मेरे अब्बू और मेरा भाई

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: मेरे अब्बू और मेरा भाई

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 11:08

में मुन्नी की बातो से और भी गरम हो गई थी,
मेरे अब्बू और अम्मी के बारें में यह सब सुन कर में समझ गई की में कुछ गलत नहीं कर रही थी,
बल्कि सेक्स में सब लोग ऐसा ही करते है.
और में भी अब सेक्स का असली मज़ा लेना चाहती थी,
तभी मुन्नी बोली=क्या हुआ बेबी कपडे उतारे क्या..?
में=मुन्नी लेकिन तुम भी तो ओरत ही हो ना मुझे भला क्या मज़ा दोगी..?
मुन्नी=हां में हूँ तो ओरत ही लेकिन तुमको ऐश करवा दूंगी मेरे पास लंड तो नहीं है पर मेरी जीभ*
तेरी चूत को कुछ ठंडा जरुर कर देगी, जेसा तेरी अम्मी को करती है एक बार मौका तो दो,
और मुन्नी मेरे कपडे उतरने लगी, तभी मेरे को ख्याल आया की हम दोनों होल में ही है और अब्बू भी आ सकते है,
मैंने मुन्नी से कहा चलो मेरे कमरे में चलते है.
मुन्नी ने मनाकिया और बोली तेरे नहीं तेरी अम्मी के कमरे में चलते है वहां सब कुछ है तेरी चूत की खुजली मिटने को.
में कुछ समझी नहीं पर उठ कर उसके साथ चल दी.
चलते चलते मैंने कहा=मुन्नी आज खाना मत बनाना क्यूंकि अब्बू बहार से ही खाना ला रहे है.!
मुन्नी=मुझे पता है बेबी तेरे अब्बू ने मुझे भी फोन कर दिया है और बोले है की में अपनी झांटे साफ़ करलू,
क्यूंकि आज रात को मेरी चुदाई करने वाले है, और तुम चिंता मत करो तेरे अब्बू रात के दस बजे से पहले नहीं आने वाले है*
और अभी तो आठ ही बजे है, खूब वक्त है हमारे पास मज़ा करने को.
और हम दोनों अम्मी के कमरे में पहुँच गए.*
कमरे में घुस कर मुन्नी ने दरवाजा बंद कर लिया,और मुझसे लिपट गई में भी बेताब थी,
में भी उसको चूमने लगी, और मुन्नी ने मेरा पायजामा उतारा और टीसर्ट भी अब में ब्रा पेंटी में थी.
और मुन्नी ने भी सलवार कमीज उतार दिए उसने भी ब्रा पेंटी पहनी हुई थी,
वो थोड़ी काली थी पर मस्त लग रही थी * *
और उसके बूब तो जेसे कहर ही ढा रहे थे, मस्त मस्त बूब ब्रा के अंदर नहीं समां रहे थे,
मुन्नी ने मुझे पकड़ कर चूमा और मेरी गांड दबाने लगी जोर जोर से और मेरे मुंह को चूमने लगी.
में भी कहाँ कम थी मैंने भी उसकी गांड सहलाना शुरू किया और हम एक दूजे में सामने की कोशिश करने लगे,

