad kiya aur uski saadi ko nikalne laga….saadi ek hi jhatke me uske sharer se alag ho gaya……………………….red blouse aur petticoat me apsara lag rahi thee…………………………….chuchiyo ko dabate dabate hue uske petticoat ke naade ko khinch diya….peticot niche jameen par gir gayee………………….rashmi Sharma gayee…….aur apni jangho ko Raj se chhupane lagi………………..Raj ne use apni banho me liya aur chumte hue uski blouse aur bra ko bhi uske sharer se alag kar diya…………………………………………………………………………..ab sirf panti tha.
Raj ne use nahi nikala aur apna payjana nikal diya….wo bhi sirf brief me aa gaya…..jo ki lund maharaj kaafi utpaat macha raha tha. Waise Raj wo bhi nikal dena chahta tha…par wo ruk gaya aur rashmi ko ankho me jhankte hue kaha……madam aage?
Rashmi: pahle ye dudh piyo?
Raj: are….abhi to piya tha
Rashmi: to kya hua phir pi lo……………………
Raj: nahi…me ye dudh nai ye dudh piyunga….aur uske ek nipple ko chutki me lekar masal diya…
Rashmi: ueeeeeeeeeee….aahhhhhhhhhhhhhhhhh kar uthi…………………………………………..ab rashmi bhi pure mood me thee…uske panti gili ho chuki thee…jo ki dikh raha tha……………………….
Aage Raj nei uske dono chuchiyo ko eke k kar ke pyar kiya aur chumne, chwo laga….rashmi to pagal ho gayee……………ab rashmi kaa haath Raj ke lund par aa gaya………..aur wo brief ke uppar se hi lund ko masal diya……………Raj ne jab dikha ki rashmi lund keliye pagal ho gayee hai to wo ishaare me kaha ki khol do…brief ko………………ishara pate ni rashmi ne brief ko nikal diya…aur uske lund ko apne haatho me lekar dabane lagi…………………………………Raj ka lund kaafi eract gaya…….dono abhi bhi khade khade hi ek dusre ke kapre nikal rahe the……samne mirror me dono ek dusre ko nang dharag dekh rahe the………………………………………rashmi ne jhuk kar lund ke supade par ek halki si kiss di…..
Raj sihar gaya………………ab Rajse bardast nahi ho raha thaa….wo bhi rashmi ki panti uske sharer se nikal di…………………….rashmi ne use sahyog diya…………………………..dono madarjaat nang ho gaye………………mirror me dekh kar excite ho gey……pichee se rashmi ko pakar kar kaha:

Raj: tum to kamal ki lagti ho
rashmi: hmmmmm.........aaahhhh..............
Raj: tumhara ek ek ang pyara hai aur chut ke lip ko honth se pakarkar khinchne laga
rashmi: kya krte ho..dard ho raha hai.
Raj: is dard me hi to maja hai
aur phir rashmi ko turn kar diya......ab rashmi ki moti gaand Raj ke ankho ke saamne aa gaya....................pahle gaand ko chum liya ....phir gaand ke dono bols ko pakar kar dabala....phr dono phanko ko alag kiya......par ass hole nahi dikh raha tha....Raj ne kaha....darling thoda aage ki or jhuko....
rashmi: kyo????
Raje: are bhai jhuko to sahi.....mujhe kuchh dekhna hai
rashmi: kya?
Raj: INdia gate
rashmi: india gate????haaaaaaaaaaaaaaaaa
Raj: hammmm bas darshan karne do
rashmi thoda aage ko or jhuk gaye aur mirror ka sahara le liya..................jhukne se ass-hole dikh gaya......gulabi....chooti si chhed......chawanni aakar ki ass-hole...bahut pyara lag raha thaa......Raj use chumna chahta thaa...par uski jeev wanhaa tak nahi jaa rahi thee....wo punah anurodh kiya....darling thoda aur jhuko.....................................
rashmi: ab aur nahi jhuk sakti...jo bhi karna hai...itne me hi karo..............
Raj: maayus ho gaya...aur phir mans ke dono luthro ko bidor kar ass-hole ko dekha aur jeev ko legaya......use halka namkeen laga....par khusboo bahut pyari lagi.....rashmi karah uthee..........................................................
rashmi: ab bas karo............me jhad jaaoongi.
Raj;to jhad jaao.......
rashmi: ab bardast nahi hota...bed par chalo aur chod do
Raj; abhi nahi meri jaan...abhi to tumhari MALAI bhi khani hai.
rashmi: MALAI???
Raj: haa.....
Rashmi: MALAI shabd ka arth samajhte hue...........chiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii
aap kitne gire hue ho...kya wo bhi khayee jaati hai>>>>chhiiii
Raj: mujhe sab achha lagta hai...aur phir chudai me sab theek lagta hai...
rashmi: par mujhe achha nahi lagta....agar jabardasti karoge to me yanha se chali jaaoongi.......................sab kuchh karo...par ye MALAI ki baat nahi....
Raj: par tumhe kya appatti hai
rashmi: mene kah diya na.... nahi to nahi.....bas
Raj: ok....as you wish aur use phir turn kar diya aur uske chut ko chatnelaga
rashmi: ab bardast nahi hota..please chalo bed par....pleas....mere raja
Raj : chalte hai??? pahle tumhare is roop ko to dekhne do.....agar camera hota to ek snap khinch leta......
rashmi: agar khinchna ho to aankho se khincho.............................me kuchh nahi bolungi...............
Raj samajh gaya ki ye dulhan aasani se nahi manne wali hai.

