Recession Ki Maar -रिसेशन की मार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:32

रिसेशन की मार पार्ट--27

गतान्क से आगे..........

ऑफीस से होटेल का रास्ता तो 5 मिनिट का ही था, मैं सोच ही रही थी के ऐसी हालत मे कैसे होटेल के अंदर जाउन्गी वाहा तो रिसेप्षन पे मुन्ना भाई होगे और दूसरे क्लीनिंग ओर रेस्टोरेंट का स्टाफ होगा, जैसे ही कार से नीचे उतरने लगी, मेरी किस्मेत अछी थी के एलेक्ट्रिसिटी चली गयी और सब जगह एक दम से अंधेरा च्छा गया. यह मेरे लिए गोलडेन चान्स था, इस से पहले के रिसेप्षन और हॉल के एरिया की एमर्जेन्सी लाइट्स जलने लगती, मैं तेज़ तेज़ कदम डालती हुई अपने मोबाइल की लाइट मे होटेल के अंदर आ गयी और सीढ़ियो से ऊपेर चढ़ के अपने कमरे मे आ गया. यह तो बहुत ही अछा हुआ के मुझे किसी ने भी ध्यान से नही देखा. मैं अपने रूम का डोर खोला और अंदर आ गयी. मैं बोहोत ही थक चुकी थी, अंदर आते ही मे बेड पे लेट गयी और लाइट का इंतेज़ार करने लगी. शाएद 10 मिनिट के अंदर ही लाइट आ गयी तो फन चालू किया और वही खड़े खड़े अपने कपड़े उतारना चालू कर दिया. सामने लगे मिरर मे अपनी चूत को देखा तो वो एक दम से लाल हो गयी थी और बहुत सूज गयी थी. मैं अपनी चूत पे प्यार से हाथ फेरने लगी और सोचने लगी के डीके के लंड ने मेरी चूत की क्या हालत बना दी है. मेरी चूत मे दरद हो रहा था. मैं बेड की किनारे पे बैठ गयी और दरद से एक दम से उठ गयी तो मुझे याद आया के मेरी तो गंद भी फॅट चुकी है इसी लिए इतना दरद हो रहा है. खैर मैं शवर लेने के लिए बाथरूम मे घुस गयी और गरम पानी से स्नान करने लगी. मुझे महसूस हो रहा था के मेरी गंद का सुराख बोहोत ही चौड़ा हो गया है और मुझे अपनी गंद मे बाहर की ओर घुसती हुई फील होने लगी तो मेरा हाथ ऑटोमॅटिकली अपनी गंद पे आ गया. देखा तो सच मे गंद का सुराख बोहोत चौड़ा हो गया था. अब मैं कर भी क्या सकती थी बॅस अछी तरह से गरम पानी से चूत और गंद को सेका दिया. थोड़ी देर मे आराम आने लगा और मैं बाथरूम से बाहर निकल आई और अपने बदन को ड्राइ किया और टवल लपेटे ही लपेटे मैं अपने बेड पे लेट गयी और कांट्रॅक्ट निकाल के पढ़ने लगी.

कांट्रॅक्ट के मैं कंडीशन्स कुछ ऐसे थे:

जाय्निंग टाइम विदिन 15 डेज़ फ्रॉम कांट्रॅक्ट साइनिंग.

मॅंतली सॅलरी 30,000.00.

5,000.00 पर मोन्थ हाउसिंग ( इक्विवलेंट टू 2 सॅलरीस पर एअर ) हाउसिंग अलोवेन्स ओर अकॉमडेशन प्रोवाइडेड बाइ दा इंडस्ट्री.

फ्री कन्वेयन्स ओर इंडस्ट्री विल प्रवाइड कार फॉर ट्रांसपोर्ट ( मुझे कार चलाना तो आता नही था इसी लिए फ्री कन्वेयन्स ही ठीक रहेगा सोचा )

फुल इन्षुरेन्स कवरेज

फ्री ट्रेवल, बोरडिंग आंड लॉड्जिंग ऑन अफीशियल टूर इन इंडिया आंड फॉरिन ट्रिप इन दा सेम होटेल / रूम विथ मॅनेजिंग डाइरेक्टर.

टूर अलोवेन्स 1,000.00 पर डे ऑन टूर इन इंडिया आंड 3,000.00 पर डे ऑन टूर आउटसाइड इंडिया.

व्हेन ऑन टूर, आइ हॅव टू बी कंटिन्यूवस्ली विथ एमडी आंड एमडी कॅन पर्मिट मी टू गो आउट अलोन इफ़ ही डोएस्न'ट हॅव एनितिंग अर्जेंट फॉर मी.

मैं जैसे जैसे कांट्रॅक्ट कंडीशन्स पढ़ रही थी खुशी से पागल हो रही थी.

ऑफीस टाइमिंग के बारे मे लिखा था के "नो टाइमिंग्स" यू हॅव टू बी देर इन ऑफीस एनिटाइम डे ओर नाइट डिपेंड्स ऑन वर्क शेड्यूल. ( यह कंडीशन भी ऐसी कोई खास नही थी आक्सेप्टबल ही थी, मैं ने सोचा के जब काम के लिए घर से बाहर निकली हू तो क्या हुआ दिन हो के रात काम तो काम ही है )

टू वीक्स फुल्ली पैड वाकेशन आफ्टर दा कंप्लीशन ऑफ 12 मंत्स फॉर फर्स्ट एअर देन फ्रॉम सेकेंड एअर दिस विल इनक्रीस्ट टू वन मोन्थ फुल्ली पैड वाकेशन. ( मैं ने सोचा के चलो यह भी कोई बात नही क्यॉंके जब बॅंगलुर का अफीशियल टूर आएगा तो मैं सतीश से मिल सकती हू )

सब से नीचे लिखा था " वेलकम टू आर.के. इंडस्ट्रीस" और सब से नीचे लिखा था "गुड लक"

मैं ने फोन उठाया और सतीश का नंबर डाइयल किया तो दूसरी तरफ से उर्मिला ने फोन उठाया. मेरी खुशी से निकलती आवाज़ को सुनते ही बिना मेरी बात सुने उसने मुझे बोला "कंग्रॅजुलेशन्स स्नेहा" तो मैं ने बोला के अरे तुझे किसने बताया तो उसने बोला के अरी पगली मैं तेरी बचपन की फ्रेंड हू मैं तो तेरी आवाज़ सुनते ही समझ गयी थी के तू ने गोल मार लिया तो मैं हंस पड़ी और

उसको बोली के हा यार आइ वाज़ लकी एनफ टू गेट तीस जॉब तो उसने हंसते हुए बोला के जॉब ऐसे ही मिली या तेरा इंटरव्यू हुआ अछी तरह से बॉडी टेस्ट एट्सेटरा एट्सेटरा, तो मैं ने बोला के अरे पगली मेरा इंटरव्यू कम और बॉडी का इंटरव्यू ज़ियादा हुआ और उसके बाद ही जॉब मिली तो मैं हस्ते हुए बोली के बता ती हू पहले तू यह बता के सतीश के साथ फिट तो हो गई ना तो उसने भी हंसते हुए बोला के हा यार मैं तेरे लिए कुछ भी कर सकती हू, तेरे हज़्बेंड के साथ चुदवाने मे क्या प्राब्लम है मेरे कू. पहले तो सतीश मेरे साथ कुछ हेज़िटेट करता था पर एक दो टाइम चोदने के बाद अब अछी तरह से फिट हो गया है तो मैं ने उसको थॅंक्स बोला तो उसने बोला के अरे इस मे थॅंक्स बोलने की क्या बात है री, क्या मैं भी एक जवान औरत नही हू, क्या मेरी चूत मे आग नही लगती, क्या मुझे चुदाई का शौक नही या मेरे जिस्म मे चुदाई की भूक नही तो मैं ने बोला के अरे बाबा वो बात नही बस तुम दोनो खुश रहो और तेरा बोहोत बोहोत थॅंक्स यार के तू ने सतीश को संभाल लिया. अब उसने बोला के यह सब फॉरमॅलिटीस छोड़ और बता के तेरा इंटरव्यू कैसा रहा और सच बता के क्या क्या हुआ तो मैने हस्ते हुए अपनी सारी दास्तान सुना दी. ट्रॅवेल मे राज के मिलने और उस से चुदवाने वाली बात तो मैं पहले ही उसको बता चुकी थी. उर्मिला बोली के सच इतने टाइम चोदा वो साले एमडी ने तेरे कू, तेरी छोटी सी चूत का तो एक ही दिन के अंदर भोसड़ा बना डाला होगा साले ने, तो मैं ने बोला के अरे यह क्या उसका लंड तो सॉफ्ट होने का नाम ही नही लेता जब देखो फुल्ली एरेक्ट पोज़िशन मे ही रहता है और है भी इतना बड़ा के सॉफ्ट होने पर भी सतीश के लंड से बड़ा और उस से ज़ियादा कड़क रहता है तो दूसरी तरफ से उर्मिला ने बोला के हाए रे तेरी किस्मेत, तू बड़ी लकी है रे जो ऐसा शानदार लंड मिला तेरे कू. मुझे भी तेरेएमडी के लंड से चुदवाने की इच्छा जागने लगी है बोल मुझे भी चुदवायेगि उस से या नही तो मैं ने बोला के अरे वो क्या बड़ी बात है मेरी जान हम जब कभी भी बंगलोरे का टूर पड़ेगा मैं तुझे उसके साथ मिला दूँगी और खुद थोड़ी देर सतीश से मिल लूँगी तो वो खुश हो गयी और बोली सच बोल रही है ने तू, तो मैं ने बोला के हा बाबा आइ आम शुवर के वो मेरी बात को नही टालेगा और तुझे भी अपने लंड का मज़ा चखा देगा. चल अब फोन सतीश को दे उस से बात करनी है तो उसने बोला के ठहर एक मिनिट अभी अभी मुझे चोद के वो शवर लेने गया है, एक मिनट ठहर मैं देखती हू वो शवर ले के बाहर आया के नही.

