गाओं की मस्ती compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: गाओं की मस्ती

Unread post by 007 » 06 Nov 2014 04:01

gataank se aage............

Devkee ne jaise hi Deva ka lund khara hua dekha to jhat se Deva ko jameen par leta kar khud Deva ke upar char baithee aur Deva ke lund ko apne choot me le kar Deva ko chodne lagee. Kamare ke andar phir se chudai ka mahaul ban gaya aur Jagan aur Deva dono phir se apni apni biwi ki choot ko jam kar chodna shuru kar diya. Thori der ke baad charo log hamf rahe the lekin apni apni kamar utha utha kar dhakke mar rahe the ya dhakon ka jawab de rahe the.

Thori der ke bad jab Jagan aur Deva apna pana pichkaree apni apni biwi ki choot me chhoD chuke to charon bister par lurakh gaye aur sustane lage. Us samay kisi ko kuchh hosh nahee tha ki kaun kahan leta hua hai sub ke sub ek hi jagah par pare hue the. Jaya apne hathon ke pas jhanton se bhara hua lund ko khara hote hue paya aur bina kuchh samajhe bujhe usko Jagan ka lund samajh kar apne hathon me le kar uske sath khelne lagee. Thori der ke bad jab Devkee takia theekh karne ke liya uthee to dekha ki Jaya apne hathon se Deva ka lund maror rahee hai.

"Oh! Bah re meri chudakkar bahan, tu to bahot jaldee hi sab kuchh seekh gayee. Tere ko mere patee ka lund kaisa lag rahee hai? Aaj teri suhag rat hai aur tune aaj hi mere patee ka lund apne hathon me lekar masalna shuru kar diya?" Devkee Jaya se banawatee gusse me boli. Tab sharma kar Jaya boli,

"didi is lund ko mai apne patee ka lund samajh rahee thee, mere man me aisee koi galat bhavna nahee thee."

"Theekh hai, koi baat nahee. Ab dekhte hai ki tu is lund ko kya kartee hai. Mai tere se mazak kar rahee thee aur koi gussa nahee kar rahee thee" Devkee apne chhoTee bahan se boli. Devkee phir Jaya ki madad kee aur Jaya ko Deva ka lund apne muh me lekar chusne ke liya kaha. Jaya sharam ke mare apni ankhe jhuka kar Deva ka adha khara lund apne muh me bhar liya aur usko chusne lagee.

Deva apne janghon ko aur phaila diya jisse ki Jaya ko lund chusne me asanee ho. Devkee apne ghutne ke bal Jaya ke muh ke pas apna chehera le kar dekhne lagee ki kaise Jaya uske patee ka lund chus rahee hai. Jagan jab dekha ki Devkee apne ghutne ke bal jhukee hai to fauran Devkee ke pichhe ja kar Devkee ki choot me apni unglee pel diya aur unglee ko andar bahar karne laga.

Devkee bhi apni gand hilane lagee. Is'se Jagan ko bahut maza mila aur apna dusree unglee Devkee ki gand me bhar diya aur apna unglee se Devkee ki gand chodne laga. Devkee thori der ke bad Jaya ke saath mil kar Deva ke andon ko sahalane lagee. Dono bahane thori der tak koshish kee par koi faida nahee mila. Devkee tab apni chunchee Deva ke samne kar diya aur Deva un chunchee ko pakar masla aur phir pina shuru kar diya. Apni chunchee chusai se Devkee to garm ho gayee lekin Deva ka lund phir se khara nahee hua.

