Recession Ki Maar -रिसेशन की मार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:30

रिसेशन की मार पार्ट--24

गतान्क से आगे..........

वो मेरे ऊपेर झुके हुए थे, अपनी ज़ुबान को मेरे मूह मे डाल दिया था और हम दोनो एक दूसरे की ज़ुबान को किसी नये नवेले लवर्स की तरह से चूस रहे थे और वो धीरे धीरे अपना लंड अंदर बाहर कर के मुझे चोदने लगे. अब वो बोहोत ही इतमीनान से चोद रहे थे जैसे चुदाई का खेल खेल रहे हो. लंड अंदर बाहर हो रहा था जैसे कोई मशीन हो और ऑटोमॅटिकली लंड, चूत के अंदर बाहर चल रहा हो. टेबल से फिर से शराब का ग्लास उठाया और मेरे हाथ मे दे दिया और खुद बॉटल ही मूह को लगा ली. मैं एक बार फिर से शराब को एक ही घूँट मे पी गयी और पूरा ग्लास खाली कर दिया. अब मैं किसी पक्के बेवड़े शराबी की तरह से शराब पी रही थी. आक्च्युयली मैं नशे मे धुत्त थी लैकिन जैसे ही डीके ने पहले टाइम एक ही झटके मे मेरी चूत को फाडा था, उसी वक़्त मेरा सारा नशा उतर गया था इसी लिए मुझे अब शराब पीते हुए ऐसा लग रहा था जैसे मैं फ्रेश होकरअब शराब पी रही हू इसी लिए ग्लास को अपने मूह से लगाया और सारी शराब ख़तम होने तक अपने मूह से ग्लास को अलग नही किया. अब फिर से मेरे बदन मे जान पड़ गयी थी. कुछ तो शराब का असर था और कुछ डीके का लंड अपनी चूत के अंदर फील कर के मैं मस्ती मे आ गयी थी. चूत के अंदर जो जेल्ली थी अब उसका असर अभी था और चूत स्लिपरी थी. डीके बोहोत ही मस्त चुदाई कर रहे थे. लंड को अब पूरा हेड तक चूत के बाहर निकाल निकाल के मार रहे थे और मेरी चूत की पंखाड़ियाँ लंड के साथ अंदर जा रही थी और लंड के साथ बाहर आ रही थी.

डीके मुझे पागलो की तरह से चोदने लगे

मेरी चूत के पंखाड़ियाँ मोटे हो गये थे लैकिन ऐसे दरद मे भी एक मज़ा था. मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था. डीके के धक्के अब तेज़ होने लगे थे और फिर देखते ही देखते वो मुझे पागलो की तरह से चोदने लगे और उनका एक पवरफुल धक्का जो मेरी बच्चे दानी से लगा तो मैं फॉरन ही काँपते हुए झड़ने लगी और उन से लिपट गयी. मुझे बे इंतेहा मज़ा आ रहा था उनका मोटा लंड मेरी चूत के अंदर बोहोत ही अछा लग रहा था और मैं किसी चीप बाज़ारु रंडी की तरह बोल रही थी. सीखह्हूवूवाय्ड्डडोवूवू हहाआऐईईई आऐईसस्स्सीईए हहिईीईई म्‍म्म्माआर्र्रूऊओ चहूऊततत कककूऊव प्पफाआद्दद्ड डाअलल्ल्लूऊओ ईईईईहह ऊऊओिईईईईईई माआआआ ककक्कीईईईय्ाआ म्‍म्म्ममाआआसस्स्स्स्थथत्तत्त ल्ल्ल्ल्ल्ल्लूऊऔउउउउउद्द्द्द्दाआअ हहाऐईयईई आऐईइस्स्स्स्सीई सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ड्ड्ड्ड्ड्द्द्द्द कककककक हहाआईईए टत्त्तीईररररीईई ल्ल्लूउउउन्न्ञँद्द्द्द्ड ककक्कीईईई प्प्प्पूऊज्ज्ज्जाआ सीसीक्कययारररॉनंग्ज्ज्जियीयैआइयैयीयीयियी आआईएसस्साअ म्मास्स्स्थथत्टटटतत्त ल्ल्ल्लुउउउउउउन्न्न्न्न्द्द्द्द्द हहाइईईईईईईईईई र्र्र्र्र्र्र्रररीईईई त्ट्टीईईईरर्र्र्र्र्र्ररराआआआआआअ ककककककककचूऊऊद्द्दद्ड. मेरी छोटी सी चिकनी चूत बड़े और मोटे लंड का मज़ा लेने लगी थी. मैं अपनी गंद उठा उठा के अपनी चूत को उनके मूसल पे घुसेड रही थी. बहुत ही मज़ा आ रहा था यह चुदाई मे. यह सब सुनके वो और जोश मे आ गये थे और एक

बार फिर तूफ़ानी रफ़्तार से चोदने लगे कमरा चुदाई के पचा पच की मधुर संगीत से गूँज रहा था. जितने टाइम उनका लंड मेरी बच्चे दानी से टकराता था, मैं उतने टाइम झाड़ जाती थी. पता नही मैं मस्ती मे अब तक कितने टाइम झाड़ चुकी थी. मेरी चूत रस से भर चुकी थी और अब डीके का मिज़ाइल लंड मेरी चूत मे आसानी से अंदर बाहर हो के चोद रहा था. मेरी चूत अब आसानी से उनका पूरा लंड अपने अंदर तक ले रही थी अब मुझे कोई तकलीफ़ नही हो रही थी, मेरी छोटी चूत उनके मोटे लंड की आदि हो चुकी थी और मुझे उनके मूसल से थोड़ा भी दरद नही हो रहा था बलके मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था.

डीके रिलॅक्सिंग चेर पे लेटे लेटे मुझे चोद रहे है

मेरी चूत अपनी पूरी हदो को पार करते हुए पूरी तरह से खुल चुकी थी. डीके के लंड से अभी अभी थोड़ी ही देर पहले यह इतनी बोहोत सी मलाई निकल चुकी थी और मुझे पता था के वो इतनी जल्दी अपनी मलाई छोड़ने वाले नही थे

लैकिन मैं तो ऐसी पवरफुल चुदाई से झड़ती ही चली जा रही थी. देखते ही देखते उनके धक्के तूफ़ानी होते चले गये और अब वो मुझे बोहोत टाइट पकड़ के पागलो की तरह से चोद रहे थे ऐसा लग रहा था जैसे रिलॅक्सिंग चेर मे ज़लज़ला आ गया हो. वो मुझे ऐसे चोद रहे थे लाइक देअर ईज़ नो टुमॉरो. उनका लंड अपनी चूत के अंदर मुझे कुछ ज़ियादा ही मोटा और फूलता हुआ महसूस होने लगा तो मैं फिर समझ गयी के अब यह अपनी चरम सीमा पर पोहोच चुके है. और सच मे हुआ भी ऐसा ही चूत को मारते मारते उन्हो ने एक टाइम अपना लंड, चूत के पूरा बाहर तक निकाल लिया और फिर इस से पहले के मेरी चूत संभाल सके, मेरी चूत पे एक ज़ोर का झटका मारा, उनका मूसल लंड किसी तीर की तरह से मेरी सूजी हुई चूत के अंदर घुसता ही चला गया और सीधा मेरी फड़कती हुई बच्चे दानी के अंदर घुस्स कर ही रुका, मेरी आँखो से एक बार फिर से आँसू निकलने लगे ( शाएद वो लड़की जानती होगी जिसे ऐसे मस्त लंड से चुदवाने का मोका मिला होगा के यह आँसू तकलीफ़ के नही बलके मज़े के और सॅटिस्फॅक्षन पाने के और ख़ुसी के आँसू होते है, ऐसे आँसू चूत के तृप्त पाने के बाद ही निकलते है ). उनका लंड का सूपड़ा मेरी बच्चे दानी के मूह के अंदर ज़ोर से चुभ गया था और मेरे मूह से एक चीख निकल गयी म्‍म्म्ममममाआआआआअरर्र्र्ररर गगगगगगगगाआआआआयययययययईईई म्‍म्म्माआआआआ, फफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ और मैं उनसे बहुत ज़ोर से लिपट गयी और फिर उसी झटके के साथ ही अपने मूसल लंड को मेरी चूत के अंदर ही दफ़न कर दिया और लंड मे से एक बार फिर से मोटी मोटी गरम गरम गाढ़ी गाढ़ी मलाई का फव्वारा उड़ उड़ के मेरी बच्चे दानी को भरने लगा. उनकी पहली धार के साथ ही मैं एक बार फिर से झाड़ गयी. वो फिर से बे दम हो के मेरे बदन पे गिर पड़े. हम दोनो एक बार फिर से पसीने से भीग चुके थे. एक तरफ तो मैं ऐसे ख़तरनाक लंड से चुदाई के बाद थक्क गयी थी तो दूसरी तरफ ऐसी मस्त चुदाई से एक दम से निहाल हो उठी थी. मेरा रोम रोम ख़ुसी और सॅटिस्फॅक्षन से झूम रहा था. ऐसी मस्त चुदाई शाएद किसी किस्मेत वाली लड़की को ही नसीब होती होगी और मैं अपने आपको खुस किस्मेत समझने लगी थी.

