बिन बुलाया मेहमान compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: बिन बुलाया मेहमान

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 07:24

कोई आधा घंटा ये सब चलता रहा. मुझे उसके हाफने की भी आवाज़े आ रही थी.

अचानक मेरा मोबाइल बज उठा. मैं उठना नही चाहती थी पर फोन गगन का था इसलिए उठना पड़ा.

"ह...हेलो."

"क्या हुआ निधि."

"क...क..कुछ नही."

"मोच ठीक हुई कि नही."

"हां हो गयी."

इधर मैं बातों में लगी थी उधर चाचा ने मेरे छिद्र से उंगलिया निकाल ली थी और मेरे नितंब को अपने बायें हाथ से चोडा कर रखा था. बस सुकून ये था कि उसने वो मेरे वहाँ नही रखा था.

"तुम्हे बेल नही सुनाई दी क्या कब से बजा रहा हूँ. दरवाजा खोलो. मैं बाहर खड़ा हूँ बारिश में."

"क...क...क्या तुम बाहर खड़े हो."

तभी मुझे अपने पीछले छिद्र पर पानी की तेज धार सी महसूस हुई. चाचा ने ढेर सारा वीर्य मेरे छिद्र पर गिरा दिया था. दो उंगिलयों के अंदर बाहर होने से मेरा छिद्र खुला हुआ था इसलिया काफ़ी मात्रा में चाचा का गरम गरम वीर्य मेरे पीछले छिद्र में चला गया. गरम गरम वीर्य मेरे अंदर रिस्ता हुआ मुझे महसूस हो रहा था. मैं शरम और ग्लानि से चकना चूर होती जा रही थी. ऐसा नही होना चाहिए था पर हो गया था.

मैने तुरंत फोन काट दिया और बोली, "गगन आ गया है हटो जल्दी."

चाचा बुरी तरह हांप रहा था. वो तुरंत मेरे उपर से हट गया. मगर हटते हटते उसने मेरे दायें गुंबद पर ज़ोर से चाँटा मारा.

"आउच...ये क्या बदतमीज़ी है." मैं चिल्लाई.

"मज़ा आ गया कसम से हहेहहे." वो हंसता हुआ बाहर चला गया.

मैने फुर्ती से अपनी पॅंटीस और सलवार उपर चढ़ाई और अपने बाल ठीक करके मुख्य द्वार की और दौड़ी.

"इतना टाइम क्यों लगाया तुमने." गगन गुस्से में था.

"सॉरी मैं सो गयी थी. कपड़े उलस पुलस हो रखे थे. चाचा घर में हैं कपड़े ठीक करके ही बाहर आई हूँ"

"ह्म्म… चाचा जी ने भी बेल की आवाज़ नही सुनी."

"वो भी शायद सो रहे हैं. और बारिश के शोर में कुछ सुनाई भी तो नही दे रहा."

"हां ये भी है. पर देखा चाचा जी ने ठीक कर दी ना तुम्हारी मोच."

चाचा का वीर्य जो मेरे छिद्र से बाहर रह गया था वो टपकता हुआ मेरी जाँघो तक आ गया था. मुझे बहुत अनकंफर्टबल फील हो रहा था. मेरा सारा ध्यान टपकते वीर्य पर ही था. इसलिए गगन ने क्या कहा मुझे सुना ही नही.

"अरे कहाँ खो गयी." गगन ने मुझे कंधे से झकज़ोर कर कहा.

"वो सो कर उठी हूँ ना इसलिए."

"मैं कह रहा था कि देखा चाचा जी ने मोच उतार दी ना."

"हां उतार तो दी पर....."

"पर क्या." अब मैं कैसे कहती कि चाचा ने मोच के बहाने मेरे साथ क्या किया.

कैसे बताती गगन को कि चाचा ने अपना वीर्य मेरे नितंब में डाल दिया है.

नही बता सकती थी. धीरे धीरे मुझे होश आ रहा था और मैं शरम और ग्लानि से मरी जा रही थी. मुझे चाचा का वीर्य अभी तक मेरे अंदर महसूस हो रहा था और मैं मन ही मन उसे बहुत गलिया दे रही थी.