Jagan ab tak taiyyaar ho gaya tha. Jagan apne ungleon se Devkee ki choot ki hothon ko faila kar usme apna lund dal diya aur Devkee ki chutadon ko pakar kar apna kamar chala kar Devkee ko chodna shuru kar diya. Deva jaise hi dekha ki Jagan ka lund Devkee ki choot ka paani jhar raha hai, wo bahut uttejit ho gaya aur uska lund tan kar khara hone laga. Jaya ko bhi apne muh me Deva ke lund ka khara hone ka ahsas hone laga. Jab Deva ka lund pura khara ho jaya to usko Jaya apne muh se nikal diya aur Deva Jaya ko apne upar utha liya aur bola,

"Salijee ab tum mujhko apni choot se chodo." Jaya ko jaisa bataya gaya usne waise hi kiya. Wo Deva ke upar char kar uske kamar ke pas baith gayee aur uska apne hathon se le kar apni gand utha kar choot se laga diya. Lund ko choot se bhirate hi Jaya us par baith gayee aur apni gand utha utha kar Deva ko chodne lagee. Deva aur Jaya ke bagal me hi Jagan aur Devkee apni chudai chalu rakhe hue the. Devkee is samay gand hila hila kar Jagan ka lund apne andar pilwa rahee thee aur muh se jeev nikal kar haf rahee thee.

Devkee ko apne patee kee chudai ka jor dekh kar bahut tazzub ho raha tha. Devkee soch rahee thee aaj kya baat ho gayee hai aur kaise aaj Deva teen teen bar lund khara karke humaree aur Jaya ki choot ko dhun raha hai. Deva ko Jaya ki choot bahut tight aur kasee kasee lag rahee thee. Deva Jaya ko neeche gira diya aur usko palt kar pichhe se Jaya ki choot me phir se apna lund ghuser diya aur dana dan chodne laga.

Is samay dono bahane agal bagal apne ghutne ke bal jhuk kar apni choot me lund pilwa rahee thee aur pichhe se unki chutar pakar kar Jagan aur Deva unko pel raha tha. Dono bahane ek dusre ko dekh kar muskura rahee thee aur apni apni kamar hila kar har dhakke ka jawab de rahee thee. Deva apni ankh band karke bas Jaya ko chod raha tha aur phir ek jor dar jhatke ke sath apna pani Jaya ki choot ke andar chhoD diya jisse Jaya ki choot phir se bhar gayee. Thori der ke baad Deva Jaya se bola,

"Bhai Jaya sorry, mai bahut jaldee jhar gaya. Lekin mai majboor tha." Jaya Deva se boli,

"nahee bhai sahab, isme sorry ki koi baat hi nahee hai. Mujhko aapse apni choot chudwa kar bahut maja mila. Jab bhi aap ko meri choot chodne ki ichha ho mujhse jaroor kahiega, mai humesha apke lund ka intejaar karongee." Dono jija aur Sali ek dusre ke bahon par let gaye aur Jagan aur Devkee ki chudai dekhte rahe. Thori der ke bad ve bhi jhar gaye aur bister par dher ho gaye. Charon ab chudai karte karte bahut thak chuke aur apas me baat karte karte so gaye.

Is taraf se un char logon ki chudai bhari jindagee chalne lagee. Jagan aur Deva ko pata lag chukka tha ki dono bahane Devkee aur Jaya bahut hi chudasee aurat hai aur yah dono bahane kabhi bhi Jagan aur Deva se apni choot chodne ke liye kaha saktee hai. yah to bahut acchhe baat thee ki in logon ka ghar gaon ke bilkul kinare par tha nahee to koi bhi in char logon ko kabhi bhi ek saath samuhik chudai karte dekh lete. Deva ki pareshanee abhi bhi waheen thee.

Deva ka lund tabhi khara hota jab wo Jagan ko ya to Devkee ke sath ya Jaya ke sath chudai karte dekhta tha. Jab bhi Deva ka lund khara ho jata tha to jo koi bhi bahan khalee rahtee unki choot me apna lund dal uski chudai shuru kar deta. Dono bahono me bhi is baat ka koi farak nahee parta tha ki kaun unko chod raha hai, unko to bas apnee humesha bhokhee choot ke liye khara lund ki jaroorat thee, Chahe wo lund Jagan ka ho ya Deva ho, kya fark parta, unki choot to lund khatee.


007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: गाओं की मस्ती

Unread post by 007 » 06 Nov 2014 04:01

गतान्क से आगे............