mahsh ne gaand ki gahrai me apna vishaal lund ka dabab dala....rashmi chihunk gayee use laga ki lund uske gaand me jaa rahi hai par aisa nahi hua....use jhuke rahne aur chut chikni rahne ki wajah se chut me 3 inch tak chala gaya....rashmi ke munh se aaaahhhhhhhhhhhhhhh nikal gayi.........................
Raj dabab badhata gaya aur anttah pura ander ghusa diya.....rashmi ke aankho se aansu aa rahe the...jo ki Raj bhi mirror me dekh raha tha....wo ab itna jhuk gayee thee jiss-se uske chut aur lund mirror me nahi dikhai de rahee thee.....achanak Raj ne uske ek tang utha diya aur apna kamar me dal diya.....rashmi ne apne tank ko kainchi ki tarah Raj ki kamar me lapet liya....aisa karne se chut ka munh pura khul gaya ...aur Raj ne thoda peeche karneke baad jor lagake pura pel diya...................................uiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiimmaaaaa............maaai...mar gayee............ki awaj aanelagi...................Raj ab dhakke lagana suru kar diya.....jab rashmi pasine pasine ho gayee to Raj ke kaano me bola.....ab to chalo bed par...me thak chuki hu....aur mera pair bhi dukh raha hai..........
haa haa abhi lo..........................................................ab Raj ne uskedusre pair bhi upar khinch liya .........rashmi ne wo pair bhi kainchi ki tarah bandh liya aur ab haalaat ye hogayee ki rashmi aur Raj dono 8 style me ho gayee...lund pura chut me ghusa hua thaa....aur rashmi muskurai......aap to ustaad hai chudai ke....kaha se sikhi ye aasan......................................
bas mat puchhho meri jaan.....sikhna hi padta hai jab tum jaisi hasina ko khus karna ho to.

ab rashmi bed par peeth ke baal so gayee..aur Raj uske upar similar me so gaya...uska lund uske chut me 80% ghusa hua tha......wo apne kamar ko ahiste ahiste chala raha thaa aur phir ussse baate bhi kar raha thaa......
Raj:kal rajesh aa jayega to hamlog kaise chudai karenge?
rashmi: jab ki tab dekhi jayegi....abhi to chodo jor jor se...aahhhhhhhh
Raj: wo to ma chod hi raha hu....me further ki baat kar raha hu.
rashmi: aap chinta kyo karte hai...me hun na.....mere rahte aapko chinta ki jarurat nahi aur waise bhi rajesh bhi yahi chahta tha ki me aap se chudun?
Raj: kya matlab?
rashmi: apna jeev nikalte hue? oh.......ye mene kya kah diya....
Raj: ab to bata hi do is saitan dimaag me aur kya hai mere liye
rashmi haste hue: ek baar jab mene uske jeb me rambha ka photo dekha aur me uspe bigadi to pata hai wo kya kaha?
Raj: kya kaha bataao?
rashmi : pahle to wo kabula ki rambha se uski 1 saal se affair hai..aur roj use office time me chodta hai.
Raj: hmmmmmm
rashmi: aur phir ek din jab mene use chodte hue pakad liya to wo ghabra kar kaha ki...............tum bhi kisi ke saath chudwa sakti ho.....
rashmi: mene kaha ....me aisi ladki nahi hu.....tum beshak ganga meli karo par me nahi karungi. to wo kaha ki chahe jo bhi ho tum bhi kisi ke saath sex kar sakti ho......meri taraf se puri izaazat hai .....wo to yanha tak kah diya ki Raj bhaiya se chudwa lo....
Raj: kya??????????????????????????????????????
rashmi: haaa.................me batana chah rahi the....par bata na saki
Raj: to me kham-khywah dar raha tha.....ab ye lo aur wo chudai hard kar diya.........
rashmi: ab tum baate mat karo aur chodo jee bhar ke......me aapke lund se bahut pyar karti hu...........................................................
bahut khubsurat lund hai aapka.
Raj: oh....thanks..............................................................
karib 15 min aur chudai karne ke baad dono chaade gaye ...phir dono sithil hokar ek dusre par dher hogaye........................dono ki saanse jor jor se chalne lage.
Raj: wakai....tum bahut namkeen ho.

Subah 7 baje rashmi ki neend khuli...wo table par apna mobile dekha...2 missed call aya hua hai.....ek missed call uski widhwa didi (smriti) ki thee jo Dehradun me rahti hai...aur dusra rajesh ki........................rashmi furti se uth gayee aur mobile le kar bahar aa gayee....baahar aate hi rajesh ko phone milaya....tabhi cell fone baj gaya..
rajesh: hi darling.....how are you
rashmi: hi....very good morning ....kaha hai....abhi...................
rajesh: flight delhi land karne wali hai........
rashmi: bhaiya ko bheju kya airport.....
rajesh: bhaiya hai kya ghar par?
rashmi: haa so rahe hai...jagau...
rajesh: nahi rahne do....me khud aa jaaoonga taxi karke.......
rashmi: theek hai.......jaldi aa jaao.......