उसने फोन सतीश को दे दिया. दूसरी तरफ से सतीश की ख़ुसी से भरी आवाज़ आई, वो मेरी और उर्मिला की बात सुनके समझ गया था के मुझे जॉब मिल गयी है. उसने भी मुझे कंग्रॅजुलेशन्स बोला और पूछा के इंटरव्यू कैसा रहा तो मैं ने हस्ते हुए बोला के तुम ने बोला था ना के अगर वो मुझे चोदना चाहे तो चुदवा लेना और यू कॅन डू वॉटेवर इट टेक्स यू टू डू टू गेट दिस जॉब, तो उसने बोला के हा बोला था, तो मैं ने बोला के बॅस एमडी को मेरा बदन और मेरी जवानी पसंद आ गयी तो उसने हस्ते हुए कहा के "सच" तो मैं ने बोला के हा सतीश मैं ने अपना सब कुछ उसको दे दिया और उस से जॉब ले लिया तो उसने एक इतमीनान की लंबी साँस भरी और बोला के चलो अछा है अब हमारे खराब दिन दूर हो जाएगे तो मैं ने बोला के आक्च्युयली मैं ने तुमको कांट्रॅक्ट के कंडीशन्स बताने के लिए फोन किया था के तुम सुन लो और अगर कोई कंडीशन अन आक्सेप्टबल हो तो मुझे बताओ के मुझे क्या करना है. उसने बोला के ठीक है बोलो क्या कंडीशन्स है तो मैं ने उसको पूरा कांट्रॅक्ट पढ़ के सुना दिया तो उसने बोला के अरे सब कुछ ठीक है यार इतनी मस्त सॅलरी आज के रिसेशन के मार्केट मे कौन देता है. सब कंडीशन्स ठीक है तुम इतमीनान से बेफिकर हो के साइन करदो और अपना जॉब स्टार्ट करदो. मैं ने बोला के मुझे 2 वीक का टाइम है जाय्न करने के लिए तो क्या मैने 2 वीक टाइम ले के बॅंगलुर आउ या इमीडीयेट्ली जॉब जाय्न करलू. सतीश ने बोला के मेरे ख़याल से तो तुम फॉरन ही जाय्न कर्लो 2 वीक्स मे तुम कम से कम 15,000.00 रूपीए तो कमा ही लोगि ना, यह हमारे लिए बोहोत बड़ा आसरा हो गा और जब तुम्हारा तौर बॅंगलुर का पड़ेगा तो मैं यही मिल लूँगा तुमसे. खैर हम ऐसे ही बोहोत देर तक कांट्रॅक्ट पे और दूसरे चीज़ो पे डिसकस करते रहे फिर मैं ने थोड़ा सा हंसते हुए पूछा के उर्मिला तुम्हारा अछी तरह से ख़याल तो रख रही है ना तो उसने बोला के हा थॅंक यू मेरी जान जो तुमने अपनी फ्रेंड को मेरी देख भाल के लिए भेज दिया. सतीश ने भी हंसते हुए बोला के वो मेरा ख़याल बोहोत ही अछी तरह से रखती है और मैं उसका अछी तरह से ख़याल रखता हू. शी ईज़ आ गेम ऑफ आ लेडी. बहुत ही अछी है और मेरा बोहोत ख़याल रखती है, टाइम पे खाना पकाती है और हम साथ खाते है तो मैं ने हंसते हुए पूछा के बॅस इतना ही ख़याल रखती है या बेड मे भी ख़याल रखती है तो वो हस्ने लगा और बोला के अरे यार तुम्हारी फ्रेंड तो बड़ी मस्त चीज़ है तुमने क्या उसको बोला के उसने तो तुम्हारी ही जगह लेली है मेरे बेड मे और मेरे घर मे, वो मेरे से बोहोत प्यार भी करने लगी है. मैं खुश हो गयी और बोली के तुम उर्मिला की फिकर ना करो वो मेरी सब से अछी और मेरी बचपन की फ्रेंड है और वो तुम्हारा हर तरीके से ख़याल रखेगी और फिर हस्ते हुए पूछा के उसने तुम्हारा लंड भी चूसा के नही तो उसने हस्ते हुए बोला के यार शी ईज़ आ बॉंबशेल इन बेड, शी ईज़ टू हॉट यार उसने तो मुझे एक बार फिर से जवान कर दिया है, मुझे पागल ही कर दिया है. उर्मई और मैं वो सब कुछ करते है जो मैं और तुम किया करते थे तो मैं ने कहा वाह तुमने उर्मिला को ऊर्मि बना दिया यह जान कर मुझे बोहोत खुशी हुई और बोहोत अछा लगा के तुम भी उर्मिला से प्यार करने लगे हो तो वो हस्ने लगा. फिर उसने मुझे पूछा तो मैं ने भी उसको बिना झिझक और बिना कुछ छुपाए सब कुछ बता दिया. एमडी का चोदना और उस से गंद मरवाना सब कुछ बता दिया और फिर यह भी बता दिया के उसका लंड इतना

बड़ा है जितना तुमने कभी देखा भी नही होगा और इश्स वक़्त मेरी चूत उसकी चुदाई से लाल हो गयी है और डबल रोटी की तरह से सूज गयी है और गंद का सुराख भी इतना बड़ा हो गया है. यह बोलते बोलते मेरा हाथ ऑटोमॅटिकली अपनी चूत पे आ गया और मैं अज्ञाने मे अपनी चूत का मसाज करने लगी. दूसरी तरफ सतीश मेरे से बात कर रहा था पर मैं कुछ इतनी गरम हो गयी थी के उस से बात करने के बजाए अपनी चूत का मसाज करती ही चली गयी और इतनी ज़ोर से झड़ी के मेरी आवाज़ सतीश सुनता रहा. जब मैं झाड़ चुकी तो बाइ आंड टेक केर बोल के फोन काट दिया और ऐसे ही बिना कपड़ो के नंगे ही गहरी नींद सो गयी.

दूसरे दिन सनडे था. मैं देर तक सोती रही. आँख खुली तो 10 बज रहे थे. नीचे फोन किया तो मुन्ना भाई ने रिप्लाइ किया और खुशी से पूछा के मेडम क्या हुआ आपके जॉब का तो मैं ने बोला के मुन्ना भाई आप की दुआ काम कर गयी और मुझे जॉब मिल गयी है तो वो बोहोत ही खुश हो गया और बोला के मेडम आप जब तक चाहे यही रहिए आपका ऑफीस भी यहा से करीब है और मैं आपको मन्थलि बेसिस पे बोहोत ही कम रेंट पे आपको सब से ऊपेर वाले फ्लॅट मे 2 बेडरूम का फ्लॅट टाइप है जो मैं अपने कोई रिलेटिव्स वाघहैरा आए तो देता हू वो मैं आपको दे दूँगा आप पैसे की फिकर ना करे तो मैं ने थॅंक्स बोला और बोला के मुन्ना भाई प्लीज़ मेरे पास थोड़ी कॉफी और कुछ लाइट ब्रेकफास्ट भेज दीजिए ना प्लीज़ तो उसने बोला के अभी भिजवाता हू मेडम और फोन काट दिया.

मैं शवर लेने चली गयी. गरम पानी का शवर बोहोत अछा लग रहा था. सारी थकान दूर हो गयी. मैं फ्रेश हो के बाहर निकली. अभी टवल लपेटे हुए ही थी के बेल बाली तो जल्दी से गाउन डाल लिया और दूर खोल के ब्रेकफास्ट अंदर लेलिया. बॉय के जाने के बाद गाउन उतार दिया और टवल लपेटे ही लपेटे ब्रेकफास्ट किया और सब से पहले राज को फोन किया तो उसने फोन काट दिया और खुद लंदन से मुझे रिंग किया तो मैं ने उसको जॉब मिलने की डीटेल बताई और उसको थॅंक्स बोला तो उसने बोला के अरे इसमे थॅंक्स की क्या बात है तुम जॉब के लिए पर्फेक्ट थी इसी लिए तुमको जॉब मिला तो मैं ने उसको बोला के आइ मिस यू सो मच राज आइ नीड यू वेरी बॅड्ली विथ मी हियर तो उसने बोला के हा मैं नेक्स्ट वीक तक आ जाउन्गा तो वही रहो फिर मैं तुमको किसी और जगह शिफ्ट कर दूँगा तो मैं ने उसको मुन्ना भाई का ऑफर बताया तो उसने बोला के अरे हा यह भी ठीक है तुमको ऑफीस जाने मे कोई दिक्कत नही होगी और अगर कभी देर भी हो जाए तो कोई प्राब्लम नही, वॉकिंग डिस्टेन्स ही तो है तो मैं ने बोला के हा यह बात तो है. फिर उसने भी यही डिसाइड किया के टेंपोररिली मैं यही इसी होटेल मे रहू. फिर हम ने फ़ोन सेक्स किया और सच मे मेरी चूत का मसाज किया और जूस निकाल दिया. कमरे मे मेरी चूत के जूस की स्मेल आने लगी तो मैं

मुस्कुरा दी और फिर सोचने लगी के आज तो सनडे है क्या करू राज भी नही है नही तो कही बाहर घूमने ही चली जाती फिर मुझे सडन्ली सबिहा की याद आई तो उसको फोन किया. वो मेरी आवाज़ सुन के बोहोत ही खुश हो गयी और बोली के मैं शाम को 5 बजे तक अपने पार्लर आ जाउन्गी तो मैं ने बोला के जब तुम करीब पहुँचने वाली रहो तो मुझे एक मिस्कल्ल कर देना मैं फॉरन ही आ जाउन्गी तो उसने बोला के ठीक है तब तक तुम थोड़ा रेस्ट लेलो. मैं ने सबिहा को कुछ नही बताया. ब्रेकफास्ट के बाद मैं बेड पे लेट गयी और एक बार फिर से कांट्रॅक्ट पढ़ा. मैं टवल मे ही थी और ऐसे लेटने से टवल खुल भी गया था तो मैं ने उसको अपने बदन से अलग कर दिया और नंगी ही लेट गयी और अपनी फूली हुई डबल रोटी चूत को सहलाने लगी जो अभी तक लाल थी. ऐसे ही मसाज करते करते पता नही कब सो गयी.