बस और क्या चाहिए. जया अपनी चुदाई से जल्दी ही पेट से हो गयी. जैसे जैसे जया की दिन पूरे होते गये तो वो जगन या देव का लंड चूस कर ही अपना काम चल लिया करती थी. और जगन और देव बारी बारी से जया का चूत चूस दिया करते थे. देवकी दोनो मर्दों का पूरा का पूरा ख़याल रखती थी और इससे जया को कभी कभी जलन महसूस हुआ करता था. .देवकी और जया की मा अपनी बेटी को संभालने जया के अन्तीम हफ्ते मे इन लोगों के घर पहुँच गयी.

मा के आने से इन लोगों का सारा का सारा मामला बंद हो गया और सब चुप चाप रहने लगे. एक दिन शाम को जया को दर्द चढ़ा और उसको हस्पताल मे भरती कर दिया गया. हस्पताल मे जया को एक रात के लिया रखा गया और सब मिल कर जया के पास ही रात को रुक गये. सुबेरा होने पर डॉक्टर ने बताया की जया को बच्चा होने मे अभी कुच्छ समय और लगेगा और हो सकता है कि जया का बच्चा रात को हो. फिर यह तय हुआ कि देवकी अपनी बहन के पास रात के लिए रुक जाएगी और मा घर जा कर आराम करेंगी. देव भी देवकी के रुकने के लिए तैइय्यार हो गया और जगन फिर अपनी सास के साथ घर वापस चला आया.

जगन अपने सास के साथ करीब सुबह दस बजे गाओं पहुँचा. जगन रास्ते की दुकान से डबल रोटी नाश्ते के लिए खरीद लिया. घर जाकर वो पहले नहा लिया और कमरे मे बैठ कर अख़बार परहने लगा. जगन की सास, छ्हम्मो देवी, अपने कमरे मे नहाने के लिए तैयारिया कर रही थी. छ्हम्मो अपने कमरे से बोली,

"जगन मैं नहा लेती हूँ फिर तुमको चाइ बना कर पिलाती हूँ." अख़बार से अपनी आँख उठा कर अपनी सास को देख जगन चौंक गया. इस समय छ्हम्मो सिर्फ़ अपने पेटिकोट मे थी और उस पेटिकोट को उन्होने अपने चूंची तक उठा बाँध रखा था और इस'से सास की आधे से ज़्यादा सुडोल चिकनी जंघें खुली दिख रही थी. उनकी चूंची भी करीब आधे से ज़्यादा पेटिकोट के बाहर दिख रहा था. छ्हम्मो अपने एक हाथ से अपने कपरे ले रखी थी. जैसे ही जगन की सास दरवाजे के पास खरी हुई तो जगन को बाहर की लाइट से उनकी सुडोल जंघे और चूतर साफ साफ देखाई परा. जगन को अपना लंड के खरा होने का आभास लगने लगा क्योंकि उसकी लूँगी धीरे धीरे उठ रही थी.

जगन जल्दी से दूसरी तरफ देख कर हामी भर दिया. छ्हम्मो बाथरूम मे जाकर नहा धो कर बाहर निकल चाइ बनाने लगी. जगन की अपने सास की तरफ देखने की हिम्मत नही पर रही थी, लेकिन वो बिना देखे रुक भी नही सकता. इस समय छ्हम्मो एक सफेद रंग का ब्लाउस पहने हुए थी, लेकिन गीला होने से लग रहा था उनके ब्लाउस के नीचे और कुच्छ भी नही है. उनका पेटिकोट इस समय उनके चूतर पर थी लेकिन यह यकीन था कि पेटिकोट के नीचे भी कुच्छ नही है. जैसे ही छ्हम्मो अप'ने कमरे मे गयी तो वो जगन के तरफ देख कर मुस्कुरई. जगन उनके हिलते हुए चूतर देखता रहा.

