पंडित & शीला compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: पंडित & शीला

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 08:21

पंडित & शीला पार्ट--43

***********
गतांक से आगे ......................

***********

पंडित जी (हँसते हुए ) : "लो माधवी ..अब जरा इन लड़कियों को भी बताओ ..की ऐसा क्या तरीका है तुम्हारे पास ..सिखाओ इन्हें भी कुछ ..ताकि इन्हें आगे वो सब काम आये ..''


पंडित जी की बात सुनकर माधवी का चेहरा लाल सुर्ख हो उठा ..उसने शर्माते हुए पंडित जी के लंड की खाल को वापिस ऊपर चडाया और फिर अपने मुंह में लेकर उसे अपने होंठों से नीचे तक ले गयी ..


नूरी : "वाव ...आंटी . यु आर टू गुड ....''


अपनी तारीफ सुनकर वो काफी खुश हुई और दुगनी तेजी से पंडित जी के लंड को चूसने लगी ..


पंडित जी ने आगे हाथ करके माधवी के मोटे मुम्मों को पकड़ लिया ..पर उसने जो सूट पहना हुआ था उसमे से वो निकल नहीं रहे थे ..पंडित जी ने रितु को इशारा करके उसे उतारने को कहा ..और रितु ने ख़ुशी - २ उनकी बात मानते हुए अपनी माँ के सूट को नीचे से पकड़ा और उसे ऊपर से घुमा कर उतार दिया ..और फिर पीछे जाकर उसने अपनी माँ की ब्रा भी खोल दी ..


ब्रा के उतारते ही माधवी की मोटी छातियाँ तीर की तरह निकल कर बाहर आई ..

नूरी : "वाव आंटी ..क्या ब्रेस्ट है आपकी ...इतनी मोटी ...और कड़क ..''


इतना कहकर वो नीचे झुकी और उसने माधवी के एक स्तन को अपने मुंह में भरकर चूसना शुरू कर दिया ..दूसरी तरफ से रितु से भी नहीं रहा गया और वो भी अपनी माँ की दूसरी ब्रैस्ट को पकड़कर चूसने लगी और जैसे बचपन में उसका दूध पीती थी, वैसे ही आज फिर से पीने लगी ..


और थोड़ी देर बाद जब उन दोनों का पेट भर गया तो उन्होंने माधवी को छोड़ दिया और रितु ने पंडित जजी के लंड को पकड़कर फिर से अपनी माँ के मुंह में डाल दिया ..पंडित जी ने दांयी तरफ हाथ करके नूरी के मुम्मे पकडे और उन्हें दबाने लगे ..और फिर बांयी और बैठी रितु के मुम्मों को भी उन्होंने निचोड़ डाला ..उनके सामने 3 जोड़े मोटे और भरे हुए मुम्मे थे, जिन्हें वो एक-२ करके दबा रहे थे ..


आज उन्होंने प्रियंका और शिप्रा की बुरी तरह से चुदाई की थी, उन्हें पहले तो लग रहा था की उनके अन्दर अब कुछ नहीं बचा है ..पर माधवी के चूसने के बाद उन्हें ऐसा लगने लगा की अगली चुदाई वो ज्यादा देर तक और ज्यादा भयंकर तरीके से कर सकते हैं ..


वैसे दोस्तों, ये बात तो आप भी मानेंगे ..अगर आपका अपनी बीबी या गर्लफ्रेंड के साथ रात की चुदाई का कोई प्लान है तो सुबह ही अपने लंड को मास्टरबेट करके एक बार शांत कर लो ..फिर देखना आप ..रात की चुदाई ज्यादा देर तक और मजेदार हो जायेगी ..आपका पार्टनर भी खुश और आप भी ..


खेर ..पंडित जी का स्टेमिना तो वैसे भी सबसे अलग है ..उनके ऊपर हमारी लाइफ की ये बातें लागू ही नहीं होती ..


और सुबह 2 की चूत मारने के बाद अब तो पंडित जी का ओर्गास्म होने में भी टाइम लगना था ..

पंडित (रितु से): "अब तुमने देख लिया न की किस तरह से तुम्हारी माँ चूस रही थी मेरा लंड ..अब तुम दोनों दिखाओ ..क्या सीखा तुमने .."


रितु और नूरी दोनों एक साथ आगे आई और पंडित जी के खड़े हुए लंड को दोनों तरफ से अपने होंठों के बीच लेकर उसे जोर -२ से चूसने लगी ..साथ ही साथ दोनों आपस में फ्रेंच किस भी कर रही थी ..और उस किस्स के अन्दर पंडित जी का लंड भी पिस रहा था ..

अब उनके लंड की फटने वाली हालत हो रही थी ..वो सोचने लगे, अगर इन जंगली बिल्लियों को नहीं हटाया तो वो दोनों मिलकर उनके लंड की बोटियाँ तक गटक जायेंगी ..उन्होंने बड़ी मुश्किल से अपने लंड को उनके चुंगल से छुड़ाया और बिना कोई देरी किये माधवी को लेकर बेड की तरफ चल दिए और वहां जाकर लेट गए ..नूरी और रितु ने माधवी को खड़ा किया और उसके नीचे के कपडे भी उतार डाले ..और फिर उसको नंगा करने के बाद दोनों ने माधवी की बाहें पकड़ी और उसे किसी दुल्हन की तरह से 'नंगे दुल्हे' के पास ले जाने लगे ..


एक साथ 3-3 नंगे जिस्म पंडित जी की तरफ आ रहे थे ..उन्होंने अपने लंड पर थूक से भरा हुआ हाथ फेरा और माधवी को ऊँगली के इशारे से जल्दी से अपनी तरफ आने को कहा ..


बेड पर माधवी को चडाने के बाद, रितु और नूरी सोफे पर जाकर बैठ गए और पंडित जी और माधवी की चुदाई का इन्तजार करने लगे ..


पंडित जी ने माधवी को अपने ऊपर खींचा और उसके होंठों को जोर -२ से चूसने लगे ..फिर उन्होंने उसे घोड़ी बनाया और उन्होंने अपना हाथ नीचे किया और अपने लंड को उसकी चूत के ऊपर लगा कर धीरे से उसकी चूत से निकल रहे रस का प्रयोग करते हुए अपना लंड उसके अन्दर खिसका दिया ..




और तेजी से झटके मारने लगा ..




''ओह्ह्ह्ह पंडित जी ........उम्म्म्म्म ...जोर से ....अह्ह्ह्ह ......और जोर से .....''


पंडित : "साली ......अपनी बेटी के सामने चुद रही है ....तेरी जैसी रांड तो आज तक नहीं देखि ....अह्ह्ह ....ये ले .....अह्ह्ह्ह्ह्ह .....''