सो कर उठी तो दोपेहेर के 3 बजे थे. मुंबई का मौसम भी कुछ अजीब है यहा ह्यूमिडिटी की वजह से गर्मी ज़ियादा दिखती है. बॅंगलुर का मौसन तो एक दम से फर्स्ट क्लास होता है. बॅंगलुर मे बोहोत गार्डेन्स है इसी लिए उसको गार्डेन सिटी भी कहते है और हमेशा ही मौसम अछा रहता है. यहा भी आज बाहर थोड़ी गर्मी दिख रही थी. मैं ने लंच भी यही रूम पे मंगवा लिया और खाना खा के कॉफी के लिया बोल दिया. ऐसे ही शाम के 5 बज गये और मेरे मोबाइल पे सबिहा का मिस्कल्ल आ गया तो मैं उठ के रेडी हो गयी और 10 मिनिट के अंदर ही रूम से बाहर निकल गयी. मुन्ने भाई डेस्क पे बैठे थे मुझे देख के मुस्कुरा के बोले गुड ईव्निंग मेडम तो मैं ने भी गुड ईव्निंग मुन्ना भाई बोला. मेरे से पूछा के कही बाहर जा रही है क्या मेडम तो मैं ने बोला के हा मुन्ना भाई थोड़ी देर मार्केट मे घूम के आती हू आज सनडे है क्या करू बोर हो गयी हू कमरे मे पड़े पड़े तो मुन्ना भाई ने बोला के हा ठीक है मेडम, यू आर वेलकम एनिटाइम हियर. तो मैं ने थॅंक्स बोला और बाहर निकल गयी. निकलने से पहले बोला के मुन्ना भाई हो सकता है के मैं खाना बाहर ही खा के आउन्गी तो उन्हो ने बोला के कोई बात नही मेडम यहा मुंबई मे खाने पीने का कोई प्राब्लम ही नही है आप जितनी रात मे खाना बोलॉगी सब कुछ मिल जाएगा. मैं बाहर निकल गयी और सबिहा के पार्लर की तरफ चल पड़ी.

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--27

gataank se aage..........

Office se hotel ka rasta to 5 minute ka hi tha, mai soch hi rahi thi ke aisi halat mai kaise hotel ke ander jaugi waha to reception pe Munna bhai hoge aur doosre cleaning or restaurant ka staff hoga, jaise hi car se neeche utarne lagi, mai kismet achi thi ke electricity chali gayee aur sab jagah ek dum se andhera chha gaya. Yeh mere liye golden chance tha, iss se pehle ke reception aur hall ke area ki emergency lights jalne lagti, mai tez tez kadam dalti hui apne mobile ki light mai hotel ke ander aa gayee aur seedhion se ooper chhad ke apne kamre mai aa gayaa. Yeh to bohto hi acha hua ke mujhe kisi ne bhi dhayan se nahi dekha. Mai apne room ka door khola aur ander aa gayee. Mai bohot hi thak chuki thi, ander aate hi mai bed pe let gayee aur light ka intezar karne lagi. Shaed 10 minute ke ander hi light aa gayee to fan chalu kia aur wahi khade khade apne kapde utarna chalu kar dia. Samne lage mirror mei apni choot ko dekha to wo ek dum se laal ho gayee thi aur bohot sooj gayee thi. Mai apni choot pe pyar se hath pherne lagi aur sochne lagi ke DK ke Lund ne meri choot ki kia halat bana di hai. Meri choot mai darad ho raha tha. Mai bed ki kinare pe baith gayee aur darad se ek dum se uth gayee to mujhe yaad aaya ke meri to gand bhi phat chuki hai isi liye itna darad ho raha hai. Khair mai shower lene ke liye bathroom mai ghus gayee aur garam pani se snan karne lagi. Mujhe mehsoos ho raha tha ke meri gand ka surakh bohot hi chhouda ho gaya hai aur mujhe apni gand mai baher ki aur ghusti hui feel hone lagi to mera hath automatically apni gand pe aa gaya. Dekha to sach mei gand ka surakh bohot chhoud ho gaya tha. Ab mai kar bhi kia sakti thi bass achi tarah se garam pani se choot aur gand ko seka dia. Thodi der mai araam aane laga aur mais hower es baher nikal aayee aur apne badan ko dry kia aur towel lapete hi lapete mai apne bed pe let gayee aur contract nikal ke padhne lagi.

Contract ke main conditions kuch aise the:

Joining time within 15 days from contract signing.

Monthly salary Rs 30,000.00.

RS 5,000.00 per month housing ( equivalent to 2 salaries per year ) housing allowance or accommodation provided by the industry.

Free conveyance or Industry will provide car for transport ( mujhe car chalana to aata nahi tha isi liye free conveyance hi theek rahega socha )

Full Insurance coverage

Free tavel, boarding and lodging on official tour in India and Foreign trip in the same hotel / room with Managing Director.

Tour Allowance RS 1,000.00 per day on tour in India and RS 3,000.00 per day on tour outside India.

When on tour, I have to be continuously with MD and MD can permit me to go out alone if he doesn't have anything urgent for me.

Mai Jaise jaise contract conditions padh rahi thi khushi se pagal ho rahi thi.

Office timning ke bare mai likha tha ke "NO TIMINGS" you have to be there in office anytime day or night depends on work schedule. ( Yeh condition bhi aisi koi khas nahi thi acceptable hi thi, mai ne socha ke jab kaam ke liye ghar se baher nikli hu ti kia hua din ho ke rat kaam to kaam hi hai )

Two weeks fully paid vacation after the completion of 12 months for first year then from second year this will increast to One month fully paid vacation. ( Mai ne socha ke chalo yeh bhi koi bat nahi kyonke jab Bangalore ka official tour ayega to mei Satish se mil sakti hu )

Sab se neeche likha tha " WELCOME TO R.K. INDUSTRIES" aur sab se neeche likha tha "GOOD LUCK"

Mai ne phone uthaya aur Satish ka number dial kia to doosri taraf se Urmila ne phone uthaya. Meri khushi se nikalti awaz ko sunte hi bina meri bat sune usne mujhe bola "CONGRATULATIONS SNEHA" to mai ne bola ke are tujhe kisne bataya to usne bola ke ari pagli mai teri bachpan ki friend hu mai to teri awaz sunte hi samajh gayi thi ke tu ne goal mar lia to mai hans padi aur

usko boli ke haa yaar I was lucky enough to get this job to usne hanste hue bola ke job aise hi mili ya tera interview hua achi tarah se body test etc etc, to mei ne bola ke arey pagli mera interview kam aur body ka interview ziada hua aur uske bad hi job mili to mai haste hue boli ke bata ti hu pehle tu yeh bata ke Satish ke sath FIT to ho gai na to usne bhi hanste hue bola ke haa yaar mai tere liye kuch bhi kar sakti hu, tere husband ke sath chudwane mai kia problem hai mere ku. pehle to Satish mere sath kuch hesitate karta tha par ek do time chodne ke bad ab achi tarah se fit ho gaya hai to mai ne usko thanks bola to usne bola ke are is mai thanks bolne ki kia bat hai re, kia mai bhi ek jawan aurat nahi hu, kia meri choot mai aag nahi lagti, kia mujhe chudai ka shouk nahi ya mere jism mai chudai ki bhook nahi to mai ne bola ke are baba wo bat nahi bas tum dono khush raho aur tera bohot bohot thanks yaar ke tu ne Satish ko sambhal lia. Ab usne bola ke yeh sab formalities chhor aur bata ke tera interview kaisa raha aur sach bata ke kia kia hua to mai haste hue apni sari dastaan suna di. Travel mai Raj ke milne aur us se chudwane wali bat to mai pehle hi usko bata chuki thi. Urmila boli ke sach itne time Choda wo sale MD ne tere ku, teri choti si choot ka to ek hi din ke ander bhosda bana dala hoga sale ne, to mai ne bola ke are yeh kia uska Lund to soft hone ka naam hi nahi leta jab dekho fully erect position mai hi rehta hai aur hai bhi itna bada ke soft hone par bhi Satish ke Lund se bada aur us se ziada kadak rehta hai to doosri taraf se Urmila ne bola ke haye re teri kismet, tu badi lucky hai re jo aisa shandar Lund mila tere ku. Mujhe bhi tere MD ke Lund se chudwani ki iccha jaagne lagi hai bol mujhe bhi chudwayegi us se ya nahi to mai ne bola ke arey wo kia badi bat hai meri jaan ham jab kabhi bhi Banglore ka tour padega mai tujhe uske sath mila dungi aur khud thodi der Satish se mil lungi to wo Khush ho gayee aur boli Sach bol rahi hai ne tu, to mai ne bola ke ha baba I am sure ke wo meri bat ko nahi taalega aur tujhe bahi apne Lund ka maza chakha dega. Chal ab phone Satish ko de us se bat karni hai to usne bola ke thair ek minute abhi abhi mujhe chod ke wo shower lene gaya hai, ek miute thair mai dekhti hu wo shower le ke baher aaya ke nahi.