डीके का मोटा लंड ऐसा था जिसे देखते ही मेरी गंद फॅट गयी

वो थोड़ी देर तक मेरे ऊपेर ऐसे ही गहरी गहरी साँसें लेते पड़े रहे. हम दोनो के बदन एक बार फिर से पसीने से भीग चुके थे. उनकी आँखें बंद हो गयी थी और मेरे कान मैं धीरे से बोले स्नेहा यू आर सिंप्ली अमेज़िंग, यू आर दा बेस्ट, यू आर गोयिंग टू बी विथ मी फॉरेवर. आइ विल कीप यू ऑल्वेज़ विथ मी. अपने से कभी जुदा नही होने दूँगा तुम जो चाहोगी मिलेगा. अपनी इतनी तारीफ सुनके मेरे दिल मे लड्डू फूट रहे थे और दिमाग़ खुशी से भर गया था. लड़कियो को पता है के वो किसी गैर मर्द से अपनी तारीफ सुन के कितनी खुश होती है. मैं डीके को बे तहाशा चूमने लगी और बोली के डीके आइ आम ऑल युवर्ज़ तुम सही मानो मे मर्द हो मुझे आज तक किसी ने भी इतना मस्त नही चोदा था. मैं तो तुम्हारे मूसल लंड की दीवानी हो गयी हू तुम जब चाहोगे जीतने टाइम चाहोगे मैं तुम से चुदवाने को तय्यार हू आंड फॉर दट मॅटर तुम जैसा कहोगे मैं वैसा ही करूँगी बिल्कुल ऐसे जैसे कोई पति वर्ता औरत अपने पति की हर बात मानती है तो डीके मुझे किस करने लगे और बोले के सच स्नेहा तुमने मुझे वो खुशी दी है जिसका मैं पता नही कितने सालो से इंतेज़ार कर रहा था. कोई लड़की भी मेरे लंड को अपनी चूत के पूरा अंदर लेने को तय्यार ही नही होती थी और अगर किसी को बिना बताए के पूरा लंड चूत के अंदर तक पेल देता तो वो बेहोश ही हो जाती और मैं उसके चूत से निकले खून को सॉफ करता ही रह जाता और फिर वो लड़की मेरे सामने कभी नही आती. मैं तो पागल हो गया था ऐसी सिचुयेशन से आज मुझे अपने टक्कर की लड़की मिल गयी है और अब मैं तुमको अपने दिल की रानी बना के रखुगा. एक

सेकेंड के लिए मेरे दिमाग़ मे अपने पति सतीश का ख़याल आया फिर फॉरन ही यह ख़याल आया के उसने ही तो कहा था के जॉब के लिए तुम जो कर सकती हो करो ईवन एमडी से चुदवा भी सकती हो तो क्या हुआ अब उसके कहने से ही तो मैं एमडी से चुदवाने पे तय्यार हुई और फिर यह भी ख़याल आया के सतीश भी तो मेरी सहेली उर्मिला को चोद रहा होगा. और अगर वो किसी दूसरी औरत को चोद सकता है तो उसकी वाइफ क्यों नही किसी दूसरे मर्द से चुदवा सकती. यह सोच के मैं ने एक इतमीनान की लंबी और ठंडी साँस ली तो डीके हस्ने लगे और पूछा क्या बात है स्नेहा ? तो मैं ने बोला के कुछ नही डीके आज से मैं ने तुमको अपने पति का दर्जा दे दिया है और अब मैं तुम्हारे साथ किसी पतिवार्ता वाइफ की तरह से ही रहूंगी तुम जो कहोगे करूँगी, तुम्हारी हर बात मानूँगी, तुम्हारा और ऑफीस का पूरा ख़याल रखूँगी आज से क्या अभी से मैं सिर्फ़ और सिर्फ़ तुम्हारी हू तुम्हारी हर बात मेरे लिए ऑर्डर का दर्जा रखती है. तो उसने मुस्कुराते हुए कहा के मैं जैसा कहूँगा तुम करोगी? तो मैं ने बोला के आँख बंद के करूँगी तुम बोल के तो देखो तो डीके ने बोला के सपोज़ मैं किसी और के साथ मिलके तुम्है चोदु तो ? तो मैं ने कहा के तुम जिस से कहोगे चुदवा लूँगी मैं ने एक बार कह दिया तो कह दिया बॅस. फिर डीके ने बोला के अछा अगर मैं तुमसे बोलू के मुझे तुम्हारी गंद अभी मारनी है तो ? तो मैं ने कहा के हा ज़रूर मार लेना पर एक विनती है. डीके ने पूछा क्या ? तो मैं ने बोला के इतनी देर से शराब पी रही हू मुझे बोहोत ज़ोर की सूसू लगी है तो डीके हस्ते हुए बोले अरे कोई बात नही तुम चलो बाथरूम मे जाओ और ज़रा अपनी चूत को गरम पानी से धो लो. उनका लंड मेरी चूत के अंदर अभी तक फुल्ली एरेक्ट हालत मे ऐसे रखा था जैसे कोई तलवार अपने केस मे रखी रहती है. उन्हो ने अपने पैर ज़मीन पर टीका दिए और मेरे ऊपेर से उठ गये और अपने लंड को मेरी फूली हुई चूत से बाहर निकाल लिया. जैसे ही उनका मूसल लंड मेरी चूत से बाहर एक प्लॉप की आवाज़ के साथ निकला मेरी चूत से ढेर सारा खून और उनकी ग्लास भर मलाई निकल के चेर पे गिरने लगी. मेरी चूत से खून ऐसे बह रहा था जैसे चूत के अंदर कोई घाव लगा हो. खून और मलाई का मिक्स्चर गुलाबी था. मुझे महसूस हुआ के मेरी चूत बे इंतेहा दरद कर रही थी. मेरा हाथ ऑटोमॅटिकली मेरी चूत पे आ गया तो मेरी उंगलियाँ तो आदि थी अपनी चूत को पहचानती थी पर यह जो हालत हो गयी थी चूत की मैं खुद भी नही पहचान पाई. चूत की पंखाड़ियाँ सूज के लाल होगेयी थी और चूत फूल के डबल रोटी की तरह हो गयी थी. मैं टपकते खून के साथ उठी तो मेरी चूत से निकलता खून मेरी टाँगो की इन्नर साइड से होता हुआ ज़मीन पे गिरने लगा. मैं रिलॅक्सिंग चेर पे से उठी तो तकलीफ़ से किसी शराबी की तरह से लड़खड़ा रही थी.

मैं ऐसी ही हालत मे चलते चलते उनके प्राइवेट कमरे के बाथरूम मे चली गयी और WC पे बैठ ते ही मेरी चूत से गुलाबी रंग का मिक्स्चर निकलने लगा

और चूत अंदर से जल रही थी इसी लिए पिशाब अभी नही निकल रहा था. मैं पिशाब को ऑटोमॅटिकली अपने मसल्स से कंट्रोल कर रही थी. थोड़ी देर के बाद जब मुझे थोड़ा आराम आने लगा तब मैं ने चूत के मसल्स को थोड़ा सा रिलॅक्स किया तो पिशाब पहले तो रुक रुक के आने लगा. जैसे जैसे पिशाब मेरी चूत से बाहर निकल रहा था चूत के अंदर जलन का एहसास हो रहा था. चूत अंदर से घायल हो गयी थी और पूरी तरह से लाल हो गयी थी. मैं अपनी बर्बाद और टूटी फूटी चूत को बड़े प्यार से अपने हाथ से सहला रही थी और हैरान हो रही थी के आख़िर मेरी चूत मे इतना बड़ा मोटा लोहे जैसा तगड़ा लंड कैसे घुस्स गया था. दूसरे ही सेकेंड मैं अपनी चूत की खुस नसीबी पे मुस्कुरा दी के माइ पुसी हॅज़ सर्वाइव्ड दा डिज़ास्टर आंड हरिकेन कॉज़्ड बाइ दट किल्लर लंड. अभी मैं WC पर ही बैठी थे के डीके अंदर आ गये. उनका मूसल लंड अभी तक सोया नही था बलके कुछ ज़ियादा ही ख़तरनाक दिखाई दे रहा था और इधर मेरी गंद फॅट रही थी. उनका लंड भी हमारी मिली जुली क्रीम से और खून से लत पथ था शाएद चेर के पास से यहा बाथरूम मे आने तक रास्ते मे उनके लंड से कुछ गुलाबी बूँदें भी टाप्की होंगी. मैं अपनी टाँगें खूब चौड़ी कर के WC पर बैठी थी और अब मेरी दोनो टाँगो के बीचे मे अछी ख़ासी जगह थी और अभी तक मेरी चूत का सुराख खुल बंद हो रहा था. डीके मेरे सामने आ के अपने लहराते लंड के साथ खड़े हो गये और अपने लंड को अपने हाथो से पकड़ के मेरी चूत का निशाना लगाया और उनके लंड से मोटी पिशाब की धार निकल के ज़ोर से मेरी चूत पे पड़ने लगी. बहुत मोटी और तेज़ धार थी मुझे किसी पाइप से फोर्स के साथ निकलने वाले पानी की धार जैसे लग रही थी जैसे वॉटर कॅनन से पवरफुल धार निकलती है. जैसे ही उनका पिशाब मेरी चूत से लगा मेर बदन मे एक अजीब झूर झूरी से आने लगी और मैं WC पे पीछे हट के रिलॅक्स बैठ गयी और अपने पैर चौड़े कर लिए ऐसा करने से मेरी चूत कुछ और सामने आ गयी थी और पिशाब की तेज़ धार मेरी चूत पे पड़ रही थी. दोस्तो क्या बताउ के कितना बेहतरीन एहसास था वो. उनका पिशाब मेरी चूत को धो रहा था और मैं ऐसे पोज़िशन मे अपनी कमर उठा दी थी के उनकी पिशाब की धार डाइरेक्ट मेरी चूत के सुराख मे पड़ रही थी और उनका पिशाब मेरी चूत के अंदर जा के बाहर गिरने लगा. एकटाइम तो अपने ब्लॅडर पे कुछ दबाव डाल के एक ज़ोर से धार मारी के मेरी चूत झड़ने लगी और मैं बे दम हो गयी. इतनी देर मे उनका पिशाब भी ख़तम हो चुका था. उन्हो ने झुक के मुझे किस किया तो मैं बोहोत खुश हो गयी और हाथ बढ़ा के उनके लंड को पकड़ के दबा दिया. ऐसे दबाने से उनके लंड से थोड़ी और पिशाब की बूँदें टपक पड़ी जिसे मैं ने अपने हाथ मे ले लिया और अपने बूब्स पे मल दिया तो डीके मुस्कुरा दिए और बोले के वाह स्नेहा मेरी जान तुमने एक पठान का दिल जीत लिया आज से यह पठान तुम्हारा हुआ तो मैं अब फुल्ली एमोशनल हो गयी थी और मेरी आँखो से आँसू

छलकने लगे और मैं लरज़ती आवाज़ मे बोली आइ लव यू डीके आइ लव यू सो मच यू आर दा बेस्ट आइ रियली लव यू. आइ आम नोट टेल्लिंग टू गेट दा जॉब बट आइ रियली लव यू फ्रॉम दा बॉटम ऑफ माइ हार्ट आंड सौल. अब मेरी बदन के एक एक इंच पे डीके का हक़ है. इतना सुनते ही उन्हो ने एक और किस किया और पूछा चूत का क्या हाल है तो मैं ने बोला के बोहोत दुख रही है अंदर से जलन हो रही है तो उन्हो ने बाथ टब का शवर खोल दिया और उस्मै रब्बर के स्टॉपर्स लगा दिया जिस की वजह से बाथ टब मे पानी भरने लगा. उन्हो ने मेडिसिन कॅबिनेट खोला और कुछ पर्फ्यूम आंड कुछ मेडिसिन उस्मै डाल के मिक्स करने लगे और मुझे बोला के तुम इस्मै बैठ जाओ मेरी जान तुम्हारी चूत ठीक हो जाएगी. मैं ने WC के साथ लगे हुए पाइप से चूत को धोया. ठंडा पानी चूत मे लगने से थोड़ी जलन तो हो रही थी पर अछा भी लग रहा था.

