rajsharmastories मेरी चाची की कहानी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

rajsharmastories मेरी चाची की कहानी compleet

Unread post by rajaarkey » 02 Nov 2014 12:43

rajsharmastories

मेरी चाची की कहानी

दोस्तो मे यानी आपका दोस्त राज शर्मा एक और नई कहानी मेरी चाची की कहानी लेकर हाजिर हूँ दोस्तो हर आदमी के बचपन मे कभी ना कभी कोई ऐसा वक़्त आता है जब वो सेक्स को समझने लगता है. ठीक उसी तरह मे बचपन मे, चाची के साथ हुए कुछ हादसों को देख कर मे भी सेक्स के प्रति आकर्षित हुआ.

ये एक रियल स्टोरी है मेरी सग़ी चाची की, जो अभी देल्ही मे रहती है, चाचा सेबी मे जॉब पर है. थोड़ी चाची के बारे मे आप लोगो को बता दू, मेरी चाची का नाम कोमल है, अभी चाची की उमर 40 साल. है पर उस वक़्त उनकी उमर 28 य्र. थी, दिखने मे एक दम नॉर्थ इंडियन घरेलू औरत की तरह है, रंग गोरा, कद 5.2 इंच. ज़्यादा लंबी नही है, सरीर से थोड़ी हेल्ती है, चेहरा एक दम गोल, बूब्स थोड़े बड़े, कमर थोड़ी मोटी, उनकी खास बात ये है कि वो बहुत ज़्यादा भोली है और थोड़ी भुलक्कड़ है, इसीलये चाचा हमेशा उन्हे डाँट ते रहते है, उनके दो बेटे है और देल्ही मे पढ़ते है बड़ा बेटा विकाश 15साल का और छोटा राजीव 10साल का है. चाची हमेशा सारी पहनती है और घर मे छोटी बहू होने के कारण, सर पर हमेशा पल्लू रखती है और सारा बदन हमेशा सारी से ढका रहता है. अब थोड़ा चाचा पे नज़र डाली जाए मेरा पिताजी (फादर) के 3 भाई और एक सिस्टर है. पिताजी सबसे बड़े, प्रकाश चाचा मझले है, इनके बाद एक छोटे चाचा प्रेम और बुआ कमल. मेरी पूरी फॅमिली मे प्रकाश चाचा पढ़ने मे सबसे ज़्यादा तेज और किताबी कीड़े है (बुक वर्म), पढ़ाई की वजह से आँखो पे मोटा चस्मा आ गया है मेरी उनके साथ बहुत बनती है, क्यूंकी बचपन से उन्होने मुझे बहुत खिलाया है मैं बचपन मे उनके साथ ही सोता था और उन्हे छोटे बाबूजी कह कर बुलाता था.

अब स्टोरी पर आता हूँ, किस तरह अंजाने मे चाची ने मुझे सेक्स का मतलब बता दिया. ये बात उन दिनो की जब मेरी उमर 12साल. की थी, हम सब प्रेम चाचा की शादी मे अपने गाओं गये थे वान्हा पर हमारा पुस्तेनि घर है, जो 2 फ्लोर का है, ग्राउंड फ्लोर मे 5 कमरे है, किचन, स्टोर रूम, छोटे चाचा का कमरा, दादा दाई और गेस्ट रूम है, गेस्ट रूम के बीच एक डोर है जो दालान मे खुलता है, दालान जान्हा खेती के समान, गाये और भैंसे (काउ & बफेलो) रखे जाते है.

और दालान की देखभाल के लिए हमारा नौकर भूरा था जिसकी उमर तकरीबन 40 साल होगी उस वक़्त और वो वन्हि दालान मे रहता था., सिफ खाना खाने ही घर मे आता था. भूरा एक दम हटा कटा ताकतवर मर्द था, हम जैसे 3, 4 बच्चो को तो वो एक हाथ मे ही उठा लेता था पर वो थोड़ा मंद बुधि का था, बचपन मे उसके मा बाप गुजर गये थे, दादाजी ने उसे अपने पास रख लिया, वो घर के सब काम कर देता था और दादा जी की बहुत सेवा करता था.

सेकेंड फ्लोर पे हमारा रूम, चाची का और चाचा का स्टडी रूम था और दो कमरे हमेशा बंद रहते थे जिसमे कोई रहता नही हा, जब हमारी कमल बुआ या कोई रिलेटिव आते थे उसी मे रुक ते थे और उपर छत (टेरेस) थी, जान्हा से दालान और गाओं साफ दिखता था. साल दो साल मे एक बार हम गाओं जाते थे, दादा दादी हमे देख कर काफ़ी खुस होते थे, हमे भी वान्हा काफ़ी अछा लगता था, दिन भर गाओं, खेत मे घूमना और नदी मे नहाते और मस्ती करते और वैसे भी वान्हा पर किसी भी तरह की कोई रोक टोक नही थी.