ab rashmi dusra phone apni widow sister (smriti) ko phone kiya................
rashmi: hi.....didi...good morning....
smriti: very good morning...........kaisi ho?
rashmi: ab yaad ayyeee meri?
smriti: tumne bhi kaha yaad kiya...? bhul gayee is didi ko...............
rashmi: are nahi didi....bas ghar kaamo se samay nahi milta.
smriti: achha chodo...rajesh kaha hai..
rashmi: wo to 8 din se Mumbai me hai....aaj aa rahe hai.
smirit: meri tabiyaat kharab rahti hai....to me soch rahi the ki delhi me aakar ek bar IIMS me ilaaj karwa lu....
rashmi: kya baat hai? sab khairiyat hai?
smirti: are wahi pariod ka problem hai? samay par nahi aata ...aur jab aata hai to bahut dard rahta hai......................kisi cheez me bhi man nahi lagta.
rashmi: to aa jaao....yanha tumhari puri tarah se ilaaz karwa dungi...yanha se changi hokar jaayegi.......kal chalo wanhaa se...............
smriti: kal nahi...monday ko chalungi.......................subah wali bus se...evening tak aa jaaoongi...........koi pareshaani to nahi hogi...
rashmi: nahi..koi pareshaani nahi hogi....hamlogo ke pas hai ek aur kamra aapo de dungi.......rahne ke liye..............don't mind.....aap chinta mat karo....waise ye ayenge to baat kar lungi........................aur switchoff kar diya....

rashmi bhagi bhagi apne kamre me ayee aur Raj ko uthaya ...use sabkuchh bata diya....Raj apne kamre me aa gaya phir rashmi ne apne bed par chader change kar diya...ghar ka hulia theek kar diya aur khud bhi fresh ho gayee......

dusri tarah Raj bhi apne kamre me aate hi fresh hone chala gaya...phir wo taiyaar ho kar bike lekar shop chala gaya........................wo bol gaya ki dopahar me ghar aaoonga.......lunch me rajesh se milunga.......................

Lunch ke table par..............
Raj: tumhara traiing kaisa hua...
rajsh: theek hua bhaiya...ab sirf project submit karna hai...uske baad promotion.
Raj: great........ab kab jana hai.
rajesh: 2-3 days me.........
Raj: rashmi ko le jaao...yanha khamakhwah bor hoti rahti hai....aur rashmi ki taraf ek ankh mar di..................................rashmi dono haatho ko kekra banate hue chidhate hue kaha.....mujhe nahi jaana kahi.............le jana hai to mammy ke ghar dehradun..............aur haa meri didi bhi aa rahi hai......smriti.......
rajesh: didi aa rahi hai???????????????????
smriti ke naam lete hi rajesh ke chehre par khusiya daur gayee.....jo ki Raj ne watch kiya.................. kya baat hai barkhurdar.........tum bahut khus ho rahe ho. didi uski aa rahi hai...khus tum ho rahe ho.....kya baat hai?
rajesh: are bhaiya....tum nahi samjhoge.
Raj: beta me sab samajhta ho...........ki daal me kuchh kala hai
rajesh: aisa kuchh nahi jo tum samajh rahe ho....
Raj: wo tum dekho.....me chala....shop....aur haa shaam ko aa jana dukan me.....dono chalenge biryaani khane....
rashmi: aur me???????????????????????????????
dono chauk ker dekhne lage.
Raj: achha baba tum bhi aa jana.....rajesh ise bhi le kar aa jana...bechari bor hote rahegi................
rajesh: bhabhi kaha hai?
Raj: wo apne brother ke pas gayee hia.....shaam tak wo bhi aa jayegi.
aur haa chaabhi bagal me sharmaji (padosi) ko de dena..........................taki jab wo ayegi to kamsekam chaabhi to mil jayegi..............

Shaam ko ban than kar dono auto se shop par aa gaye....thodi der dono bhaiyo me baate hue...phir rajesh neha ke cabin me chala gaya...use wish kiya uski shaadi ke liye phir wo aur rashmi Raj ke office me baith gaye..................................karib 30 min me Raj fresh ho kar rajesh aur rashmi ke saath chandni chowk aa gaye...jaha ek dhaaba me chicken biryani, milta hai.............rashmi ek black saadi pehne hue thee...uska hair open tha.....kaafi khubsurat lag rahi thee....blouse open cut ki thee...banh chhote the......uska pet kaafi sexy lag raha thaa....................mauka dekh kar Raj ne use kah hi diya...darling you are looking very sexy.
rashmi: thankx aur sharma gayee....
Biryaani khane ke baad rajesh wash basin ki taraf badha...tabhi Raj ne rashmi ke chair ke pas aa gaya aur uske kaan me bola....yaar tumhe chodne ka man karta hai.........
rashmi: kal hi to choda tha...abhi tak dard kar raha hai.................par mujhe bahut maja aya.
Raj: aaj ki raat rajesh chodega.....
rashmi: usi ki to taiyaari kar rahi thee....subah se.
Raj: kaisi taiyaari.......???
rashmi: fitkari aur paani se apne chut ko do baar dhoyee hu....garam paani se bhi ki hai...tab jaaker aaram mila hai.....
Raj: wowo...tab to tumhari chut bahut khubsurat ho gayee hogi.
rshmi: haa to.........dekhkhna hai...........
Raj: nahi...............yanha kachra ho jayega....
mauka dekhte hi me dekh lunga.................ab tum jaao...apna haath dho lo....rashmi aur Raj uth kar jaane lage...tabhi rajesh uske pas aya....coffee....???
Raj: bola...haa bol do 3 coffees...............uske baad picture chalenge......
rashmi: pichture? kaun si?
Raj: jindagi naa milegi dubara
rajesh: hasne laga.....ticket?
Raj: ye lo ticket....3 ticket dopahar me mangwa liya thaa...........
rashmi: bhaiya ...u are great


