Bahan ki ichha -बहन की इच्छा

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: Bahan ki ichha -बहन की इच्छा

Unread post by 007 » 29 Dec 2014 04:42

Mere college kee girl friend ke saath ye tareeka mene kai baar aj'maaya tha aur unhe ek alag hee kaamsukh mene diya tha. Urmi Didi kee baton se to pata chala hee gaya tha ke us'ne ye sukh kabhee liya nahee tha yaani mere jijoo ne mere bahan kee choot kabhee cha'tee hee nahee thee. Khair! Unke jaise puraane dhyaalaat ke puroosh 'mookha-menthoon' jaisee cheej karenge ye ummeed to thee hee nahee. Mujhe to ye bhee yakeen tha ke unhone Urmi Didi ko kabhee apana lunD chus'ne ke liye bhee nahee diya hoga. is'liye Didee ko 'us' baat ka bhee 'gyan' nahee hoga. Dekhenge.. Samajh men aayega vo bhee ab thodee der men.!

Men Urmi Didi ka choot'daana ap'ne dono hotho men pakad'kar chus'ne laga. Chusate sama'y men ap'ne hothon se uskee choot'par dabaav de raha tha jis'se uske choot daane ka achchhee taraha se gharshan ho raha tha. Urmi Didi ke mun'h se ab hal'keesee sins'keeyan baahar nikal'ne lagee.

Beech beech men vo

'Sagar! Mat karo aise' ya 'Sagar! chhod do mujhe' aise badabada rahee thee lekin mujhe rok'ne ka ya ap'nee choot se hat'ne ka koi bhee prayas vo nahee kar rahee thee. Mujhe maaloom tha ke ab vo virodh kar'nevaalee nahee hai kyonkee vo ab garam ho rahee thee. Uskee soi hui kaam vaas'na ab jag rahee thee.

Dheere dheere Urmi Didi ap'nee kaamr hilaane lagee. Uske mun'h se nikal'tee hal'keesee chinkhe aur sins'keeyan saaph saaph sunai de rahee thee. Mene us'ka choot'daana chusate chusate najar uppar kar ke uskee taraph dekha. Vo ap'nee aankhen jor se band kar ke apana sar idhar udhar hila rahee thee. Uskee kaam bhavanayen ab us'se sambhalee nahee ja rahee thee. jhat se us'ne ap'nee aankhen khol dee aur niche meree taraph dekha.

Mujhe uskee aankhon men kaam vaas'na kee aag dikhai dee. Uskee aankhen jaise nasha kiya ho vaisee adhakhulee ho rahee thee. Ek pal ke liye us'ne meree taraph dekha aur uske mun'h se ek dabee chinkh baahar nikal gai. Jor se mere baal pakad'kar vo mera mun'h ap'nee choot'par dabaane lagee aur niche se vo ap'nee kaamr jor jor se hilaate mere munh'par dhakke dene lagee. Us'ka kaamr hil'ne ka josh aisa tha ke jaise vo niche se mujhe chod rahee ho.

Urmi Didi ka aavesh aisa tha ke mujhe uskee choot'par mun'h rakh'ne ke liye takaleeph ho rahee thee. Badee mushkeel se men mera mun'h uskee choot'par dabaaye huye tha aur us'ka choot'daana chus'ne kee kosheesh men kar raha tha. Uske dhakkon ka jor itana jyaada tha ke uskee choot ke upparee haddee mere mun'h ko chubh rahee thee. Men jab us'ka choot'daana choos raha tha tab meree daadhee ka bhaag uskee choot ke chhed'par dab raha tha aur vahan se nikal raha us'ka choot'ras mere daadhee ko lag raha tha. Uskee sis'kiyan badh gai. Niche se uske dhakke jor se lag'ne lage. Uske mun'h se ajeebo gareeb aavaaje aane lagee. Uske dhakko ka josh ap'nee charam seemapar pahunch gaya..

"Uha.Aha.Uha.Aha. Aaiii. Sagara." Aur Urmi Didi ne akharee cheekh de dee.. Phir uske dhakke kam hote gaye. Us'ne mere baal chhod diye aur apana badan dhila chhod ke vo padee rahee. Urmi Didi kaamtript ho gai thee!! Aur mene use kaamtript kiya tha, uske chhote bhai ne!! mujhe aisa lag raha tha ke mene bahut bada teer maara hai! ab bhee men uskee choot chaaT raha tha aur use nihaar raha tha. Dheere dheere vo shaant hotee gai. Uske badan par paseene kee bunde jama ho gai thee.