Usne phone Satish ko de dia. Doosri taraf se Satish ki khusi se bhari awaz ayi, wo meri aur Urmila ki bat sunke samajh gaya tha ke mujhe job mil gayee hai. Usne bhi mujhe Congratulations bola aur poocha ke Interview kaisa raha to mai ne haste hue bola ke tum ne bola tha na ke agar wo mujhe chodna chahe to chudwa lena aur you can do whatever it takes you to do to get this

job, to usne bola ke haa bola tha, to mai ne bola ke bass MD ko mera badan aur meri jawani pasand aa gayee to usne haste hue kaha ke "Sach" to mai ne bola ke haa Satish mai ne apna sab kuch usko de dia aur us se job le lia to usne ek itmenaan ki lambi saans bhari aur bola ke chalo acha hai ab hamare kharab din door ho jayege to mai ne bola ke actually mai ne tumko contract ke conditions batane ke liye phone kia tha ke tum sun lo aur agar koi condition un acceptable ho to mujhe batao ke mujhe kia karna hai. Usne bola ke theek hai bolo kia conditions hai to mai ne usko poora contract padh ke suna dia to usne bola ke arey sab kuch theek hai yaar itni mast salary aaj ke recession ke market mai koun deta hai. Sab conditions theek hai tum itmenan se befikar ho ke sign kardo aur apna job start kardo. Mai ne bola ke mujhe 2 week ka time hai join karne ke liye to kia mai 2 week time le ke Bangalore aau ya immediately job join karlu. Satish ne bola ke mere khayal se to tum foran hi join karlo 2 weeks mai tum kam se kam 15,000.00 rupiye to kama hi logi na, yeh hamare liye bohot bada aasra ho ga aur jab tumhara tour Bangalore ka padega to mai yahi mil lunga tumse. Khair ham aise hi bohot der tak contract pe aur doosre cheezo pe discuss karte rahe phir mai ne thoda sa hanste hue poocha ke Urmila tumhara achi tarah se khayal to rakh rahi hai na to usne bola ke haa Thank you meri jaan jo tumne apni friend ko meri dekh bhal ke liye bhej dia. Satish ne bhi hanste hue bola ke wo mera khayal bohot hi achi tarah se rakhti hai aur mai usk achi tarah se khayal rakhta hu. She is a gem of a lady. Bohot hi achi hai aur mera bohot khayal rakhti hai, time pe khana pakati hai aur ham sath khate hai to mai ne hanste hue poocha ke bass itna hi khayal rakhti hai ya bed mei bhi khayal rakhti hai to wo hasne laga aur bola ke are yaar tumhari friend to badi mast cheez hai tumne kia usko bola ke usne to tumhari hi jagah leli hai mere bed mai aur mere ghar mai, wo mere se bohot pyar bhi karne lagi hai. Mai khush ho gayee aur boli ke tum Urmila ki fikar na karo wo meri sab se achi aur meri bachpan ki friend hai aur wo tumhara har tareeke se khayal rakhegi aur phir haste hue poocha ke usne tumhara Lund bhi choosa ke nahi to usne haste hue bola ke yaar she is a bombshell in bed, she is too hot yaar usne to mujhe ek bar phir se jawan kar dia hai, mujhe pagal hi kar dia hai. Urmi aur mai wo sab kuch karte hai jo mai aur tum kia karte the to mai ne kaha wah tumne Urmila ko Urmi bana dia yeh jan kar mujhe bohot khushi hui aur bohot acha laga ke tum bhi Urmila se pyar karne lage ho to wo hasne laga. Phir usne mujhe poocha to mai ne bhi usko bina jhijhak aur bina kuch chupaye sab kuch bata dia. MD ka chodna aur us se gand marwana sab kuch bata dia aur phir yeh bhi bata dia ke uska Lund itna

bada hai jitna tumne kabhi dekha bhi nahi hoga aur iss waqt meri choot uski chudai se laal ho gayee hai aur double roti ki tarah se sooj gayee hai aur gand ka surakh bhi itna bada ho gaya hai. Yeh bolte bolte mera hath automatically apni choot pe aa gaya aur mai ajnaane mai apni choot ka massage karne lagi. Doosri taraf Satish mere se bat kar raha tha par mai kuch itni garam ho gayee thi ke us se baat karne ke bajaye apni choot ka massage karti hi chali gayee aur itni zor se jhadi ke meri awaz Satish sunta raha. Jab mai jhad chuki to bye and take care bol ke phone kaat dia aur aise hi bina kapdo ke nange hi gehri neend so gayee.

Doosre din sunday tha. Mai der tak soti rahi. Aankh khuli to 10 baj rahe the. Neeche phone kia to Munna bhai ne reply kia aur khushi se poocha ke madam kia hua aapke job ka to mai ne bola ke Munna bhai aap ki dua kaam kar gayee aur mujhe job mil gayee hai to wo bohot hi khush ho gaya aur bola ke madam aap jab tak chahe yahi rahiye aapka office bhi yaha se kareeb hai aur mai aapko monthly basis pe bohot hi kam rent pe aapko sab se ooper wale flat mai 2 bedroom ka flat type hai jo mai apne koi relatives waghaira aaye to deta hu wo mai apako de dunga aap paise ki fikar na kare to mai ne thanks bola aur bola ke Munna bhai please mere pas thodi coffee aur kuch light breakfast bhej dijiye na please to usne bola ke abhi bhijwata hu madam aur phone kat dia.

Mai shower lene chali gayee. Garam pani ka shower bohot acha lag raha tha. Sari thakaan door ho gayee. Mai fresh ho ke baher nikli. Abhi towel lapete hue hi thi ke bell bali to jaldi se gown dal lia aur door khol ke breakfast ander lelia. Boy ke jane ke bad gown utar dia aur towel lapete hi lapete breakfast kia aur sab se pehle Rajj ko phona kia to usne phone kat dia aur khud London se mujhe ring kia to mai ne usko job milne ki detail batayee aur usko thanks bola to usne bola ke arey isme thanks ki kia bat hai tum job ke liye perfect thi isi liye tumko job mila to mai ne usko bola ke I miss you so much Raj I need you very badly with me here to usne bola ke haa mai next week tak aa jauga to wahi raho phir mai tumko kisi aur jagah shift kar dunga to mai ne usko Munna bhai ka offer bataya to usne bola ke arey haa yeh bhi theek hai tumko office jaane mai koi dikkat nahi hogi aur agar kabhi der bhi ho jaye to koi problem nahi, walking distance hi to hai to mai ne bola ke haa yeh bat to hai. Phir usne bhi yehi decide kia ke temporarily mai yahi isi hotel mai rahu. Phir ham ne pone sex kia aur sach mei meri choot ka massage kia aur juice nikal dia. Kamre mai meri choot ke juice ki smell aane lagi to mei

muskura di aur phir sochne lagi ke aaj to Sunday hai kia karu Rajj bhi nahi hai nahi to kahi baher ghoomne hi chali jati phir mujhe suddenly Sabiha ki yaad ayi to usko phone kia. Wo meri awaz sun ke bohot hi khush ho gayee aur boli ke mai sham ko 5 baje tak apne parlour aa jaugi to mai ne bola ke jab tum kareeb pohochne wali rahi to mujhe ek miscall kar dena mai foran hi aa jaugi to usne bola ke theek hai tab tak tum thoda rest lelo. Mai ne Sabiha ko kuch nahi bataya. Breakfast ke bad mai bed pe let gayee aur ek bar phir se contract padha. Mai towel mai hi thi aur aise letne se towel khul bhi gaya tha to mai ne usko apne badan se alag kar dia aur nangi hi let gayee aur apni phooli hui double roti choot ko sehlaane lagi jo abhi tak laal thi. Aise hi massage karte karte pata nahi kab so gayee.

So kar uthi to dopeher ke 3 baje the. Mumbai ka mousam bhi kuch ajeeb hai yaha humidity ki wajah se garmi ziada dikhti hai. Bangalore ka mousan to ek dum se first class hota hai. Bangalore mai bohot gardens hai isi liye usko Garden City bhi kehte hai aur hamesha hi mousam acha rehta hai. Yaha bhi aaj baher thodi garmi dikh rahi thi. Mai ne Lunch bhi yahi room pe mangwa lia aur khana kha ke coffee ke liya bol dia. Aise hi sham ke 5 baj gaye aur mere mobile pe Sabiha ka miscall aa gaya to mai uth ke ready ho gayee aur 10 minute ke ander hi room se baher nikal gayee. Munne bhai desk pe baithe the mujhe dekh ke muskura ke bole Good evening madam to mai ne bhi good evening Munna bhai bola. Mere se poocha ke kahi baher ja rahi hai kia madam to mai ne bola ke haa munna bhai thodi der market mai ghoom ke aati hu aaj Sunday hai kia karu bore ho gayee hu kamre mai pade pade to Munna bhai ne bola ke haa theek hai madam, you are welcome anytime here. To mai ne thanks bola aur baher nikal gayee. Nikalne se pehle bola ke Munna bhai ho sakta hai ke mai khana baher hi kha ke aungi to unho ne bola ke koi bat nahi madam yaha Mumbai mai khane peene ka kio problem hi nahi hai aap jitni raat mai khana bologi sab kuch mil jayega. Mai baher nikal gayee aur Sabiha ke parlour ki taraf chal padi.

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:33

रिसेशन की मार पार्ट--28

गतान्क से आगे..........

अभी पूरी तरह से बेल बजाई भी नही थी के डोर खुल गया ऐसा लगता था जैसे सबिहा दूर के हॅंडल पकड़ के मेरा वेट कर रही हो.

ब्यूटिफुल & सेक्सी सबिहा नंगी ही मेरा वेट कर रही थी.

मैं अंदर जाते ही मेरे से लिपट गयी और पूछी क्या हुआ जॉब का तो मैं ने बोला के हा सबिहा तुमने जो ड्रेसिंग की थी वो एक दम से पर्फेक्ट थी और बॅस मुझे जॉब मिल गयी तो उसने पूछा के ऐसे ही मिल गयी या कुछ देना दिलाना भी पड़ा तो मैं ने बोला के हा देना पड़ा तो उसने पूछा कितना पैसा दिया तो मैं ने बोला के अरे कोई पैसा वैसा नही और उसका एक हाथ पकड़ के अपनी चूत पे रखा और दूसरा अपनी गंद पे रख के बोला के बॅस यही दो चीज़ें देना पड़ी तो वो हंस पड़ी और मेरे से कुछ ज़ोर से लिपट गयी और प्यार करने लगी. सबिहा ने आते ही एरकॉनडिशन खोल दिया था इसी लिए अब उसका बुटीक कम ब्यूटी पार्लर ठंडा होने लगा था. ऐसे ही लिपटे लिपटे हम एक दूसरे को किस करने लगे. किस कुछ ज़ियादा ही पॅशनेट होने लगा.