माधवी : "उम्म्म्म्म .....आपका लंड है ही इतना मस्त .....बेटी हो या पति ...किसी से भी शरम नहीं रह गयी अब तो ...अह्ह्ह्ह ....आप तो बस चोदो मुझे ...बोलो कम ..और ..चोदो ज्यादा ...अह्ह्ह्ह्ह .... उम्म्म्म्म्म्म्म्म ..... येस्स्स्स्स्स्स्स्स्स .....''


और अगले ही पल उसकी चूत का तूफ़ान एक जोरदार धमाके के साथ बाहर की तरफ उछल आया ..और पंडित जी के लंड को बाहर की तरफ धकेल कर उसकी चूत से एक जोरदार फव्वारा निकला ..जिसमे था उसकी चूत का रस और ढेर सार पेशाब ...जिसे इतनी देर से अपने अन्दर दबा कर रखने की वजह से वो अब एक ज्वालामुखी की तरह चूत के रस के साथ बाहर की तरफ निकल रहा था ..


और गहरी साँसे लेती हुई माधवी वहीँ पर निढाल सी होकर लेट गयी ..पंडित जी के लंड का झंडा अभी भी लहरा रहा था ..


तभी दोबारा से बेल बजी ..और सभी जानते थे की इस बार गिरधर होगा बाहर ..


सभी नंगे पड़े थे वहां ..


जैसे ही माधवी एक चादर से अपने शरीर को ढककर उठकर जाने लगी दरवाजा खोलने ..पंडित जी ने उसे रोक दिया और उसकी चादर उतार कर फेंक दी और उसे फिर से नंगा करके अपने साथ लिटा लिया ..और रितु से बोले : "जाओ ..तुम्हारे पापा आये हैं ..उन्हें अन्दर लेकर आओ ..ऐसे ही जाना ..नंगी ''


उनकी बात सुनकर रितु की साँसे तेजी से चलने लगी ..और वो धीरे से उठकर बाहर की तरफ चल दी .


अपने पापा को लेने .

बेडरूम से निकल कर रितु बाहर ड्राइंगरूम तक आई और दरवाजे तक जाते हुए उसकी साँसे उखड सी रही थी ..चाल में एक अजीब सा नशीलापन आ चूका था ..आँखे में लाल डोरे तैर रहे थे, चूत से रिस रहे पानी में ज्यादा चिपचिपापन आ चूका था, गांड की मांसपेशियां कुछ ज्यादा ही थिरक रही थी ..हर कदम से मुम्मों में थरथराहट और भी ज्यादा हो रही थी ..इतनी उत्तेजना तो उसे पहली बार पंडित जी से चुदवाने में भी नहीं हुई थी ..शायद वो भी अन्दर से जानती थी की आज उसकी और उसके पापा दोनों की इच्छा पूरी होकर रहेगी ..


रितु ने ड्राइंगरूम की लाइट बंद कर दी, क्योंकि वो पूरी नंगी थी और उसे रौशनी में शर्म आ रही थी ..पूरा अँधेरा हो जाने के बाद उसने धीरे से दरवाजा खोल दिया .


बाहर गिरधर ही था, वो जल्दी से अन्दर आया पर अँधेरा होने की वजह से कोई दिखाई नहीं दिया, उसने पलट कर जैसे ही दरवाजा बंद किया, रितु झट से जाकर उसकी पीठ से जाकर चिपक गयी ..और अपने पापा की बाजुओं के नीचे से हाथ निकालते हुए उसके कंधो को अपने हाथों से पकड़ लिया ..और गहरी साँसे लेने लगी .


अँधेरा होने की वजह से गिरधर को कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा था ..उसने हाथ पीछे करके टटोला की कौन है ..और जैसे ही उसके हाथ रितु की नंगी गांड से टकराए, उसका लंड पागल सांड की तरह हुंकारने लगा . वो तो पुरे रास्ते सिर्फ नूरी के बारे में सोचता हुआ आ रहा था, इसलिए अब भी उसके जहन में सिर्फ नूरी ही घूम रही थी ..और उसे लगा की पंडित जी के कहने पर ही नूरी इस तरह से आकर लिपटी है ..रितु के बारे में तो उसका दिमाग सोच ही नहीं रहा था . वो भी कुछ ना बोला ..और उसके गुदाज शरीर को दबोचने का मजा लेने लगा .


गिरधर अपने हाथ पीछे करके उसके मोटे चूतड मसल रहा था ..और रितु अपनी नुकीली छातियाँ उसकी कमर में चुभा कर उसे तडपा रही थी. रितु ने हाथ आगे करके गिरधर के कुर्ते के बटन खोल दिए और उसे ऊपर खींचकर उतारने लगी ..और जैसे ही गिरधर ने अपने हाथ ऊपर करके कुर्ते को उतारा वो झट से आगे की तरफ आ गयी और अपने पापा के पसीने से भीगे शरीर से चिपक गयी ..


अब हुआ था असली मिलन ..नंगे जिस्मो का .. अंगो का ..आत्माओ का ..


रितु के मोटे मुम्मों का लरजता हुआ मांस गिरधर की चोडी और कसी हुई छाती पर पिस्स रहा था ..गिरधर को अब तक पता नहीं चल पाया था की वो नूरी नहीं उसकी बेटी रितु है ..उसने रितु के नंगे शरीर पर अपने खुरदुरे हाथ फेराने शुरू करे और जैसे ही उसने अपने हाथों में उसके दोनों मुम्मों को पकड़कर जोर से भींचा ..रितु का पूरा शरीर ऐंठ सा गया ..और वो अपने पंजों के बल खड़ी होकर ऊपर की तरफ लहरा गयी ..और अपने होंठों के करीब आते ही गिरधर ने उसके होंठों को दबोचा और उनका रस पीने लगा ..


''उम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म .....उम्म्म्म्म्म्म्म ......अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....पुच्च्छ्ह्ह्ह ....''


रितु को तो ऐसा लगा की उसकी चूत का रस ऊपर की तरफ जा रहा है और उसके मुंह से होता हुआ गिरधर के मुंह में पहुँच रहा है ..जिसे गिरधर ऐसे पी रहा था जैसे बरसों का प्यासा हो वो ..


इसी बीच रितु के पेट पर उसके पापा के लंड ने दस्तक दी ..और अपने छोटे भाई की पुकार
सुनकर रितु के हाथ भी उसे टटोलने के लिए निकल पड़े ..और जैसे ही रितु ने गिरधर की धोती खोलकर, उसके कच्छे को नीचे खिसका कर, उसके कड़क लंड को अपने हाथों में पकड़ा, गिरधर के किस्स करने की स्पीड और भी बढ गयी ..रितु को ऐसा लगा की आज तो उसके होंठों को नोचकर ही खा जायेंगे उसके पापाजी ..