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:40

प्यास बुझती ही नही-10

अबाउट स्मृति:

स्मृति शर्मा 32 यर्स ओल्ड एक विडो लेडी है जो कि रश्मि की बड़ी बहन है………………आज से 5 साल पहले उसकी शादी ब्रजेश कुमार (गूव्ट. टीचर) से हुई थी..पर इस शादी के 2 साल बाद एक कार आक्सिडेंट मे उसकी मौत हो गयी…….स्मृति काफ़ी उदास रहने लगी…..अनुकंपा के आधार पर उसे गूव्ट. ने उसे जॉब दे दी…पर फिर भी वो उदास रहने लगी……………..घर वाले उसकी शादी उसी के देवर राज से शादी करना चाहते थे…पर इसके लिए स्मृति तैयार नही थी………………………….वो घर से 9 बजे निकलती थी और शाम की 5 पीयेम घर आ जाती थी……………दिन तो कट जाता था पर रात काटना स्मृति को काफ़ी मुस्किल होता था….उसके पुराने संस्कार ही उसके दुश्मन बन गये थे….वो अपने जेहन से ब्रजेश को निकाल नहीपा रही थी….उसे कुच्छ भी अच्छा नही लग रहा था…………सिर्फ़ रो धो कर अपने आपको शांत करती थी……….वैसे कई मर्द उसे पाने की फेराक मे थे….स्कूल मे ही कई टीचर जो कि उसके पति के फ्रेंड थे…उन्होने शादी का प्रस्ताव भेजा पर स्मृति ने उसे खारिज कर दिया……………..अतः स्मृति के मा पापा ने राजेश को फोन मिलाया और स्मृति के बारे मे सब कुच्छ बता दिया……………..

एक दिन राजेश बिना किसी को बताए वो देहरादून चला गया…….घर पर रश्मि को फोन करके वो सिर्फ़ इतना बोला कि मुझे ऑफीस के काम से देहरादून जाना पड़ रहा है…अगर समय मिलेगा तो तुम्हारे मा-पापा से मिल लूँगा…………………………………………..रश्मि भी अपने मा पापा के पास जाना जाहती थी पर उन्दिनो उसका एम बी ए का एग्ज़ॅम चल रहा था….उसने सिर्फ़ इतना ही कहा…ठीक है….जाओ और जाते ही फोन कर देना………………………….

राजेश देहरादून जाते ही सीधे स्मृति के स्कूल मे चला गया……………………………..स्मृति उसे देखते ही हक्की-बक्की रह गयी…………………..

स्मृति: अरे आप…………….ये अचानक…व्हाट्स आ प्लेज़ेंट सर्प्राइज़?

राजेश: हां………..यान्हा ऑफीस के काम से आया था…सोचा तुमसे मिलता चलु

स्मृति: अच्छा किया.......आप बैठो मे अभी चाय भेजती हू...और वो रूम से बाहर आ गयी और ऑफीस बॉय को चाय लाने को बोल गयी...थोड़ी देर मे छुट्टी हो गई....दोनो स्कूल से बाहर आ गये एक ऑटो किया और फिर मालिवरा चॉक आ गये वन्हा एक रेस्टोरेंट मे आ गये और दोनो नेस्नॅक्स का ऑर्डर दिया...

स्मृति: तुम क्या लोगे.....??? लंच या स्नॅक्स

राजेश: लंच........क्योकि मेने सुबह से कुछ नही खाया....

स्मृति: मे स्नॅक्स और चाय लूँगी.....

उसने वेटर को ऑर्डर बुक करवा दिया........................................................

.......................................................................................................

स्मृति: और बताओ...रश्मि कैसी है...

राजेश: ठीक है...पर कोई प्रोग्रेस नही....

स्मृति: मतलब?

राजेश: वही फॅमिली डेवेलपमेंट की

स्मृति:ओह पर क्यो....अब तो तुम्हारी भी शादी को 1 साल हो चुका है.

राजेश: अभी वो मना करती है....बोलती है 3 साल बाद सोचेंगे.

स्मृति: यही हाल सभी कपल का है.....जब वक़्त रहता है तो अवाय्ड करते है पर अगर समय निकल जाता है तो अफ़सोस करते है.....

अब मुझे ही लो.............जब मेरे पति चाहते थे तो मे मना करती थी ..और अब???????????????????????????????????????????????

थोड़ी देर खामोशी च्छाई रही...........पर राजेश ने कहा...

राजेश: देखो....जो हुआ वो अब दुबारा नही आएगा....क्योकि जाने वाले लौट कर नही आते.....उनके बारे मे सोचना बेकार है...ये जिंदगी है इसे जीना ही होगा....तुम अपने बारे मे सोचो....खूबसूरत हो...जवान हो....कोई बच्चा नही है...आपको

कोई भी तुम्हे अपना सकता है.............................मेरी बात मानो और शादी कर लो...................................

स्मृति: मुझे कुच्छ अच्छा नही लगता...लोग क्या कहेंगे...मा पापा तो बोलते है...कुच्छ लड़को के ऑफर भी आए है...........पर मे मना कर देती हू.

राजेश: पर क्यो?