हम दोनो पॅशनेट किस करने लगे और बूब्स दबाने लगे

देखते ही देखते हम दोनो एक दूसरे के कपड़े बड़ी बेसब्री से उतरने लगे और एक ही मिनिट के अंदर हम दोनो नंगे हो गये थे. सबिहा ने मुझे पास पड़ी उस बेंच पे लिटा दिया जिसपे वो लड़कियो के झांट निकालने के टाइम पे क्रीम लगा के लिटा देती थी. यह एक लो हाइट वाली मसाज बेंच थी बिल्कुल वैसे ही

जैसे स्कूल बेंच होती है बॅस डिफ़्फेरेसएन सिर्फ़ इतना ही था के इस पे एक मामूली थिकनेस का मॅट्रेस था. मुझे पुश कर के मुझे लिटा दिया और खुद नीचे बैठ गयी और मेरे दोनो पैरो को अपने शोल्डर्स पे रख लिया और जैसे ही मेरी चूत पे नज़र पड़ी उसने बड़ी हैरत से पूछा अरे मिस यह क्या हुआ तो मैं ने बोला के इसी की वजह से तो मुझे जॉब मिली है और एमडी का लंड कोई मामूली लंड नही उसका लंड किसी हाथी के लंड जैसा है और लोहे जैसा सख़्त भी है और उसका लंड सॉफ्ट भी नही होता तो वो हैरत से देखने लगी और बोली के इतनी प्यारी चूत को चोद चोद के बर्बाद कर डाला तुम्हारे एमडी ने, साला आदमी है या जानवर. कोई ऐसे चोदता है क्या तो मैं ने बोला के हा मेरी चूत और गंद दोनो अभी तक दुख रहे है तो उसने बड़े प्यार से मेरी चूत पे हाथ फेरा और बोली के इतनी प्यारी चूत का एक ही दिन के अंदर साले के लंड ने भोसड़ा बना डाला और फिर मेरी चूत को चूमने लगी और देखते ही देखते इतनी बे सबरी से चाटने लगी जैसे के थोड़ी देर हो जाएगी तो शाएद उसको मेरी चूत चाटने को नही मिलेगी.

सबिहा मेरी चूत को बे सबरी से चाटने लगी

मैं उसकी टंग अपनी चूत के अंदर महसूस करते ही झड़ने लगी और अपनी गंद उठा उठा के अपनी चूत को उसके मूह से रगार्डने लगी. सबिहा चूत चाटने मे बोहोत ही एक्सपर्ट लग रही थी बड़े ही मस्त स्टाइल मे चाट रही थी. मेर मूह से निकला आआआआहह सस्स्स्स्स्साआआआब्ब्ब्बबबीईईई हहाआआआअ म्‍म्म्मममीईईईईईईईईई गगगगगगगगगाआआआआईयईईईईईईईई न्न्न्न्नीईईईईक्क्क्क्क्क्क्क्क्क्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लाआआआअ म्‍म्म्ममममममीईईईरर्र्र्ररराआआआअ और फिर मैं ऐसे झड़ी के झड़ती

ही चली जा रही थी मेरी चूत से गरम गरम जूस ऐसे बह रहा था जैसे किसी ने नल खोल दिया हो. मैं सबिहा से बोहोत ज़ोर से लिपट गयी.

सबिहा की छोटी सी चिकनी चिकनी टेस्टी टेस्टी यम्मी यम्मी बेबी चूत

थोड़ी देर मे, मैं ने बोला के सबिहा डार्लिंग मुझे भी तो अपनी चूत का टेस्ट कर्वाओ तो वो अपनी जगह से उठी और मेरे मूह के दोनो तरह पैर डाल के मेरे ऊपेर झुक गया और उसके पैर नीचे फ़राश पे थे और मेरे पैर भी फ़राश पे ही थे. सबिहा की चूत बोहोत ही मस्त थी. बे इंतेहा चिकनी बिल्कुल बेबी चूत जैसे किसी 10 – 11 साल की लड़की की चूत होती है. उसकी चूत देख के मैं ने सोचा के कितनी प्यारी चूत है और ऐसी चूत के अंदर अगर एमडी का लंड घुस जाएगा तो क्या होगा यह सोचती रही और उसकी चूत को चाट ती रही. उसकी चूत से एक बड़ी मस्त स्मेल आ रही थी. . थोड़ी ही देर मे सबिहा इतनी मस्त हो गयी के मेरे मूह पे अपनी चूत को पटक पटक के मारने लगी और झड़ने से पहले मेरे मूह को अपनी चूत से बोहोत ही ज़ोर से दबा दिया और मेरे दांतो से अपनी क्लाइटॉरिस को रगड़ने लगी और उसका बदन पहले तो टाइट हो गया फिर काँपने लगा और वो मेरे मूह मैं ही झड़ने लगी.

सबिहा अपनी चूत मेरे मूह पे पटक ते पटक ते झाड़ गयी

झड़ने के बाद भी वो मेरे ऊपेर लंबी लंबी साँसें लेती हुई लेटी रही. फिर मेरी चूत को चाटना शुरू किया. थोड़ी देर के बाद हम दोनो बेंच से उठ गये और नीचे पड़े एक पतले से मॅट्रेस पे लेट गये. दोनो एक दूसरे को टंग सकिंग किस करने लगे और फिर कभी मैं उसके बूब्स को चूस्ति तो कभी वो मेरे बूब्स को चूस्ति ऐसे ही मस्तिया करते रहे. फिर सबिहा मुझे नीचे लिटा के मेरे ऊपेर ऐसे चढ़ गयी जैसे मुझे चोद रही हो. मेरी दोनो टाँगो को फैला दिया और बीचे मे मेरी चूत से अपनी चूत को सटा दिया और रगड़ने लगी और बिल्कुल ऐसे ही चोदने लगी जैसे वो सच मे एक मर्द हो और मुझे चोद रहा हो. बड़ा मज़ा आ रहा था. फिर थोड़ी देर के बाद मुझे करवट लिटा दिया और मेरा एक पैर उठा के पकड़ लिया और मेरे पैरो के बीच मे ऐसे स्टाइल से बैठ गयी के मेरा एक पैर लंबा था और दूसरे पैर को उसने अपने हाथो से पकड़ के उठाया हुआ था और खुद मेरी दोनो थाइस के बीचे मे बैठ गयी और मेरी चूत से अपनी चूत को मिला के रगड़ने लगी यह पोज़िशन ऐसे ही थी जैसे कोई मर्द लड़की की एक टांग उठा के चोद्ता है.

सबिहा की और मेरी चूत रगड़ने लगी

हम दोनो की चूते बोहोत ही गीली हो चुकी थी और हमारी चूतो से कितना जूस निकला हमे ही पता नही. सबिहा की चूत जब मेरी चूत से लगी तो एक अनोखा मज़ा आने लगा और मैं बोलने लगी के आआहह सस्स्साआबब्बीहहाअ आऐईइसस्सीए हहिि कक्चहूऊददडूव हाईए र्र्रररीईए ब्बबाद्ददडाअ म्‍म्माआज़्ज़्ज़ाआ हाअईए आआऐईईई ज़्ज़्ज़ूओररर सस्स्सीईए और सबिहा मेरी चूत को अपनी चूत से चोदती रही कमरे मे दोनो की चूतो के टकराने की पच पच की और हमारी गहरी गहरी सांसो की आवाज़ें आने लगी. हम दोनो एक दूसरे के बूब्स को मसल रहे थे और चूत से चूत टकराने के मज़े ले रहे थे. ऐसा लगता था जैसे सबिहा की चूत मेरी चूत के अंदर तक चली जाएगी और फिर हम दोनो अपनी मज़े की सीमा पार कर चुके थे दोनो की आँखें बंद हो चुकी थी और दोनो के मूह से आआआहह और सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ऊऊऊऊऊऊहह जैसी आवाज़ें निकल ने लगी और हम दोनो ही इतनी ज़ोर से काँपने लगे जैसे बोहोत ज़ियादा ठंड लग रही हो और फिर हम दोनो ने एक दूसरे की टाँगो को मज़बूती से पकड़ रखा था और दोनो ने एक दूसरे की चूत को बोहोत ही ज़ोर से दबा दिया और ऐसी पोज़िशन मे हमारी क्लाइटॉरिस एक दूसरे की क्लाइटॉरिस से रगड़ने लगी और हम दोनो ही बोहोत ज़ोर से झड़ने लगे और हमारी चूत से इतना बोहोत जूस निकला जितने चुदाई के टाइम पे भी नही निकलता था. मुझे यह लेज़्बीयन एक्सपीरियेन्स बोहोत ही अछा लगा.

जब हमारा जूस बोहोत टाइम निकल गया तो हम थोड़ी देर ऐसे ही लेट गये और फिर सबिहा ने पूछा के एमडी का लंड कैसा था और उसने कैसे चोदा तो मैने ने उसको भी अपनी पूरी दास्तान सुना दी तो वो हैरत से सुनती रही. मैं ने बोला के अभी तक बोहोत दुख रहा है तो उसने बोला के कोई बात नही मिस तो मैं ने बोला के सबिहा प्लीज़ अब मुझे मिस नही बोलना मेरा नाम स्नेहा है और आज से हम और तुम दोनो फ्रेंड्स है और फ्रेंडशिप मे कोई टाइटल्स नही होते इसी लिए अब तुम मुझे स्नेहा ही बोला करो तो उसने बोला के ऑलराइट स्नेहा. सबिहा अपनी जगह से उठी और एक प्लास्टिक के टब मे गरम पानी डाला और उसमे कुछ केमिकल्स और मेडिसिन्स डाल के मुझे बोला के इसके अंदर बैठ जाओ. यह टब इतना बड़ा था के मैं उसके अंदर अछी तरह से बैठ सकी. गरम पानी और मेडिसिन से मेरी चूत को आराम मिलने लगा. इतनी देर तक सबिहा मेरे सामने खड़ी हो गयी और मैं उसकी चूत को चाटने लगी. उसकी चूत बोहोत ही प्यारी थी. ढूँदने पर भी एक बॉल भी नही दिखाई दे रहा था. शाएद लेज़र ट्रीटमेंट करा था उसने. मैं उसकी गंद को पकड़ के अपनी ओर खेच रही थी और वो इतनी मस्त हो गयी थी के अपनी गंद को आगे पीछे कर के मेरे मूह को चोद रही थी. उसने मेरे सर को पकड़ रखा था और फिर फाइनली उसकी आँखें बंद हो गयी और मेरे मूह मे अपनी चूत को दबा के पकड़ लिया और मेरे मूह मे ही झड़ने लगी. इतनी देर मे मेरी चूत को पूरा आराम मिल चुका था और मेरी चूत अब नॉर्मल हालत मे वापस आ चुकी थी. फिर हम ने ऐसे ही मस्तिया की. यह एक्सपीरियेन्स मेरे लिए बहुत ही मस्त था और मुझे बोहोत ही मज़ा आया. ऐसे लेज़्बीयन आक्षन का अपना एक और ही मज़ा है इसी लिए मैं सोचने लगी के लेज़्बीयन लड़कियाँ क्यों किसी मर्द से नही चुदवाती क्यों के इस्मै एक अलग ही मज़ा है और एक अलग ही टाइप का सॅटिस्फॅक्षन है. रात के 9 बज चुके थे तो सबिहा ने बोला के चलो डिन्नर करते है. हम बाहर निकले और करीब के रेस्टोरेंट मे डिन्नर लिया और फिर बाद मैं मिलने का वादा कर के हम दोनो अपने अपने घर चले गये.