Ap'nee sudhaboodh khoye jaisee Urmi Didi padee thee. Beech men hee us'ne apana haath utha ke mera mun'h ap'ne choot se hataane kee kosheesh kee. Mene uske choot ke chhed par akharee baar jeebh ghum dee aur mera sar utha liya. Uske choot ke nichale bhaag se us'ka choot'ras nikala tha jo mere chaaT'ne se meree jeebh par aaya tha. Meree bahan kee choot ka vo ras chaaT'kar men dhany ho gaya tha!! Badee khushee se mere mun'h par laga vo choot ras mene chaaT liya.

Phir men utha aur aakar Urmi Didi ke baajoo men pahele jaise leT gaya. Men uske cheh're ko nihaar raha tha aur niche uske nange badan'par najar daalata tha. Upar se niche se us'ka nanga badan kuchh alag hee dikh raha tha. Uske cheh're par pahele to thakaan thee lekin baad men dheere dheere uske chhehare ke bhaav badalate gaye. Ab uske cheh're par tript bhaavanaayen najar aane lagee. Men kaaphee dilachaspee se uske cheh're ke badalate rango ko dekh raha tha.

Thodee der ke baad Urmi Didi ne ap'nee aankhen khol dee. Hamaaree najar ek dusare se milee. Meree taraph dekhake vo sharamen aur dil se hansee. Uskee dilakash hansee dekh'kar men bhee dil se hansa.

"Kaisa laga, Didee?"

"bil'kul achchha!! "

"Aisa sukh pahele kabhee mila tha tumhen?"

"Kabhee bhee nahee!.. Kuchh alag hee bhaavanaayen thee.. pah'lee baar mene aisa anubhaav kiya hai."

"Jijoo ne tumhen kabhee aisa anand nahee diya? Mene kiya vaise unhone kabhee nahee kiya, Didee??"

"Nahee re, Sagar!. Unhone kabhee aise nahee kiya. Unhe to shaayad ye baat maaloom bhee nahee hongee."

"Aur tumhen, Didee? tumhen maaloom tha ye tareeka?"

"maaloom yaani. Mene suna tha ke aise bhee mun'h se chus'kar kaamsukh liya jaata hai is duneeya men."

"Phir tumhen kabhee laga nahee ke jijoo ko bataa ke unase aise karavaaye?"

"Kabhee kabhee 'ichchha' hotee thee. Lekin un'ko ye pasand nahee aayega ye maaloom tha is'liye unhe nahee kaha."

"To phir ab tumhaaree 'ichchha' puree ho gai na, Didee?"

"haan ! haan !. Puree ho gai. Aur men tript bhee ho gai. kahaan sikha tum'ne ye sab? Bahut hee 'chhupe rustama' nikale tum!"

"Aur kahaan se sikhunga, Didee?.. Usee kitaab se sikha hai mene ye sab. haan ! Lekin mujhe sirph kitaabee baaten maaloom thee lekin aaj tumhaaree vajaha se mujhe practical anubhaav mila."

"Us kitaab se aur kya kya sikh liya hai tum'ne, Sagar?" Urmi Didi ne hans'kar majaak men puchha.

"Vaise to bahut kuchh sikh liya hai. Ab agar un baton ka practical anubhaav tum'se mil'nevaala ho to phir bataata hoon men tumhen sab." Mene use aankh maar'te huye kaha.

"Nahee ham, Sagar!. Ab kuchh nahee kar'na. Ham dono ne pahele hee ap'ne rishte kee had paar kar dee hai ab is'ke aage nahee jaana chaahiye. Men nahee ab kuchh kar'ne dungee tumhen."

"Mujhe ek baat bataaao, Didee. Abhee jo sukh tumhen mila hai vaisa jijoo ne tumhen kabhee sukh diya hai?"

"Nahee. Phir bhee."

"Yahee!. Yahee, Didee!. isee baat kee kamee hai tumhaaree shaadeeshooda jindagee men."

"Kya matalab, Sagar?" Us'ne pareshaan hokar mujhe puchha.