घर मे शादी का महॉल था सब काफ़ी खुश थे, बहुत सारे रिलेटिव और मेहमान आए हुए थे, हमारी बुआ (कमल) और फूफा (राजेश) (माइ फादर्स सिस्टर & हर हज़्बेंड) भी आए हुए थे, ये सब शादी एक 4, 5 दिन पहले ही आगाये थे, घर मे पैर रखने की जगह नही थी, हम सब बच्चो को रात को छत (टेरेस) पर सोना पड़ता था. गाओं मे रात बहुत जल्दी हो जाती थी, रात होते ही हम सब दालान मे घुस जाते और खूब हो हल्ला करते. हां और एक ख़ास्स बात आप लोगो को बता दू उस वक़्त हमारे गाओं मे बिजली नही थी, गाओं मे सब लालटेन और दिया ही इस्तेमाल करते थे. हम रात मे अक्सर छुपा छुपी (हाइड & सीक) खेलते.

दोपहर का समय था, आज रात प्रेम चाचा का तिलक आने वाला था (इस रसम मे लड़की के घर वाले दहेज का समान ले कर आते है और लड़के को तिलक लगाते है). तिलक मे आने वाले लोगो के रुकने का बंदोबस्त दालान मे ही किया गया था. सब लोग काफ़ी बिज़ी थे, मैं भी तिलक मे आने वाले लोगो के लिए चेर और बेड का बंदोबस्त कर रहा था, मेरे साथ गाओं के कुछ लड़के और भूरा भी था. फूफा वन्हि पर मिठाई वाले के साथ बैठे थे और कुछ बाते कर रहे थे, तभी मैने देखा गाओं के लड़के जो हमारी मदद कर रहे थे बार बार छत की तरफ देख रहे थे और कुछ कानाफुसी कर रहे थे, मैने भी छत की तरफ देखा, देखा तो चाची छत पर नीचे झुक कर कुछ सूखा रही थी चाची ने सारी को घुटनो तक उठा के कमर से बँधी हुई थी और नीचे झुकने से उनकी गोरी गोरी जंघे (थाइस) और चूतर का निचला हिस्सा काफ़ी साफ दिख रहा था. चाची तो अपने कम मे बिज़ी थी, भूरा भी तिरछी नज़र से ऊपर देख रहा था और अपने पॅंट पर हाथ घुमा रहा था, ये देख कर लड़के उसे पर हस्ने लगे तभी फूफा की नज़र लड़को की तरफ पड़ी और वो भी ऊपर देखने लगे फूफा की आँखे बड़ी हो गयी पर पास मे मिठाई वाला था इसीलिए फूफा ने ज़ोर से आवाज़ दी और कहा "भूरा जल्दी जल्दी चेर लगा दो और अभी और भी काम है" इतने मे फूफा के आवाज़ सुन कर चाची ने नीचे देखा, फूफा उन्हे देख कर मुस्कुरा रहे थे चाची ने भी मुस्कुरा कर जवाब दिया और सारी नीचे कर दी.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: rajsharmastories मेरी चाची की कहानी

Unread post by rajaarkey » 02 Nov 2014 12:44

मैं कुछ चेर गेस्ट रूम मे रखने गया तभी वो लड़के आपस मे कुछ बाते कर रहे थे.

1-लड़का: "अर्रे तुमने देखा किस तरह भूरा अपना लंड हिला रहा था विकी (विकाश) की मा के चूतर देख कर"

2-लड़का: "उसे बेचारे की क्या ग़लती है, विकी की मा की चूतर है ही इतने मस्त की किसी का भी खड़ा हो जाए"

1-लड़का: "और उस बेचारे भूरा को भी तो बहुत दिनो से चूत के दर्शन नही हुए है..जब तक लाली थी, तब तक भूराने बड़े मज़े किए, अब तो वो भी शादी करके चले गयी है पता नही कब आएगी"

3-लड़का: "मुझे पता है तुम लोगो ने भी भूरा के नाम पर लाली को चोदा था....जब वो खेत मे काम कर रही थी तब"

2-लड़का: "नही यार ट्राइ तो बहुत किया था पर हाथ नही आई, बोलने लगी "तुम जैसे माचिस की तिलियों से ये आग नही लगेगी"

3-लड़का: "मतलब"

2-लड़का: "मतलब.. तुम अभी बच्चे हो और तुम्हारा बहुत छोटा है मुझे नही चोद पाएँगे"