"पर क्या निधि"

"कुछ नही आओ तुम्हे गरमा गरम चाइ बना कर देती हूँ." मैने बात को टालने की कॉसिश की.मैने गगन को ड्रॉयिंग रूम में ही बैठा दिया क्योंकि बेडरूम में बिस्तर की हालत ठीक नही थी. बिस्तरार की चद्दर बुरी तरह बीखरी हुई थी जैसे की उस पर कब्बड्डी हुई हो. चद्दर का बड़ा हिस्सा मेरी योनि के रस से भीगा हुआ था. बेडरूम में चाचा के वीर्य की स्मेल भी फैली हुई थी क्योंकि शायद वीर्य की कुछ बूंदे कमिने ने चद्दर पर भी गिरा दी थी. ऐसे में गगन को बेडरूम में ले जाना ठीक नही था. वो वैसे ही दरवाजा देरी से खोलने को लेकर सवाल जवाब कर रहे थे. इस सब उधेड़बुन में मुझे टाय्लेट जाकर चाचा द्वारा मेरे उपर गिराई गयी गंदगी को सॉफ करने का मोका ही नही मिला. मैं अपने अंदर और बाहर देहाती का वीर्य लिए घूम रही थी. वैसे तो मैं चाइ बना रही थी किचन में मगर मैं बार बार किचन से बाहर आकर देख रही थी कि कही गगन बेडरूम में ना चला जाए. बेडरूम में कॅमरा भी लगा था. उसे लेकर भी मैं बहुत परेशान थी. कॅमरा मैने चाचा का पर्दाफाश करने के लिए लगाया था. मगर अब मैं रेकॉर्डेड क्लिप गगन को नही दिखा सकती थी. उसमे मेरी सिसकियाँ भी रेकॉर्ड हो गयी थी और मेरी वो चीन्खे भी रेकॉर्ड हो गयी थी जो कि मैं हर चरम के वक्त करती थी.

क्रमशः………………………


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: बिन बुलाया मेहमान

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 07:25


Bin Bulaya Mehmaan-10

gataank se aage……………………

"uff bahut tight gaanD hai tumhari. Ungli daalne mein hi kitni dikkat ho rahi hai."

"mujhe dard ho raha hai hat jaao. Tum mera dard kam karne ki bajaye mujhe aur taklif de rahe ho."

"chup raho thodi der. Dekho saare dard abhi gaayab ho jaayenge."

Main chatpataati rahi par vo nahi ruka.usne dheere dheere apni puri ungli mere niamb ke chhidra mein daal di. Kuch der rukne ke baad vo ungli ko baahar ki taraf kheechne laga. Mujhe laga ki vo baahar nikaal lega. Magar usne phir se ungli ander dhakail di. Main shisak uthi. Meri shisak mein dard, uttejna, sharam aur glaani sab kuch shaamil the. Magar chacha kisi bhi baat ki parvaah kiye bina ungli mere tight hole mein ander baahar karne laga.

"kuch araam mila moch mein."

"shut up ye sab tum mere araam ke liye nahi kar rahe ho."

"bas ek minute aur do mujhe abhi tumhari moch utar jaayegi." chacha ne mere nitamb ke chhidra mein apni ungli ghumani band kar di aur apni ungli ke shire se mere chhidra ke ander kuch tatolne laga. Achaanak usne ek jagah ungli tikayi aur vaha jor se daba kar bola, "hilna mat thodi der. Vo nas mil gayi hai jo saare fasaad ki jad hai. Hilogi to phir se ungli ragadni padegi is nash ko dhundne ke liye isliye chupchaap padi raho. Mujhe chacha ki baat par yakin to nahi tha magar phir bhi main bilkul sthil ho gayi. Main dekhna chaahti thi ki vo aage kya karega. Chacha meri jaangho se utar gaya aur mere daayin taraf aa gaya. Apne baayein haath se usne mere paaon ko pakad liya aur vaha par ek jagah kisi nash par angutha rakh kar jor se dabaya. Dabaane ke baad uske aas paas ke area ko vo masalne laga.

Phir usne mere nitamb ke chhidra mein ungli us area ke aas paas ghumani shuru kar di jaha usne ungli tika rakhi thi.

"dard gaya ki nahi?"