तभी मुन्नी ने मुझे छोड़ दिया, में बोली क्या हुआ मुन्नी...?
मुन्नी=बेबी तुमको सच में किसी ने नहीं चोद है क्या या तुम मुझको चुतियाबना रही हो बेबी सच बोलो ना..?
में = मुन्नी अम्मी की कसम आज तक किसी ने भी मेरी चूत को नहीं छुआ है और ना ही किसी चीज को अपनी चूत में डालाहै.
मुन्नी = वाह बेबी क्या बात है मतलब तुम कोरी कंवारी ही हो.चलो तुमको कुछ दिखाती हूँ...!
मुन्नी टीवी के पास गई और एक अलमारी से एक सी डी निकाली और उसको चला दिया...!
उस सीडी में मेरे अब्बू और अम्मी थे, अम्मी एक बेड पर बेठी थी और अब्बू रूम के अंदर आते है,
और अंदर आते ही अब्बू अम्मी पर टूट पड़ते है, अम्मी उनको रोकती है और अपने कपडे उतार देती है,
फिर अब्बू भी अपने कपडे उतार देते है **
और अम्मी के साथ बेड पर आ जाते है,*
फिर अम्मी के बूब चूसते है अब्बू का लंड कालासा था और अभी खड़ा भी नहीं था,
तभी अम्मी अब्बू का लंड मुंह में ले लेती है और चूसने लगती है कुछ ही देर में अब्बू का लंड बड़ा हो जाता है,
और फिर अब्बू अम्मी की चूत चाटने लगते है, और कुछ देर में ही दोनों गरम हो जाते है*
फिर अम्मी अब्बू को अपने उपर ले लेती है( फिल्म में आवाज नहीं थी ) और अब्बू अम्मी की चूत में अपना लंड डाल देते है,
अम्मी को अब्बू करीब 30-35 मिनिट तक चोदते है*
और फिर अब्बू अपना पानी अम्मी के शारीर और मुंह पर गिर देते है,
इस बीच मै में और मुन्नी दोनों मदर जात नंगे हो जाते है,, और तभी उस फिल्म में एक लड़का आ जाता है.
में उसको जानती भी हूँ वो लड़का मेरे भाईजान का दोस्त था,और उसका नाम तालिब था .
मुन्नी बोली = यही केमरा चला रहा था बेबी.
और वो लड़का मेरी अम्मी का मुंह चूमता है और अब्बू का लंड भी चूमता है में बहुत ही हेरान थी.ये सब देख कर ...!
तभी मुन्नी बोली= यह लड़का गांडू है इसको गांड मरवाने का बहुत शौक है,
तेरे भाईजान इसकी गांड मारा करते थे एक दिन तेरी अम्मी ने ये सब देख लिया और फिर अब्बू को बता दिया,
फिर तेरे अब्बू ने तेरे भाईजान को दिल्ली भिजवा दिया और अब वो गांड का मज़ा लेते है.
मेरी हालत बहुत ही ख़राब थी और फिर मुन्नी मेरी चूत चाटने लगी.
हम दोनों उलटे हो गए अब में मुन्नी की चूत चाट रही थी और मुन्नी मेरी,
में पहली बार चूत चाट रहीथी चूत का टेस्ट नमकीन था और चूत से पानी भी आ रहा था,
मुझे चूत का स्वाद बुरा नहीं लग रहा था,
मुन्नी मेरी चूत चाट रही थी मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था,
और में तो जेसे जन्नत में ही पहुँच गयी थी.
फिर मुन्नी ने मेरी चूत में एक अंगुली डाली मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा थाआज पहली बार मेरी चूत
में कोई चीज जा रही थी वो भी एक अंगुली ....!
मुन्नी बोली = बेबी मज़ा आ रहा है न मेरी जान कई दिन से में तेरी चूत चाटना चाहती थी लेकिन तुम मेरी और ध्यान ही नहीं देती थी
आज मोका मिला है मुझे तेरी चूत को वो मज़ा दूंगी की तेरी अम्मी की तरह तुम भी मेरी जान बन जाओगी बेबी,
और फिर हम वासना और हवस की दुनिया की शेर करने लगे मुन्नी मेरी चूत से अंगुली निकल कर जीभ से चोदने लगी थी,
में भी उसकी चूत चाट रही थी
ऊऊ आहा हा हा हां आहा अहा आहा और चाटो मुन्नी आ छोड़ डालो मेरी चूत को आहा आहा चोदो फाड़ दो मेरी कंवारी चूत मारो चोदो
और मेरी चूत से पहली बार पानी निकल गया.
बहुत ही मज़ा आया था मुन्नी ने सही कहा था वो जोरदार मज़ा देती थी

The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: मेरे अब्बू और मेरा भाई

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 11:09


फिर मैंने भी मुन्नी की चूत को चाटना चालू किया तो मुन्नी बोली= रहने दे ना बेबी तेरे अब्बू भी तो आने वाले है और भी मेरी चूत चाटेंगे और चोदेगे.
में = मुन्नी क्या में तुम लोगो की चुदाई देख सकती हूँ अगर तुमको बुरा न लगे तो...?
मुन्नी=क्यूँ नहीं मेरी जान तुम कहो तो तेरे अब्बू का लंड तेरी कंवारी चूत में डलवा दूँ ..!
में= पागल हो क्या मुन्नी वो मेरे अब्बू है ...!
मुन्नी = तो क्या हुआ पगली पहला हक घरवालो का ही होता है में भी पहली चुदाई अपने भाई से करी थी बेबी ..!
में अवाक् थी सच तो ये था की अब में अपनी चूत में किसी का लंड लेने को बेताब थी.
भले ही वो लंड मेरे अब्बू का ही क्यों न हो.
मुन्नी = देखो बेबी घर का लंड लेने में फायदा ही फायदा है घर का लंड हर वक्त मिल जाता है किसी का दर भी नहीं रहता है और कोई दिक्कत भी नहीं होती है,
तुम सोच लो आज हमारी चुदाई देखो कल सोचकर बता देना अभी मोका भी है घर पर तुम अकेली ही हो.
में सोचने लगी और मुन्नी ने कपडे पहन लिए मैंने भी कपडे पहने, अब्ब के आने का टाइम हो गया था.
मुन्नी का अलग से कमरा था वो वहां चली गई,
में फिर से टीवी देखने लगी.