1-लड़का: "हां साली...हमारा क्यूँ लेती..इस पगले भूरा का मूसल लंड (बिग कॉक) लेने की आदत जो पड़ गयी थी"

3-लड़का: "हां यार मैने भी सुना है उसका बहुत लंबा और मोटा है"

1-लड़का: "अर्रे तुझे पता नही इन पागलो का बहुत लंबा होता है..और साले थकते भी नही...तुझे पता है वो अपना कुम्हार है ना.. जो मट्टी के बर्तन बनाता है उस की बीवी एक बार खेत मे टाय्लेट के लिए गयी तभी ये उस पर चढ़ गया और 1 घंटे. तक चोदता रहा, कुम्हार की बीवी उसे छोड़ने के लिए बोल रही थी पर वो सुन नही रहा था जब वो दर्द से चिल्लाने लगी और गाओं के लोग आवाज़ सुन वहाँ आने लगे तब वो वहाँ से भागा...और पता है आज भी कुम्हार की बीवी अपने पति के साथ टाय्लेट जाती है.....हा..हहा ...हा हा"

3-लड़का: "और वो मलिन, फूल वाले की बीवी, उसे तो इसने पेट से कर दिया था"

2-लड़का: "हाँ यार इस पगले का कोई भरोसा नही है..कब किस को पकड़ ले"

मैं तो उनकी बाते सुन वान्हा खड़ा ही रह गया, कुछ समझ मे नही आ रहा था..मूसल लंड, चोद दिया, पेट से कर दिया... मैं इन सब बातो को समझ नही पा रह था, ये वर्ड्स मैं पहली बार सुन रहा था, पर इतना ज़रूर समझ रह था कि ये भूरा औरतों के साथ कुछ ग़लत करता है इसीलिए ये लड़के भूरा के बारे मे बात कर रहे है. पता नही उस दिन से मुझे भूरा से डर लगने लगा मे उस के पास बहुत कम जाने लगा वो बुलाता, पर मे बहाने बना कर भाग जाता.

मैं दालान मे आ गया, मुझे देख कर वो लड़के चुप हो गये और बोले "राज कल नदी (रिवर) पर चलेगा..तुझे आम और जामुन खिलाएँगे" मैं बोला "हाँ..चलूँगा", वो लड़के मुझ से काफ़ी बड़े थे तकरीबन 16 या 17 साल के थे, पर मेरा बहुत ख़याल रखते थे क्यूँ की मैं उन्हे अक्सर डेरी मिल्क चॉक्लेट दिया करता था, वो चॉक्लेट वहाँ नही मिलते थे और कुछ पैसे भी कभी कभी खर्च कर देता था इस लालच से वो मेरा ख़याल रखते थे.

मुझे याद है वो एक बार मुझे नदी पर ले गये थे, नदी हमारे गाओं से 10मिनट. की दूरी पर थी, खेत और कच्चे रास्तों से होते हुए हम नदी तक पंहूचते थे. मे नदी के किनारे ही खेलता क्यूँ कि उसे वक़्त मुझे तैरना (स्विम्मिंग) नही आती थी. ये लड़के स्विम्मिंग कम करते थे और गाओं की लड़कियों को नहाते हुए ज़्यादा देखते थे, और वो लड़किया इनको गाली दे कर भगा देती पर मुझ कुछ नही कहती थी क्यूँ कि मे उनसे काफ़ी छोटा था और उनमे से कुछ लड़कियों को जानता भी था, जैसे रेणु, पायल, सीमा और इनको मे दीदी कह कर बुला ता था और वैसे भी इन सब लड़कियों का मेरे घर आना जाना लगा रहता था. उसे दिन ये लड़के नदी मे खेल रहे थे पर मे किनारे बैठा उन्हे देख रहा था, तभी मेरे पास से कुछ गाओं की लड़कियाँ गुज़री उनमे रेणु भी थी, उसने मुझसे पूछा "क्यूँ राज तुम नहा नही रहे हो..!" मे बोला "दीदी मुझे स्वीमिंग नही आती और पानी भी बहुत गहरा है" वो बोलने लगी तुम हुमरे साथ आ जाओ हम तुम्हे स्विम्मिंग सिखाते है. मे उनके साथ चला गया, वो कुछ दूरी पर नहाती थी जहाँ पर कोई आता जाता नही था. वो सब झाड़ियों (स्माल ट्रीस) के पीछे अपने कपड़े निकालने लगी, कुछ ने सारी पहनी थी और कुछ ने सलवार कमीज़. जिन लड़कियों ने सलवार कमीज़ पहना था उन्होने सलवार निकाली और जिन्होने सारी पहनी थी उन्होने सारी और ब्लाउस निकाल दिया और पेटिकट को चुचियों के उपर बाँध लिया, मे ये सब देख रहा था पर मुझे कुछ महसूस नही हो रहा था. फिर वो सब नदी मे उतरने लगी मुझे भी बुलाने लगी पर मैने भी अपनी टी-शर्ट निकाली पर जीन्स नही निकाला और पानी मे उतरने लगा वो बोलने लगी "अर्रे राज जीन्स तो निकाल दो"

मे: "दीदी मे अपनी हाफ पॅंट नही लाया हूँ.."