जगन अख़बार परहने के बहाने अपने कमरे मे बैठ कर अपने सास का इन्तिजार करने लगा. छ्हम्मो जल्दी ही कमरे से बाहर निकल कर किचन की तरफ गयी, लेकिन उनका पहनावा अभी भी वही था. जल्दी ही छ्हम्मो किचन से चाइ बना कर नाश्ता लेकर निकली. उन्होने चाइ और नाश्ता ज़मीन पर आमने सामने रखा और जगन को नाश्ता लेने बुलाई. जगन कमरे मे आ कर ज़मीन पर पालती मार कर अपनी सास के सामने बैठ गया और नाश्ते के लिए इंतिज़ार करने लगा.

छ्हम्मो भी तब ज़मीन पर पालती मार कर बैठ गयी. पालती मार कर बैठने से छ्हम्मो की पेटीकोआट उनकी ज्ञगहों तक उठ गयी और जगन को अपने सास की सुडोल, चिकनी और गोरी गोरी जंघे दिखने लगी. छ्हम्मो झुक कर कुच्छ ब्रेड के टुकड़े उठाए और जगन से भी ब्रेड लेने के लिए बोली. जगन ब्रेड लेकर खाते खाते अपने सास के जांघों के देख रहा था. जैसे ही छ्हम्मो अपने पैर थोरी फैलाई तो जगन को उनकी भरा पूरा शेव किया हुआ चूत दिखने लगा.

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: गाओं की मस्ती

Unread post by 007 » 06 Nov 2014 04:02

जैसे जैसे वो लोग नाश्ता करने लगे, छ्हम्मो खुद ही जगन से हल्की फुल्की बात करना शुरू कर दिया. लेकिन जगन को अपने सास के बातों मे कोई ध्यान नही था. छ्हम्मो तब अपनी दोनो टाँगों को फैला दिया और अब जगन को छ्हम्मो की चूत कमरे की रोशनी मे साफ साफ दिखाई देने लगा. जगन को अपना आँख छ्हम्मो की चूत पर से हटाना मुश्किल पर गया. जगन का लंड अब पूरी तरह से खरा हो गया. जगन अपने खरा लंड को अपने हाथों से छुपाने की कोशिस करने लगा लेकिन उसका 10" लूंबा खरा लंड उसके हाथों से छुप नही रहा था.

"तुम्हे पसंद है?" जगन की सास पूछी.

"उन! क्या पुछा?" जगन छ्हम्मो से पुचछा.

"मुझको लग रहा है की जो तुम अपनी आँख गढ़ा कर देख रहे हो, वो तुम्हे पसंद है और तुम्हारा खरा लंड इस बात की गवाही है," छ्हम्मो जगन से बोली. जगन अब दोनो हाथों से खरा लंड को च्छुपाने की कोशिस करने लगा. इस बात से जगन की सास हंस परी और जगन से बोली,

"जगन, बेबकूफी मत करो. तुम्हारा उतना बरा लंड जो कि इस समय खरा हो गया है हाथों से च्छुपाना मुश्किल है. तुम मत घबराव, हुमारी बेटी ने हमसे तुम्हारे लंड के बारे मे सब कुच्छ बता दिया है. अब तुम से क्या च्चिपाना, मैं भी इस लंड का स्वाद लेना चाहती हूँ. मैने करीब पेच्छ'ले एक-दो हफ्ते से अपनी चूत नही चुडवाई है, और यह बात मेरे जैसी चुद्दकऱ औरत के बर्दस्त के बाहर है. मेरी चूत मे तीन-चार दीनो से खुजली हो रही है. चलो जल्दी से अपना नाश्ता ख़तम करो, मुझे तुमसे अभी चुद्वना है." जगन जब सास की यह सब बात सुनी तब वो छ्हम्मो से बोला,

"अगर एही आपकी इक्च्छा है तो मैं आपकी इक्च्छा को टाल नही सकता हूँ," और जगन जल्दी जल्दी अपना नाश्ता ख़तम किया और उठ कर अपना हाथ धोने चला गया. च्चाम्मो भी अपनी नाश्ता जल्दी से ख़तम करके हाथ धो लिया और कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और जगन के पास जाकर खरी हो गयी. जगन का खरा लंड को जो कि लूँगी से बाहर निकल चुक्का था पाकर कर अप'ने हाथों से धीरे धीरे सहलाने लगी.