Bahut hi ajeeb baat thi. Mere paaon se dard ek dam gaayab ho gaya tha. Dard ke jaate hi main raahat ki saans li.

"haan dard chala gayi. Jaldi ungli nikaalo ab."

"ruko ungli se abhi maalish karni hogi ander tabhi puri tarah moch utregi varna to thodi der mein phir se dard shuru ho jaayega."

"jhut bol rahe ho tum."

"nahi sach bol raha hun. Bas thodi der aur leti raho chupchap. Mujhe apna kaam karne do varna gagan kahega ki maine theek se moch nahi utaari."

Chacha phir se meri jaangho par baith gaya. Mujhe kuch samajh nahi aa raha tha ki ab kya karun.

"kya bolti ho. Kar dun na maalish." chacha ne mere nitamb mein dhansi ungli ko halka sa hilaate hue kaha.

Uski ungli ki harkat se mera chhidra khud b khud sikudne aur phoolne laga.

"tumhari gaanD to taiyaar hai. Tum hi nakhre kar rahi ho. Dekho kaise baar baar meri ungli ko jakad rahi hai."

Main sharam se paani paani ho gayi. "a..a..aisa kuch bhi nahi hai samjhe."

"achha ye bataao maalish karun ki nahi." Chacha ne besharmi se pucha.

"jaise ki mere mana karne se tum ruk jaaoge. Ab tak kya puch kar kiya tumne mujhse? jo ab karoge."

"haan ye to hai. Ye main gagan ke kahne pe kar raha hun."

"gagan ne kya yaha ungli daalne ko kaha tha."

"kaha to nahi tha par tumhari moch utaarne ke liye mujhe daalni padi. Aur agar moch dubara nahi chaahti to chupchap mujhe maalish karne do is chhed ki."

"jaldi karo jo karna hai." main jhalla kar boli.

"mari ja rahi ho maje lene ke liye aur nakhre itne dikha rahi ho."


Chacha ne baayein haath se mere gumbadon ki daraar ko choda kar diya aur jor jor se apni ungli mere chhidra mein ghisne laga. Kuch der tak to main chupchap padi rahi. Magar na jaane kyon mere muh se dhimi dhimi siskiyan nikalne lagi. Jab main uttejit hoti hun to khud ko rok nahi paati hun. Gagan ke saath main khub chillaati hun. Magar mujhe samajh mein nahi aa raha tha ki main us vakt kyon siskiyan le rahi thi. Shayad mere peechle chhidra ko aananad mil raha tha. Jo bhi ho ye baat taiy thi ki main madhosh hoti ja rahi thi.

"nahi bas.... bas..... ruk..... jaao...aaaahhhh...oooohhh" meri yoni ne dher sara paani chod diya tha.

"maja aa raha hai na. Ye mast gaanD isi maje ke liye mili hai tumhe aur tum nakhre karti hai." chacha ne index finger ke saath apni middle finger bhi mere chhidra mein daal di aur bola, "ab aur jyada maja aayega."

"ruk jaao dehaati aaahhhhh."

Par dehati laga raha. Uski ungliyan bahut teji se mere peechle chhidra mein ander baahar ho rahi thi aur chap chap ki awaaj kamre mein gunj rahi thi. Ek tarah se ungliyon se dehati mere saath nitamb maithun kar raha tha. Lekin mere liye sharam ki baat ye thi ki main bahakti ja rahi thi.

Achaanak chacha ruk gaya. Usne dheere se mere chhidra se ungliyan nikaal li. Main vaha behosh si padi thi. Meri saanse bahut tej chal rahi thi. Aankho ke aage andhera sa chha raha tha.

Chacha ne mere nitamb ke gumbadon ko failaya aur mere chhidra par thuk gira diya. Mujhe kuch samajh nahi aa raha tha ki vo kya kar raha hai. Mujhe hosh jab aaya jab mujhe apne nitamb ke chhidra par kuch moti si cheez mahsus huyi. Us moti si cheez ne mere chhidra ke aas paas ke bahut bade area ko gher liya tha.

"y...y...to vo hai." mujhe khyaal aaya aur main chatpatane lagi.