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--24

gataank se aage..........

Wo mere ooper jhuke hue tha, apni zuban ko mere muh mai dal dia tha aur ham dono ek doosre ki zuban ko kisi naye nawele lovers ki tarah se choos rahe the aur wo dheere dheere apna Lund ander baher kar ke mujhe chodne lage. Ab wo bohot hi itmenan se chod rahe the jaise chudai ka khel khel rahe ho. Lund ander baher ho raha tha jaise koi machine ho aur automatically Lund, choot ke ander baher chal raha ho. Table se phir se sharab ka glass uthaya aur mere hath mai de dia aur khud bottle hi muh ko laga li. Mai ek bar phir se sharab ko ek hi ghoont mai pi gayee aur poora glass khali kar dia. Ab mai kisi pakke bewde sharabi ki tarah se sharab pi rahi thi. Actually mei nashe mai dhutt thi laikin jaise hi DK ne pehle time ek hi jhatke mai meri choot ko phada tha, usi waqt mera sara nasha utar gaya tha isi liye mujhe ab sharab peete hue aisa lag raha tha jaise mai fresh ab sharab pi rahi hu isi liye glass ko apne muh se lagaya aur sari sharab khatam hone tak apne muh se glass ko alag nahi kia. Ab phir se mere badan mai jaan pad gayee thi. Kuch to sharab ka asar tha aur kuch DK ka Lund apni choot ke ander feel kar ke mai masti mai aa gayee thi. Choot ke ander jo jelly thi ab uska asar abhi tha aur choot slippery thi. DK bohot hi mast chudai kar rahe the. Lund ko ab poora head tak choot ke baher nikal nikal ke maar rahe the aur meri choot ki pankhadiyan Lund ke sath ander ja rahi thi aur Lund ke sath baher aa rahi thi.

DK Mujhe Pagalo ki tarah se chodne lage

Meri Choot ke pankhadiyan mote ho gaye the laikin aise darad mai bhi ek maza tha. Mujhe bohot hi maza aa raha tha. DK ke dhakke ab tez hone lage the aur phir dekhte hi dekhte wo mujhe pagalo ki tarah se chodne lage aur unka ek powerful dhakka jo meri bache dani se laga to mai foran hi kaampte hue jhadne lagi aur un se lipat gayee. Mujhe be inteha maza aa raha tha Unka mota Lund meri choot ke ander bohot hi acha lag raha tha aur mai kisi cheap baazaru randi ki tarah bol rahi thi. Cccchhhhooodddddooooo hhhhaaaaaeeeeee aaaeesssseeeee hhhhiiiiii mmmmaaaarrrooooo chhhhoooottt kkkooooo ppphhhaaadddd daaallllooooo eeeeeeeeehhhhhhhhhhh oooooiiiiiiiii maaaaaaaa kkkkiiiiiaaaa mmmmmaaaaaassssstttttt lllllllooooouuuuuudddddaaaaa hhhhaaaiiiii aaaiiiissssseeee ssssssssssssss DDDDDdddd KKKKKK hhhhhaaaaeeeee tttteeeerrrreeeeee llluuuunnnnddddd kkkkiiiii ppppoooojjjjaaaa kkkkkaaaarrrroooonnnngggggiiiiiiiiiii aaaaeeesssaaa mmaasssttttttttt lllluuuuuuunnnnnddddd hhhhhhhhhhaaiiiiiiiiiii rrrrrrrrrreeeeeeee ttteeeeeeeeerrrrrrrrrraaaaaaaaaaaaa ccccccccchhhhhhhhhooooooddddd. Meri choti si chikni choot bade aur mote Lund ka maza lene lagi thi. Mai apni gand utha utha ke apni choot ko unke musal pe ghused rahi thi. Bohot hi maza aa raha tha yeh chudai mai. Yeh sab sunke wo aur josh mai aa gaye the aor ek

bar phir toofani raftaar se chodne lage kamra chudai ke pacha pach ki madhur sangeet se goonj raha tha. Jitney time unka Lund meri bache dani se takrata tha, mai utne time jhad jati thi. Pata nahi mai masti mai ab tak kitne time jhad chuki thi. Meri choot rass se bhar chuki thi aur ab DK ka missile Lund meri choot me aasaani se ander baher ho ke chod raha tha. Meri choot ab aasaani se unka poora Lund apne ander tak le rahi thi ab mujhe koi takleef nahi ho rahi thi, meri choti choot unke mote Lund ki aadi ho chuki thi aur mujhe unke musal se thoda bhi darad nahi ho rha tha balke mujhe bohot hi maza aa raha tha.

DK Relaxing chair pe lete mujhe chod rahe hai

Meri choot apni poori hado ko paar karte hue poori tarah se khul chuki thi. DK ke Lund se abhi abhi thodi hi der pehle ih itni bohot si malayee nikal chuki thi aur nujhe pata tha ke wo itni jaldi apni malayee chhorne wale nahi the

laikin mai to aisi powerful chudai se jhadti hi chali ja rahi thi. dekhte hi dekhte unke dhakke toofani hote chale gaye aur ab wo mujhe bohot tight pakad ke pagalo ki tarah se chod rahe the aisa lag raha tha jaise relaxing chair mai zalzala aa gaya ho. Wo mujhe aise chod rahe the like there is no tomorrow. Unka Lund apni choot ke ander mujhe kuch ziada hi mota aur phoolta hua mehsoos hone laga to mai phir samajh gayee ke ab yeh apni charam seema par pohoch chuke hai. Aur sach mai hua bhi aisa hi choot ko maarte maarte unho ne ek time apna Lund, choot ke poora baher tak nikal lia aur phir iss se pehle ke meri choot sambhal sake, meri choot pe ek zor ka jhatka mara, unka Musal Lund kisi teer ki tarah se meri sooji hui choot ke ander ghusta hi chala gaya aur seedha meri phadakti hui bache dani ke ander ghuss kar hi ruka, meri aankho se ek bar phir se aansoo nikalne lage ( shaed wo ladki janti hogi jise aise mast Lund se chudwane ka moka mila hoga ke yeh aansoo takleef ke nahi balke maze ke aur satisfaction paane ke aur khusi ke aansoo hote hai, aise aansoo choot ke tript pane ke bad hi nikalte hai ). Unka Lund ka supada meri bache dani ke muh ke ander zor se chhub gaya tha aur mere muh se ek cheekh nikal gayee mmmmmmmaaaaaaaaaaarrrrrrr ggggggggaaaaaaaaayyyyyyyeeeeeeee mmmmaaaaaaaaaa, ffffffffffffffff aur mai unse bohto zor se lipat gayee aur phir usi jhatke ke sath hi apne musal Lund ko meri choot ke ander hi dafan kar dia aur Lund mai se ek bar phir se moti moti garam garam gaadhi gaadhi malayee ka fawwara ud ud ke meri bache dani ko bharne laga. Unke pehli dhar ke sath hi mai ek bar phir se jhad gayee. Wo phir se be dam ho ke mere badan pe gir pade. Ham dono ek bar phir se paseene se beeeg chuke the. Ek taraf to mai aise khatarnaak Lund se chudai ke bad thakk gayee thi to doosri taraf aisi mast chudai se ek dum se nihar ho uthi thi. Mera rom rom khusi aur satisfaction se jhoom raha tha. Aisi mast chudai shaed kisi kismet wali ladki ko hi naseeb hoti hogi aur mai apne aapko khus kismet samajhne lagi thi.