थोड़ी ही देर में अब्बू आ गए, आते ही उन्होंने मेरी पप्पी ली और मुझे गले लगाया ऐसा वो रोज करते थे पर
आज मुझे वो अब्बू नहीं बल्कि मेरी जवानी की आग बुझाने वाले लग रहे थे में मस्त हो गई.
फिर अब्बू ने कहा = बेबी एक काम करोगी मेरा,
में = हां हां क्यों नहीं अब्बू,
अब्बू =देख में कभी कभी ड्रिंक करता हूँ लेकिन तेरी अम्मी को ये पसंद नहीं है इसलिए में घर से बहार ही पीकर आता हूँ,
लेकिन आज में घर पर ही पीना चाहता हूँ तुम अम्मी को तो नहीं बताओगी ना बेबी ...?
में= नहीं अब्बू नहीं बताउंगी और आजकल तो सब लोग पीते है, ये कोई बुरी बात नहीं है.
अब्बू = हाँ बेबी सही है क्या तुम बियर पियोगी में लेकर आया हूँ
में = पर अब्बू मैंने कभी पियी नहीं है
अब्बू = कोई नहीं बेबी आज ट्राई करो मज़ा आएगा तुमको ..पर किसी को बताना मत
में कहा = हाँ अब्बू में किसी को नहीं बताउंगी,
( पिछले दो दिनों में जो जो मेरे साथ हुआ था वो बहुत ही अजीब था, पहले मेम फिर आलिया फिर कासिम और अभी मुन्नी के साथ और अब में अब्बू से चुदने का सोच रही थी, क्या पता अब्बू भी जवान बेटी को चोदना चाहते हो )
और में आज बियर भी पिने वाली थी वो भी अब्बू के साथ वाह क्या किस्मत है मेरी ...!
अब्बू बियर ले आये और अपने लिए शराब लाये और हम होल में ही बेठ गए हम दोनों ही थे और कोई तो था नहीं.
अब्बू ने अपना पेग बनाया और मुझे बियर का केन पकड़ा दिया.
मैंने केन खोल लिया और एक शिप ली बियर बहुत ही कडवी थी मैंने बुरा मुंह बनाया तो अब्बू बोले=कुछ नहीं बेबी पहली बार ऐसा ही होता है पीयो बहुत ही मज़ा आएगा .
मैंने फिर से पिया तो थोडा ठीक लगा और अब्बू ने मुझे नमकीन दी खाने के लिए और फिर फोन लगाने लगे.
अब्बू फोन पर=मुन्नी यहाँ अंदर आ जाओ ना पिजा गरम करदो ना और तुम भी खा लो.
में = अब्बू मुन्नी आ रही है उसके सामने यह सब ठीक रहेगा...?
अब्बू = तुम टेंसन मत करो बेबी मुन्नी किसी को कुछ नहीं कहेगी >
में = ठीक है अब्बू .
अब्बू = बेबी टीवी पर कोई म्यूजिक लगा दो ना पीते वक्त म्यूजिक डांस ही अच्छा लगता है.
मैंने टीवी पर ऍम टीवी लगा दी उस पर एक डांस शो आ रहा था जो बीच पर फिल्माया हुआ था सबने बिकनी और शोर्ट ही पहन रखे थे.
अब्बू ने कहा चलने दो न बेबी ...मैंने कहा ठीक है अब्बू
तभी मुन्नी आ गई, अब्बू ने मुन्नी से कहा की पिज़्ज़ा गर्म करलो और यही आ जाओ..!
में बियर पि चुकी थी और मुझे अब हल्का हल्का नशा हो चूका था और टीवी देखते हुए मुझे भी डांस की इन्छा होने लगी मैंने गाउन पहन रखा था,
फिर में अब्बू से बोली = अब्बू में डांस करू क्या ...?
अब्बू = बेबी क्यों नहीं पर इन कपड़ो में क्या डांस करोगी कुछ और पहन लो ना कोई शोर्ट या हाफ पेंट फिर डांस का मज़ा आएगा!
में अपने रूम की और गयी मेरा रूम रसोई के पास ही था में रसोई में गयी वहां मुन्नी पिज़्ज़ा गर्म कर रही थी,
मैंने जाकर उसे पीछे से पकड़ा और उसके बूब पकडे और उसे किस किया.
मुन्नी = क्या कर रही है जान अब्बू देख लेंगे ..!
में = तो क्या हुआ वो भी तो तेरे साथ यही करेंगे रात भर मेरी जान और मैंने फिर उसके बूब दबा दिए,
फिर में अपने कमरे में गयी और एक हाफ पेंट और एक बिना बाजु की वी-कट टी सर्ट पहन ली,
मैंने अपने आप को आईने में देखा, मेरे बूब लगभग आधे दिख रहे थे और अंदर ब्रा मैंने उतार दी बहार से मेरी चुन्ची साफ़ साफ दिख रही थी.
फिर में वापस होल की तरफ गई, मैंने देखा की मुन्नी अब्बू के पास बैठी है और अब्बू उसके बूब दबा रहे थे,
मुझे आते देख अब्बू ने उसे छोड़ दिया . में अब्बू के पास बैठी .
मुन्नी = वाह बेबी ये तो बहुत ही सुन्दर ड्रेस है तुम तो फिल्म स्टार लग रही हो,
अब्बू = हां बेबी बहुत ही प्यारी लग रही हो तुम तो और ये कहकर अब्बू मने मुझे अपने गले से लगा लिया और मेरा मुंह चूम लिया.
तभी मुन्नी बोली=साहब एक बात बोलू क्या,
अब्बू = हां मुन्नी बोलो ना.
मुन्नी = ये आप क्या पी रहे हो ..?