"hato peeche...tumne to had kar di hai aaj." maine peeche gardan ghuma kar kaha.
Mere chatpatane se uska ling mere chhidra se hat gaya tha aur ab mere nitambo ke theek upar meri aankho ke saamne jhul raha tha.

"oh my god ye kya hai?"

"lund hai aur kya hai...gagan ka nahi dekhti kya?"Chacha ka ling gagan ke ling se doguna lamba tha aur motayi bhi us se kaafi jyada thi. Maine kabhi sapne mein bhi nahi socha tha ki ling itna bhimkaay bhi ho sakta hai. ling ka supada pure ling ke muqable kuch jyada hi mota tha. Ling ke neeche dehati ke andkosh bhi bade the jo ki ghane kaale baalon mein chhupe the.

"itna bada kaise ho sakta hai tumhara."

"tumhari aankho ke saamne hai…chhu kar dekh lo….hahahaha" chacha besharmi se hasne laga.

"shut up. Tum kya karne ja rahe the."

"kuch nahi itni shunder gaanD hai tumhari. Mere is bechare lund ko darshan karva raha tha. Isne aaj tak aisi gaanD nahi dekhi."

Mera chehra sharam se laal ho gaya. kisi ne bhi aaj tak mujhe aisi baat nahi boli thi.

"dekho bahut ho gaya. Hato ab. Mere paaon ka dard ja chuka hai."

"thodi der aur ruk jaao. Bas thodi si maalish baaki hai tumhari."

"mujhe aur maalish nahi karvaani."

"nahi ye jaroori hai. Dard phir se aa gaya to."

"aa jaane do. Dekha jaayega. Main khub samajh rahi hun tum kya karna chaahte ho. Vo main nahi hone dungi."

"pata hai mujhe. Gagan ki biwi ke saath main bhi aisa kuch nahi karunga. Yakin karo main ye ander nahi daalunga."

"tumhara koyi bharosa nahi hai tumne rakh to diya tha ne mere vaha abhi."

"vo bas ise ek baar tumhari khubsurati ka ahsaas dilaana chaahta tha."

"khub samajhti hun main tumhare iraade."

"Main haath se apna kaam kar lunga. Baahar rahne do ise."

"nahi...."

"agar dubara main ise tumhare chhed par rakhun to tum turant mujhe hata dena. Main hat jaaunga."

Chacha ne dono ungliyan vaapis mere nitamb ke chhidra mein daal di aur apne baayein haath se apne mote ling ko hilaane laga. Chacha kuch is tarah se meri taraf dekh raha tha ki maine sharam se apni nazre ghuma li. Maine vaapis apna sar ghuma kar bistar par tika diya. Mere nitamb ke chhidra mein ghum rahi chacha ki ungliyan phir se mujhe kuch majboor sa kar rahi thi aur main khoti ja rahi thi. turant ek aur orgasm ne mujhe gher liya aur main jor se cheella kar jhad gayi.

Koyi aadha ghanta ye sab chalta raha. Mujhe uske haafne ki bhi awaaje aa rahi thi.
Achaanak mera mobile baj utha. Main uthana nahi chaahti thi par phone gagan ka tha isliye uthana pada.

"h...hello."

"kya hua nidhi."

"k...k..kuch nahi."

"moch theek huyi ki nahi."

"haan ho gayi."

Idhar main baaton mein lagi thi udhar chacha ne mere chhidra se ungliya nikaal li thi aur mere nitamb ko apne baayein haath se choda kar rakha tha. Bas sukun ye tha ki usne vo mere vaha nahi rakha tha.

"tumhe bell nahi sunayi di kya kab se baja raha hun. Darvaaja kholo. Main baahar khada hun baarish mein."

"k...k...kya tum baahar khade ho."

Tabhi mujhe apne peechle chhidra par paani ki tej dhaar si mahsus huyi. Chacha ne dher saara virya mere chhidra par gira diya tha. Do ungilyon ke ander baahar hone se mera chhidra khula hua tha isliya kaafi maatra mein chacha ka garam garam virya mere peechle chhidra mein chala gaya. Garam garam virya mere ander rista hua mujhe mahsus ho raha tha. main sharam aur glani se chakna chur hoti ja rahi thi. aisa nahi hona chaahiye tha par ho gaya tha.

Maine turant phone kaat diya aur boli, "gagan aa gaya hai hato jaldi."