DK Ka Mota Lund aisa tha jise dekhte hi meri gand phat gayee

Wo thodi der tak mere ooper aise hi gehri gehri saansein lete pade rahe. Ham dono ke badan ek bar phir se paseene se bheeg chuke the. Unki aankhein band ho gayee thi aur mere kaan mai dheere se bole Sneha you are simply amazing, you are the best, You are going to be with me forever. I will keep you always with me. Apne se kabhi juda nahi hone dunga tum jo chahogi milega. Apni itni tareef sunke mere dil mai laddoo phoot rahe the aur dimagh khushi se bhar gaya tha. Ladkio ko pata hai ke wo kisi ghair mard se apni tareef sun ke kitni khush hoti hai. Mai DK ko be tahasha choomne lagi aur boli ke DK I am all yours tum sahi mano mai mard ho mujhe aaj tak kisi ne bhi itna mast nahi choda tha. Mai to tumhare Musal Lund ki deewani ho gayee hu tum jab chahoge jitney time chahoge mai tum se chudwane ko tayyar hu and for that matter tum jaisa kahoge mai waisa hi karungi bilkul aise jaise koi pati varta aurat apne pati ki har baat maanti hai to DK mujhe kiss karne lage aur bole ke sach Sneha tumne mujhe wo khushi di hai jiska mai pata nahi kitne salo se intezar kar raha tha. Koi ladki bhi mere Lund ko apni choot ke poora ander lene ko tayyar hi nahi hoti thi aur agar kisi ko bina bataye ke poora Lund choot ke ander tak pel deta to wo behosh hi ho jati aur mai uske choot se nikle khoon ko saaf karta hi reh jata aur phir wo ladki mere samne kabhi nahi aati. Mai to pagal ho gaya tha aisi situation se aaj mujhe apne takkar ki ladki mil gayee hai aur ab mai tumko apne dil ki raani bana ke rakhuga. Ek

second ke liye mere dimagh mai apne pati Satish ka khayal aaya phir foran hi yeh khayal aaya ke usne hi to kaha tha ke job ke liye tum jo kar sakti ho karo even MD se chudwa bhi sakti ho to kia hua ab uske kehne se hi to mai MD se chudwane pe tayyar hui aur phir yeh bhi khayal aaya ke Satish bhi to meri saheli Urmila ko chod raha hoga. Aur agar wo kisi doosri aurat ko chod sakta hai to uski wife kyon nahi kisi doosre mard se chudwa sakti. Yeh soch ke mai ne ek itmenan ki lambi aur thandi saans li to DK hasne lage aur poocha kia bat hai Sneha ? to mai ne bola ke kuch nahi DK aaj se mai ne tumko apne pati ka darja de diya hai aur ab mai tumhare sath kisi pativarta wife ki tarah se hi rahungi tum jo kahoge karungi, tumahri har bat manungi, tumhara aur office ka poora khayal rakhungi aaj se kia abhi se mai sirf aur sirf tumhari hu tumhari har baat mere liye order ka darja rakhti hai. To usne muskurate hue kaha ke mai jaisa kahunga tum karogi? To mai ne bola ke aankh band ke karungi tum bol ke to dekho to DK ne bola ke suppose mai kisi aur ke sath milke tumhai chodu to ? to main ne kaha ke tum jis se kahoge chudwa lungi mai ne ek baar keh dia to keh dia bass. Phir DK ne bola ke acha agar mai tumse bolu ke mujhe tumhari gand abhi marni hai to ? to mai ne kaha ke haa zaroor mar lena par ek vinti hai. DK ne poocha kia ? to mai ne bola ke itni der se sharab pii rahi hu mujhe bohot zor ki susu lagi hai to DK haste hue bole are koi bat nahi tum chalo bathroom mai jao aur zara apni choot ko garam pani se dho lo. Unka Lund meri choot ke ander abhi tak fully erect halat mai aise rakha tha jaise koi talwar apne case mai rakhi rehti hai. Unho ne apne pair zameeen par tika diye aur mere ooper se uth gaye aur apne Lund ko meri phooli hui choot se baher nikal liaya. Jaise hi unka Musal Lund meri choot se baher ek plop ki awaz ke sath nikla meri choot se dher sara khoon aur unki glass bhar malayee nikal ke chair pe girne lagi. Meri choot se khoon aise beh raha tha jaise choot ke ander koi ghao laga ho. Khoon aur Malayee ka mixture gulabi tha. Mujhe mehsoos hua ke meri choot be inteha darad kar rahi thi. Mera hath automatically meri choot pe aa gaya to meri unglian to aadi thi apni choot ko pehchanti thi par yeh jo halat ho gayee thi choot ki mai khud bhi nahi pehchan payee. Choot ke pankhadiyan sooj ke laal hogaye the aur choot phool ke double roti ki tarah ho gayee thi. Mai tapakte khoon ke sath uthi to meri choot se nikalta khoon meri tango ki inner side se hota hua zameen pe girne laga. Mai relaxing chair pe se uthi to takleef se kisi sharabiki tarah se ladkhada rahi thi.

Mai aisi hi halat mai dolte dolte unke private kamre ke bathroom mai chali gayee aur WC pe baith te hi meri choot se gulabi rang ka mixture nikalne laga

aur choot ander se jal rahi thi isi liye pishab abhi nahi nikal raha tha. Mai pishab ko automatically apne muscles se control kar rahi thi. Thodi der ke bad jab mujhe thoda araam aane laga tab mai ne choot ke muscles ko thoda sa relax kia to pishab pehle to ruk ruk ke aane laga. Jaise jaise pishab meri choot se baher nikal raha tha choot ke ander jalan ka ehsaas ho raha tha. Choot ander se ghayal ho gayee thi aur poori tarah se laal ho gayee thi. Mai apne barbaad aur tooti phoot choot ko bade pyar se apne hath se sehla rahi thi aur hairan ho rahi thi ke aakhir meri choot mai itna bada mota lohe jaisa tagda Lund kaise ghuss gaya tha. Doosre hi second mai apni choot ki khus naseebi pe muskuradi ke my pussy has survived the disaster and hurricane caused by that killer Lund. Abhi mai WC par hi baithi the ke DK ander aa gaye. Unka musal Lund abhi tak soya nahi tha balke kuch ziada hi khatarnaak dikayee de raha tha aur idhar meri gand phat rahi thi. Unka Lund bhi hamari mili juli cream se aur khoon se lat pat tha shaed chair ke pas se yaha bathroom mei aane tak raaste mai unke Lund se kuch gulabi boondein bhi tapki hongi. Mai apni tangein khoob choudi kar ke WC pai baithi thi aur ab meri dono tango ke beeche mai achi khasi jagah thi aur abhi tak meri choot ka surakh khul band ho raha tha. DM mere samne aa ke apne lehraate Lund ke sath khade ho gaye aur apne Lund ko apne hatho se pakad ke meri choot ka nishana lagaya aur unke Lund se moti pishab ki dhaar nikal ke zor se meri choot pe padne lagi. Bohot moti aur tez dhar thi mujhe kisi pipe se force ke sath nikalne wale pani ki dhaar jaise lag rahi thi jaise water cannon se powerful dhaar nikalti hai. Jaise hi unka Pishab meri choot se laga mer badan mai ek ajeeb jhur jhuri se aane lagi aur mai WC pe peeche hat ke relax baith gayee aur apne pair choude kar liye aisa karne se meri choot kuch aur saamne aa gayee thi aur pishab ki tez dhar meri choot pe pad rahi thi. Dosto kia batau ke kitna behtreen ehsaas tha wo. Unka pishab meri choot ko dho raha tha aur mai aise position mai apni kamar utha di thi ke unki pishab ki dhaar direct meri choot ke surakh mai pad rahi thi aur unka pishab meri choot ke ander ja ke baher girne laga. Ektime to apne bladder pe kuch dabao dal ke ek zor se dhar mari ke meri choot jhadne lagi aur mai be dam ho gayee. Itni der mai unka pishab bhi khatam ho chuka tha. Unho ne jhuk ke mujhe kiss kia to mai bohot khush ho gayee aur hath badha ke unke Lund ko pakad ke dabadia. Aise dabane se unke Lund se thodi aur pishab ki boondein tapak padi jise mai ne apne hath mai le lia aur apne boobs pe mal dia to DK muskura diye aur bole ke wah Sneha meri jaan tumne ek pathan ka dil jeet liya aaj se yeh pathan tumhara hua to mai ab fully emotional ho gayee thi aur meri aankho se aansoo

chalakne lage aur mai larazti awaz mai boli I LOVE YOU DK ILOVE YOU SO MUCH YOU ARE THE BEST I REALLY LOVE YOU. I am not telling to get the job but I really love you from the bottom of my heart and soul. Ab meri badan ke ek ek inch pe DK ka haq hai. Itna sunte hi unho ne ek aur kiss kia aur poocha choot ka kia haal hai to mai ne bola ke bohot dukh rahi hai ander se jalan ho rahi hai to unho ne Bath tub ka shower khol dia aur usmai rubber ke stoppers laga diya jis ki wajah se Bath tub mei pani bharne laga. Unho ne medicine cabinet khola aur kuch perfume and kuch medicine usmai dal ke mix karne lage aur mujhe bola ke tum ismai baith jao meri jaan tumhari choot theek ho jayegi. Mai ne WC ke sath lage hue pipe se choot ko dhoya. Thanda pani choot mei lagne se thodi jalan to ho rahi thi par acha bhi lag raha tha.

kramashah......................

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:31

रिसेशन की मार पार्ट--25

गतान्क से आगे..........

चूत को अछी तरहसे धोने के बाद मैं बाथ टब मे बैठ गयी. आहहक्या बताउ दोस्तो बैठ ते ही ऐसा आराम मिला के बता नही सकती. गरम पानी था जिस्मै मेडिसिन और परफ्यूम्स मिले होने की वजह से खुश्बू भी थी और मेरी चूत को गरम पानी का सेंक लग रहा था. अंदर बैठने के 5 मिनिट के अंदर ही मुझे ऐसा लगने लगा जैसे कभी मेरी चूत मे जलन हुई ही नही थी. और मेरी चूत गरम पानी के अंदर थोड़ी देर के लिए खुल बंद हुई और उसके बाद बोहोत ही आराम आ गया. मेरा सारा बदन पानी के अंदर था बस मेरा सर ही बाहर निकला हुआ था. पानी मे शॅमपू भी मिला हुआ था जिसके झाग से मैं आपना बदन मलने लगी. और थोड़ी हाथ अंदर डाल के अपनी चूत की हालत देखने लगी तो पता चला के वो तो अब बोहोत ही नरम हो चुकी थी और तकलीफ़ भी नही हो रही थी. थोड़ी ही देर के बाद डीके भी अंदर आ गये और दूसरी तरफ पैर लंबे कर के बैठ गये. उनका लंड पूरा खड़ा था और शॅमपू के झाग से ऊपेर निकल रहा था. मैं तो ऐसा मस्त लंड देख के एक बार फिर से पागल हो गयी और चुदवाने की इच्छा जाग उठी. हम दोनो पैर लंबे और चौड़े कर के बात टब मैं बैठे थे. मैं सरक्ति हुई उनके करीब चली गयी और पानी के अंदर ही अंदर से अपने हाथ से उनका मिज़ाइल पकड़ लिया और मूठ मारने लगी. बहुत प्यार आ रहा था उनके लंड पे मुझे तो मैं ने उनके लंड को ज़ोर से दबा दिया तो वो पॅशन से सिहर उठे और मेरे बूब्स को झाग के अंदर से ही दबाने लगे. मैं उनके थाइस पे बैठी थी और थोड़ा सा उठी और उनके लंड के सूपदे को अपनी चूत के सुराख से सटा दिया और एक ही झटके से बैठ गयी. ऊऊऊऊऊऊऊऊऊीीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई म्‍म्म्ममममममममाआआआआअ मुझे लगा जैसे मेरी जान ही निकल गयी हो. बड़ी मस्ती मे एक ही झटके से बैठ तो गयी थी पर क्या पता था के अभी चूत पूरी तरह से ठीक नही हुई है. शॅमपू का झाग भी उनके लंड के साथ ही मेरी चूत के अंदर चला गया था. जैसे ही मैं उनके लंड पे एक झटके से बैठी और उनका लंड किसी तीर की तरह से मेरी चूत मे घुस