अब्बू = ये शराब है मुन्नी इसको पिने से खाना अच्छा लगता है और नींद भी अच्छी आती है .
मुन्नी = फिर तो मुझे भी पिलाइए ना दो तिन दिन से मुझे नींद नहीं आ रही है.
अब्बू = हाँ जरुर.
और अब्बू ने उसको भी पेग बना दिया और मुझे भी बियर ला दी.
अब मुझे शुरुर होने लगा था मे डांस करना चाहती थी
और मैंने नाचना शुरू कर दिया, अब्बू और मुन्नी मेरा होसला बढा रहे थे.
फिर अब्बू ने मुन्नी से भी नाचने को कहा मुन्नी भी नाचने लगी.
फिर अब्बू भी नाचने लगे हम खूब मज़ा कर रहे थे,
करीब बीस मिनिट बाद ही हम थक गए में बियर के दो केन पि चुकी थी और डांस के कारण थक गई थी और हांपने लगी थी.
अब्बू ने मुझे अपनी गोद में बिठा लिया,
गोद में बैठते ही अब्बू का लंड मेरी गांड में चुभने लगा.
पर में चुपचाप बैठी रही,
फिर मुन्नी बोली=साहब आज बेबी कितनी खुश लग रही है,वरना हमेशा चुपचाप ही रहती है,
अब्बू= मेरी रानी बिटिया अब हमेशा ही ऐसी ही रहेगी क्यों बेबी ...?
और अब्बू ने मेरा पेट पकड़ कर मुझे अपनी गोद में ही खिंच लिया उनका लंड खड़ा था और मेरी गांड में चुभ रहा था .
में बोली= हाँ अब्बू पर जब अम्मी आएगी तो क्या करेंगे ...?
अब्बू = कोई डर नहीं है, है बेबी उसे भी समझा लेंगे, तुम बस खुश रहा करो और अब्बू ने मुझको फिर चूमा.
अब मैंने भी अब्बू को चूम लिया, और में फिर उलटी होकर बेठ गयी अब्बू सोफे पर बेठे थे और में उनकी गोद में अब्बू की तरफ मुंह करके बैठी थी.
तभी मुन्नी बोली=आपकी गोद में कितनी अच्छी लग रही है बेबी काश मेरी भी ऐशी ही बिटिया होती तो में बहुत ही प्यार करती.
अब्बू= क्या मुन्नी ये भी तो तेरी बेटी जेसी ही है क्यों बेबी ...?
में = हां अब्बू ये तो बिलकुल अम्मी जेसी ही है और कभी कभी तो ये अम्मी से भी ज्यादा प्यार करती है,
आप बोलो तो में इनको अम्मी बुलाऊ अब्बू ...?
अब्बू = हाँ क्यों नहीं बेबी पर अपनी अम्मी के सामने नहीं कहना ...!
में = हाँ अब्बू, अम्मी आप भी पास आओ ना (और मुन्नी भी हमारे साथ आकर बेठ गयी )
अब्बू का लंड खड़ा ही था और मेरी चूत से टकरा रहा था बस अगर कपडे न होते तो वो मेरी चूत में ही चला जाता .
में फिर से वासना में डूब रही थी सेक्स मेरे दिलोदिमाग पर छा रहा था.
मुन्नी हमारे पास सट कर बैठी हुई थी तभी मेरे दिमाग में कुछ आया,और मैंने अब्बू से कहा-अब्बू मुझे पेशाब करना है,
अब्बू= बेबी कर आओ न फिर.
में = अब्बू लेकिन बाथरूम में छिपकली है और मुझे डर लगता है अम्मी (मुन्नी से)तुम चलो ना साथ में,
मुन्नी = हाँ बेबी चलो में भी पेशाब कर आती हूँ,
और हम दोनों बाथरूम की तरफ चले गए ...!