अँधेरा कमरा सिर्फ दोनों की सिस्कारियों से गूँज रहा था ..गिरधर ने अपने हाथों के रितु की गांड के दोनों तरबूजों को पकड़ रखा था और उनके गुदाजपन को अपनी उँगलियों से मसल कर मजे ले रहा था ..


अचानक गिरधर ने अपना मुंह नीचे किया और अपनी बेटी के दांये मुम्मे को अपने मुंह में डाल कर जोर से चुप्पा मारा ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ..... स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स .....उम्म्म्म्म्म्म्म्म .......''


उसकी सकिंग पावर इतनी तेज थी की रितु का पूरा शरीर झनझना सा गया, जैसे किसी ने उसके शरीर पर बिजली की नंगी तार छुआ दी हो ..वो किसी बंदरिया की तरह उछल कर गिरधर की गोद में चढ़ गयी और अपनी टाँगे उसकी कमर से लपेट कर उसके सर को अपनी छाती पर जोर से दबा दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......उम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म .....येस्स्स्स .........सक्क्क्क्क .......मीई .....................''


गिरधर के सर पर तो वासना का ऐसा भूत चड़ा हुआ था की उसे अपनी बेटी की आवाज भी नहीं पहचानी गयी ..वैसे भी चुदाई के समय निकली आवाजें अलग ही तरह की होती है, आसानी से पहचानी नहीं जाती .


अपना आधा किलो से ज्यादा दूध अपने पापा को पिलाने के बाद रितु ने अपना दूसरा मुम्मा भी उनके मुंह में ठूस दिया ..और वहां का कोटा भी खाली कराने लगी .

गिरधर का लंड उसकी गांड से टकरा रहा था ..और मूक भाषा में एक सन्देश उसे पहुंचा रहा था, गिरधर ने रितु की गांड के दोनों पाटों को पकड़कर दोनों तरफ फेला दिया और अपने लंड को वहां की गली में फंसा कर उसके पाट वापिस बंद कर दिए ..


The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: पंडित & शीला

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 08:22

पंडित & शीला पार्ट--44

***********
गतांक से आगे ......................

***********

''उम्म्म्म्म्म्म्म ........अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......''


गिरधर का लंबा लंड, रितु की चूत से टकराता हुआ, उसकी गांड के छेद को अपनी गर्मी का एहसास कराता हुआ, दोनों छेदों पर सिर्फ बाहर से ही धस्से लगा रहा था ..जिन्हें महसूस करके रितु पागल सी होती जा रही थी ..अब उससे सहन करना भी मुश्किल गो गया, उसके मुंह से मार्मिक सी चीत्कार निकली ...


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....पापा .......डाल भी दो न .....डालो अपना मोटा लंड मेरी चूत में ....चोद डालो आज अपनी रितु को ....''


अपनी बेटी की आवाज सुनकर गिरधर मानो नींद से जागा ..और उसने जल्दी से कमरे की बत्ती जलाई ..


और रौशनी में दोनों के नंगे शरीर नहा उठे ..अपनी बेटी को नंगी अवस्था में देखकर गिरधर की समझ में कुछ नहीं आ रहा था ..जिसे वो इतनी देर से नूरी समझ रहा था वो उसकी खुद की बेटी थी ..जिसके होंठों को और स्तनों को वो इतनी देर से चूस रहा था, जिसके शरीर को वो अपने हाथों से रोंद रहा था, वो नूरी नहीं बल्कि रितु थी ..


और तभी पंडित जी की आवाज आई : "अरे रितु ....इतनी देर लगती है क्या दरवाजा खोलने में ..सब तुम्हारा अन्दर इन्तजार कर रहे हैं ..''


गिरधर और रितु ने वहां देखा तो पाया की पंडित जी के साथ -२ माधवी भी खड़ी है ..वैसे तो वो दोनों को नग्न अवस्था में देखकर कुछ नहीं बोल रही थी, पर उसकी आँखों से निकल रहे शोले उसका गुस्सा जरुर बयान कर रहे थे ..गिरधर ने चुपचाप अपना कच्छा उठाया और उसे पहन कर अन्दर की तरफ चल दिया ..रितु भी धीरे-२ अन्दर की तरफ चल दी ..


गिरधर ने अन्दर आकर देखा की वहां तो सब ही नंगे हैं ..उसकी पत्नी माधवी, बेटी रितु और साथ ही बिस्तर पर राजकुमारी की तरह विराजमान नूरी भी ..


वैसे तो नूरी को चोदने का ख़याल गिरधर के मन में कब से था, और आज वो मौका भी आ चुका था, जब वो उसके सामने नंगी बैठी हुई थी ..पर अब गिरधर का ध्यान सिर्फ और सिर्फ अपनी बेटी रितु के ऊपर था ..पर साथ ही साथ माधवी की कोप भरी नजरें भी उसे घूर रही थी ..


और पंडित जी भी ये सब नोट कर रहे थे ..वो समझ चुके थे की वहां क्या चल रहा है ..


पंडित जी (नूरी से ) : "नूरी ..यही है मेरा दोस्त ..चलो जरा दिखाओ अपना कमाल ..''


नूरी किसी नागिन की तरह से लहराती हुई बेड के किनारे तक आई ..और पेट के बल आकर गिरधर के सामने लेट गयी ..और एक ही झटके से उसने उसका कच्छा नीचे कर दिया ..और अगले ही पल गिरधर का नागराज किसी स्प्रिंग की तरह उछल कर उसके मुंह से आ टकराया ..जिसका साईज देखकर नूरी का मुंह खुला का खुला रह गया ..


अपनी आँखों के सामने अपने पापा के लंड को किसी और के हाथों में देखकर रितु का खून खोलने लगा ..


नूरी ने गिरधर के लंड को अपने हाथों की उँगलियों में कैद किया और उसे जोर से मसल कर अपने मुंह के पास ले गयी और एक तेज झटके के साथ ही उसने गिरधर के लंड को अपने मुंह में दाखिल करा दिया ..


'' अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......धीरे ....साली ....कुतिया .....काट मत ...''


''ही ही ...काटूँगी नहीं तो मजा कैसे आएगा साले ...'' नूरी ने अपनी चूत को चादर पर मसलते हुए कहा ..


और दूसरी तरफ, माधवी के निप्पल भी फिर से खड़े होने लगे ...उसके पति का लंड कोई इतनी अच्छी तरह से चूस रहा था, उसकी चूत में फिर से खुजली भरी लहरें उठने लगी ..उसने पंडित जी की तरफ देखा, पर उन्होंने कोई रिस्पोंस नहीं दिया ..सिर्फ अपने लंड को मसलते हुए गिरधर और नूरी का खेल देख रहे थे ..