गया उन्हो ने फॉरन ही मेरे शोल्डर्स को पकड़ के दबा दिया क्यॉंके उनको पता था के मैं एक झटके से उठने वाली हू और हुआ भी यही, जैसे ही मैं मेरे दरद के कारणउठने लगी उन्हो ने मुझे पकड़ लिया और अपने मुसलसे उठने नही दिया. लंड मेरी चूत के अंदर कुछ इतनी गहराई तक उतर गया था के मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उनका लंड मेरे हलक तक आ गया हो. मैं कुछ देर तक तो तकलीफ़ से छटपटा ती रही फिर उनका लंड मेरी चूत के अंदर अड्जस्ट हो गया. उन्हो ने टेलिफोनिक हॅंड शवर उठाया और मेरे बूब्स पे पानी की धार मारी तो मेरे बूब्स से शॅमपू का सारा झाग सॉफ हो गया. उन्हो ने फॉरन ही मेरे बूब्स को चूसना शुरू कर दिया तो मेरे हाथ ऑटोमॅटिकली उनके गले मे लिपट गये और मैं उनको अपने बूब्स पे दबाने लगी बिल्कुल ऐसे ही जैसे बच्चा दूध पीते समय मा अपने बच्चे को अपनी छाती से चिपका लेती है. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मैं पहले ही बता चुकी हू के मेरे बूब्स और निपल्स कुछ ज़ियादा ही सेन्सिटिव है कभी कभी तो मेरे पहने हुए कपड़ो की रगड़ से ही एरेक्ट हो जाते है और मेरी चूत गीली हो जाती है. जैसे ही उन्हो ने मेरी निपल को अपने दान्तो से काटा मेरे मूह से सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स की आवाज़ निकली और मैं झड़ने लगी. डीके तो मेरी चूत के अंदर अपना मूसल डाले बड़े मज़े से बैठे रहे और उनको मेरी गरम चूत का गरम रस्स अपने लंड के सूपदे पे महसूस हुआ तो वो मुस्कुरा के मुझे चूमने लगे और बोले के स्नेहा बोहोत खूबसूरत हो तुम मेरी जानू आइ लव यू सो मच. इतना सुनते ही मेरा दिल खुशी से झूम उठा और मैं ने उनके मूह मे अपनी जीभ डाल के किस किया और फिर हम एक दूसरे की जीभ को चूसने लगे और वो मेरे बूब्स को मसल रहे थे और अब मैं धीरे धीरे उनके लंड पे उठ उठ के बैठ रही थी. वो भी नीचे से अपनी गंद उठा के अपने लंड को मेरी चूत की गहराइयों मे पहुँचा रहे थे. मैं इतनी गरम हो गयी थी के उनके पीछे दीवार पे लगे टवल स्टॅंड को पकड़ लिया और ज़ोर ज़ोर से उनके लंड पे उठ बैठ कर के चोदने लगी. ऐसे मूव्मेंट से बाथ टब का झाग और थोड़ा पानी उड़ के नीचे गिरने लगा. नीचे से वो भी धक्के मार मार के चोद रहे थे और मैं भी टवल स्टॅंड को ज़ोर से पकड़ के उनके लंड पे जम के उछल रही थी. इतनी ऊपेर तक उठने से भी उनका लंड मेरी चूत से बाहर नही निकल रहा था. वाह क्या शानदार लंड था. मैं तो मर मिटी थी ऐसे प्यारे लंड पे. डीके ने मुझे ज़ोर से पकड़ रखा था. अब चुदाई बोहोत तेज़ी से चल रही थी. देखते ही देखते डीके मुझे अपने आप से लिपताए उठे और शवर के बाहर निकल गये और मुझे घोड़ी बना दिया. मेरे हाथ अब बाथ टब के किनारे को पकड़े हुए थे और मैं झुकी हुई थी. उन्हो ने पीछे से अपना लोहे जैसा सख़्त लंड मेरी चूत के अंदर घुसेड दिया और ज़ोर ज़ोर से चोदने लगे.

शवर से बाहर निकाल के घोड़ी बना दिया पीछे से लंड चूत के अंदर डाल दिया

उनके धक्के इतने पवरफुल थे के मेरे हाथ बाथ टब से स्लिप हो गये और मैं नीचे फ्लोर पे ऑलमोस्ट हाफ लेट सी गयी. उन्हो ने मेरी कमर मे हाथ डाल के थोड़ा सा ऊपेर उठाया तो मैं ने खुद भी अपनी गंद थोड़ी ऊपेर उठा दी और उनको मेरी चूत का सही निशाना मिल रहा था. वो धना धन चोद रहे थे. उनके मोटे लंड से मेरा चूत का दाना भी चूत के अंदर बाहर होने लगा और मैं अपनी चूत के दाने पे उनका यह दबाव बर्दाश्त ना कर सकी और काँपते हुए झड़ने लगी. झड़ने की मस्ती मे मेरा बदन हवाओ मे उड़ रहा था और इसी चीज़ का फ़ायदा उठा ते हुए एक ही झटके मे अपना लंड मेरी चूत से बाहर खेच केनिकाला और इस से पहले के मैं कुछ समझ सकती उनका लंड मेरी छोटी सी गुलाबी गांद मे घुस्स चुका था मेरे मूह से इतनी ज़ोर से चीख निकली म्‍म्म्ममममममाआआअ म्‍म्म्ममममाआआआआआररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्रृिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई म्‍म्म्मममीईईईईईईईईईईईईईईईईईई हहाआआआआआआईईईईईई न्न्न्न्न्न्न्न्नीईईईइक्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्क्काआआआआआल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लूऊऊऊऊऊऊऊऊ ब्ब्ब्ब्ब्ब्बबबाआआआआआहीईईरर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर और अगर उनका ऑफीस साउंड प्रूफ नही होता तो शाएद पूरा मोहल्ला जमा हो जाता. मेरी गंद मे और उनके लंड पे शॅमपू लगा हुआ था इसी लिए लंड इतनी आसानी से मेरी गंद मे घुस चुका था और ऐसे हमले के लिए मेरी गंद बिल्कुल भी तय्यार नही थी. मैं झटके से उनकी ग्रिप से बाहर निकलने की कोशिश करने लगी पर नही निकल सकती थी क्योंकि मेरे सर की तरफ तो बाथ टब था जो मुझे

उनकी ग्रिप से निकलने नही दे रहा था. उन्हो ने अपने लंड को ऐसे ही मेरी गंद मे रखा. मेरी गंद मे ऐसा लग रहा था जैसे कोई जलता हुआ लोहे का खंबा घुसा दिया गया हो. मेरी गंद के मसल्स उनके लंड के बेस को कस्स के टाइट पकड़े हुए थे. बहुत तकलीफ़ की वजह से मे अपनी गंद के मसल्स को रिलॅक्स ही नही कर सकती थी. यह नॅचुरली उनके लंड को कस्स के पकड़े हुए थे. उन्हो ने मेरी नेक पे किस करना चालू कर दिया और हाथ डाल के मेरे बूब्स को मसल्ने लगे और एक हाथ से चूत के सुराख मे उंगली डाल के चोदने लगे और क्लाइटॉरिस को रगड़ने लगे. बूब्स पे हाथ लगते ही मेरे सेन्सिटिव बूब्स मे हलचल होने लगी और चूत मे उंगली होने की वजह से मेरा बदन रिलॅक्स होने लगा. जैसे ही डीके को महसूस हुआ के मेरा बदन रिलॅक्स हुआ है उन्हो ने धक्के मारना चालू कर दिया और मेरी छोटी सी टाइट गंद को मारते ही रहे. हर धक्के से मेरी गंद फॅट ती रही और वो मेरी गंद मारते रहे. मेरी आँखो से सच मे तकलीफ़ से आँसू निकलने लगे. जैसे जैसे उनके धक्के तेज़ हो रहे थे मेरी गंद का सुराख भी कुछ नॉर्मल हो रहा था और फिर जब शॅमपू का झाग का स्लिपरी नेचर ख़तम हुआ, गंद और लंड पे लगा पानी सूख गया तो उनका लंड मेरी गंद के अंदर ही अटक गया, ना गंद के अंदर जा रहा था ना बाहर आ रहा था.