मैं रात मे अपने कमरे मे वापस आई और सबिहा के साथ गुज़ारे हुए टाइम को सोच के मेरे मूह पे एक मुस्कुराहट आ गयी और मैं अपनी चूत का मसाज करने लगी और सिर्फ़ क्लाइटॉरिस का मसाज करते करते ही झाड़ गयी और गहरी नींद सो गयी.

सबिहा को याद कर के अपनी चूत का मसाज कर के सो गयी

सुबह को 8 बजे आँख खुली. आज मंडे था मैं ने सोचा था के ऑफीस जाउन्गी और कांट्रॅक्ट पेपर्स डीके को सब्मिट करके जॉब स्टार्ट कर दूँगी. नाश्ता किया और कपड़े चेंज कर के मैं ऑफीस पोहोच गयी. एज यूषुयल ममता वही अपनी टेबल पे बैठी थी मुझे देखते ही मुस्कुरा पड़ी और पूछा क्या हुआ मेडम तो मैं ने खुशी से बोला के मुझे जॉब मिल गयी है ममता तो उसने कंग्रॅजुलेशन्स मेडम बोला तो मैं ने बोला के हम दोनो अब कॉलीग्स है कोई मेडम वाडम नही मेरा नाम स्नेहा है और तुम मुझे स्नेहा ही कहोगी तो उसने मुस्कुरा के मेरा हाथ अपने हाथो मे ले के दबा दिया और कंग्रॅजुलेशन्स स्नेहा बोला तो मैं ने भी उसके हाथ को अपने हाथो मे पकड़ के दबा दिया. फिर उसने पूछा कैसा रहा इंटरव्यू स्नेहा तो मैं ने बोला के हा ठीक ही रहा तो उसने कुछ शरारत से पूछा कुछ ऐसा वैसा तो नही हुआ ना आपका इंटरव्यू तो मैं ने बोला के देखो ममता आज कल के दीनो मे जॉब मिलना बोहोत ही मुश्किल होता है और हर आदमी की एक प्राइवेट लाइफ भी तो होती ना जिसे वो अपने घर वालो से छुपाता है इसी तरह से मैं ने भी अपनी एक प्राइवेट लाइफ बना ली है और मैं ने जॉब के लिए अपने आप को कुर्बान कर दिया और अपना सब कुछ डीके को दे दिया और जॉब ले लिया. किसी को क्या पता चलेगा के कोई किसी की प्राइवेट लाइफ मे क्यों इंटर्फियर करेगा जॉब तो जॉब होती है ना इसी तरह से मेरे हज़्बेंड को भी पता है के मैं अपना घर अपना शहेर छोड़ के दूसरे शहेर मे काम कर रही हू और एक इनडिपेंडेंट लाइफ गुज़ार रही हू. मेरे हज़्बेंड का रिसेशन मे बोहोत ही लॉस हुआ है अब उसको कोवेरूप करने का एक ही तरीका था के मैं जॉब

करू और मुझे यह जॉब को हासिल करना ही था इसी लिए मैं ने अपना सब कुछ दे दिया और कभी टाइम मिलेगा तो मैं अपने हज़्बेंड से भी बता दूँगी के मैं ने जॉब के लिए और एस्पेशली उसकी यानी मेरे हज़्बेंड की कितनी बड़ी मदद की है नही तो हमारा सब कुछ ख़तम हो चुका था रहा सहा एक घर ही था अगर वो भी हाथ से चला जाता तो हम कही के ना रहते. आइ आम शुवर के वो भी मेरी बात को समझ जाएगा और मेरे साथ कॉंप्रमाइज़ कर लेगा. आफ्टर ऑल उसके लिए ही तो मैं यह सब कुछ कर रही हू. उसके लिए मैं ने अपने आपको डीके के हाथो बेच दिया. इतने बेहतरीन और फर्स्ट क्लास पेयिंग जॉब को मैं कैसे छोड़ सकती थी तुम खुद ही बोलो. ममता ने बोला के हा तुम ठीक कहती हो स्नेहा हर किसी को अपनी प्राइवेट लाइफ जीना का पूरा अधिकार है और मेरे ख़याल से अगर इतने आछे जॉब के लिए और अपने हज़्बेंड के लिए अपनी जवानी को दाव पर लगा रही हो तो उसको भी सोचना चाहिए के उसको बर्बादी से बचाने के लिए अगर तुम यह सब नही करती तो आज शाएद वो रोड पे होता. ममता को फिर मैं ने अपने कॉन्फिडेन्स मे ले के अपने और डीके के बारे

मैने बता दिया के उसने कैसे मुझे दोपहर से ले के रात तक कंटिन्यू चोदा और गंद मार के मेरी हालत बुरी कर दी. ममता ने कहा के हा मुझे पता है डीके को चोदने का बोहोत शौक है पर पता नही क्या बात है कोई लड़की उसके पास ज़ियादा दीनो तक नही रह पाती तो मैं ने बोला के तुमको पता है उसका लंड कैसा है तो उसने बोला के नही तो मैं ने पूछा हाथी का लंड देखा है तो वो हसणे लगी तो मैं ने बोला के सच ममता उसका लंड किसी हाथी के लंड से छोटा नही है शाएद इसी लिए लड़कियाँ उसके लंड को झेल नही पाती होगी इसी लिए शाएद ज़ियादा दीनो तक उसके साथ नही रह पाती होगी पर मेरी मजबूरी थी क्या करू बॅस चुदवा लिया और मैं उसके लंड की दीवानी हो गयी हू. ममता मेरी बतो को मूह खोले हैरत से सुन रही थी. फिर उसने बोला के चलो स्नेहा ठीक है क्या करना है यार तुम्है जॉब चाहिए और डीके को चूत बॅस वो तुम्हारी ज़रूरत पूरी करेगा तुम उसकी ज़रूरत पूरी करना. मैं ने पूछा के तुमने नही ट्राइ किया यह जॉब तो उसने बोला के नही स्नेहा मेरी क्वालिफिकेशन और एक्सपीरियेन्स अकाउंट्स की नही है इसी लिए और फिर मुस्कुराते हुए बोली के उसके हाथी लंड से तो मर ही गयी होती और फिर हम दोनो मिल कर हसणे लगे. उसने बोला के डीके तो अभी और 30 मिनिट्स मे आएगे. इतनी देर मे बॉय कॉफी रख के चला गया तो हम दोनो कॉफी पीने लगे.

कॉफी पीने के बाद हम इधर उधर की बातें कर रहे थे. थोड़ी देर मे ममता की टेबल का बज़्ज़र बजा तो ममता ने कहा के मिस स्नेहा ईज़ हियर हर सर तो स्पीकर पे डीके की आवाज़ आई के सेंड हेर इन प्लीज़ तो ममता ने ओके सर बोला और मुझे हाथ से इशारा किया और आँख मारके थंप्स अप का निशान बनाया तो मैं भी मुस्कुराती डीके के रूम के अंदर चली गयी. मुझे देखते ही डीके अपनी चेर से उठा और मुझे अपनी बाँहो मे ले के चूमने लगा और मुझ

से ज़ोर से लिपट गया. मैं तो जैसे पागल ही हो गयी थी. मैं ने भी उसको बोहोत कस्स के पकड़ लिया और हम टंग सकिंग किस करने लगे और एक ही मिनिट के अंदर हम दोनो ने एक दूसरे के कपड़े उतार दिए और नंगे हो गये. डीके ने मुझे मेरी बगल से पकड़ के उठाया और टेबल पे बिठा दिया और खुद नीचे बैठ के मेरी चूत को चाटने लगा तो मेरा हाथ भी उसके सर पे आ गया और मैं उसके सर को अपनी चूत के अंदर दबाने लगी और मस्ती मे ज़ोर ज़ोर से रगड़ने लगी. मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था. सबिहा की टंग बोहोत ही सॉफ्ट थी उसके चाटने मे और डीके के चाटने मे थोड़ा फरक था. डीके की टंग थोड़ी रफ थी और इसका मज़ा भी कुछ ही था. मैं डीके का सर पकड़ कर उसके मूह को चोदती रही और मेरी आन्खै मस्ती मे बंद हो गयी थी और आआअहह सस्स्स्स्स्स्स्स्सस्स द्द्द्द्द्द्द्द्दददकककककककक म्‍म्माआईयईईईई गगगगगगगगाआआऐययईईईईईईई ह्ह्ह्ह्हाआआ सस्स्स्स्स्स्सस्स और फिर एक मिनिट के अंदर मेरा बदन अकड़ने लगा और मैं डीके के मूह मे झड़ने लगी.