रितु भी पंडित जी की बगल में बैठी हुई अपने पापा के लंड को किसी और का होता हुआ देख रही थी . पंडित जी के हाथ उसकी जाँघों पर आये और उसे सहलाकर सांत्वना देने लगे, जैसे उन्हें पता था की रितु के मन में क्या चल रहा है .


दूसरी तरफ से माधवी भी मटकती हुई पंडित जी के दूसरी तरफ आकर बैठ गयी और अपने हाथ को बड़ा कर उनके लंड को मसलने लगी ..पंडित जी ने रितु के हाथ को भी पकड़ा और अपने लंड पर ले आये, अब दोनों माँ बेटियां पंडित जी के लंड की मालिश करने में लगी हुई थी ..


अचानक माधवी ने अपने मुंह नीचे किया और पंडित जी के लंड को अपने मुंह में लेकर जोर से चूसने लगी ..रितु ने अपना हाथ वहां से हटा लिया .


पंडित जी का हाथ माधवी के पीछे से होकर उसकी चूत तक पहुंचा और अपनी दो उँगलियों को एक साथ अन्दर पेल कर उसकी चूत का बुरादा बाहर निकालने लगे .


दूसरी तरफ नूरी ने गिरधर के लंड के साथ -२ उसके टट्टे भी अपने मुंह में भर लिए और उन्हें चूसकर बाहर निकालने लगी ..उसने गिरधर के लंड वाले हिस्से को पूरी तरह से मालिश करके चमका दिया था .


अब तो नूरी की सहनशीलता की सीमा ही नहीं रही ..वो बिस्तर पर बिछ गयी ..और अपनी टाँगे खोल कर गिरधर की तरफ फेला दी ..और उसकी आँखों में देखकर बोली : "अब और मत तडपाओ ...जल्दी से डालो ये मुसल मेरी चूत में ...और रगड़ डालो मुझे ...''

उसकी आवाज सुनकर माधवी ने पंडित जी का लंड चूसना छोड़ दिया ..और जैसे खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है, वैसे ही नूरी की चूत को चुदने के लिए तेयार देखकर माधवी की चूत भी भड़क उठी चुदने के लिए ..और वो उछल कर पंडित जी की गोद में चढ़ गयी ..


पर गिरधर की नजरें अभी भी रितु की तरफ ही थी ... हाथ में लंड तो था, पर निशाने पर रितु की चूत थी ..


माधवी ने जैसे ही पंडित जी के लंड को अन्दर लेना चाहा पंडित जी ने रोक दिया ..


माधवी ने उनकी तरफ सवालिया नजरों से देखा ..


पंडित : "तुम तो अपने मजे ले रही हो ..पर जरा अपनी बच्ची की तरफ देखो ..जैसे तुम्हारी ख़ुशी है, वैसे उसकी ख़ुशी का भी तो ध्यान रखो ..अब बात सिर्फ गिरधर की बुरी नजर की नहीं रह गयी है, तुम्हारी बेटी भी यही चाहती है ..देख लो चाहे ..''


माधवी ने रितु के चेहरे की तरफ देखा ..रितु ने हाँ में सर हिला कर पंडित जी की बात में सहमति जताई ..


अब माधवी की चूत में भी खुजली हो रही थी, वो जानती थी की पंडित जी जान बुझकर ऐसे मौके पर ही रितु को गिरधर से चुदवाने की परमिशन मांग रहे हैं, जब उसकी चूत में उनका लंड जाने को तैयार है ..और ऐसे मौके पर ना नहीं निकलती ..


माधवी : "मुझे क्या ...जो चाहे करे ये ..जिसे चाहे चोदे ..चाहे अपनी बेटी की चूत मारे ...मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता ...आप बस मेरी चूत की प्यास बुझाओ अभी ...डालो अपना पठानी लंड ...मेरे अन्दर ...पंडित जी ...''


उसकी बात सुनते ही सभी के चेहरों पर हंसी आ गयी ..पंडित जी ने इशारा करके नूरी को अपने पास बुलाया ..वो भी ख़ुशी -२ उनकी तरफ आ गयी ..क्योंकि वो जानती थी की आज पंडित जी ने उसे डबल चुदाई का वादा किया है ..वो तो होकर ही रहेगी ..


उसके आते ही रितु किसी हिरनी की तरह छलांगे भारती हुई अपने पापा के पास पहुँच गयी और उनसे ऐसे लिपटी जैसे पकिस्तान की जेल में सजा काटकर आये हो वो ...


अब होना था, महासंग्राम ....

अपने तने हुए सीने से अपने पापा को चिपका कर रितु ने उनके कान में चिल्ला कर
कहा : "चल मेरी पापड़ी ....शरू हो जा ...आज दिखा दो अपनी बेटी को ..कितनी जान है आपके घोड़े में ..''


गिरधर का लंड तो पहले ही तैयार था जब से उसने नूरी की चूत देखि थी ..पर अब अपनी खुद की बेटी को अपने लंड के लिए तड़पता हुआ पाकर उस लंड की अकड़ में और भी कड़कपन आ चुका था ..आज तो उसे ऐसा महसूस हो रहा था की उसका लंड ख़ुशी के मारे फट ही ना जाए ..


रितु भी अपने पुरे शरीर को गिरधर पर ऐसे रगड़ रही थी जैसे वो खुद कोई साबुन की टिकिया हो ..अपने जिस्म की भीनी खुशबु को वो रगड़ -२ कर अपने पापा को अर्पित कर रही थी ..अपने नरम होंठों की अगुवाई में गर्म साँसों की तपन से वो जैसे स्टीम बाथ करवा रही थी गिरधर को .


अब गिरधर को भी बिना माधवी के डर के अपनी बेटी को चोदने की आजादी तो मिल ही चुकी थी ..


और दूसरी तरफ तड़पती हुई माधवी ने बिना देरी किये पंडित जी के होंठों को पकड़ा और उन्हें चूस कर अपनी प्यास का एहसास करवाया ..और अपना दूसरा हाथ नीचे लेजाकर उनके लिंग को अपनी योनि के द्वार पर लगाकर उनकी आँखों में देखा ...और फिर अपने शरीर का भार अपनी गांड के ऊपर डालकर उसने पंडित जी के लंड को अपने अन्दर विलीन कर लिया ...


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......पंडित जी .................कितना तड़पाते हो .... अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ....''


और फिर धीरे-२ ऊपर नीचे होकर वो उनके लंड को अपनी गुफा की गहराईयों में ले जाने लगी ..




पंडित जी भी उसके हिलते हुए स्तनों को अपनी जीभ निकाल चाट रहे थे, उन्होंने अपने हाथों में उसके दोनों चूतडों को जोर से भींच रखा था ..और उनकी उँगलियाँ धीरे-२ सरकती हुई उसकी गांड के छेद पर भी पहुँच रही थी ..