अब वो अपने लंड को बाहर नही खेच सकते थे तो हाथ बढ़ा के केवाई की स्पेशल जेल्ली का ट्यूब उठाया और एक ही सेकेंड के अंदर अपना लंड मेरी गंद से खेच के बाहर निकाल लिया जिस से मेरी गंद मे जलन होने लगी और दूसरे ही सेकेंड मे उन्हो ने आधे से ज़ियादा ट्यूब मेरी खुली हुई गंद मे घुसेड दिया और ऑलमोस्ट हाफ से भी ज़ियादा ट्यूब दबा के जेल्ली मेरी गंद के अंदर ही खाली कर दिया और इस से पहले की मैं संभाल पाती उन्हो ने अपने लंड पे भी जेल्ली की एक लंबी लकीर लगाई और फॉरन ही मेरी गंद के अंदर जड़ तक घुसेड दिया. और फॉरन ही मेरी गंद मारने लगे. अब मेरी गंद जेल्ली की वजह से चिकनी और स्लिपरी हो चुकी थी और लंड अब आसानी से गंद के गुलाबी छेद के अंदर बाहर हो रहा था. उन्हो ने मुझे कस के पकड़ा हुआ था और पूरी ताक़त से मेरी गंद मार रहे थे. मुझे बोहोत ही तकलीफ़ हो रही थी और मैं चिल्ला रही थी हहाआआआआआआऐईईईईई म्‍म्म्ममममाआआआआररर्र्र्ररर ग्गगाआआआययययययययईईई द्द्द्द्द्द्द्द्दददककककककककककककककक प्पफहाआटततत्त गगगगगगाआआआऐईईईई एम्ममेयीयीयर्र्रियियीयियी ग्ग्गयेन्न्न्ड्ड्ड आआआआआआआअहह न्ननियियीक्क्क्कयाऑल्लो प्प्प्प्ल्ल्ल्लीईएसस्स्स्सीई हहाआईईए ऊवूऊवूयूवूऊवूऊवयफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ लैकिन वो कहा मानने वाले थे दीवानो की तरह से फुल फोर्स से मेरी गंद मारते रहे. पचा पच की आवाज़ सारे बाथरूम गूँज रहा था और उनके टटटे मेरी चूत से टकरा रहे थे मुझे ऐसा लग रहा था जैसे कोई लोहे के बॉल्स से मेरी

चूत पे मार रहा हो और उनके टॅटू की टकराने से 2 मिनिट की मार मे ही मेरी चूत झड़ने लगी और यह मज़ा ऐसा मज़ा था के मुझे गंद मे उनका मूसल लंड महसूस ही नही हो रहा था. मैं झड़ने लगी और गहरी साँसें लेती हुई नीचे लेट गयी. डीके अब मेरे ऊपेर लेट गये और अपने पैर पीछे WC से टीका दिए और मेरी फैली हुई टाँगो के अंदर अपनी टाँगें डाल के कैंची की तरह से मेरी टाँगो को टाइट पकड़ लिया और घचा घच मेरी गंद मारने लगे, ऐसी पोज़िशन मे, मैं हिल भी नही सकती थी और चुप चाप पड़ी अपनी गंद मरवा रही थी. मेरी दोनो टाँगो के बीचे अपने दोनो घुटने डाल के मेरे पैरो को चीर दिया था और मेरी गंद मार रहे थे. उफ्फ क्या बताउ कभी तो गंद मे इतना मोटा लंड घुसे होने की तकलीफ़ हो रही तो कभी उनके टटटे जो मेरी चूत के मूह पे लगने से जो मज़ा आ रहा था, ऐसा मज़ा मैने कभी महसूस नही किया था और मैं ऐसे मज़े को मैं बयान भी नही सकती बॅस यह समझ लो के मैं जैसे जन्नत मे पहुँच गयी हू. वो अब बहुत तेज़ी से मेरी गंद मार रहे थे मैं फिर से समझ गयी के यह तूफ़ानी झटके उनकी मलाई निकलने के संकेत दे रहे है और फिर अपना लंड मेरी गंद के पूरा बाहर तक निकाल लिया और पूरी ताक़त से एक झटका इतनी ज़ोर से मारा के एक बार फिर से मेरी गंद फॅट गयी और मैं चिल्ला पड़ी फफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ ब्ब्ब्ब्ब्ब्बबबाआआआआआआसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स आआआआअब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्ब्बबब आबीयेयीययावुउववुवरररर्र्र्र्र्र न्न्नाआआआह्ह्ह्ह्ह्हीई म्‍म्म्ममाआआआऐययईईईई म्‍म्म्ममममाआआआअरर्ररर गगगगगगगाआआऐईईई आआआहह और एक फाइनल पवरफुल झटके से अपने मूसल लंड को मेरी गंद मे गाढ दिया और उतनी ही ज़ोर से उनके टटटे एक बार फिर से मेरी चूत के पंखुड़ियो को मारने लगे और उधर डीके मेरी गंद मे झड़ने लगे और इधर मेरी चूत झड़ने लगी. दोनो एक बार फिर से हांपने लगे. मेरी गंद के मसल ने उनके लंड को टाइट पकड़ा हुआ था और उनके लंड से निकलती गरम गरम मलाई की एक एक बूँद मेरी गंद मे गिरने लगी. वो मेरी पीठ पे गिर पड़े हम दोनो ऐसे ही बाथरूम के फरश पे नंगे एक दूसरे के ऊपेर पड़े हाँपते रहे.

उनका लंड मेरी गंद के अंदर फूल रहा था जिसके बेस को मेरी टाइट गंद के सुराख ने टाइट पकड़ा हुआ था, मेरी गंद के मसल्स खुल बंद हो रहे थे, जिसकी वजह से उनके लंड से टपकती मलाई की एक एक बूँद को निचोड़ते रहे और उनकी मलाई की एक एक बूँद मुझे अपनी गंद मे गिरती महसूस होने लगी. हम दोनो के बदन एक बार फिर से पसीने से भर चुके थे. डीके ने मुझे उठाया और हम दोनो शवर के नीचे आ गये और वॉर्म वॉटर के शवर से एक दूसरे को साबुन लगा के नहलाया. जैसे ही मैं नीचे से उठी मेरी फटी गंद से खून की बूँदें टपकने लगी और मेरी थाइस से होती हुई नीचे बहने लगी. मैं देख के घबरा गई. मैं कभी अपनी गंद से

टपकते खून को देख रही थी कभी डीके की तरफ देख रही थी. डीके मुस्कुरा के बोले के अरे तुम तो इतनी पवरफुल औरत हो इतने से खून से डर गयी तो मैं ने उनको बोला के कभी आपकी भी गंद फटी होती तो आपको पता चलता के गंद फटने से कितना दरद होता है तो वो मुस्कुरा के मुझे देखने लगे और मुझे अपने हाथो मे किसी छोटे बच्चे की तरह से उठा लिया और किस करते हुए शवर के नीचे खड़ा कर दिया और वॉर्म वॉटर का शवर खोल दिया. वॉर्म वॉटर से नहा ने से बदन कुछ रिलॅक्स हुआ और हम दोनो शवर के बाहर आ गये. दोनो ने एक दूसरे के बदन को ड्राइ किया और उनके ऑफीस मे आ गये. जब मैं डीके के बदन को ड्राइ करने लगी तो उनके लौदे को भी ड्राइ करने को हाथ लगाया तो वो एक बार फिर से उठ गया और लहराने लगा मेरी आँखें हैरत से उनके सल्यूट करते लंड को देखती रही के यह कैसा लंड है जो सॉफ्ट ही नही हो रहा है. डीके अपनी सीट पे नंगे ही बैठ गये और मुझे अपने करीब बुला के अपने खड़े लंड पे मुझे बिठा दिया. ऐसी चुदाई के बाद मेरी चूत और गंद अछी तरह से खुल चुकी थी और उनका लंड मेरी चूत के अंदर आसानी से घुस गया. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं किसी लोहे के पोले पे बैठी हू. मुझे उनका लंड अपने पेट के अंदर महसूस हो रहा था. डीके ने कांट्रॅक्ट पेपर्स निकाले और मुझे लंड पे बिठाए ही बिठाए उनपे साइन कर दिया. मैं फॉरन ही पलट के उनके लंड पे ऐसे बैठ गई के मेरा मूह उनकी तरफ हो गया और मैने उनके चेहरे पे किस की बरसात कर दी. बे तहाशा चूमती रही और उनको थॅंक्स बोलती रही. वो मेरे बूब्स को चूसने लगे और नीचे से अपनी गंद उछाल उछाल के मुझे चोदने लगे. मेरी आँखो मे खुशी के आँसू आ गये और मैं एमोशन मे आ के उनसे ऐसे लिपट गयी जैसे अब उनको छोड़ूँगी ही नही इतना कस्स के लिपट गयी. उन्हो ने मेरी बॅक पे अपने हाथ फिराना शुरू कर दिया और मुझे तसल्ली देने लगे के स्नेहा डॉन'ट क्राइ मेरी जान. तुम तो मेरे लिए स्पेशल हो, आइ विल बी हॅपी टू टेक यू विथ मी आज़ माइ असिस्टेंट एवेरिवेर आइ गो. और फिर मेरी आँखो से निकलते आँसू को अपने होटो से पी गये. मेरे बूब्स को बोहोत ज़ोर ज़ोर से चूस रहे थे और निपल्स को काट भी रहे थे. मैं जॉब मिलने की खुशी मे कुछ इतनी एमोशनल हो गयी थी के मुझे अपने सेन्सिटिव बूब्स को चूसना भी मुझे महसूस नही हुआ. और जब मैं अपने एमोशन से वापस आ गयी तो मुझे उनका लंड अपनी चूत के अंदर घुसा महसूस हुआ और फिर मैं एक दम से जोश मे आ गयी और अपने पैरको को चेर के हॅंड रेस्ट पोर्षन से बाहर निकाल दिया और चेर के बॅक रेस्ट पे अपने हाथ रख के उनके लंड पे उछलने लगी और जोश मे आ के उनके लंड पे बहुत ज़ोर ज़ोर से उछल कूद करने लगी. अब मुझे उनका इतना मोटा लोहे जैसा सख़्त लंड बोहोत मज़ा दे रहा था. डीके मेरे बूब्स को चूस रहे थे और मेरे चूतदो को मसल रहे थे. अपना लंड मेरी चूत के अंदर ही अंदर रखे वो चेर से उठ गये तो मैं ने फॉरन ही अपनी टाँगें उनके कमर पे

लपेट ली और उन्हो ने पहले तो मुझे वही टेबल पे लिटा दिया और खुद फ्लोर पे खड़े खड़े मुझे चोदने लगे. इतने टाइम झड़ने से मुझे नही लग रहा था के वो अब झड़ेंगे. वो तो बड़ी मस्ती मे धीरे धीरे इतने आराम से चोदने लगे जैसे के वो आज नही झड़ेंगे.

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--25

gataank se aage..........