The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: मेरे अब्बू और मेरा भाई

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 11:10

बाथरूम के अंदर जाते ही में मुन्नी से लिपट गई और बोली=मेरी चूत में आग लगी हुई है मुन्नी इसका कुछ इलाज करो ना प्लीज ...?
मुन्नी ने बाथरूम बंद किया और मेरी हाफपेंट उतर दी और मेरी चूत को अपनी जीभ से चोदने लगी,
में सेक्स में पागल ही हो गई और मैंने मुन्नी से कहा= मुन्नी मुझे लंड लेना है आज ही और अभी.
मुन्नी= बेबी पागल ना बनो तेरे अब्बू अगर राजी ना हुए तो ...?
में = मुन्नी में मर जाउंगी प्लीज कुछ तो कर ना मेरी जान.
मुन्नी= (थोडा सोच कर) ठीक है बेबी में कुछ करती हूँ तू एक काम कर तुम जल्दी से खा कर सो जाना में,
और तेरे अब्बू को नंगा कर उनको मुझे होल में ही चोदने को बोलूंगी फिर तुम आ जाना और हम दोनों को रंगे हाथो पकड़ लेना,
और में तेरे अब्बू को तुझे भी इस खेल में शामिल करने को बोलूंगी तो शायद तेरा काम बन जाये.
में मान गई और फिर हम दोनों ने पेशाब किया और बहार चली आई.
बहार अब्बू ने तहमद बांध ली थी और अपनी बनियान निकाल दी थी,उनका ऊपर का बदन बिलकुल नंगा था.
में फिर से उनकी गोद में चढ़ गई गोद में आते ही मुझे झटका लगा,
क्यूंकि अब्बू ने तहमद के निचे कुछ नहीं पहन रखा था और उनका मोटा लंड मुझे फिल हो रहा था .
और मैंने अब्बू को चूमा और अब्बू ने मुझे भी चूमा मुन्नी खाना ले आई और हमे खाना खाने को कहा,
फिर हम तीनो ने खाना खाया. मैंने अब्बू से कहा= अब्बू मुझे नींद आ रही है.
अब्बू ने कहा जाओ सो जाओ रात भी ज्यादा हो गई है और तुम्हे कल स्कूल भी जाना है.
में अपने रूम की तरफ गई और जोर से गेट बंद कर लिया.
करीब आधे घंटे बाद में में धीरे से रूम से निकली और होल की तरफ चली, वहां जो देखा तो मेरे दिल की धड़कन ही रुक गयी.
सोफे पर अब्बू मुन्नी की गांड मार रहे थे और मुन्नी दर्द से चिल्ला रही थी और अब्बू ने अपना लंड मुन्नी की गांड में डाल रखा था.
में धीरे से उनके पास गई और जोर से बोली =ये क्या हो रहा है अब्बू .
अब्बू जल्दी से उठे और अपना तहमद देखने लगे,उनका लंड सीधा खड़ा था और जेसे ही वो मेरी तरफ पलटे उनके लंड से वीर्य
की धार मेरी तरफ उछली और मेरे पेट पर गिर गई और अब्बू ने तहमद बांध ली मुन्नी ने भी एक चादर लपेट ली,
में बोली=यह सब क्या चल रहा है अब्बू में अभी अम्मी को फोन करती हूँ और ये सब बताती हूँ.
मुन्नी=नहीं बेबी ऐसा मत करना प्लीज वरना वो मुझे काम से निकल देगी और मुन्नी ने मेरे पांव पकड़ लिए.