नूरी बड़े आराम से बैठकर उनके ये खेल देख रही थी ..क्योंकि अगला नंबर उसका ही था ..


और बिस्तर पर अपनी बेटी रितु को पटक कर जैसे ही गिरधर खड़ा हुआ, वो झट से आकर उसके लंड के आगे आकर बैठ गयी और किसी पालतू कुतिया की तरह बड़े ही प्यार से अपने पापा की आँखों में देखने लगी ..जैसे लंड चूसने की परमिशन मांग रही हो ..गिरधर ने हाँ में सर हिला कर उसे आज्ञा दे दी ..और एक जोरदार झटके के साथ उसने गिरधर के लंड को अपने हाथों में पकड़ा और मुली की तरह से चूसना शुरू कर दिया ..


उसके चूसने की गति इतनी तेज थी की गिरधर से खड़ा होना भी मुश्किल हो रहा था ..उसकी टाँगे अपने आप टेडी सी होने लगी ..रितु ने गिरधर की गांड के ऊपर अपने हाथों का दबाव डाला और उसे अपनी तरफ खींचा और अपना पूरा मुंह खोलकर उसके लंड के साथ -२ उसकी गोटियाँ भी अपने मुंह में भर ली ..


गिरधर अपनी बेटी की कलाकारी देखकर आश्चर्य चकित था ..इतने छोटे से मुंह में उसने पुरे आठ इंच का लंड और साथ ही उसके टट्टे भी निगल लिए थे ..ऐसा लग रहा था जैसे उसका मुंह हलवे से ठूस कर भर दिया गया हो ..और वो अपने पापा को डीप थ्रोट फकिंग करवा रही थी ..

गिरधर आनद के मारे चीत्कार उठा


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ........मेरी बेटी ......मेरी लाडो ....उम्म्म्म्म्म .....चूस अपने पापा का लोड़ा ....अह्ह्ह्ह्ह्ह ......ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ .....क्या चूसती है ......मजा आ गया ..अह्ह्ह्ह .....''


अपने पापा के मुंह से अपनी तारीफ सुनकर वो और भी खुश हो गयी और अपनी गति में और तेजी लाकर उनके लंड को और अन्दर ले जाने लगी ..


गिरधर के लंड का सिरा रितु के गले के अन्दर और नीचे तक जा रहा था ..






और जैसे ही गिरधर को लगने लगा की अब उसके लंड का पानी निकलने वाला है, उसने जल्दी से अपना लंड वापिस खींच लिया ..



इसी बीच पंडित जी ने शांत बैठी हुई नूरी की तरफ देखा और उसे अपनी तरफ आने का इशारा किया ..वो मटकती हुई उनके पास आई ..उसकी चूत और मुंह से पानी टपक रहा था.


उन्होंने दुसरे बेड पर लेजाकर दोनों को लिटा दिया ..और अपने हाथों से दोनों की चूतों को मसलने लगे ..




नूरी और माधवी ऐसे तड़पने लगी जैसे बिन पानी मछली ...इतनी थिरकन थी पंडित जी की उँगलियों में की उनकी नानी याद दिला दी उन्होंने मसल - २ कर ..


अग्ग्ग्ग्ग्घ्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ........उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ॊऒऒ ......पंडीत जी ....अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्हॊऒऒऒ ....मत तडपाओ ....अह्ह्ह्ह्ह .......करो भी .....चोदो न….......''


अब एक साथ दो-२ गर्म औरतों को ठंडा करना हर किसी के बस की बात नहीं होती ..पंडित जी इतने ज्ञानी थे फिर भी उनके पसीने छूट रहे थे ऐसी स्थिति को काबू में करने के लिए .


पंडित जी ने माधवी की टाँगे चोडी करी और खुद उसके सामने आ गए और अपने लंड को उसकी चूत पर रख दिया ..और नूरी को सामने लाकर माधवी के चेहरे पर बिठा दिया ..जैसे ही माधवी की जीभ नूरी की रसीली चूत के अन्दर घुसी वो आवेश में आकर अपनी चूत को माधवी के मुंह पर रगड़ने लगी ...


इसी बीच पंडित जी ने अपने लंड को माधवी की चूत के अन्दर धकेल दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......उम्म्म्म्म्म .....पंडित जि………क्या चोदते हो ..आप ...अह्ह्ह ...क्या लंड है आपका ...''


और माधवी की इस बात से तो कमरे में मोजूद हर चूत सहमत थी ..

पर पंडित जी के बारे में तो आप सभी जानते ही है न ..उन्हें तो ऐसी तड़प देने में ज्यादा मजा आता है ..


पंडित जी ने माधवी की टाँगे ऊपर उठाई और उन्हें नूरी के हाथों में पकड़ा दिया ..और खुद उसके अन्दर धीरे -२ धक्के मारकर उसकी चुदाई करने लगे ..


नूरी बड़े ही प्यार से पंडित जी के चेहरे को देख रही थी ...क्योंकि वो जानती थी की थोड़ी देर में ही उसे भी ऐसी ही चुदाई मिलेगी .

अपनी पत्नी को पंडित जी के लंड से चुद्ता देखकर गिरधर के चेहरे पर एक अजीब सा सकून था ..वैसे तो वो भी माधवी की चूत बुरी तरह से मारता था, पर आज जब वो पंडित जी के लंड से चुद रही थी तो उसके चेहरे के भाव और ख़ुशी अलग ही थे ..जैसे उसके अन्दर भी एक ख़ुशी का तूफ़ान उमड़ रहा था अपनी बेटी को चोदते हुए ..


और रितु भी अपनी माँ को पंडित जी के लंड से चुदते देखकर मचलने लगी ..और उसने तड़पते हुए पंडित जी से कहा : "पापा .....उम्म्म्म ....अब आ भी जाओ ....कितना तद्पाओगे ..''


गिरधर ने घूम कर रितु को बेड पर पटका और उसकी टाँगे खोल कर उसकी चूत पर अपना मुंह लगा दिया ..और चूसने लगे वहां से रिस रहा अमृत ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......मर्रर्रर्र .....गयी रे ......अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......म्म्म्म्म्म्म्म ......सक्क्क ....माय क्लिट पापा ....अह्ह्ह्ह ''


अब पापा जी को भला इंग्लिश कहाँ आती थी ..पर उसकी तड़प देखकर वो समझ गए की वो क्या चाहती है ..उन्होंने अपनी उँगलियों से उसकी चोंच की तरह निकली हुई क्लिट को उभारा और उसपर अपनी जीभ लगा कर उसे चुभलाने लगे ..


जीभ के प्रहार से रितु की चूत का दाना ऐसे नाच रहा था जैसे बीन पर सांप ..