रेणु: "कोई बात नही राज..तुम अपनी जीन्स निकाल के आ जाओ"

मे: "नही मुझे शरम आती है"

रेणु: "अर्रे हमसे कैसी शरम, हम तो तेरी दीदी है" इतना बोलते ही एक लड़की ने मेरा जीन्स खोल दी, मे सिर्फ़ अंडरवेयीर पर था, ये देख कर लड़कियाँ हस्ने लगी.

मे: "तुम लोग क्यूँ हंस रही हो?..मुझे नही नहाना मे जा रहा हूँ"

रेणु: "अर्रे राज रुक जाओ..ये सब पागल तुझे अंडरवेयीर पहना देख कर हंस रही है"

मे: "क्यूँ..तुम सब नही पहनती?" वो फिर हस्ने लगी.

लड़कियाँ: "अर्रे राज ऐसी कोई बात नही है....गाओं मे तेरी उमर के लड़के अंडरवेयीर नही पहाते इसलिए ये सब हंस रही हैं..मे इन्हे मना कर्दुन्गि ये अबसे नही हँसेगी, तुम आ जाओ”

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: rajsharmastories मेरी चाची की कहानी

Unread post by rajaarkey » 02 Nov 2014 12:45



फिर मे पानी मे उतरा, रेणु मुझे पकड़ कर थोड़े गहरे पानी मे ले गयी, मे उन्हे देख रहा था पानी मे उनके कमीज़ और पेटिकट उपर होगये थे और अंदर उनकी कसी हुई चुचियाँ और गोरे गोरे जाँघ (थाइस) और उनकी चूत के बाल (हेर) दिख रहे थे, रेणु ने कहा "राज हम तुम्हे पकड़ते है तुम अपने पैर उपर कर लो और तेज़ी पानी पर मारो" मे वैसे ही करने लगा उन्होने मेरे पेट और पेनिस पर अपना हाथ रखा हुआ थे, मे फिर पानी मे पैर मारने लगा, मुझे ऐसा करते देख कर उन्होने मुझे छोड़ दिया मे डूबने लगा और हाथ पानी पर मारने लगा, मे डर गया था और रेणु को कस कर पकड़ लिया और रेणु से लिपट गया, रेणु ने पेटिकट पहना हुआ था और वो पेटिकट कमर के उपर आ चुका था और वो अंदर से पूरी तरह नगी थी मे उसके नंगे चूतर और कमर को कस के पकड़ा हुआ था. दूसरी लड़कियाँ पास मे खड़ी कुछ बोल रही थी और हंस रही थी मैने सुना वो कह रही थी "रेणु को तो देख बड़े मज़े से चिपकी हुई है राज से, लगता है लिए बिना छोड़ेगी नही उसे" दूसरी लड़की बोली "राज है भी तो इतना खूबसूरत कि कोई भी लड़की चिपक जाए".. "अर्रे शहरी लड़का है खूबसूरत हो होगा ही...और सहर मे खूबसूरत लड़कियों की क्या कमी है जो हम जैसो को देखेगा, इन गाओं के लड़को की तरह नही है कि लड़की देखी और डंडा खड़ा कर लिया" मैने तुरंत उसे छोड़ दिया और बाहर जाने लगा तब रेणु बोली "क्या हुआ राज तैरना नही सीखना" मे बोला "नही तुम सब मेरा मज़ाक कर रही हो" रेणु बोली "आरे इनकी बात का बुरा मत मान इनकी तो आदत है बकबक करने की तू आजा" मे वापस पानी मे उतरा और रेणु के पास गया, रेणु ने कहा "जब तुम पैर मारने लगॉगे तो मे तुम्हे छोड़ूँगी और तुम हाथ भी पानी मे मारना जिसे तुम पानी मे आगे की तरफ बढ़ने लगॉगे और इसी तरह करते रहना, तुम तैरना सीख जाओगे. मे उसी तरह करने लगा पर बार बार पानी मे डूब जाता और रेणु पानी से बाहर निकालती, एक बार तो मेरी अंडरवेर घुटनो की नीचे उतर गई और मुझे पता भी नही चला, मैने दोनो हाथो से रेणु की कमर को पकड़ा हुआ था और मेरा चेहरा उसकी चुचि पर और मेरा छोटा लंड रेणु चूत से चिपका हुआ था. रेणु भी उसे महसूस कर आयी थी पर शायद उसे भी मज़ा आ रहा था इसीलिए कुछ बोल भी नही रही थी, इस दरमियाँ मैने कई बार उसकी नगी चूत और चूतर को छुआ था और उसने कई बार मेरे छोटे से लंड को छुआ था. मे पहली बार किसी लड़की के जिस्म को महसूस कर रहा था और मेरे अंदर एक अजीबसी हुलचल हो रही थी, मुझे पानी के अंदर भी पसीना आ रहा था. कुछ देर बाद लड़कियाँ बाहर निकलने लगी मे भी बाहर आके बैठ गया, लड़कियाँ झाड़ियों के पीछे कपड़े बदलने लगी, पर मेरी नज़र तो रेणु पर ही थी, रेणु की उमर तकरीबन 17 या 18 साल होगी पूरी तरह से जवान और गदराई हुई थी, उसने मेरे सामने ही पेटिकट की डोरी खोल दी और पेटिकट नीचे गिर गयी, रेणु पूरी तरह से नंगी मेरे सामने खड़ी थी, गोरा बदन, घुंघराले बाल, कसी हुई चुचि और गोरी चूत पर थोड़े हल्के काले बाल ऐसा लग रहा था जैसे कोई जलपरी पानी से बाहर निकल आई हो. फिर वो अपने साथ लाए हुए कपड़े सलवार कमीज़ पहनने लगी, मे देखा उसने ब्रा और पॅंटी नही पहनी.