Chacha buri tarah haanp raha tha. Vo turant mere upar se hat gaya. Magar hatate hatate usne mere daayein gumbad par jor se chaanta maara.

"ouch...ye kya badtamizi hai." main chillaai.

"maja aa gaya kasam se hehehehe." vo hansta hua baahar chala gaya.

Maine furti se apni panties aur salwaar upar chadhayi aur apne baal theek karke mukhya dwar ki aur daudi.

"itna time kyon lagaya tumne." gagan gusse mein tha.

"sorry main sho gayi thi. Kapde ulas pulas ho rakhe the. Chacha ghar mein hain kapde theek karke hi baahar aayi hun"

"hmm… chacha ji ne bhi bell ki awaaj nahi suni."

"vo bhi shayad sho rahe hain. Aur baarish ke shor mein kuch sunayi bhi to nahi de raha."

"haan ye bhi hai. Par dekha chacha ji ne theek kar di na tumhari moch."
Chacha ka virya jo mere chhidra se baahar rah gaya tha vo tapakta hua meri jaangho tak aa gaya tha. Mujhe bahut uncomfortable feel ho raha tha. Mera saara dhyaan tapakte virya par hi tha. Isliye gagan ne kya kaha mujhe suna hi nahi.

"arey kaha kho gayi." gagan ne mujhe kandhe se jhakjor kar kaha.

"vo sho kar uthi hun na isliye."

"main kah raha tha ki dekha chacha ji ne moch utaar di na."

"haan utaar to di par....."

"par kya." Ab main kaise kahti ki chacha ne moch ke bahane mere saath kya kiya.

kaise bataati gagan ko ki chacha ne apna virya mere nitamb mein daal diya hai.

nahi bata sakti thi. dheere dheere mujhe hosh aa raha tha aur main sharam aur glani se mari ja rahi thi. mujhe chacha ka virya abhi tak mere ander mahsus ho raha tha aur main man hi man use bahut galiya de rahi thi.

"par kya nidhi"


"kuch nahi aao tumhe garma garam chai bana kar deti hun." maine baat ko taalne ki kosish ki.Maine gagan ko drawing room mein hi baitha diya kyonki bedroom mein bistar ki haalat theek nahi thi. Bistrar ki chaddar buri tarah beekhri huyi thi jaise ki us par kabbaddi huyi ho. chaddar ka bada hissa meri yoni ke ras se bheega hua tha. bedroom mein chacha ke virya ki smell bhi faili huyi thi kyonki shayad virya ki kuch boonde kamine ne chaddar par bhi gira di thi. Aise mein gagan ko bedroom mein le jaana theek nahi tha. Vo vaise hi darvaaja deri se kholne ko lekar sawaal jawaab kar rahe the. Is sab udhedbun mein mujhe toilet jaakat chacha dwara mere upar girayi gayi gandagi ko saaf karne ka moka hi nahi mila. Main apne ander aur baahar dehati ka virya liye ghum rahi thi. Vaise to main chai bana rahi thi kitchen mein magar main baar baar kitchen se baahar aakar dekh rahi thi ki kahi gagan bedroom mein na chala jaaye. Bedroom mein camera bhi laga tha. Use lekar bhi main bahut pareshaan thi. Camera maine chacha ka pardafaash karne ke liye lagaya tha. Magar ab main recorded clip gagan ko nahi dikha sakti thi. Usme meri siskiyan bhi record ho gayi thi aur meri vo cheenkhe bhi record ho gayi thi jo ki main har charam ke vakt karti thi.

kramashah………………………


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: बिन बुलाया मेहमान

Unread post by raj.. » 06 Dec 2014 07:26

बिन बुलाया मेहमान-11

गतान्क से आगे……………………

मैं गगन के लिए चाइ लेकर आई तो चाचा भी अंगड़ाई लेता हुआ अपने कमरे से बाहर आ गया.

"अरे गगन बेटा तुम आ गये, निधि बेटी एक कप चाइ मेरे लिए भी लेती आओ."