गिरधर ने अपने होंठों के अन्दर समेत कर जब उस दाने को जोर से भींचा तो रितु का मुंह खुला का खुला रह गया ..वो कुछ बोलना चाहती थी ..चीखना चाहती थी ..पर उसके मुंह से कुछ भी नहीं निकल रहा था ..उत्तीजना को अन्दर दबाने की वजह से उसके पेट में दर्द होने लगा ..और उसने एक जोरदार झटके के साथ गिरधर को जोर से धक्का देककर अपनी क्लिट को उनके होंठों के चुंगल से निकलवाया ..


गिरधर ने भी पीछे होकर एक -दो गहरी साँसे ली और फिर से कूद पड़े उसकी चूत के मैदान में उधम मचाने ..


और इस बार उन्होंने उसकी चूत के दोनों होंठों को अपने मुंह के अन्दर फंसा लिया और जोर -२ से सक करके उसकी चूत को पीने लगे ..


''उम्म्म्म्म्म्म पापा .......स्स्स्स ...येस्स्स्स ......अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ....जोर से चुसो उम्म्म्म्म .....पी जाओ सारा अमृत .....अह्ह्ह्ह्ह्ह .....सक्क्क्क मी हार्डssssssss ....''


उसने एक टांग उठा कर गिरधर की पीठ पर रख दी और उसके सर को सहला कर अपनी चूत को और तेजी से चूसने के लिए उकसाने लगी .




और वहां पंडित जी की रेलगाड़ी में बैठकर माधवी ना जाने कितने स्टेशन आगे निकल चुकी थी ..वो उन्हें रोकना चाहती थी ..उतरना चाहती थी ..पर ट्रेन की गति इतनी तेज थी की वो सिवाए थिरकने के कुछ कर ही नहीं पा रही थी ..ऊपर से नूरी की चूत ने उसके मुंह पर ताला लगा रखा था ..


पंडित जी को उसपर थोड़ी सी दया आ गयी ..उन्होंने अपने लंड को बाहर निकाला और नूरी को अपने आगे आकर घोड़ी बनने को कहा ..और जैसे वो घोड़ी बनकर आगे झुकी, पंडित जी के बलशाली धक्के ने उनके लंड को उसकी चूत में उतार दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......... येस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स ......उम्म्म्म्म्म्म्म ....''


सामने अपनी टाँगे फेला कर पड़ी हुई माधवी ने चिल्लाती हुई नूरी के चेहरे को पकड़ा और अपनी चूत पर दबा कर उसे बड़ी मुश्किल से चुप करवाया .


अब नूरी पंडित जी के धक्को के साथ लय मिला कर चल रही थी ..पंडित जी के धक्के से वो आगे होती और अपनी लम्बी जीभ से माधवी की चूत के ऊपर आया पानी चट कर जाती ..


The Romantic
Platinum Member
Posts: 1803
Joined: 15 Oct 2014 17:19

Re: पंडित & शीला

Unread post by The Romantic » 16 Dec 2014 08:23

पंडित & शीला पार्ट--45

***********
गतांक से आगे ......................

***********

रितु की चूत को पूरी तरह से साफ़ सुथरा करने के बाद गिरधर ने उसे भी ऊपर उठाया और उसे घोड़ी बना कर उसके गोरे चूतड़ों पर एक बार हाथ फेरकर चेक किया की वो चुदाई के लिए तैयार है या नहीं ..उसने अपनी गांड को पीछे की तरफ धक्का देकर अपनी सहमती जताई..


और अगले ही पल उसने अपने लंड को रितु की चूत की सीमा के अन्दर दाखिल कर दिया ..गिरधर ने तो सिर्फ अपने लंड को लगाया था वहां ..बाकी का काम रितु ने कर दिया ..अपनी गांड को पीछे करके उसने अपना ''हक'' अपनी चूत में निगल लिया .


''ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह पापा ....उम्म्म्म्म्म .....आज हो गई मैं पूरी तुम्हारी ......अह्ह्ह्ह्ह ''



और उसके बाद तो गिरधर ने उसपर रहम ही नहीं लिया ..अपनी फूल जैसी बच्ची को उसने इतनी निर्दयिता से चोदना शुरू किया मानो इतने दिनों के बाद उसे चोदने का गुस्सा निकाल रहा हो .
गिरधर ने रितु के दोनों हाथ पीछे की तरफ खींचे और उसकी चूत का बेंड जोरों से बजाना शुरू कर दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .......ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ....पापा .......धीरे ....अह्ह्ह्ह्ह .....गोश्ह्ह्ह्ह्ह .... ....उह्ह्ह ...अहह अह्ह्ह अह्ह्ह ओह्ह्ह ओग्ग्ग्ग ओ ........पापा ...मार डाला ....अह्ह्ह्ह्ह .....उम्म्म्म .....''


वो दूसरी बार झड़ने लगी ..




और जैसे ही गिरधर को महसुस हुआ की उसका रस निकलने वाला है ..उसने जल्दी से अपना लंड बाहर निकाला और रितु को सीधा करके लिटा दिया ..वो अपने पहले वीर्य से उसे नहलाना चाहता था ..और ये इच्छा उसके मन में तब से थी जब से उसने रितु को चोदने के बारे में सोचना शुरू किया था ..
और अपने पापा की नजरों में देखते हुए अपनी चूत को मसलना जारी रखा ..


और गिरधर ने भी रितु की आँखों में देखते हुए अपने लंड की पिचकारी सीधा उसके मुंह पर दे मारी ..



''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....ले बेटी ........उम्म्म्म्म्म .........सारा रस पी ले पापा का ....अह्ह्ह्ह्ह्ह ...''


अपने पापा के प्यार को अपने चेहरे पर महसूस करते हुए वो इमोशनल सी हो गयी ..


ऐसा प्यार हर बाप बेटी में देखने को नहीं मिलता ..

गिरधर के लंड से निकला पानी रितु के गर्म शरीर पर गिरकर ऐसे पिघलने लगा जैसे गर्म जमीन पर पानी की बोछार पड़ने से वो भाप बनने लगता है.


अपने पापा की आँखों में प्यार से देखते हुए रितु ने उस पानी को अपने पुरे शरीर पर मलना शुरू कर दिया ..वो उनके वीर्य को पुरे शरीर पर मलकर अपने आपको उनके प्यार के अन्दर छुपा लेना चाहती थी .


अपने पुरे शरीर को गिरधर के वीर्य से ढकने के बाद उसकी आत्मा अन्दर तक तृप्त हो गयी.


और दूसरी तरफ माधवी की हालत खराब हो रही थी ..पंडित जी तो नूरी की चूत मार रहे थे घोड़ी बना कर ..और घोड़ी बनी हुई नूरी, माधवी की चूत में मुंह डालकर, चारा खा रही थी.