"Matalab ye. Ke jijoo thode puraane dhyaanaat ke hai is'liye unhe puree taraha se kaamsukh lene aur dene ke baare men maaloom nahee hoga. Aur iseeliye ek bachcha hone ke baad unkee dilachaspee khatm ho gai. Unhe lag'ta hoga ek bachcha bivee ko dene ke baad unaka uske pratee kartavy pura ho gaya. Lekin vaisa nahee hota hai. Sirph ghar, khaana-pina, kapada dena yaani shadeeshooda jindagee aisa nahee hota hai. Unhone tumhen kaam-jeevan men bhee sukh dena chaahiye. Vo vaisa nahee kar'te hai is'liye tum dukhee rah'tee ho."

kramashah……………………………

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: Bahan ki ichha -बहन की इच्छा

Unread post by 007 » 30 Dec 2014 01:43

बहन की इच्छा—10

गतान्क से आगे…………………………………..

"शायद तुम ठीक कह रहे हो, सागर!. लेकिन वो ऐसा कुच्छ करेंगे नही. इस'लिए मुझे यही हालत स्वीकार कर के रहना चाहिए."

"नही, दीदी. पूरा कामसुख लेना आपका हक़ है और अगर वो तुम्हें जीजू से नही मिलता हो तो में तुम्हें दूँगा!! एक भाई होने के नाते मेरी बहन को सुखी रखना मेरा कर्तव्य है, चाहे वो कोई भी सुख क्यों ना हो."

"अरे पागले!. बहन-भाई में ऐसे संबंध बनते नही है. समाज उन्हे कबूला नही करता."

"मुझे मालूम है, दीदी. लेकिन हम समाज के साम'ने थोड़ी वैसे कर'नेवाले है? हम तो ऐसे करेंगे कि किसी को पता ना चले."

"फिर भी, सागर. हमारा बहेन-भाई का रिश्ता ही ऐसा है के हम ऐसे संबंध रख नही सकते."

"क्यों नही, दीदी??. आज सुबह से हम दोनो ने प्रेमी जोड़ी की तरह जो मज़ा कीया तब हम दोनो भाई-बहेन नही थे? अगर हम दोनो एक दूसरे के साथ इतना घुल'मील जाते है, एक दूसरे के साथ खुल'कर रहते है और एक दूसरे से हम खुशी पातें है तो फिर 'वो' खुशीया भी हम दोनो क्यों ना ले?? अब मुझे ये बताओ, दीदी. थोड़ी देर पह'ले हम'ने जो किया उस'से तुम्हें आनंद मिला के नही?"

"हम'ने नही.. तुम'ने किया, सागर! में तो विरोध कर रही थी लेकिन तुम'ने मुझे जाकड़ के रखा था."

"अच्च्छा, बाबा. मेने किया. लेकिन तुम'ने भी तो मेरा साथ दिया ना?"

"मेने कब तुम्हारा साथ दिया?" ऊर्मि दीदी ने शरारती अंदाज में कहा.

"बस क्या, दीदी?. मेने बाद में तुम्हें छ्चोड़ दिया था और फिर भी तुम'ने मुझे हटाया नही. उलटा तुम नीचे से उच्छल उच्छल'कर मेरा साथ दे रही थी.."

"तो फिर क्या कर'ती में, सागर?" उर्मई दीदी ने थोड़ा शरमा'कर हंस'ते हुए जवाब दिया,

"तुम मुझे छ्चोड़ नही रहे थे और 'वैसा' कुच्छ कर के तुम मुझे भड़का रहे थे. आख़िर कब तक में चुप रह'ती? तुम्हारी बहन हूँ तो क्या हुआ, आख़िर एक स्त्री हूँ. मेरी भी भावनाएँ भड़क उठी और अप'ने आप में तुम्हें साथ देने लगी."

"एग्ज़ॅक्ट्ली!!.. कुच्छ पल के लिए तुम्हें अजीब सा लगा होगा लेकिन बाद में तुम्हें भी मज़ा आया के नही? इस'लिए अगर तुम्हें मज़ा मिल रहा हो तो क्यों नही तुम ये सुख लेती हो?"

"सागर!. मेरे एक सवाल का जवाब दो. वैसे तुम'ने मुझे 'वहाँ पर' चाट के सुख दिया लेकिन तुम्हें उस में से कौन सा सुख मिला?"