"अभी लाती हूँ." मैं चाचा को गुस्से में घुरती हुई वापिस किचन में चली गयी. मैने चाइ गॅस पर रखी और तुरंत बेडरूम में जाकर सबसे पहले बिस्तर की बेडशीट बदली. उसके बाद मैने कॅमरा से रेकॉर्डेड क्लिप डेलीट की. अपने नितंब की सफाई करने का टाइम मेरे पास नही था. ये सब काम करके मैं वापिस किचन में आई तो चाइ उबल रही थी. मैने चाइ कप में डाली और चाइ लेकर ड्रॉयिंग रूम की तरफ चल दी.

"चाचा जी आपने भी बेल नही सुनी...इतनी गहरी नींद आ गयी थी क्या आपको."

"वो बेटा निधि को मोच उतारते उतारते बहुत थक गया था मैं. नसे बहुत बुरी तरह एक दूसरे पर चढ़ि थी."

"चाचा जी चाइ." मैने उनकी बातों को काटते हुए कहा.

"दुधो नहाओ पुतो फलो" चाचा ने चाइ का कप लेते हुए कहा. उसकी नज़रे मेरी नज़रों पर गाड़ी थी. अजीब सी बेसरमी थी उसकी आँखो में. मुझे अपने नज़रे झुकाने पर मजबूर कर दिया था उसकी नज़रो ने.

"चाचा जी जो भी हो...मान गये आपको. आपने मोच उतार ही दी. वैसे कैसे उतारते हैं आप मोच...मुझे भी सिखा दीजिए...दुबारा कभी ज़रूरत पड़ी तो मैं मोच उतार दूँगा निधि की."

"निधि को सब सीखा दिया है मैने. तुम इस से पुछो...."

"हां तो निधि बताओ क्या सीखा तुमने?"

"म...म...मैने कुछ नही सीखा. म...मेरा मतलब मैं सब भूल गयी." मैं विचलित हो गयी.

"भूल गयी. कोई बात नही कल फिर से सीखा दूँगा तुम्हे. गरम पानी तो याद है ना तुम्हे. बताओ कहाँ डाला था मैने."

ये सुनते ही मेरे होश उड़ गये. मेरा पिछले छिद्र अपने आप सिकुड़ने फूलने लगा. ऐसा लग रहा था जैसे कि वो मुझे वहाँ चाचा के वीर्य के होने का अहसास दिला रहा हो. मुझसे कुछ बोले नही बन रहा था.

"गरम पानी मैं कुछ समझा नही." गगन ने आश्चर्या भाव में पुछा.

"बताउन्गा पहले निधि को जवाब देने दो. कहाँ डाला था गरम पानी मैने निधि बेटी."

मैं शरम से पानी पानी हो रही थी क्योंकि वो गरम पानी अभी भी मेरे नितंब के अंदर था. चाचा जानबूझ कर ऐसी बाते कर रहा था. मुझे गुस्सा आने लगा था. मैने बात को संभालते हुए कहा, "ओह हां पाओं पर टखने के पास ही तो डाला था आपने पानी."

"ह्म्म..तुम्हे तो सब याद है. शाबाश." चाचा ने कहा.

"चाचा जी मुझे भी तो कुछ बतायें."

"वो दरअसल मोच उतारने के बाद थोड़ा गरम निधि की नसों पर डाला था. उस से आराम बना रहेगा. क्यों निधि बेटी आराम है कि नही."

"जी हां है." मैं बोल कर तुरंत वहाँ से खिसक ली.

मैं बेडरूम में घुसी ही थी कि गगन भी मेरे पीछे पीछे बेडरूम में आ गये और मुझे बाहों में भर लिया.

"तुम्हारे लिए ऑफीस से जल्दी आया हूँ. इस बारिस ने आग लगा रखी है तन बदन में.

आओ कुछ हो जाए."

"क्या हुआ आज तुम्हे...ये बारिस का असर है या कुछ और."

"तुम बहुत प्यारी लग रही हो."