और माधवी की चूत का चारा ऐसा था की जितना खाओ उतना और निकल आता था अन्दर से..और आखिरकार उसकी चूत के अन्दर फंसा हुआ एक चक्रवात पुरे जोश के साथ बाहर की तरफ निकला और नूरी के चेहरे को बारिश की पहली फुहार की तरह भिगोता हुआ बाहर तक आया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ..........स्म्म्म्म्म्म उम्म्म्म्म्म्म ......मैं तो गयी ......अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .........उम्म्म्म्म्म्म्म ...''


अपनी चूत में पंडित जी के लंड का प्रहार और मुंह पर माधवी की चूत की बोछार महसूस करके नूरी भी बावली सी होकर गुनगुनाने लगी ...



''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ....... ..उम्म्म्म्म्म्म्म्म ......सुडुपsssssssssssssss ......अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह .....क्या मखन जैसा स्वाद है ....उम्म्म्म्म्म .......''


पर पंडित जी के धक्के उसकी जीभ को माधवी की चूत पर टिकने नहीं दे रहे थे ..
वो पीछे मुंह करके पंडित जी से बोली : "क्या करते हो ..पंडित जी ...अह्ह्ह्ह्ह ......चूसने तो दो ...कितनी स्वाद है .......''


पंडित जी ने उसकी बात मान ली और धीरे -२ धक्के मारने लगे ..


फिर नूरी ने आराम से माधवी की चूत को साफ़ सुथरा बना दिया . पर पंडित जी के धक्को की स्पीड धीरे होने से उसका मजा खराब हो गया था ..माधवी की चूत को साफ़ करके उसने फिर से पंडित जी की तरफ देखा और बोली : "अब हर बात बोलनी पड़ेगी क्या ..स्पीड बढाओ अब फिर से ..''


पंडित जी मुस्कुरा दिए और फिर से 100 की स्पीड पर अपनी बाईक चला दी उसकी चूत के हाईवे पर ..


इसी बीच नूरी ने जब देखा की गिरधर गहरी साँसे लेता हुआ बिस्तर पर पड़ा है और उसकी नजरें अब उसकी और पंडित जी की चुदाई पर ही है तो वो बड़ी ही शोख अदा के साथ गिरधर से बोली : "अरे मियां ..दूर से ही देखते रहोगे क्या ..बेटी को सामने देखकर आप तो भूल ही गए थे की किसकी मारने आये थे ..जरा हमारे सामने भी तशरीफ़ लाइए ..''


गिरधर उसकी रसीली बातें सुनकर अपने मरे हुए लंड की तरफ देखने लगा ..


उसकी दुविधा देखकर नूरी फिर बोली : "इसकी चिंता छोडिये आप ..बस यहाँ तशरीफ़ लाइए ...''


नूरी ने उसे अपने सामने आकर बैठने का निमंत्रण दिया ..जहाँ माधवी अपनी चूत पसारे अपनी उखड़ी हुई साँसों पर काबू पा रही थी ..जैसे ही गिरधर उठकर वहां आया दोनों की नजरें एक पल के लिए मिली, और अगले ही पल उन्होंने अपनी -२ नजरें नीचे कर ली और एक दुसरे के बाजू से निकल कर दूसरी तरफ निकल गए .


गिरधर जाकर बैठ गया झटके खा रही नूरी के मुंह के सामने ..


नूरी (गिरधर की आँखों में देखकर ) : "क्या अंकल ...आप तो मेरे लिए आये थे और मेरे हिस्से की खीर आपने रितु को खिला दी ..ये गलत बात है ..''


उसकी पतली उँगलियाँ गिरधर के लंड के ऊपर चलने लगी ..उसका शरीर ऐंठने लगा ..

पंडित जी उसकी बात सुनकर मुस्कुराने लगे, उन्होंने गिरधर को आँख मारकर उसकी बात में साथ देने को कहा ..


गिरधर भी समझ गया ..और उसी अंदाज में बोला : "लंड से निकली खीर पर पहला हक तो बेटी का ही होता है ..ये तुमसे अच्छा कौन जानता है ..तुम भी तो ऐसे ही तरस रही थी इरफ़ान भाई की खीर खाने के लिए ..''


नूरी के पास उसकी बात का कोई जवाब नहीं था ..वो तो खुद उस दौर से निकल चुकी थी ..जहाँ वो अपने अब्बा के लंड के लिए तरसती थी ..और जब उसे वो मिल गया था तभी उसकी प्यास सही मायने में बुझी थी .


उसने अपनी पलकें झुका कर गिरधर की बात से सहमति जताई ..और पलकों के साथ - 2 उसका मुंह भी झुक गया उसके लंड के ऊपर ..और अपनी सांप जैसी जीभ निकाल कर वो उसके लंड को सहलाने लगी ..


गिरधर के मोटे लंड पर चमक रही नसों पर अपनी जीभ की नोक चुभा कर वो उसके अन्दर उत्तेजना का संचार कर रही थी ..


और गिरधर भी बड़े ही प्यार से उसके रसीले होंठों से बाहर निकल रही जीभ को अपने लंड की दीवारों पर रेंगता हुआ महसूस करके उसके अन्दर फिर से रक्त का संचार होने लगा ..और ना चाहते हुए भी उसके मुंह से एक तीखी सी सिसकारी निकल ही गयी ...


''उम्म्म्म्म्म्म्म्म ....स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स .........अह्ह्ह्ह्ह्ह ''


जिसे सुनकर उसकी बेटी और पत्नी ने एक साथ उसकी तरफ देखा, जिसे उसने नरंदाज कर दिया .


पंडित जी ने अचानक ही नूरी की गांड के अन्दर अपना अंगूठा फंसा दिया जिसे महसूस करके नूरी के पुरे शरीर में जलतरंग सी उठने लगी ..


'उम्म्म्म्म्म्म ......पंडित जी ......अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......... बस .....ऐसे ही .....अह्ह्ह्ह ...धीरे ....धीरे ...अह्ह्ह .....स्स्स्स ...''


पंडित जी तो उसे पीछे वाले छेद से भी तेयार कर रहे थे .


पंडित जी नूरी के दोनों चूतड़ों पर अपने हाथ फेरते हुए वो उन्हें दबा भी रहे थे .


और दूसरी तरफ नूरी के होंठों ने जैसे ही गिरधर के पुरे लंड को अपने मुंह में भरकर एक चुप्पा मारा ..वो बेड पर लेट ही गया ..और नूरी पूरी लगन के साथ उसके लंड को चूसने में लग गयी ..


नूरी : "उम्म्म .....मुंह में ...इतना ...बड़ा लग रहा है .....चूत में जाकर ...तो ये तबाही ...मचा देगा ...''


गिरधर का लंड अब फिर से उम्मीदवार की तरह खड़ा हो गया था .