स्मृति:ब्रजेश की याद आ जाती है

राजेश: अगर तुम बुरा ना मानो तो मे एक लड़के की ऑफर दू...मेरे साथ काम करता है पर है वो एक दम काला.............नाम भी है उसका "कल्लू प्रसाद"

पर तुम्हे रानी बनाकर रखेगा..............बोलो क्या बोलती हो

स्मृति की आँखो मे आँसू आ गये....वो कुच्छ नही बोली और वो टेबल से उठ कर वॉश बेसिन मे आ गयी....पिछे पिछे राजेश भी आ गया........................

पर कुछ नही बोला...

________________________________________

टेबल पर लंच लग चुका था....राजेश ने लंच करने लगा और स्मृति सॅंडविच और चाय पिनेलगि....थोड़ी देर और इधर-उधर की बाते होने लगी...तभी जोरो की आँधी आने लगी...........................................

स्मरती: ओह माइ गॉड....लगता है बारिश होनेवाली है.

राजेश: अरे मेरा लगेज तो होटेल मे है..मे कैसे जाऊँगा वन्हा

स्मृति: तुम होटेल मे क्यू गये...घर चलो

राजेश: अरे ये अफीशियल टूर है....ऑफीस की तरफ से होटेल बुक हुआ है...चलो होटेल वन्हा से घर आ जाऊँगा...और मम्मी-पापा से मिल लूँगा...पर रुकुंगा नही

स्मिरिटी: क्यो नही रुकोगे?

राजेश: रश्मि को अच्छा नही लगेगा?

स्मृति: पर क्यू?

राजेश: इसलिए कि उस घर मे उसकी खूबसूरत बहन रहती है.

स्मृति: बुरी तरह शर्मा गयी....वो अपनी नज़रे दूसरी तरफ फेर ली.....पर तब तक राजेश नेउसके हाथ पकड़ लिए...........

स्मृति: ये क्या कर रहे है..............छोड़िए मेरा हाथ

राजेश: ओह....यस.......और उसका हाथ छोड़ दिया.....बहुत नरम हाथ है आपका.....बिल्कुल रश्मि के जैसा. उसके भी काफ़ी कोमल हाथ और अंग है.

स्मरीत; तो बहन है मेरी तो रहेगी ही.

राजेश: पर आपका जवाब नही......फ्लर्ट किया राजेश ने....और उसके आन्सर का इंतजार करने लगा....

आन्सर तो नही दिया स्मृति ने..सिर्फ़ इतना ही कहा...चलो नही तो ऑटो भी नही मिलेंगे...ये देहरादून है...देल्ही नही...........भागो....

राजेश और स्मृति दोनो एक ऑटो की तरफ भागे पर ऑटो नही रुका............बारिश सुरू हो चुकी थी......स्मृति इस समय वाइट कलर की सूट पहने हुए थी और सलवार ग्रीन कलर का था....................राजेश का हाथ पकड़े हुए दूसरे ऑटो की तरफ गयी............राजेश भी उसे गौर से देख रहा था...उसके मन मे लड्डू फूटने लगे...तभी एक ऑटो आ कर रुका...कहा चलना है मम्शह्ब....

राजेश: होटेल गॅलक्सी चलो....

स्मृति: होटेल गॅलक्सी क्यो....?

राजेश: वन्हा मेरा समान है ..........कपड़े नही लेंगे क्या?

स्मृति:हाअ ह्हाआ

स्मृति और राजेश दोनो होटेल गॅलक्सी की तरफ चले गये...होटेल मे स्मृति आना नही चाह रही थी पर राजेश की वजह से होटेल की रूम मे आ गयी....

रूम काफ़ी बड़ा था....सारे ऐशो-आराम थे......एसी ऑन था..उसे ठंडक लग रही थी...तभी चेर पर राजेश का एक ब्रीफ जो कि अभी भी गीला था.....देखा....

उस ब्रीफ को गौर से देखने के बाद वो काफ़ी रोमांचित हो गयी...आज पहली बार किसी दूसरे मर्द के ब्रीफ देख रही थी...राजेश बाथरूम मे चला गया था....

उसने उसे उठा कर देखा...ब्रीफ से एक खुसबू आ रही थी शायद उसके लंड की....................

स्मृति ने उसे सूँघा...फिर वही पर रख दिया और मिरर की तरफ आ गयी....वो अपने आपको देखी.....वाकई वो काफ़ी सुन्दर दिख रही थी....वो अपने आपको ठीक किया....बालो को सँवारा....तब तक राजेश भी आ गया......................चलो...............पर मे ज़्यादा देर तक नही रहूँगा...............

स्मृति: हस्ते हुए.............पहले चलो तो सही...............बाकी का देखा जाएगा.................

स्मृति और राजेश ने होटेल से वही ऑटो द्वारा मालिवरा रोड आ गये रश्मि के घर............................जहा उसका ससुराल था....रास्ते मे राजेश ने स्वीट ली और स्मृति ने दूध...और सब्जी........

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: प्यास बुझती ही नही

Unread post by 007 » 13 Dec 2014 15:41

राजेश ने अपने सास और ससुर के पाँव छुए....स्मृति किचन मे जा कर चाय बनाने लगी....राजेश ने अपने सास-ससुर से आने की वजह बताई, ख़ैरियत बताई...और उनसे समाचार पूछा........................................

ससुर: बेटा....सब कुच्छ ठीक है पर मे इसके (स्मृति) के लिए परेशान रहता हू.