"बिल'कुल सही सवाल पुछा, दीदी. आम तौर पे आदमी को औरतो की 'वो' जगहा चाट'कर कोई ख़ास सुख नही मिलता. इस'लिए ज़्यादातर आदमी वैसे कर'ते नही है. लेकिन औरत को पूरा सुख देना ये उस'का कर्तव्य होता है इस'लिए उस'ने वैसे कर'ना ही चाहिए. अब अगर मेरी बात करोगी तो में कहूँगा.. में हमेशा तैयार हूँ तुम्हें 'वो' सुख देने के लिए. तुम्हें सुख देने में ही मेरा सुख है, दीदी!!"

007
Platinum Member
Posts: 948
Joined: 14 Oct 2014 11:58

Re: Bahan ki ichha -बहन की इच्छा

Unread post by 007 » 30 Dec 2014 01:45

"सागर, तुम्हें 'वहाँ' मूँ'ह लगाने में घ्रना नही आई?"

"क्या कहा रही हो, दीदी?. घ्रना और तुम्हारी??. मुझे क्यों तुम्हारी उस से घ्रना आएगी? उलटा मुझे बहुत आनंद मिला उस में. तुम्हें सुख देने में मुझे हमेशा आनंद मिलता है चाहे वो कैसा भी सुख हो."

"सागर, तुम कित'नी प्यारी प्यारी बातें कर'ते हो. तुम्हारी ऐसी बातें सुनके में तुम्हें किसी बात के लिए ना नही कह'ती."

"तो फिर, दीदी. अब में जो कहूँ वो करोगी क्या? मेने जैसी तुम्हारी 'चूत' चाट के तुम्हें सुख दिया वैसे तुम मुझे सुख दोगी??" मेने जान बुझ'कर 'चूत' शब्द पर ज़ोर देते हुए उसे पुछा.

"सागर!!" ऊर्मि दीदी चिल्लाई, "नालायक! बेशरम!! . तुम्हारी ज़बान को हड्‍डी बिद्दी है के नही?? बेधड़क अप'नी बड़ी बहन के साम'ने 'चूत' वग़ैरा गंदे शब्द बोल रहे हो."

"अरे उस में क्या, दीदी!" मेने बेशरमी से हंस'ते हुए जवाब दिया, "उलटा ऐसे गंदे शब्द बोलेंगे तो और ज़्यादा मज़ा आता है. ज़्यादा उत्तेजना अनुभव होती है. अभी यही देखो ना. तुम'ने भी कित'नी सहजता से 'चूत' ये शब्द बोला.. कित'नी उत्तेजीत लग रही हो तुम ये शब्द बोल के. इस'लिए अब हम ऐसे ही गंदे शब्द इस्तेमाल करेंगे.."

"छी!. में नही ऐसे कुच्छ शब्द बोलूँगी."

"अरे, दीदी. ऐसे अश्लील शब्दो में ही असली मज़ा होता है. ऐसे शब्द बोला के ज़्यादा उत्तेजना अनुभव होती है. पह'ले पह'ले तुम्हें थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन बाद में तुम अप'ने आप ये शब्द बोल'ने लगोगी."

"नही. नही. मुझे बहुत शरम आती है."

"ओहा! कम ऑन, दीदी!. तुम कोशीष तो करो. बाद में अप'ने आप आदत हो जाएगी तुम्हें."

"ठीक है, सागर. वैसे भी मुझे नंगी कर के तुम'ने बेशरम बना ही दिया है तो फिर और क्या शरमाउ में?"

"यह एक अच्छी लड़'की वाली बात की तूने, दीदी!!. तो में क्या बता रहा था. हां !.. मेने जैसी तुम्हारी 'चूत' चाट के तुम्हारी 'इच्छा' पूरी कर दी. वैसी. मेरी भी एक बहुत दिन की 'इच्छा' है. के मेरा 'लंड' कोई चाटे."

"ववा!.. अब यही एक शब्द बाकी था. बोलो. बोलो आगे. और कोई शब्द बाकी होंगे तो वो भी बोल डालो."

"देखो. आज हम एक दूसरे की 'इच्छाए' पूरी कर रहे है. है के नही, दीदी?"

"हां. बोलो आगे."