और जब पंडित जी को लगा की सही वक़्त आ चुका है तो उन्होंने एक जोरदार धक्का देकर नूरी को गिरधर के ऊपर लिटा दिया ..और अपने हर धक्के से उसे तिनका-तिनका ऊपर की तरफ खिसकाने लगे ..और जैसे ही नूरी की चूत गिरधर के लंड के पास पहुंची, पंडित जी ने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाल लिया ..और अपने अंगूठे को भी उसकी गांड के छेद से बाहर निकालकर अपने लंड को वहां पर ठूस दिया ..लंड पर लगे हुए घी की मदद से नूरी की गांड के घुसने में उन्हें ज्यादा मुशक्कत नहीं करनी पड़ी ..और नीचे से जैसे ही गिरधर के लंड को खाली छेद मिला वो खुले सांड की तरह वहां दाखिल हो गया ..


अपने दोनों छेदों में एक साथ लंड की हुकूमत महसूस करके नूरी झूम - २ कर चुदवाने लगी ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ....हाअन्न्न्न्न्न .......ऐसे ही .............उम्म्म्म्म्म्म ....यही तो चाहती थी .....अह्ह्ह्ह्ह्ह ......इतने दिनों से ......यही तमन्ना थी .....अह्ह्ह ...एक साथ ..दोनों ...जगह ...अह्ह्ह्ह .......बस ऐसे ही ....चोदो ...मुझे .....

फिर क्या था ...गिरधर ने अपने हाथों से उसकी कमर को लपेटा और उसके दांये मुम्मे को मुंह में ठूसकर नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए ..


पंडित जी ने नूरी की गांड के छल्ले में अपने लंड का पाईप पुरे प्रेशर से उतारना चालु रखा ..


दोनों के तेज धक्को से उसकी माँ - बहन एक कर दी .


''उम्म्म्म्म अह्ह्ह्ह .....अह्ह्ह्ह्ह ....येस्स्स…''


गिरधर उसके कानों को अपने मुंह में भरकर बुदबुदाया : "ले ....भेन की ड़ी ...अह्ह्ह ....ले .....तेरी चूत का बेन्ड बजा दूंगा आज .....अह्ह्ह ....ले साली ...कुतिया .....बड़ी आग है न तेरे अन्दर ...अह्ह्ह्ह्ह .....ले ...साली ...और ले ....और ले ....''


और उसके झटकों ने नूरी को अन्तरिक्ष की तरफ उछाल दिया ..ये तो भला हो पंडित जी का जिन्होंने नूरी की गांड में लंड डालकर उसे ऊपर जाने से रोका हुआ था ..वर्ना गिरधर के झटकों से उछलकर वो पता नहीं कहा उड़ गयी होती ..


पंडित जी ने नूरी के बालों को पकड़ कर उसकी कुतिया बना रखी थी ..जिसे वो इतनी बेदर्दी से चोद रहे थे जैसे किसी बात की खुन्दक निकाल रहे हो ..पंडित और गिरधर अपने -२ झटके ऐसी ले में एक साथ मार रहे थे की बीच में नूरी का शरीर पिस्स कर रह गया .दोनों एक साथ अपनी -२ तलवारें नूरी की चूत और गांड रूपी म्यान में से बाहर निकालते और उतनी ही तेजी से अन्दर भी घुसा डालते ..


नूरी की आँखे बंद थी ..सर हवा में घूम रहा था ..शरीर दोनों के बीच पिस्स कर जल रहा था ..ऐसा एहसास तो आज तक उसे कहीं नहीं मिला था ..बिना टिकट के वो अन्तरिक्ष की यात्रा कर रही थी .


और जल्दी ही उसकी हालत बिगड़ने लगी ..अपनी चूत के साथ-२ उसकी गांड के अन्दर भी ओर्गास्म बनने लगा ...सबसे पहले चूत का नंबर आया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ........गिरधर ....अंकल .....अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......स्स्स्स्म्म्म्म्म्म .......मैं तो गयी .....अह्ह्ह्ह्ह्ह .....''


गिरधर भी उसकी सेक्सी अंदाज को देखकर उसके होंठों को चबाते हुए उसकी चूत के गोदाम में अपना माल उतारने लगा ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ......उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ...नूरी .......क्या माल है तू .......उम्म्म्म्म ...ये ले .....सारा रस ले ले मेरा ......अह्ह्ह्ह्ह ....''


और फिर नंबर था पंडित जी का ..जो मेराथन के घोड़े की तरह भागते चले जा रहे थे उसकी गांड को मारते हुए ..और आखिरकार उनके घोड़े के मुंह से भी झाग निकलने लगी ..और नूरी की गांड के छल्ले को उन्होंने पूरा भर दिया ..


''अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ...नूरी .......ये ले ........मेरा प्रसाद भी ले .....अपनी गांड में ....अह्ह्ह्ह्ह्ह ......''


अपनी गांड के रास्ते एक मिनट के अन्दर ही अपने दुसरे ओर्गास्म को महसूस करके नूरी तो जैसे मरने के कगार पर पहुँच गयी ..वो बेहोश हो गयी ..पर पंडित जी को उसपर कोई दया नहीं आई ..वो उसकी गांड मारते ही रहे ..


और पंडित जी ने भी अपना पूरा रस उसकी गांड के अन्दर उतारने के बाद घोड़ी से नीचे उतरे और बेड के किनारे पर लेटकर अपनी साँसों पर काबू पाने लगे ..


पुरे कमरे में सेक्स की भीनी खुशबु तेर रही थी ...माधवी तो कब की उठकर जा चुकी थी नहाने के लिए ..


रितु अभी तक अपने पापा के रस को अपनी बॉडी पर किसी लोशन की तरह मॉल रही थी ..


पंडित जी ने नूरी को उठाकर उसे पानी पिलाया और फिर उसे कपडे पहनने को कहा ..काफी देर हो चुकी थी ..अपने-२ कपडे पहन कर दोनों बाहर निकल गए .


गिरधर धीरे से उठा और रितु को अपनी गोद में उठाकर बाथरूम की तरफ चल दिया ..जहाँ माधवी पहले से ही नंगी होकर नहा रही थी ..


बाप - बेटी को आता देखकर पहले तो माधवी वहां से जाने लगी, पर गिरधर ने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा : "अब तो ये सब तुम्हारे सामने होता ही रहेगा ..यही रुको ..और तुम भी मजे लो ..''


माधवी भी जानती थी की अब तो ये रोज का खेल होगा वो भागती रहेगी तो उसका ही नुक्सान है ..इसलिए उसने सहमति जताते हुए गिरधर की बात मान ली और नीचे झुककर उसके लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी ..और गिरधर भी खुश होते हुए अपनी फूल सी बेटी के पंखुड़ियों जैसे होंठों को चूसने लगा .