अभी मे हू तो देख-भाल करता हू...कल की डेट मे मे नही रहूँगा तो इसका ख़याल कौनरखेगा.............तुम ही समझाओ इसे..........कई ऑफर आए...............पर ये मानने को तैयार नही.....अब तुम ही बताओ...कोई साए के सहारे तो नही चल सकता ना.....................

राजेश: बाबूजी..मेने काफ़ी समझाया है स्मृति को....आप चिंता ना करे वो ज़रूर कोई स्टेप लेगी......और वैसे भी ये दिल का मामला है......कोई भी विडो इतनी आसानी से किसी दूसरे के साथ शादी केलिए तयार नही होगी.....................

तभी स्मृति आ गयी....सभी लोग चुप हो गये............स्मृति चहकते हुए.....अरे ये क्या कर रहे हो ...पहले कुच्छ खा लो......

स्मृति के मा-बाप काफ़ी खुस हुए...जो बेटी गुम्सुम और खामोस रहती थी आज वो चाहक-चाहक कर बाते कर रही थी...सभी का हाल पुच्छ रही थी....और हो क्यो ना...घर मे नया दामाद जो आया है..............स्मृति ने मत्ठि देते हुए कहा...

स्मृति: लो इसे खाओ....

राजेश ने स्मृति के पापा और मा से ख़ैरियत पूछी और वो भी उसके और रश्मि के बारे मे ख़ैरियत पुच्छे.....राजेश ने बताया कि वो कंपनी के काम से देहरादून आया है...आना अचानक हो गया नही तो रश्मि को ज़रूर लाता.......उसके मा बाप ने कहा...कोई बात नही बेटे....तुम यही रुक जाओ और यही से ऑफीस चले जाना....

राजेश ने कहा....कि मे एक होटेल मे ठहरा हुआ हू...समान भी वही है...अफीशियल विज़िट है तो मे ऑफीस छोड़ नही सकता.............................................

स्मृति तब तक अपना ड्रेस चेंज कर चुकी थी..पर अभी भी उसके चेहरे और बाल बारिश के पानी से गीले थे...वही हाल राजेश का था.........उसको देखते हुए

स्मृति के पापा ने कहा...बेटे इसके लिए टवल और मेरा पयज़ामा और कुर्ता निकाल दो.

राजेश: नही बाबूजी...ठीक हू...सिर्फ़ एक टवल दे दीजिए मे थोड़ा फ्रेश होना चाहूँगा. स्मृति राजेश को लिए हुए अपने रूम मे आ गयी....वो दरवाजा बंद कर दिया और बोली......आप फ्रेश हो लो...मेरा बाथरूम इस्तेमाल कर लो...ये लो टॉवेल...उसने अपना टॉवेल दे दिया...........................................

राजेश ने टॉवेल लिया और स्मृति के सामने ही सूंघने लगा...स्मृति लजा गयी और वन्हा से चल दी.......................राजेश बाथरूम मे चला गया...फ्रेश होने के बाद अपना ब्रीफ वही पर टांग दिया जहा स्मृति की पॅंटी तंगी हुई थी.....स्मृति की एक पॅंटी को उठा कर उसने सूँघा...बहुत अच्छी गंध आ रही थी.................फिर वो टवल पह्न कर बाथरूम से बाहर आ गया........आईने के पास आ कर टॉवेल से अपना शरीर को पोच्छने लगा...तभी स्मृति आ गयी....राजेश को नंग धारंड देखते ही वो शर्मा गयी...वो मूड कर जाना चाह रही थी पर जा ना सकी ...उसकी गांद और लंड को देखते ही बुत बनी देखती रही....जब राजेश ने देखा कि उसे स्मृति घूर रही है तो अपने उपर टॉवेल्ल डाल लिया और फिर मुस्कुराते हुए कहा...

राजेश: क्या देख रही है...............ऐसे किसी दूसरे मर्द को देखना गुनाह है........और मुस्कुरा दिया

स्मृति: भी मुस्कुरा दी...........आप दूसरा मर्द कहाँ है............आप इस घर के दामाद है......और मेरी छ्होटी बहन का पति...............

राजेश: वो तो हू ही...पर आप मेरी बड़ी साली है......छ्होटी होती तो सब चलता है.................और साली आधी घरवाली होती है

स्मृति: तो फिर साली की शादी क्यो करवा रहे हो.

राजेश: इसलिए कि शादी ज़रूरी है तुम्हारे लिए. तुम अड्जस्ट होजाओगी.................

स्मृति: पर मेरी नौकरी????

राजेश: छोड़ दो.............देल्ही मे तुम्हे कई नौकरी मिल जाएगी

स्मृति: मुझे कुच्छ वक़्त दो......सोचने के लिए......................

राजेश: ठीक है...पर ना मत कहना....लड़का बहुत अच्छा है...देल्ही का है...उसके मा बाप नही है...अकेले रहता है...एक छ्होटी बहन है ...जो मॅरीड है.

आप कहो तो मे बात करू.

स्मृति: मेने कहा ना कि वक़्त दो..............

राजेश: ठीक है....खाना बन गया क्या?

स्मरीत: मा बना रही है......1/2 घंटा. लगेंगा...

राजेश: ठीक है...आप भी फ्रेश हो लो......मेने आपका बाथरूम और टवल इस्तेमाल किया....थॅंक्स

स्मृति: थॅंक्स की ज़रूरत नही....ये आपका ही है..........