डीके फॉरन अपनी जगह से उठे और मेरी गीली चूत के सुराख मे अपने मूसल लंड को रखा. मुझे उनके लंड के मोटे सूपदे को देख के एक बार फिर से डर लगने लगा. आज उनका लंड कुछ ज़ियादा ही ख़तरनाक लग रहा था. एक तरफ तो ऐसे शानदार लंड से चुदवाने की ख्वाहिश और दूसरी तरफ चूत के फटने कद डर दोनो एक साथ ही होने लगे थे. पर चुदाई का शौक डर और तकलीफ़ पे हावी हो गया और मैं चुदासी हो गयी. मैं ने अपनी टाँगें डीके की कमर मे लपेट ली और उनके चूतदो को अपने हाथो से पकड़ के अपनी ओर खेचा. मेरी गंद टेबल के बिल्कुल कॉर्नर मे थी और डीके के मूसल का मोटा चमकदार सूपड़ा जिस मे से खूब बोहोत प्री कम निकल रहा था मेरी चूत के सुराख के सामने था. उनको अपनी ओर खेचने से लंड का सूपड़ा मेरी चूत के सुराख मे घुस गया, सिर्फ़ सूपदे से ही मेरी चूत का सुराख भर गया और मेरे सारे बदन मे एक झुरजुरी सी आ गयी और चूत चुदने को मचलने लगी. डीके झुक के मेरी चुचिओ को चूसने लगे और दोनो हाथो से मेरे चूतदो को मसल्ने लगे. मैं चुदने को ऐसी दीवानी हो रही थी के अपनी गंद को खुद ही आगे कर के उनके लौदे को चूत के अंदर लेने की कोशिश करने लगी. डीके धीरे धीरे से आगे पीछे हो के अपने लंड के सूपदे को मेरी गीली चूत के सुराख के अंदर बाहर करने लगे. मेरा बॅस नही चल रहा था के उनके लंड को अपनी चूत के अंदर डाल दू और वो मुझे धना धन चोद चोद के एक बार फिर से मेरी चूत का भरता बना दे. जैसा के मैं पहले ही बता चुकी हू के मेरे बूब्स और एस्पेशली निपल्स बोहोत ही सेन्सिटिव है और उनके चूसने से मेरे तन बदन मे वासना की आग सुलग उठी और मैं टेबल से उठ उठ के उनके लंड को अपनी चूत के अंदर लेने को मचलने लगी.

क्रमशः......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:34

Recession Ki Maar part--28

gataank se aage..........

Abhi poori tarah se bell bajayee bhi nahi thi ke door khul gaya aisa lagta tha jaise Sabiha door ke handle pakad ke mera wait kar rahi ho.

Beautiful & Sexy Sabiha Nangi hi mera wait kar rahi thi.

Mai ander jate hi mere se lipat gayee aur poochi kia hua job ka to mai ne bole ke haa Sabiha tumne jo dressing ki thi wo ek dum se perfect thi aur bass mujhe job mil gayee to usne poocha ke aise hi mil gayee ya kuch dena dilana bhi pada to mai ne bola ke haa dena pada to usne poocha kitna paisa dia to mai ne bola ke arey koi paisa waisa nahi aur uska ek hath pakad ke apni choot pe rakha aur doosra apni gand pe rakh ke bola ke bass yehi do cheezein dena padi to wo hans padi aur merre se kuch zor se lipat gayee aur pyar karne lagi. Sabiha ne aate hi aircon khol dia tha isi liye ab uska boutique cum beauty parlour thanda hone laga tha. Aise hi lipte lipte ham ek doosre ko kiss karne lage. Kiss kuch ziada hi passionate hone laga.

Ham dono Passionate Kiss karne lage aur boobs dabane lage

Dekhte hi dekhte ham dono ek doosre ke kapde badi besabri se utarne lage aur ek hi minute ke ander ham dono nange ho gaye the. Sabiha ne mujhe paas padi uss bench pe lita dia jispe wo ladkion ke jhant nikalne ke time pe cream laga ke lita deti thi. Yeh ek low height wali massage bench thi bilkul waise hi

jaise school bench hoti hai bass differecen sirf itna hi tha ke iss pe ek mamuli thickness ka mattress tha. Mujhe push kar ke mujhe lita dia aur khud neeche baith gayee aur mere dono pairo ko apne shoulders pe rakh lia aur jaise hi meri choot pe nazar padi usne badi hairat se poocha arey miss yeh kia hua to mai ne bola ke isi ki wajah se to mujhe job mili hai aur MD ka Lund koi mamuli Lund nahi uska Lund kisi hathi ke Lund jaisa hai aur lohe jaisa sakht bhi hai aur uska Lund soft bhi nahi hota to wo hairat se dekhne lagi aur boli ke itni pyari choot ko chod chod ke barbaad kar dala tumahre MD ne, sala aadmi hai ya janwar. Koi aise chodta hai kia to mei ne bola ke haa meri choot aur gand dono abhi tak dukh rahe hai to usne bade pyar se meri choot pe hath phera aur boli ke itni pyari choot ka ek hi din ke ander sale ke Lund ne bhosda bana dala aur phir meri choot ko choomne lagi aur dekhte hi dekhte itni be sabri se chaatne lagi jaise ke thodi der ho jayegi to shaed usko meri choot chaatne ko nahi milegi.

Sabiha Meri choot ko be sabri se chaatne lagi

Mai uski tongue apni choot ke ander mehsoos karte hi jhadne lagi aur apni gand utha utha ke apni choot ko uske muh se ragardne lagi. Sabiha choot chaatne mai bohot hi expert lag rahi thi bade hi mast style mai chaat rahi thi. Mer muh se nikla aaaaaaaahhhhhhhhhhhhh sssssssaaaaaaaabbbbbbiiiii hhhhhhhaaaaaaaaa mmmmmmeeeeeeeeeiiiiiii gggggggggaaaaaaaaaaiiiiiiiiiii nnnnniiiiiiiiiikkkkkkkkkklllllllaaaaaaaaa mmmmmmmmmeeeeeeeeerrrrrrraaaaaaaaa aur phir mai aise jhadi ke jhadti

hi chali ja rahi thi meri choot se garam garam juice aise beh raha tha jaise kisi ne nal khol dia ho. Mai Sabiha se bohot zor se lipat gayee.

Sabiha ki choti si chikni chikni tasty tasty yummy yummy baby chooot

Thodi der mai, Mai ne bola ke Sabiha darling mujhe bhi to apni choot ka taste karao to wo apni jagah se uthi aur mere muh ke dono tarah pair dal ke mere ooper jhuk gayaa aur uske pair neeche farash pe the aur mere pair bhi farash pe hi the. Sabiha ki choot bohot hi mast thi. Be inteha chikni bilkul baby choot jaise kisi 10 – 11 saal ki ladki ki choot hoti hai. Uski choot dekh ke mai ne socha ke kitni pyari choot hai aur aise choot ke adner agar MD ka Lund ghus jayega to kia hoga yeh sochti rahi aur uski choot ko chaat ti rahi. Uski choot se ek badi mast smell aa rahi thi. Yeh mast kahani the_great_warrior2000 at yahoo dot com ki likhi hui hai. Thodi hi der mai Sabiha itni mast ho gayee ke mere muh pe apni choot ko patak patak ke maarne lagi aur jhadne se pehle mere muh ko apni choot se bohot hi zor se daba dia aur mere dato se apni clitoris ko ragadne lagi aur uska badan pehle to tight ho gaya phir kaampne laga aur wo mere muh mai hi jhadne lagi.

Sabiha apni choot mere muh pe patak te patak te jhad gayee

Jhadne ke bad bhi wo mere ooper lambi lambi saansein leti hui leti rahi. Phir meri choot ko chaatna shuru kia. Thodi der ke bad ham dono bench se uth gaye aur neeche pade ek patle se mattress pe let gaye. Dono ek doosre ko tongue sucking kiss karne lage aur phir kabhi mai uske boobs ko choosti to kabhi wo mere boobs ko choosti aise hi mastiya karte rahe. Phir Sabiha mujhe neeche lita ke mere ooper aise chhad gayi jaise mujhe chod rahi ho. Meri dono tango ko phaila dia aur beeche mai meri choot se apni choot ko sata dia aur ragadne lagi aur bilkul aise hi chodne lagi jaise wo sach mai ek mard ko aur mujhe chod raha ho. Bada maza aa raha tha. Phir thodi der ke bad mujhe karwat lita dia aur mera ek pair utha ke pakad lia aur mere pairo ke beech mai aise style se baith gayee ke mera ek pair lamba tha aur doosre pair ko usne apne hatho se pakad ke uthaya hua tha aur khud meri dono thighs ke beeche mai baith gayee aur meri choot se apni choot ko mila ke ragadne lagi yeh position aise hi thi jaise koi mard ladki ki ek tang utha ke chodta hai.

Sabiha ki aur meri choot ragadne lagi

Ham dono ki chootein bohot hi geeli ho chuki thi aur hamari chooto se kitna juice nikla hamei hi pata nahi. Sabiha ki choot jab meri choot se lagi to ek anokha maza aane laga aur mai bolne lagi ke aaaahhhh ssssaaabbbiiihhhaaa aaaiissseee hhhiii ccchhhoooodddooo hhhhaaeee rrrrreeeee bbbaaddddaaa mmmaaazzzaaaa haaaeee aaaaaeeeeee zzzooorrr sssseeeee aur sbiha meri choot ko apni choot se chodti rahi kamre mai dono ki chooton ke takrane ki pach pach kia aur hamari gehri gehri sanso ki awazein aane lagi. Ham dono ek doosre ke boobs ko masal rahe the aur choot se choot takrane ke maze le rahe the. Aisa lagta tha jaise sabiha ki choot meri choot ke ander tak chali jayegi aur phir ham dono apni maze ki seema paar kar chuke the dono ki aankhein band ho chuki thi aur dono ke muh se aaaaaahhhhhhhhhhhhh aur sssssssssssssss oooooooooooohhhhhhhhhhhhhhhhh jaisi awazein nikal ne lagi aur ham dono hi itni zor se kaampne lage jaise bohot ziada thand lag rahi ho aur phir ham dono ne ek doosre ki tango ko mazbooti se pakad rakha tha aur dono ne ek doosre ki choot ko bohot hi zor se daba dia aur aisi position mai hamari clitoris ek doosre ki clitoris se ragadne lagi aur ham dono hi bohot zor se jhadne lage aur hamari choot se itna bohot juice nikla jitney chudai ke time pe bhi nahi nikalta tha. Mujhe yeh lesbian experience bohot hi acha laga.