और फिर मेरे करीब आकर बोली "राज तुम हमारे साथ चलोगे या, इन लड़को के साथ आओगे" मे बोला "मे भी आप लोगो के साथ आता हूँ" मुझे पता नही मैने ऐसा क्यूँ बोला शायद मुझे रेणु का साथ अछा लग रहा था, मे उनके साथ चलने लगा.
क्रमशः.............






Meri Chachi Ki kahaani

dosto me yaani aapka dost raj sharma ek our nai kahaani meri chaachi ki kahaani lekar haajir hun dosto Har aadmi ke bachpan me kabhi na kabhi koi aisa waqt aata hai jab wo sex ko samjhne lagata hai. Thik usi tarah me bachpan me, chachi ke sath hue kuch hadson ko dekh kar me bhi sex ke prati aakarshit hua.

Ye ek real story hai meri Sagi Chachi ki, jo abhi Delhi me rahti hai, Chacha SEBI me job par hai. Thodi Chachi ke bare me aap logo ko bata du, Meri Chachi ka nam Komal hai, abhi Chachi ki umar 40 saal. Hai par us waqt unki umar 28 yr. thi, dikhne me ek dam North Indian Gharelu Aurat ki tarah hai, rang gora, kad 5.2 inch. Jyaada lambi nahi hai, sarir se thodi healthy hai, chehara ek dam gol, boobs thode bade, kamar thodi moti, unki khas bat ye hai ki wo bahut jyaada bholi hai aur thodi bhulakkad hai, isilye Chacha hamesha unhe daant te rahte hai, unke do bete hai aur delhi me padhte hai bada beta Vikash 15saal ka aur chota Rajiv 10saal ka hai. Chachi hamesha sari pahnti hai aur ghar me choti bahu hone ke karan, sar par hamesha pallu rakhti hai aur sara badan hamesha sari se dhaka rahat hai. Ab thoda Chacha pe nazar dali jaye mera Pithaji (Father) ke 3 bhai aur ek sister hai. Pithaji sabse bade, Prakash Chacha majhale hai, inke bad ek chote chacha Prem aur Bua Kamal. Meri puri family me Prakash Chacha padhne me sabse jyaada tej aur kitabi kide hai (Book worm), padhaai ki wajah se aankho pe mota chasma aa gaya hai meri unke sath bahut banti hai, kyunki bachpan se unhone mujhe bahut khilaya hai main bachpan me unke sath hi sota tha aur unhe Chote Babuji kah kar bulata tha.

Ab stroy par aata hun, Kis tarah anjaane me Chachi ne mujhe sex ka matlab bata diya. Ye bat un dino ki jab meri umar 12saal. ki thi, hum sab Pream chacha ki shadi me apne gaon gaye the wanha par humra pusteni ghar hai, jo 2 floor ka hai, ground floor me 5 kamre hai, Kitchem, Store room, Chote chacha ka Kamara, dada dai aur guest room hai, guest room ke biche ek door hai jo Dalan me khulta hai, Dalan janha Kheti ke saman, Gaye aur Bhainse (Cow & buffalo) rakhe jaye hai.