राजेश: आप बहुत खूबसूरत है.

स्मृति: आप फ्लर्ट कर रहे है.......?

राजेश: नही.....हक़ीकत बता रहा हू.

स्मृति: थॅंक्स..............रश्मि जान जाएगी तो बुरा होगा

राजेश: तुम उसकी फ़िक्र मत करो....वो एक समझदार बीबी है.

सरिती: कैसे?

राजेश: मेने कई लड़कियो से संपर्क किया है...जिसका पता रश्मि को भी है.

स्मृति: आप कई लड़कियो से???मतलब?

राजेश: यही कि अफीशियल विज़िट होती रहती है....वाइफ साथ रह नही सकती...तो एंटरटेनमेंट के लिए सेक्स करता हू.

स्मृति: पर रश्मि को बुरा नही लगता.

राजेश: बुरा तो लगता होगा...पर वो कुच्छ नही बोलती..............मे आदत से मजबूर जो हू

स्मिति: आप बहुत बदमास है.

राजेश: क्या करू? सेक्स चाहिए....सेक्स के वगैर एक रात भी गुज़ारना मुस्किल है. अब देखो ना अगर रश्मि होती तो आज की रात रंगीन होती......लगता है आज की रात मूठ मार कर ही सोना होगा...

स्मरती:हूऊऊऊऊओ और अपने मुँह पर हाथ रखते हुए बुरी तरह शर्मा कर भाग गयी.................................................

राजेश भी ठहाका मार कर हस्ने लगा....फिर कुर्ता और पयज़ामा पह्न लिया और फिर डिन्निंग टेबल पर आ गया............................

डिन्नर करने के बाद स्मृति के पापा ने कहा कि बेटा राजेश बेटा को उपर वाला रूम मे ले जाओ......और हां सॉफ चादर और बेड लगा देना......

स्मृति: जी पापा............

राजेश: नही बाबूजी मे होटेल चला जाता हू

स्मृति के पापा: अरे बेटा एक रात हम लोगो के साथ सो जाओ....सुबह चले जाना.

राजेश कुच्छ नही बोला...............वो तो चाहता ही था कि स्मृति का कंपनी मिले आज की रात............उसने स्मृति को देखते हुए कहा....ठीक है.....सुबह 9 बजे ऑफीस जाना है.......तो अभी सो जाना होगा.....

स्मृति और राजेश उपर आ गये................लॉक खोलने के बाद स्मृति ने कहा...ये रूम रश्मि का है....जब वो आती है तभी ये रूम सॉफ सफाई होती है...पर 2 दिन पहले मेने ही सॉफ किया है...सिर्फ़ बेड चेंज करने होगे...एक वाइट चादर और बेड लगा दिया...........................

राजेश:तुम कहाँ सोवोगि.......

स्मृति:मेरा कमरा बगल मे है...अगर किसी चीज़ की ज़रूरत हो तो बता दीजिएगा.....गुड नाइट

राजेश: ने उसका हाथ पकड़कर कहा...अभी गुड नाइट नही....बाते करते है..नींद नही आएगी........................

स्मृति: पर मुझे आ रही है.....कल स्कूल भी जाना है.................मे चलु

राजेश: ठीक है भाई..................

स्मृति वन्हा से चली गयी..पर फिर वो क्या सोचकर नीचे किचन मे आ गयी वन्हा से एक ग्लास दूध लेकर फिर राजेश के रूम मे आ गयी.दरवाजा खटखाया

राजेश ने दरवाजा खोला......................

स्मृति: अरे ये क्या....आपने तो कपड़े खोल दिए..............और वो शर्मा गयी

राजेश: मुझे नंगा सोना अच्छा लगता है....

स्मृति: पर किसी औरत के सामने नंगा रहना ठीक नही है...........

राजेश: अब हमे क्या मालूम कि आप दुबारा आएँगी..............

राजेश ने पास पड़ा एक टॉवेल लपेट लिया.

स्मृति: ये दूध लाई हू............ये लीजिए.....

राजेश ने दूध स्मृति के हाथो से ले लिया...इसी बहाने उसका हाथ स्मृति से टच हो गया....स्मृति को करेंट सा लगा...............राजेश दूध को अपने हाथो मे लेकर दूध पीने लगा....एक शिप लेने के बाद स्मृति के हाथो मे देते हुए कहा............तुम भी तो एक शिप लो...............

स्मृति: ये तो आपके लिए है...मे ले चुकी हू...और वैसे भी मेरा पेट खराब है. दूध नही पी सकती...........

राजेश: क्या हुआ......................

स्मृति: सुबह से लूस मोशन हो रही है.

राजेश: अरे तो दवाई क्यो नही ली

स्मृति: दवाई ली है.......तभी तो कंट्रोल है.................

राजेश: पर तुम तो खाना खा चुकी हो.....इसमे तो खाना नही खाते है

स्मृति: मे हल्की ली हू...और दही पी है....

राजेश: ओह............और दुबारा शिप लेने लगा....तभी उसे एक शरारत सूझी...उसने दुबारा स्मृति को शिप लेने को दबाब डाला......डार्लिंग एक शिप प्लीज़....

राजेश की आँखो मे नशा तेर गया था.....

स्मृति चौंकी...फिर मुस्कुराते हुए एक शिप ले ली.........अब खुस

राजेश: काफ़ी मीठा हो गया ये दूध...तुम्हारे होंठो की शिप से.