अब्बू मेरे पास आये और बोले= बेबी प्लीज अम्मी को मत बोलना समझो ना और में तुम्हे मोबाइल लाकर दूंगा और खूब घुमाऊंगा भी प्लीज.
तहमद से अब्बू का लंड साफ़ दिख रहा था और वो अब भी खड़ा था.
मैंने कहा - आप मोबाइल लाकर देंगे ना.
अब्बू = पक्का बेबी बस तुम यह सब किसी को बताना मत.
में = ठीक है पर आप दोनों नंगे होकर क्या कर रहे थे (मैंने भोलेपन से पूछा )
अब्बू = बेबी मुन्नी की पीठ में दर्द है उसका इलाज कर रहा था.
में = क्या लेकिन मुन्नी तो चीख रही थी न .
मुन्नी = नहीं बेबी वो तो दर्द था न वो निकल गया तो थोडा दर्द हुआ था.
टीवी में एक ब्लू फिल्म चल रही थी
मैंने अब्बू से कहा यह क्या है अब्बू
अब्बू = बेटे यह विदेशी फिल्म है और में इसको देख कर ही मुन्नी का इलाज कर रहा था.
मेंने अब्बू का खड़ा लंड पकड़ लिया और बोली = ये क्या है अब्बू.
अब अब्बू समझ चुके थे की छोकरी सब समझ गयी है
अब्बू ने कहा ये बेबी पेशाब करने के लिए है,
में = आपने मुझ पर पेशाब गिराया था क्या,
अब्बू = नहीं बेबी वो तो.....और अब्बू बोलते बोलते रुक गए .
मुन्नी = बेबी जो हुआ उसको छोडो ना,
मुन्नी मेरे पास आई और मुझ चूमकर बोली= बेबी तेरी अम्मी और अब्बू यह सब रोजाना करते है,
लेकिन आज तेरी अम्मी नहीं है इसलिए तेरे अब्बू ने मुझको अपनी घरवाली बंना लिया है.
में = लेकिन मुन्नी ये तो गलत है ना.
अब्बू = बेबी यह गलत तो है लेकिन इसकी आदत ही एसी है की करे बगेर नींद नहीं आती है.
में = लेकिन बेचारी मुन्नी को दर्द हुआ ना उसका क्या.
अब्बू = में उसके पीछे में बर्फ लगा दूंगा ना बेबी
में = मेरे सामने ही लगाइए ना अब्बू
अब्बू = ठीक है बेबी और अब्बू बर्फ लेने रसोई में गए.
और मैंने मुन्नी को चूम लिया और बोली = मुन्नी मुझे भी लंड लेना है दिलवा दो ना.
मुन्नी = तेरे अब्बू आज जरुर तुझको लंड दे देंगे मेरी जान अब तुम मेरा कमाल देखना बस.
तभी अब्बू आ गए वो एक कटोरी में बर्फ लाये और मुन्नी को लेट जाने को बोला मुन्नी अपनी सलवार उतर कर उलटी लेट गयी
अब्बू ने बर्फ का टुकड़ा उसकी गांड पर फिराने लगे मुन्नी धीरे धीरे करह रही थी मैंने अब्बू के लंड की तरफ देखा वो तहमद में धीरे धीरे
हिल रहा था, मैंने अब्बू से कहा = अब्बू उसके छेद पर लगाओ ना जहाँ आपने अपना ये डाल रखा था और मैंने अब्बू का लंड पकड़ लिया.
अब्बू ने बर्फ मुन्नी की गांड के छेद पर रखी.
मारे मज़े के मुन्नी चिल्लाने लगी= हाई साहब यही लगाओ ना आहा आहा अहा अहा आहा हई हई
और अब्बू जोर जोर से मुन्नी की गांड पर बर्फ रगड़ने लगे,मैंने अब्बू का लंड पकड़ रखा था,और अब्बू का लंड वापिस बड़ा होने लगा था,