Aur Dalan ki dekhbhal ke liye humra naukar Bhura tha jiski umar takriban 40 saal hogi us waqt aur wo wanhi dalan me rahta tha., sif khana khane hi ghar me aata tha. Bhura ek dam hataa kataa takatwar mard tha, hum jaise 3, 4 bachcho ko to wo ek haath me hi utha leta tha par wo thoda Mand budhi ka tha, bachpan me uke maa baap gujar gaye the, dadaji ne use apne pass rakh liya, wo ghar ke sab kam kar deta tha aur dada ji ki bahut seva karta tha.

Second floor pe humara room, chachi ka aur chacha ka study room tha aur do kamre hamesha band rahte the jisme koi rahata nahi ha, jab hamari kamal bua ya koi relative aate the usi me ruk te the aur upar chat (terrace) thi, janha se dalan aur gaon saf dikhta tha. Sal do sal me ek bar hum gaon jate the, dada dadi hume dekh kar kafi khus hote the, hume bhi wanha kafi acha lagata tha, din bhar gaon, khet me gumna aur nadi me nahate aur masti karte aur waise bhi wanha par kisi bhi tarah ki koi rok tok nahi thi.

Ghar me Shaadi ka mahol tha sab kafi khush the, bahut sare relative aur mehman aaye hue the, humari Bua (Kamal) aur fufa (Rajesh) (my fathers sister & her husband) bhi aaye hue the, ye sab shadi ek 4, 5 din pahle hi aagaye the, ghar me pair rakhne ki jagah nahi thi, hume sab bachcho ko raat ko chat (terrace) par sona padta tha. Gaon me raat bahut jaldi ho jati thi, raat hote hi hum sab dalan me ghus jate aur khub ho halla karte. Haan aur ek khass bat aap logo ko bata du use waqt humare gaon me bijali nahi thi, gaon me sab lalten aur diya hi istemal karte the. Hum raat me aksar chupa chupi (hide & seek) khelte.

Dophar ka samay tha, aaj raat prem chacha ka Tilak aane wala tha (Is rasam me ldaki ke ghar wale Dahej ka saman le kar aate hai aur ladke ko Tilak lagate hai). Tilak me aane wale logo ke rukne ka bandobast Dalan me hi kiya gaya tha. Sab log kafi busy the, main bhi Tilak me aane wale logo ke liye Chair aur Bed ka bandobast kar raha tha, mere sath Gaon ke kuch ladke aur Bhura bhi tha. Fufa wanhi par Mithai wale ke sath baithhe the aur kuch baate kar rahe the, tabhi maine dekha Gaon ke ladke jo humari madad kar rahe the bar bar chat ki taraf dekh rahe the aur kuch kanafusi kar rahe the, maine bhi chat ki taraf deka, dekha to chachi chat par niche jhuk kar kuch sukha rahi thi chachi ne sari ko ghutno tak utha ke kamar se bandhi hui thi aur niche jhukne se unki gori gori janghe (thighs) aur chutar ka nichala hissa kafi saf dikh raha tha. Chachi to apne kam me busy thi, bhura bhi tirchi nazar se oopar dekh raha tha aur apne pant par haath ghuma raha tha, ye dekh kar ladke use par hasene lage tabhi fufa hi nazar ladko ki taraf padi aur wo bhi oopar dekhne lahe fufa ki aankhe badi ho gayi par pass me mithaai vala tha isiliye fufa ne jor se awaz di aur kaha "Bhura jaldi jaldi chair laga do aur abhi aur bhi kam hai" intne me fufa ke awaz sun kar chachi ne niche dekha, fufa unhe dekh kar muskura rahe the chachi ne bhi muskura kar jawab diya aur sari niche kar di. Main kuch chair guest room me rakhane gaya tabhi wo ladke aapas me kuch baate kar rahe the.

1-Ladka: "arre tumne dekha kis tarah Bhura apna lund hila raha tha vicky (Vikash) ki maa ke chutar dekh kar"

2-Ladkaa: "use bechare ki kya galti hai, vicky ki maa ki chutar hai hi itnai mast ki kisis ka bhi khada ho jaye"

1-Ladka: "aur use bechare Bhura ko bhi to bahut dino se chut ke darshan nahi huye hai..jab tak Lali thi, tab tak Bhurane bade maze kiye, ab to wo bhi shadi karke chale gayi hai pata nahi kab aayegi"

3-Ladka: "mujhe pata hai tum logo ne bhi Bhura ke nam par Lali ko choda tha....jab wo khet me kam kar rahi thi tab"

2-Ladka: "nahi yaar try to bahut kiya tha par haath nahi aai, bolne lagi "tum jaise machis ki Tiliyon se ye aag nahi lagegi"