Choot ko achi tarahse dhone ke bad mai bath tub mai baith gayee. Aahh kia batau dosto baith te hi aisa araam mila ke bata nahi sakti. Garam pani tha jismai medicine aur perfumes mile hone ki wajah se khushboo bhi thi aur meri choot ko garam pani ka senk lag raha tha. Ander baithne ke 5 minute ke ander hi mujhe aisa lagne laga jaise kabhi meri choot mai jalan hui hi nahi thi. Aur meri choot garam pani ke ander thodi der ke liye khul band hui aur uske bad bohot hi araam aa gaya. Mera sara badan pani ke ander tha bas mera sar hi baher nikla hua tha. Pani mai shampoo bhi mila hua tha jiske jhaag se mai apnna badan malne lagi. Aur thodi hath ander dal ke apni choot ki halat dekhne lagi to pata chala ke wo to ab bohot hi naram ho chuki thi aur takleef bhi nahi ho rahi thi. Thodi hi der ke bad DK bhi ander aa gaye aur doosri taraf pair lambe kar ke baith gaye. Unka Lund poora khada tha aur shampoo ke jhaag se ooper nikal raha tha. Mai to aisa mast Lund dekh ke ek bar phir se pagalho gayee aur chudwane ki iccha jaag uthi. Ham dono pair lambe aur choude kar ke bath tub mai baithe the. Mai sarakti hui unke kareeb chali gayee aur pani ke ander hi ander se apne hath se unka missile pakad lia aur muth marne lagi. Bohot pyar aa raha tha unke Lund pe mujhe to mai ne unke Lund ko zor se daba dia to wo passion se sehar uthe aur mere boobs ko jhaad ke ander se hi dabane lage. Mai unke thighs pe baithi thi aur thoda sa uthi aur unke Lund ke supade ko apni choot ke surakh se sata dia aur ek hi jhake se baith gayee. Ooooooooooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmmmmmmaaaaaaaaaaa mujhe laga jaise meri jaan hi nikal gayee ho. Badi masti mai ek hi jhatke se baith to gayee thi par kia pata tha ke abhi choot poori tarah se theek nahi hui hai. Shampoo ka jhaag bhi unke lund ke sath hi meri choot ke ander chala gaya tha. Jaise hi mai unke Lund pe ek jhatke se baithi aur unka Lund kisi teer ki tarah se meri choot mei ghuss

gaya unho ne foran hi mere shoulders ko pakad ke daba dia kyonke unko pata tha ke mai ek jhatke se uthne wali hu aur hua bhi yehi, jaise hi mai maare darad ke uthne lagi unho ne mujhe pakad lia aur apne musalse uthne nahi dia. Lund meri choot ke ander kuch itni gehrayee tak utar gaya tha ke Mujhe aisa lag raha tha jaise unka Lund mere halak tak aa gya ho. Mai kuch der tak to takleef se chatpata ti rahi phir unka Lund meri choot ke ander adjust ho gaya. Unho ne telephonic hand shower uthaya aur mere boobs pe pani ki dhar mari to mere boobs se shampoo ka sara jhag saaf ho gaya. Unho ne foran hi mere boobs ko choosna shuru kar dia to mere hath automatically unke gale mai lipat gaye aur mai unko apne boobs pe dabane lagi bilkul aise hi jaise bacha doodh peete samay maa apne bache ko apni chaati se chipka leti hai. Mujhe boho maza aa raha tha aur mai pehle hi bata chuki hu ke mere boobs aur nipples kuch ziada hi sensitive hai kabhi kabhi to mere pehne hue kapdo ki ragad se hi erect ho jate hai aur meri choto geeli ho jati hai. Jaise hi unho ne meri nipple ko apne dato se kata mere muh se sssssssssssssssss ki awaz nikli aur mai jhadne lagi. DK to mer choot ke ander apna musal dale bade maze se baithe rahe aur unko meri garam choot ka garam rass apne Lund ke supade pe mehsoos hua to wo muskura ke mujhe choomne lage aur bole ke Sneha bohot khubsoorat ho tum meri jaanu I love you so much. Itna sunte hi mera dil khushi se jhoom utha aur mai ne unke muh mai apni jeebh dal ke kiss kia aur phir ham ek doosre ki jeebh ko choosne lage aur wo mere boobs ko masal rahe the aur ab mai dheere dheere unke Lund pe uth uth ke baith rahi thi. Wo bhi neeche se apni gand utha ke apne Lund ko meri choot ki gehraiyon mei pohcha rahe the. Mai itni garam ho gayee thi ke unke peeche deewar pe lage towel stand ko pakd lia aur zor zor se unke lund pe uth baith kar ke chodne lagi. Aise movement se bath tub ka jhaag aur thod pani ud ke neeche girne laga. Neeche se wo bhi dhakke maar maar ke chod rahe the aur mai bhi towel stand ko zor se pakad ke unke Lund pe jam ke uchal rahi thi. Itni ooper tak uthne se bhi unka Lund meri choot se baher nahi nikal raha tha. Wah kia shandaar Lund tha. Mai to mar miti thi aise pyare Lund pe. DK ne mujhe zor se pakad rakha tha. Ab chudai bohot tezi se chal rahi thi. Dekhte hi dekhte DK mujhe apne aap se liptaye uthe aur shower ke baher nikal gaye aur mujhe ghodi bana dia. Mere hath ab bath tub ke kinare ko pakde hue the aur mai jhuki hui thi. Unho ne peeche se apna lohe jaisa sakht Lund meri choot ke ander ghused dia aur zor zor se chodne lage.

Shower se baher nikal ke Ghodi bana dia peeche se Lund choot ke ander dal dia

Unke dhakke itne powerful the ke mere hath bath tub se slip ho gaye aur mai neeche floor pe almost half let si gayee. Unho ne meri kamar mei hath dal ke thoda sa ooper uthaya to mai ne khud bhi apni gand thodi ooper utha di aur unko meri choot ka sahi nishana mil raha tha. Wo dhana dhan chod rahe the. Unke mote Lund se mera choot ka dana bhi choot ke ander baher hone laga aur mai apne choot ke dane pe unka yeh dabao bardasht na kar saki aur kaampte hue jhadne lagi. Jhadne ki masti mai mera badan hawao mai ud raha tha aur isi cheez ka faida utha te hue ek hi jhatke mai apna Lund meri choot se baher khech nikala aur iss se pehle ke mai kuch samajh sakti unka Lund meri choti si gulabi gaand mai ghuss chuka tha mere muh se itni zor se cheekh nikli mmmmmmmmmaaaaaaa mmmmmmmaaaaaaaaaaaarrrrrrrrrrrrrrrriiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmeeeeeeeeiiiiiiiiiiiiiiiii hhhhhhhhhhaaaaaaaaaaaaaaeeeeeeeeeeee nnnnnnnnniiiiiiiiikkkkkkkkkkkkkaaaaaaaaaaaalllllllllloooooooooooooooooo bbbbbbbbbaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhheeeeeeerrrrrrrrrrrrrrrrrr aur agar unka office sound proof nahi hota to shaed poora mohalla jama ho jata. Meri gand mai aur unke Lund pe shampoo laga hua tha isi liye Lund itni asaani se meri gand mai ghus chuka tha aur aise hamle ke liye meri gand bilkul bhi tayyar nahi thi. Mai jhatke se unki grip se baher nikalne ki koshish karne lagi par nahi nikal sakti thi khonke mere sar ki taraf to bath tub tha jo mujhe

unki grip se nikalne nahi de raha tha. Unho ne apne Lund ko aise hi meri gand mai rakha. Meri gand mai aisa lag raha tha jaise koi jalta hua lohe ka khamba ghusa dia gaya ho. Meri gand ke muscles unke Lund ke base ko kass ke tight pakde hue the. Bohot takleef ki wajah se mai apni gand ke muscles ko relax hi nahi kar sakti thi. Yeh naturally unke Lund ko kass ke pakde hue the. Unho ne meri neck pe kiss karna chalu kar dia aur hath dal ke mere boobs ko masalne lage aur ek hath se choot ke surakh mai ungli dal ke chodne lage aur clitoris ko ragadne lage. Boobs pe hath lagte hi mere sensitive boobs mai halchal hone lagi aur choot mai ungli hone ki wajah se mera badan relax hone laga. Jaise hi DK ko mehsoos hua ke mera badan relax hua hai unho ne dhakke marna chalu kar diya aur meri choti si tight gand ko marte hi rahe. Har dhakke se meri gand phat ti rahi aur wo meri gand marte rahe. Meri aankho se sach mai takleef se aansoo nikalne lage. Jaise jaise unke dhakke tez ho rahe the meri gand ka surakh bhi kuch normal ho raha tha aur phir jab shampoo ka jhaag ka slippery nature khatam hua, Gand aur Lund pe laga pani sookh gaya to unka Lund meri gand ke ander hi atak gaya, na gand ke ander ja raha tha na baher aa raha tha.