गगन ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरे उपर लेट गये. उन्होने मेरे होंटो को चूमना शुरू कर दिया. कब मेरा नाडा खुला और कब उनका लिंग मुझ में समा गया पता ही नही चला. हमेशा की तरह गगन ने संभोग का असीम आनंद दिया मुझे. उनके हर धक्के पर मेरी सिसकियाँ निकल रही थी. मैं 4 बार झड़ी गगन के साथ. गगन ने अपने चरम पर पहुँच कर मेरी योनि को अपने वीर्य से लबालब भर दिया. कुछ देर हम यू ही पड़े रहे. लेकिन मुझे किचन में खाना भी बनाना था. इसलिए मैं गगन को निर्वस्त्र ही छोड़ कर बाहर आ गयी. जब मैं किचन में जा रही थी तब मुझे अचानक ये ख्याल आया की उस वक्त मेरे अगले पिछले दोनो छिद्रो में वीर्य है. आगे मेरे पति का वीर्य है और पीछे कमिने देहाती का वीर्य. मैने तुरंत नहाने का फ़ैसला किया और बाथरूम में घुस गयी.

चाचा को सनडे को गाओं वापिस जाना था. सॅटर्डे को हॉस्पिटल में चेक अप करवाकर वो जाने की बात कर रहा था. पर गगन ने उसे एक दिन और रुकने को मना लिया. अभी बुधवार चल रहा था. पूरे 3 दिन बाकी थे अभी चाचा की रवानगी में. मैं गगन की अनुपस्थिति में उसके साथ नही रहना चाहती थी. इसलिए मैने रात को ज़िद करके गगन को 3 दिन की छुट्टी लेने के लिए मना लिया. गगन ने ये बात बड़े खुस हो कर चाचा को बताई.

"चाचा जी मैं घर पर ही रहूँगा तीन दिन. आपको ज़्यादा वक्त नही दे पाया था काम के कारण. लेकिन अब आपको शिकायत नही रहेगी."

चाचा का चेहरा ये सुन कर लटक गया था. मैं चुपचाप खड़ी मन ही मन मुस्कुरा रही थी.

जब गगन बेडरूम में थे तो मोका देख कर चाचा चुपचाप किचन में आया और धीरे से बोला, "तुमने रोका है ना गगन को घर पर."

"जी हां मैने सोचा उनको टाइम ही नही मिलता आपसे ज़्यादा बात करने का. इसलिए उन्हे तीन दिन की छुट्टी लेने को कहा."

"मेरा मज़ा खराब होगा तो तुम्हारा कॉन सा बच जाएगा. मज़ा तो तुम भी लेती हो ना मेरे साथ."

"ज़्यादा बकवास मत करो और मुझे खाना बनाने दो." मैने कठोरता से कहा.

चाचा अपना सा मूह लेकर चला गया. उसकी हालत देखने वाली थी. अब मैं घर में जानबूझ कर चाचा को जलाने के लिए मटक मटक कर घूम रही थी. चाचा घूर घूर कर मुझे देखता था मगर कुछ कर नही पाता था. मुझे उसे इस तरह से सताना अच्छा लग रहा था. उसकी हालत देखते ही बनती थी.

वो ड्रॉयिंग में बैठा होता था तो मैं जानबूझ कर अपनी कमर लचकाती हुई उसके सामने से निकलती थी. बेचारा बस आह भर कर रह जाता था.

तीन दिन यू ही बीत गये. सॅटर्डे को हॉस्पिटल से आकर चाचा ने गगन से कहा,

"बेटा कल सुबह 11 बजे की ट्रेन है. मन तो नही कर रहा यहाँ से जाने का पर जाना ही पड़ेगा."

मैं भी उस वक्त ड्रॉयिंग रूम में गगन के साथ ही बैठी थी.

"कोई बात नही चाचा जी. जब भी मोका लगे दुबारा ज़रूर आना यहाँ. ये आपका ही घर है."

"गाओं से निकलने का वक्त ही नही मिलता बेटा. खेती बाड़ी में ही उलझा रहता हूँ.

तुम दोनो आओ कभी गाओं. निधि बेटी को भी गाओं दीखाओ...अच्छा लगेगा इसे."

"ज़रूर चाचा जी. कभी मोका मिला तो ज़रूर आएँगे." गगन ने कहा.

"अच्छा मैं थोड़ा आराम कर लेता हूँ. बहुत थक गया आज मैं." बोल कर चाचा अपने रूम में चला गया.

शाम को जब मैं किचन में खाना बना रही थी तो चाचा मोका देख कर किचन में आया और धीरे से बोला, "मन कर रहा है तुझे छुने का. पर चलो कोई बात नही. खुस रहना हमेशा."