3-Ladka: "Matlab"

2-Ladka: "matlab.. tum abhi bachche ho aur tumhara bahut chota hai mujhe nahi chod payenge"

1-Ladka: "haan sali...humara kyun leti..is pagle Bhura ka musal lund (Big Cock) lene ki aadat jo pad gayi thi"

3-Ladka: "haan yaar maine bhi suna hai uska bahut lamba aur mota hai"

1-Ladka: "arre tujhe pata nahi in paglo ka bahut lamba hota hai..aur saale thakte bhi nahi...tujhe pata hai wo apna kumhaar hai na.. jo matti ke bartan banat hai us ki biwi ek bar khet me toilet ke liye gayi tabhi ye us par chadh gaya aur 1 ghante. tak chodataa raha, kumhaar ki biwi ne use chodane ke liye bol rahi thi par wo sun nahi raha tha jab wo dard se chillane lagi aur gaon ke log awaz sun wnaha aane lage tab wo wanaha se bhaga...aur pata hai aaj bhi kumhar ki biwi apne pati ke sath toilet jati hai.....ha..haha ...haa haa"

3-Ladka: "aur wo Malin, phool wale ki biwi, use to isne pet se kar diya tha"

2-Ladka: "han yaar is pagle ka koi bharosa nahi hai..kab kis ko pakad le"

Main to unki baate sun wanha khada hi rah gaya, kuch samjh me nahi aa raha tha..musal lund, chod diya, pet se kar diya... main in sab bato ko samjh nahi paa rah tha, ye words main pahli bar sun raha tha, par itna jarur samjh rah tha ki ye Bhura aurton ke sath kuch galat karta hai isiliye ye ladke Bhura ke bare me bat kar rahe hai. Pata nahi us din se mujhe Bhura se dar lagne laga me us ke pass bahut kam jane laga wo bulata, par me bahane bana kar bhag jata.

Main Dalan me aa gaya, mujhe dekh kar wo ladke chup ho gaye aur bole "Raj kal nadi (River) par chalega..tujhe aam aur jamun khilaayenge" main bola "han..chalunga", wo ladke mujh se kafi bade the takriban 16 ya 17 saal ke the, par mera bahut khayal rakhte the kyun ki main unhe aksar Dairy milk Chocolate diya karta tha, wo Chocolate wanah nahi milte the aur kuch paise bhi kabhi kabhi kharch kar deta tha is lalach se wo mera khayal rakhte the.

Mujhe yaad hai wo ek bar mujhe Nadi par le gaye the, Nadi humare gaon se 10minat. ki duri par thi, khet aur kache raston se hote huye hum nadi tak panhuchte the. Me nadi ke kinare hi khelta kyun ki use waqt mujhe tairna (Swimminatg) nahi aati thi. Ye ladke Swimminatg kam karte the aur gaon ki ladkiyon ki nahata huye jyada dekhte the, aur wo ladkiya inko gali de kar bhaga deti par mujh kuch nahi kahati thi kyun ki me unse kafi chita tha aur unme se kuch ladkiyon ko janta bhi tha, jaise Renu, Payal, Seema aur inko me didi kah kar bula ta tha aur wasie bhi in sab ladkiyon ka mere ghar aana jan laga rahta tha. Use din ye ladke nadi me khel rahe the par me kinare baitha unhe dekh raha tha, tabhi mere pass se kuch gaon ki ladkiyan gujari unme Renu bhi thi, unse mujhse pucha "kyun Raj tum naha nahi rahe ho..!" me bola "didi mujhe Swimminatg nahi aati aur pani bhi bahut gahara hai" wo bolne lagi tum humre sath aa jao hum tumhe Swimminatg sikhate hai. Me unke sath chala gaya, wo kuch duri par nahati thi jahan par koi aata jata nahi tha. Wo sab jhadiyon (small trees) ke piche apne kapde nikalne lagi, kuchne sari pahani thi aur kuch ne Salwar kamiz. Jin ladkiyon ne Salwar kamiz pahana tha unhone salwar nikal aur Jinhone sari pahni thi unhone sari aur blouse nikal diya aur petticote ko chuchiyon ke upar bandh liya, me ye sab dekh raha tha par mujhe kuch mahsus nahi ho rah tha. Phir wo sab nadi me utharne lagi mujhe bhi bulane lagi par maine bhi apni T-shirt nikali par Jeans nahi nikala aur pani me utharne laga wo bolne lagi "arre Raj Jeans to nikal do"

Me: "didi me apni half pant nahi laya hun.."