"तो फिर मेने जैसे तुम्हारी 'चूत' चाट दी वैसे तुम मेरा 'लंड' चाटोगी क्या?"

"छी!. मेने नही किया कभी वैसा कुच्छ."

"वो तो मुझे मालूम है, दीदी. जीजू ने तो कभी तुम्हें अपना लंड चाट'ने के लिए कहा नही होगा लेकिन कम से कम तुम्हें मालूम तो है ना के पुरुष का लंड चाट'कर उसे आनंद दिया जाता है?"

"मेने तुम्हें पह'ले भी कहा, सागर. मेने सुना था के ऐसे मुन्हसे चुसाइ के सुख देते है."

"फिर तुम्हें कभी जीजू को 'ये' सुख देने की 'इच्छा' नही हुई?"

"वैसी 'इच्छा' तो हुई थी दो तीन बार लेकिन वो 'वैसे' कुच्छ कर'ने नही देंगे इसका मुझे यकीन था."

"तो फिर 'वही' 'इच्छा' अब पूरी करे ऐसा तुम्हें नही लग'ता?"

"अरे लेकिन मेने कभी 'वैसा' किया नही इस'लिए मुझे सही तराहा से जमेगा के नही ये मुझे मालूम नही."

"क्यों नही जमेगा, दीदी? तुम चालू तो करो. फिर में तुम्हें 'गाइड' करता हूँ."

"तुम्हें क्या मालूम रे.. गाइड!! तुम'ने कभी किसी से 'वैसा' करवाया है क्या?"

"प्रॅकटिकॅली तो नही करवाया. लेकिन पढ़ा है 'उस' किताब में से ."

"सागर, तुम्हारी उस किताब की तो मुझे बहुत ही दिलचस्पी पैदा हो गई है. मुझे दोगे 'वो' किताब पढ़'ने के लिए? ज़रा में भी तो देखू के में कुच्छ 'ज्ञान' प्राप्त कर सक'ती हूँ क्या उस किताब से."

"क्यों नही, दीदी?. ज़रूर दूँगा में तुम्हें वो किताब. लेकिन अभी तो तुम मेरा कहा मान लो? चुसोगी मेरा लंड, दीदी??"

"अब में क्या नही बोल सक'ती हूँ तुम्हें, सागर?? तुम मुझे इतना सुख दे रहे हो, मेरी 'इच्छा' पूरी कर रहे हो. तो फिर मुझे भी तुम्हें सुख देना चाहिए, तुम्हारी 'इच्छा' पूरी कर'नी चाहिए. बोला अभी!.. में कैसे सुरुवात करूँ.."

ऊर्मि दीदी मेरा लंड चूस'ने के लिए तैयार होगी इसका मुझे यकीन था. सिर्फ़ उस कल्पना से में उत्तेजीत होने लगा. 'मेरी लाडली बड़ी बहन मेरा लंड चूस रही है' ये हज़ारो बार देखा हुआ सपना अब सच होने वाला था. में जल्दी जल्दी उठ गया और उप्पर खिसक के, तकिये के उप्पर मेरा सर रखे अध लेटा रहा. फिर मेने ऊर्मि दीदी को कहा,

"दीदी! तुम मेरे कपड़े निकाल'कर मुझे नंगा करो ना."

"में क्यों करू??. मेरी तो आद'मी को नंगा देख'ने की 'इच्छा' कब की पूरी हो चुकी है." ऊर्मि दीदी ने मुझे चिढ़ाते हुए कहा.

"प्लीज़, दीदी! निकालो ना मेरे कपड़े. तुम्हें क्या तकलीफ़ है उस'में??"

"ना रे बाबा.. तुम्हें चाहिए तो तुम खुद निकालो अप'ने कपड़े." मेरी तरफ तिरछी निगाहो से देख वो हंस के बोली.

"ऐसा भी क्या, दीदी. क्यों इतना भाव खा रही हो?"

"भाव क्या खाना, सागर. भाई का 'लंड' खाने की बारी आ गई है मुझ'पर." उस'ने जान बुझ'कर 'लंड' शब्द पर ज़ोर देते हुए कहा.

"जा'ने दो फिर. अगर तुम कर'ना नही चाह'ती हो तो रह'ने दो, दीदी." मेने थोड़ा मायूस होकर उसे कहा.