मैं चुपचाप रोटिया सेकने में लगी रही. मैने बदले में कुछ नही कहा. कुछ कहने की ज़रूरत भी नही थी.

रात को डिन्नर के बाद मैं किचन के काम ख़तम करके बेडरूम में घुसी तो गगन खर्राटे ले रहे थे. आज वो कुछ ज़्यादा ही जल्दी सो गये थे जबकि अभी सिर्फ़ 11 ही बजे थे. मैं भी सोने के लिए लेट गयी. पर मेरी आँखो से नींद गायब थी. मैं बार बार करवट बदल रही थी. मेरे शरीर में अजीब सी बेचैनी हो रही थी. मुझे कुछ समझ नही आ रहा था कि ऐसा क्यों हो रहा है. 11 से 12 बज गये पर मेरी आँख नही लगी. गगन मज़े से सोए पड़े थे. अचानक मुझे टाय्लेट का प्रेशर महसूस हुआ तो मैं धीरे से उठ कर बेडरूम से बाहर आ गयी. टाय्लेट की तरफ जाते वक्त मैं अचानक चोंक कर रुक गयी. ड्रॉयिंग रूम में अंधेरे में सोफे पर चाचा बैठा था. उसे देखते ही मेरा दिल ज़ोर से धड़कने लगा. मैं वापिस बेडरूम में चले जाना चाहती थी. मगर मन के एक कोने से आवाज़ आई, "जाते जाते एक मोका दे दो बेचारे को खुद को छुने को." और मेरे कदम टाय्लेट की तरफ बढ़ते चले गये.

चलते चलते मेरे पाओं डगमगा रहे थे. टाय्लेट में घुसते ही मैने दरवाजा अंदर से अच्छे से बंद कर लिया. "मैं कोई मोका नही दूँगी इस देहाती को. आइ हेट हिम." मैने खुद से कहा.

मैं खुद को रिलीव करके टाय्लेट से बाहर निकली तो चाचा टाय्लेट के दरवाजे के पास ही खड़ा था. उसे अपने इतना करीब देख कर मैं घबरा गयी. उसके इरादे ठीक नही लग रहे थे. मैं बिना कुछ कहे अपने कमरे की तरफ चल दी.

मगर चाचा ने आगे बढ़ कर मेरा हाथ पकड़ लिया.

"थोड़ी देर रुक जा."

"छोड़ो मेरा हाथ वरना मैं चिल्ला कर गगन को बुला लूँगी."

"पागल मत बनो. चलो थोड़ी देर बाते करते हैं बैठ कर."

"मुझे तुमसे कोई बात नही करनी छोड़ो मेरा हाथ."

"रुक जाओ ना. इतने नखरे भी ठीक नही."

"बेशरम हो तुम एक नंबर के. छोड़ो मेरा हाथ वरना मैं चिल्लाउन्गि."

"तुम नही चिल्लाओगी मुझे पता है. सब नाटक है तुम्हारे." चाचा ने मेरे हाथ को ज़ोर का झटका देते हुए कहा. अगले ही पल मैं उसकी बाहों में थी और आज़ाद होने के लिए छटपटा रही थी.

"छोड़ दो मुझे. मैं गगन को बुला लूँगी तो क्या इज़्ज़त रह जाएगी तुम्हारी."

"कल मैं जा रहा हूँ निधि. कल से तुम्हे परेशान नही करूँगा. तुमने गगन को घर पर रोक कर पहले ही मुझ पर बहुत सितम ढा लिए हैं. अब और मत सताओ.

मैं तड़प रहा हूँ तुम्हारे लिए. मैं विनती करता हूँ तुमसे, बस आखरी बार थोड़ा सा मज़ा ले लेने दे. बस थोड़ी सी देर रुक जाओ."

"किस हक़ से रोक रहे हो तुम मुझे. तुम्हारा कोई हक़ नही है मुझ पर.

""आशिक़ हूँ मैं तुम्हारा. दीवाना हूँ तुम्हारा. तुम्हे देखते ही लट्टु हो गया था तुम पर. तुम्हारे जैसी सुंदर लड़की मैने आज तक नही देखी."