Renu: "koi bat nahi Raj..tum apni jeans nikal ke aajao"

Me: "nahi mujhe sharam aati hai"

Renu: "arre humse kaisi sharam, hum to teri didi hai" Itna bolte hi ek ladki ne mera jeans khol di, me sirf underwaer par tha, ye dekh kar ladkiyan hasne lagi.

Me: "tum log kyun hans rahi ho?..mujhe nahi nahana me ja raha hun"

Renu: "arre Raj ruk jao..ye sab pagal tujhe underwaer pehana dekh kar hans rahi"

Me: "kyun..tum sab nahi pahaathi?" wo phir hasne lagi.

Ladkiyan: "arre Raj aisi koi bat nahi hai....gaon me tere umar ke ladke underwaer nahi pahaathe isliye ye sab hans rahi hain..me inhe mana kardungi ye abse nahi hansegi, tum aa jao”

Phir me pani me uthara, Renu mujhe pakad kar thode gahare pani me le gayi, me unhe dekh raha tha pani me unke kamiz aur petticote upar hogaye the aur andar unki kasi hui chuchiyan aur gore gore jangh (thighs) aur unke chut ke bal (hair) dikh rahe the, Renu ne kaha "Raj hum tumhe pakadte hai tum apne pair upar kar lo aur tezi pani par maro" me waise hi karne laga unhone mere pet aur penis par apna haath rakha hua the, me phir pani me pair marne laga, mujhe aisa karte dekh kar unhone mujhe chod diya me dubne laga aur haath pani par marne laga, me dar gay tha aur Renu ko kas kar pakad liya aur Renu se lipat gaya, Renu ne petticote pahna hua tha aur wo petticote kamar ke upar aa chuka tha aur wo andar se puri tarah nagi thi me uske nage chutar aur kamar ko kas ke pakada hua tha. Dusri ladkiyan pass me khadi kuch bol rahi thi aur hans rahi thi me sunna wo kah rahi thi "Renu ko to dekh bade maze se chipki hui hai Raj se, lagta hai liye bina chodegi nahi use" dusri ladki boli "Raj hai bhi to itna khubsurat ki koi bhi ladki chipak jaye".. "arre sahari ladka hai khubsurat ho hoga hi...aur sahar me khubsurat ladkiyon ki kya kami hai jo hum jaiso ko dekhega, in gaon ke ladko ki tarah nahi hai ki ladki dekhi aur danda khada kar liya" maine turant use chod diya aur bahar jane laga tan Renu boli "kya hua Raj tairna nahi sikhana" me bola "nahi tum sab mera mazak kar rahi ho" Renu boli "aare inki bat ka bura mat man inki to adat hai bakabk karne ki tu aaja" me wapas pani me uthara aur Renu ke pass gaya, Renu ne kaha "jab tum pair marne lagoge to me tumhe chodungi aur tum haath bhi pani me marna jise tum pani me aage ki taraf badne lagoge aur isi tarah karte rahana, tum tairna **** jaoge. Me usi tarah karne laga par bar bar pani me dub jata aur Renu pani se bahar nikalti, ek bar to meri underwear ghutno ki niche utar gai aur mujhe pata bhi nahi chala, maine done haatho se Renu ke kamar ko pakda hua tha aur mera chehra uski chuchi par aur mera chota lund Renu chut se chipka hua tha. Renu bhi use mahsus kar ahi thi par shaayad use bhi maza aa raha tha isiliye kuch bol bhi nahi rahi thi, is darmiyan maine kai bar uski nagi chut aur chutar ko chua tha aur usne kai bar mere chote se lund ko chua tha. Me pahli bar kisi ladki ke jism ko mahsus kar raha tha aur mere andar ek ajibsi hulchal ho rahi thi, mujhe pani ke andar bhi pasina aa raha tha. Kuch der bad ladkiyan bahar nikalne lagi me bhi bahar aake baith gaya, ladkiaya jhadiyon ke piche kapde badalne lagi, par meri nazar to Renu par hi th, Renu ki umar takriban 17 ya 18 saal hogi puri tarah se jawan aur gadrai hui thi, usne mere samne hi petticote ki dori khol di aur petticote niche gir gayi, Renu puri tarah se nagi mere samne khadi thi, gora badan, ghunghrale bal, kasi hui chuchi aur gori chut par thode halke kale bal aisa lag raha tha jaise koi Jalpari pani se bahar nikal aai ho. Phir usne apne sath laye huye kapde salwar kamiz pahane lagi, me dekha usne bra aur panty nahi pahani.

Aur phir mere karib aakar boli "Raj tum humre sath chaloge ya, in ladko ke sath aaoge" me bola "me bhi aap logo ke sath aata hun" mujhe pataa nahi maine aisa kyun bola shaayad mujhe Renu ka sath acha lag raha tha, me unke sath chalne laga.
kramashah.............