"ओह! तुम्हारा लंड तो वाकई बहुत बरा और मोटा है. मेरी बेटियाँ बहुत ही भाग्यशाली हैं जो तुमको पाया है. ओह! कितना करा है, चलो जल्दी से मुझको चोदो," इतना कहा कर छ्हम्मो हाथों से जगन को पकर कर बेडरूम मे ले गयी. बेडरूम मे घुस कर छ्हम्मो जल्दी से अपनी पेटिकोट का नारा खींच कर खोल दिया और उनकी पेटिकोट ज़मीन पर गिर गया. अब जगन के सामने उसकी सास नंगी खरी थी और जगन उनके नंगे रूप को देख कर मचल गया. तब छ्हम्मो घूम कर जगन के सामने पीठ करके खरी हो गयी और अपनी ब्लाउस को उतारने के लिए बोली.

जैसे जैसे जगन उनकी ब्लाउस के हुक खोल रहा था, उसका लंड तन कर उनकी चूतर से रगड़ रहा था. चूतर पर जगन के लंड की ठोकर महसूस करने के बाद छ्हम्मो ने अपनी चूतर पिछे की तरफ धकेल दिया और अपनी चूतर जगन के लंड पर मलने लगी. जगन अपनी सास का ब्लाउस उतार दिया और इनकी नंगी पीठ पर चुम्मा देने लगा. फिर उसने अपना हाथ आगे करके उनकी चूंचियो से खेलने लगा. फिर अपना लंड छ्हम्मो के गंद पर रख कर घुमाने लगा और उसकी इस हरकत से छ्हम्मो अपनी गंद हिला करके जगन के तरफ कर दिया. अब छ्हम्मो जगन के तरफ घूम गयी और उससे बोली,

"चलो अपना लॉरा मुझको दो, मैने बहुत दीनो से लौरा नही चूसा है, मैं तुम्हारे लौरे को चूसना चाहती हूँ," और छ्हम्मो झुक कर जगन के सामने बैठ गयी और जगन का लौरा को बच्चो जैसा चूसने लगी. छ्हम्मो के मूह से लार बह रही थी और वो जगन के लौरे को जितना हो सके मूह मे घुसेर कर बरे आराम से चूस रही थी. जगन को सुपरे पर सास की जीव का स्पर्श बहुत अच्छा लग रहा था. छ्हम्मो सर को आगे पिछे कर के जगन के लौरे को धीरे धीरे मूह मे घुसेर रही थी और नीकाल रही थी और होठों से सुपरा को चूस रही थी. जगन का लौरा खरा हो कर तन्ना गया था और अपनी सास की मूह के अंदर थुकी मार रहा था. जगन की सास को लंड चुसाइ की कला बहुत अच्छे तरह से आती थी और बरे मज़े लेकर दामाद का लंड चूस रही थी.

"बहुत अच्च्चे, मा, ऊ! बहुत मज़े आ रहा है, हाँ ऐसे ही मेरे लौरे को चुसिये. आप बहुत अच्छे तरह से लंड चूस रही हैं." जगन धीरे धीरे अपना कमर चला कर अपना लंड सास के मूह मे डाल रहा था और निकाल रहा था.

"और ज़ोर से चूसो माजी, और ज़ोर से मेरे लंड की चुसिये," जगन सास से बोला. लेकिन छ्हम्मो को मालूम था कि कैसे दामाद का लंड चूसना है और वो कोई जल्दबाज़ी नही कर रही थी. छ्हम्मो धीरे धीरे ज़मीन पर बीछे बिस्तेर पर लेट गयी और पैरों को फैला कर जगन से बोली,

क्रमशः........................