Jab hamara juice bohot time nikal gaya to ham thodi der aise hi let gaye aur phir Sabiha ne poocha ke MD ka Lund kaisa tha aur usne kaise choda to mei ne usko bhi apni poori daastaan suna di to wo hairat se sunti rahi. Mai ne bola ke abhi tak bohot dukh raha hai to usne bola ke koi bat nahi miss to mai ne bola ke Sabiha please ab mujhe miss nahi bolna mera naam Sneha hai aur aaj se ham aur tum dono friends hai aur friendship mai koi titles nahi hote isi liye ab tum mujhe Sneha hi bola karo to usne bola ke alright Sneha. Sabiha apni jagay se uthi aur ek plastic ke tub mai garam pani dala aur usmei kuch chemicals aur medicines dal ke mujhe bola ke iske ander baith jao. Yeh tub itna bada tha ke mei uske ander achi tarah se baith saki. Garam pani aur medicine se meri choot ko araam milne laga. Itni der tak sabiha mere samne khadi ho gayee aur mai uski choot ko chaatne lagi. Uski choot bohot hi pyari thi. Dhoondne par bhi ek baal bhi nahi dikhayee de raha tha. Shaed laser treatment kara tha usne. Mei uski gand ko pakad ke apni or khech rahi thi aur wo itni mast ho gayee thi ke apni gand ko aage peeche ker ke mere muh ko chod rahi thi. Usne mere sar ko pakad rakha tha aur phir finally uski aankhein band ho gayee aur mere muh mai apni choot ko daba ke pakad lia aur mere muh mia hi jhadne lagi. Itni der mai meri choot ko poora araam mil chuka tha aur meri choot ab normal halat mai wapas aa chuki thi. Phir ham ne aise hi mastiya ki. Yeh experience mere liye bohto hi mast tha aur mujhe bohot hi maza aaya. Aise Lesbian action ka apna ek aur hi maza hai isi liye mai sochne lagi ke Lesbian ladkiyan kyon kisi mard se nahi chudwati kyon ke ismai ek alaga hi maza hai aur ek alag hi type ka satisfaction hai. Raat ke 9 baj chuke the to Sabiha ne bola ke chalo dinner karte hai. Ham baher nikle aur kareeb ke restaurant mai dinner liya aur phir baad mai milne ka wada kar ke ham dono apne apne ghar chale gaye.

Mai rat mai apne kamre mai wapas ayee aur Sabiha ke sath guzare hue time ko soch ke mere muh pe ek muskurahat aa gayee aur mai apni choot ka massage karne lagi aur sirf clitoris ka massage karte karte hi jhad gaye aur gehri neend so gayee.

Sabiha ko yaad kar ke apni choot ka massage kar ke so gayee

Subah ko 8 baje aankh khuli. Aaj Monday tha mai ne socha tha ke office jaungi aur contract papers DK ko submit karke job start kar dungi. Nashta kia aur kapde change kar ke mai office pohoch gayee. As usual Mamta wahi apni table pe baithi thi mujhe dekhte hi muskura padi aur poocha kia hua madam to mai ne khushi se bola ke mujhe job mil gayee hai Mamta to usne Congratulations madam bola to mai ne bola ke ham dono ab colleagues hai koi madam wadam nahi mera naam Sneha hai aur tum mujhe Sneha hi kahogi to usne muskurake mera hath apne hatho mai le ke daba dia aur Congratulations Sneha bola to mei ne bhi uske hath ko apne hatho mai pakad ke daba dia. Phir usne poocha kaisa raha Interview Sneha to mai ne bola ke haa theek hi raha to usne kuch shararat se poocha kuch aisa waisa to nahi hua na aapka Interview to mai ne bola ke dekho Mamta aaj kal ke dino mai job milna bohot hi mushkil hota hai aur har aadmi ki ek private life bhi to hoti na jise wo apne ghar walo se chupata hai isi tarah se mei ne bhi apni ek private life bana li hai aur mai ne job ke liye apne aap ko kurban kar dia aur apna sab kuch DK ko de dia aur job le lia. Kisi ko kia pata chalega ke koi kisi ki private life mai kyon interfere karega job to job hoti hai na isi tarah se mere husband ko bhi pata hai ke mai apna ghar apha sheher chhor ke doosre sheher mai kaam kar rahi hu aur ek independent life guzar rahi hu. Mere husband ka recession mai bohot hi loss hua hai ab usko coverup karne ka ek hi tarika tha ke mai job

karu aur mujhe yeh job ko hasil karma hi tha isi liye mai ne apna sab kuch de dia aur kabhi time milega to mai apne husband se bhi bata dungi ke mai ne job ke liye aur especially uski yaani mere husband ki kitni badi madad ki hai nahi to hamara sab kuch khatam ho chuka tha raha saha ek ghar hi tha agar wo bhi hath se chala jata to ham kahi ke na rehte. I am sure ke wo bhi meri baat ko samajh jayega aur mere sath compromise kar lega. After all uske liye hi to mai yeh sab kuch kar rahi hu. Uske liye mai ne apne aapko DK ke hatho bech dia. Itne behtreen aur first class paying job ko mai kaise chhor sakti thi tum khud hi bola. Mamta ne bola ke haa tum theek kehti ho Sneha har kisi ko apni private life jeena ka poora adhikaar hai aur mere khayal se agar itne ache job ke liye aur apne husband ke liye apni jawani ko dao par laga rahi ho to usko bhi sochna chahiye ke usko barbadi se bachane ke liye agar tum yeh sab nahi karti to aaj shaed wo road pe hota. Mamta ko phir mai ne apne confidence mai le ke apne aur DK ke bare mai bata dia ke usne kaise mujhe Dopeher se le ke raat tak continue choda aur gand mar ke meri halat buri kar di. Mamta ne kaha ke haa mujhe pata hai DK ko chodne ka bohot shouk hai par pata nahi kia bat hai koi ladki uske pas ziada dino tak nahi reh pati to mai ne bola ke tumko pata hai uska Lund kaisa hai to usne bola ke nahi to mai ne poocha Hathi ka Lund dekha hai to wo hasne lagi to mai ne bola ke sach Mamt uska Lund kisi hathi ke Lund se chota nahi hai shaed isi liye ladkiyan uske Lund ko jhel nahi pati hogi isi liye shaed ziada dino tak uske sath nahi reh pati hogi par meri majboori thi kia karu bass chudwa lia aur mai uske Lund ki deewani ho gayi hu. Mamta meri bato ko muh khole hairat se sun rahi thi. Phir usne bola ke chalo Sneha theek hai kia karna hai yaar tumhai job chahiye aur DK ko choot bass wo tumhari zaroorat poori karega tum uski zaroorat poori karna. Mai ne poocha ke tumne nahi try kia yeh job to usne bola ke nahi sneha meri qualification aur experience accounts ki nahi hai isi liye aur phir muskurate hue boli ke uske hathi Lund se to mar hi gayee hoti aur phir ham dono mil kar hasne lage. Usne bola ke DK to abhi aur 30 minutes mai ayege. Itni der mai boy coffee rakh ke chala gaya to ham dono coffee pine lage.

Coffee peene ke bad hai idhar udhar ki batein kar rahe the. Thodi der mai Mamta ki table ka buzzer baja to Mamta ne kaha ke Miss Sneha is here her sir to speaker pe DK ki awaz aye ke send her in please to Mamta ne Ok Sir bola aur mujhe hath se ishara kia aur aankh marke thumps up ka nishan banaya to mai bhi muskuraati DK ke room ke ander chali gayee. Mujhe dekhte hi DK apni chair se utha aur mujhe apni baho mei le ke choomne laga aur mujh

se zor se lipat gaya. Mei to jaise pagal hi ho gayee thi. Mai ne bhi usko bohot kass ke pakad lia aur ham tongue sucking kiss karne lage aur ek hi minute ke ander ham dono ne ek doosre ke kapde utar diye aur nange ho gaye. DK ne mujhe meri bagahal se pakad ke uthaya aur table pe bitha dia aur khud neeche baith ke meri choot ko chaatne laga to mera hath bhi uske sar pe aa gaya aur mai uske sar ko apni choot ke ander dabane lagi aur masti mai zor zor se ragadne lagi. Mujhe bohot hi maza aa raha tha. Sabiha ki tongue bohot hi soft thi uske chaatne mai aur DK ke chatne mai thoda farak tha. DK ki tongue thodi rough thi aur iska maza bhi kuch hi tha. Mai DK ka sar pakad kar uske muh ko chodti rahi aur meri aankhain masti mai band ho gayee thi aur aaaaahhhhhhhhhhhh ssssssssssss DDDDDDDDDDDKKKKKKKK mmmaaaaiiiiiii ggggggggaaaaaaaiiiiiiiiii hhhhhaaaaaa ssssssssss aur phir ek minute ke ander mera badan akadne laga aur mai DK ke muh mai jhadne lagi.

DK foran apni jagah se uthe aur meri geeli choot ke surakh mai apne Musal Lund ko rakha. Mujhe unke Lund ke mote supade ko dekh ke ek bar phir se dar lagne laga. Aaj unka Lund kuch ziada hi khatarnaak lag raha tha. Ek taraf to aise shandar Lund se chudwane ki khwahish aur doosri taraf choot ke phatne kad dar dono ek sath hi hone lage the. Par Chudai ka shouk darr aur takleef pe haavi ho gaya aur mai chudasi ho gayee. Mai ne apni tangein DK ki kamar mai lapet li aur unke chootado ko apne hatho se pakad ke apni or khecha. Meri gand table ke bilkul corner mai thi aur DK ke musal ka mota chamakdaar supada jis mai se khoob bohot pre cum nikal raha tha meri choot ke surakh ke samne tha. Unko apni or khechne se Lund ka supada meri choot ke surakh mei ghus gaya, Sirf supade se hi meri choot ka surakh bhar gaya aur mere sare badan mai ek jhurjhuri si aa gayee aur choot chudne ko machalne lagi. DK jhuk ke meri chuchion ko choosne lage aur dono hatho se mere chootado ko masalne lage. Mai chudne ko aisi deewani ho rahi thi ke apni gand ko khud hi aage kar ke unke Loude ko choot ke ander lene ki koshish karne lagi. DK dheere dheere se aage peeche ho ke apne Loud eke supade ko meri geeli choot ke surakh ke ander baher karne lage. Mera bass nahi chal raha tha ke unke Lund ko apni choot ke ander dal du aur wo mujhe dhana dhan chod chod ke ek bar phir se meri choot ka bharta bana de. Jaisa ke mai pehle hi bata chuki hu ke mere boobs aur especially nipples bohot hi sensitive hai aur unke choosne se mere tan badan mai vasna ki aag sulag uthi aur mai table se uth uth ke unke Lund ko apni choot ke ander lene ko machalne lagi.

kramashah......................