स्मृति: धात...............क्यो रश्मि के होंठ अच्छे नही हैं क्या

राजेश: वो तो है ही...पर तुम बहुत नमकीन हो

स्मृति: ओह........हो................और अपने होंठ गोल बना लिए.

राजेश: आपसे एक रिक्वेस्ट है..........

स्मृति: क्या?

राजेश: आप यही सो जाओ................

राजेश: सोफे पर सो जाऊँगा और तुम बेड पर........कोई दिक्कत नही होगी

स्मृति: पर क्यो??? आप गेस्ट है...दिक्कत होगी......और फिर मेरा पेट खराब है....बार बार टाय्लेट जाना होता है...इस रूम टाय्लेट है नही...........मेरे रूम मे अटॅच्ड बाथरूम है..........

राजेश: जब ज़रूरत होगी तो मे ले जाऊँगा टाय्लेट...प्लीज़ लेट जाओ यही...और अपना हाथ जोड़ लिया............स्मृति हस दी..........उसे राजेश का फ्लर्ट करना अच्छा लग रहा था.........................

स्मृति: ठीक है...पर कोई शरारत नही

राजेश: शुवर...............नतिंग टू वरी

स्मृति: ह्म्‍म्म तो मे अपना बेड लेकेर आती हू

राजेश: थॅंक्स..........चलो मे भी चलता हू

दोनो स्मृति के कमरे मे आ गये...और फिर बेड ले कर वापस रश्मि के कमरे मे आ गये..............................अब खुस.

राजेश मुस्कुरा दिया.........आप वाकई बहुत अच्छी है....रश्मि काफ़ी तारीफ़ करती है.

स्मृति: ह्म्म्म और क्या कहती है रश्मि मेरे बारे मे

राजेश: कहती है मेरी दीदी काफ़ी नमकीन है..सेक्सी है.

स्मृति: आप फिर सुरू हो गये...........और फिर अपने बेड पर सोने लगी

पीठ के बल सोने का नाटक करने लगी. राजेश उसके सिरहाने पर बैठ गया और अपना एक हाथ को उसके सिर पर रख दिया और सहलाते हुए आगे कहा............

राजेश: नही ऐसी बात नही आप वाकई बहुत अच्छी है...तभी तो ब्रजेश भाई ने आपसे शादी की..............................

ब्रजेश का नाम सुनते ही उसकी आँखे नम हो गयी.....वो उठ कर बैठ गयी और अपना सिर घुटने मे दबा कर सिसकने लगी. राजेश को लगा कि वो क्या कह गया....वो स्मृति को पुच्कार्ते हुए है....सॉरी...आप के मन के तार को छेड़ दिया...मुझे ऐसा करना आपके मन को ठेस पहुँचाना नही था..................आपको खुस देखना चाहता था....................

स्मृति: कोई बात नही...........मे ठीक हू

राजेश: तो फिर ये लो...आखरी घूँट....दूध का....

स्मृति: अरे आप अभी तक पिया नही?

राजेश:मे आक्च्युयली दूध नही पीता.....मे कुच्छ और पीता हू.

स्मृति: कुच्छ और मीन्स?

राजेश: मे वो दूध पिता हू...जो औरत के पास होती है....रश्मि होती तो मिल सकती थी...पर अब तो........

स्मृति:बुरी तरह शर्मा गयी...............बोली कुच्छ नही.

अब स्मृति लाइट बंद करने लगी............तो राजेश ने उसे मना कर दिया.....

स्मृति: अरे लाइट मे मुझे नींद नही आएगी

राजेश: मुझे आती है ...तुम सोने की कोशिश करो

स्मृति: बोली कुच्छ नही.....स्मृति इस समय वाइट साड़ी पहने हुई थी

राजेश: तुम कपड़े चेंज नही करोगी

स्मृति: नही कोई बात नही...ये सूती साड़ी है....कंफर्टबल

राजेश: मेरे कहने का मतलब है नाइटी पह्न लेती

स्मृति: मेरी नाइटी मा के कमरे मे है.....नीचे जाना होगा...

राजेश: तो फिर साड़ी उतार दो....डरते हुए कहा.

स्मृति:क्यो????

राजेश: कंफर्टबल के लिए....ब्लाउस और पेटिकोट तो है ही.....सीने पर टवल रख लेना....और अगर बुरा ना लगे तो टवल मत रखना.

स्मृति: मुझे शर्म आती है...

राजेश: ऐज यू विश....चलो सोते है....

स्मृति: ठीक है उतार देती हू...और खड़ी हो गयी और फिर अपनी साड़ी को उतारने लगी...........थोड़ी देर मे ही वो एक ब्लाउस और पेटिकोट मे आ गयी....अंदर एक ब्लॅक ब्रा और पॅंटी थी.....जो कि बाहर से दिख रही थी.....एक तो स्मृति गोरी चित्ति....मांसल चुचिया और मोटी गांद...उसपे ब्लॅक पॅंटी और ब्रा ...ग़ज़ब की दिख रही थी....स्मृति को शर्म आ रही थी......राजेश उसके बदन को देखे जा रहा था...तभी उसने भाग कर लाइट स्विच ऑफ कर दिया.....और बोली....सो जाओ................

राजेश भी कुच्छ नही कह सका...और वो सोने का नाटक करने लगा......................

क्रमशः...................