Ab wo apne Lund ko baher nahi khech sakte the to hath badha ke KY ki special jelly ka tube uthaya aur ek hi second ke ander apna Lund meri gand se khech ke baher nikal lia jis se meri gand mai jalan hone lagi aur doosre hi second mei unho ne aadhe se ziada tube meri khuli hui gand mai ghused dia aur almost half se bhi ziada tube daba ke jelly meri gand ke ander hi khali kar dia aur iss se pehle ki mai sambhal paati unho ne apne Lund pe bhi jelly ki ek lambi lakeer lagayee aur foran hi meri gand ke ander jad tak ghused dia. Aur foran hi meri gand marne lage. Ab meri gand jelly ki wajah se chikni aur slippery ho chuki thi aur Lund ab asaani se gand ke gulabi ched ke ander baher ho raha tha. Unho ne mujhe kass ke pakda hua tha aur poori takat se meri gand mar rahe the. Mujhe bohot hi takleef ho rahi thi aur mai chilla rahi thi hhhhhhhhaaaaaaaaaaaaaaaeeeeeeeeeee mmmmmmmaaaaaaaaaarrrrrrrr gggaaaaaaaayyyyyyyyeeeeeeee DDDDDDDDDDDKKKKKKKKKKKKKKK ppphhhhaaaattttt ggggggaaaaaaaaaeeeeeeee mmmmeeeerrrriiiii gggggaaaannndddddd aaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhh nnniiikkkkaaalllloooo pppplllleeeeessssseeee hhhhaaaaeeeee uuuuuuuuuuuffffffffffffff laikin wo kaha rkne wale the deewano ki tarah se full force se meri gand marte rahe. Pacha pach ki awaz sare bathroom goonj raha tha aur unke tatte meri choot se takra rahe the mujhe aisa lag raha tha jaise koi lohe ke balls se meri

choot pe maar raha ho aur unke tattoo ki takraane se 2 minute ke maar mai hi meri choot jhadne lagi aur yeh maza aisa maza tha ke mujhe gand mei unka musal Lund mehsoos hi nahi ho raha tha. Mai jhadne lagi aur gehri saansein leti hui neeche let gayee. DK ab mere ooper let gaye aur apne pair peeche WC se tika diye aur meri phaili hui tango ke ander apni tangein dal ke kainchi ki tarah se meri tango ko tight pakad lia aur ghacha ghach meri gand maarne lage, aisi position mai, mai hil bhi nahi sakti thi aur chup chaap padi apni gand marwa rahi thi. Meri dono tango ke beeche apne dono ghutne dal ke mere pairo ko cheer dia tha aur meri gand mar rahe the. Uff kia batau kabhi to gand mai itna mota Lund ghuse hone ki takleef ho rahi to kabhi unke tatte jo meri choot ke muh pe lagne se jo maza aa raha tha, aisa maza maine kabhi mehsoos nahi kia tha aur mai aise maze ko mai bayan bhi nahi sakti bass yeh samjh lo ke mai jaise jannat mai pohoch gayee hu. Wo ab bohto tezi se meri gand mar rahe the mai phir se samajh gayee ke yeh toofani jhatke unki malayee nikalne ke sanket de rahe hai aur phir apna Lund meri gand ke poora baher tak nikal lia aur poori takat se ek jhatka itni zor se mara ke ek bar phir se meri gand phat gayee aur mai chilla padi ffffffffffffffffffffff bbbbbbbbbaaaaaaaaaaaaaasssssssssssssss aaaaaaaaabbbbbbbbbbbb aaaaaaaaauuuuurrrrrrrrr nnnaaaaaaaahhhhhhiiii mmmmmaaaaaaaaaiiiiiii mmmmmmmaaaaaaaaarrrrr gggggggaaaaaaaeeeeee aaaaaahhhhhhhh aur ek final powerful jhatke se apne musal Lund ko meri gand mai gaad dia aur utni hi zor se unke tatte ek bar phir se meri choot ke pankhadion ko marne lage aur udhar DK meri gand mei jhadne lage aur idhar meri choot jhadne lagi. Dono ek bar phir se haanpne lage. Meri gand ke muscle ne unke Lund ko tight pakda hua tha aur unke Lund se nikalti garam garam malayee ki ek ek boond meri gand mai girne lagi. Wo meri peeth pe gir pade ham dono aise hi bathroom ke farash pe nange ek doosre ke ooper pade haampte rahe.

Unka Lund meri gand ke ander phool raha tha jiske base ko meri tight gand ke surakh ne tight pakda hua tha, meri gand ke muscles khul band ho rahe the, jiski wajah se unke Lund se tapakti malayee ki ek ek boond ko nichodte rahe aur unki malayee ki ek ek boond mujhe apni gand mai girti mehsoos hone lagi. Ham dono ke badan ek bar phir se paseene se bhar chuke the. DK ne mujhe uthaya aur ham dono shower ke neeche aa gaye aur warm water ke shower se ek doosre ko sabun laga ke nehlaya. Jaise hi mai neeche se uthi meri phati gand se khoon ki boondein tapakne lagi aur meri thighs se hoti hui neeche behne lagi. Mai dekh ke ghbara gai. Mai kabhi apni gand se

tapakte khoon ko dekh rahi thi kabhi DK ki taraf dekh rahi thi. DK muskura ke bole ke arey tum to itni powerful aurat ho itne se khoon se dar gayee to mai ne unko bola ke kabhi aapki bhi gand phati hoti to aapko pata chalta ke gand phatne se kitna darad hota hai to wo muskura ke mujhe dekhne lage aur mujhe apne hatho mai kisi chote bache ki tarah se utha lia aur kiss karte hue shower ke neeche khada kar dia aur warm water ka shower khol dia. Warm water se naha ne se badan kuch relax hua aur ham dono shower ke baher aa gaye. Dono ne ek doosre ke badan ko dry kia aur unke office mai aa gaye. Jab mai DK ke badan ko dry karne lagi to unke Loude ko bhi dry karne ko hath lagaya to wo ek bar phir se uth gaya aur lehraane laga meri aankhen hairat se unke salute karte Lund ko dekhti rahi ke yeh kaisa Lund hai jo soft hi nahi ho raha hai. DK apni seat pe nange hi baith gaye aur mujhe apne kareeb bula ke apne khade Lund pe mujhe bitha dia. Aisi chudai ke bad meri choot aur gand achi tarah se khul chuki thi aur unka Lund meri choot ke ander aasaani se ghus gaya. Mujhe aisa lag raha tha jaise mei kisi lohe ke pole pe baithi hu. Mujhe unka Lund apne pet ke ander mehsoos ho raha tha. DK ne contract papers nikale aur mujhe Lund pe bithaye hi bithaye unpe sign kar dia. Mai foran hi palat ke unke Lund pe aise baith gai ke mera muh unki taraf ho gaya aur mai unke chehre pe kiss ki barsaat kar di. Be tahasha choomti rahi aur unko thanks bolti rahi. Wo mere boobs ko choosne lage aur neeche se apni gand uchal uchal ke mujhe chodne lage. Meri aankho mia khushi ke aansoo aa gaye aur mai emotion mai aa ke unse aise lipat gayee jaise ab unko chhorungi hi nahi itna kass ke lipat gayee. Unho ne meri back pe apne hath phirana shuru kar dia aur mujhe tasalli dene lage ke Sneha don't cry meri jaan. Tum to mere liye special ho, I will be happy to take you with me as my assistant everywhere I go. Aur phir meri aankho se niklate aansoo ko apne hoto se pi gaye. Mere boobs ko bohot zor zor se choos rahe the aur nipples ko kaat bhi rahe the. Mai job milne ki khushi mai kuch itni emotional ho gayee thi ke mujhe apne sensitive boobs ko choosna bhi mujhe mehsoos nahi hua. Aur jab mai apne emotion se wapas aa gayee to mujhe unka Lund apni choot ke ander ghusa mehsoos hua aur phir mai ek dum se josh mai aa gayee aur apne pairko ko chair ke hand rest portion se baher nikal dia aur chair ke back rest pe apne hath rakh ke unke Lund pe uchalne lagi aur josh mai aa ke unke Lund pe bohto zor zor se uchal kood karne lagi. Ab mujhe unka itna mota lohe jaisa sakht Lund bohot maza de raha tha. DK mere boobs ko choos rahe the aur mere chootado ko masal rahe the. Apna Lund meri choot ke ander hi ande rakhe wo chair se uth gaye to mai ne foran hi apni tangein unke kamar pe

lapet li aur unho ne pehle to mujhe wahi table pe lita dia aur khud floor pe khade khade mujhe chodne lage. Inte time jhadne se mujhe nahi lag raha tha ke wo ab jhadenge. Wo to badi masti mai dheere dheere itne araaam se chodne lage jaise ke wo aaj nahi jhadenge.

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:32

रिसेशन की मार पार्ट--26

गतान्क से आगे..........

थोड़ी देर ऐसी पोज़िशन मे चोदने के बाद उन्हो ने मुझे एक बार फिर से उठा लिया, उनका लंड एक मिनिट के लिए भी मेरी चूत से बाहर नही निकला था, उन्हो ने उठा के मुझे दीवार से लगा दिया और एक बार फिर से घचा घच चोदने लगे. उनके झटके इतने पवरफुल थे जैसे वो किसी जॅक हॅमर से पीछे की दीवार मे सुराख कर देंगे. मुझे लगा जैसे उनका लंड मेरी चूत फाट के गंद से बाहर निकल जाएगा. मैं भी अब फुल मूड मे आ गयी थी. मेरे हाथ उनके नेक पे थे और पैर कमर पे लटेपटे हुए थे. मैं मस्ती मे चिल्ला रही थी कककचहूऊद्द्द्दद्ड़ूऊव आआआअहह आआआऐईईईसस्स्स्स्सीईई हहिईीईईईई ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ूऊऊओरर्र्र्र्र्र्ररर सस्स्सीईए आआआहह म्‍म्म्मममाआआआआज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ाआआआ एयाया र्र्र्र्ररराआआआहहाआआआआअ हहाआआआआआईयईईईई द्द्दददकककककककक सीसीक्क्कियीयीयिट्ट्न्न्नन्नन्न्ननॉयाऑयाययाया प्प्प्प्प्प्पययययययाआआअरर्र्र्र्र्र्र्ररराआआआआ ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लुउउउउउउउन्न्न्न्न्न्द्द्द्द्द्द्द हाआआआईईईईईई ऊऊऊऊऊओ म्‍म्माआआअरर्र्ररर डड्डड्डड्ड्ड्डययेएयेयेयीयायाऑल्ल्लायाआयायेयीययाया मेरी ऐसी बातें सुन के उनका जोश भी बढ़ने लगा और वो बुरी तरह से मेरी चूत मे अपना मूसल घुसेड ते रहे. आआआआईईईईसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्साआआआआआ म्‍म्म्ममाआआआआआज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ाआआआअ सीसीक्कयाब्ब्ब्ब्ब्चियैआइयीयीयियी न्न्न्ननॉयायातियीयीयियी आआययय्याआअ कककककककककचूऊऊऊओद्द्द्दद्डूऊऊऊ ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ूऊऊऊरररर ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ूऊऊऊऊओरर्र्र्र्र्ररर सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सीईईईईईईई उनके लंड पे मेरे बदन का वज़न पड़ रहा था जिसकी वजह से मेरी क्लाइटॉरिस उनके मोटे लंड के डंडे के साथ रगड़ खाती हुई अंदर बाहर हो रही थी और मैं इतनी देर मे 4 टाइम झाड़ चुकी थी और मेरी चूत का रस उनके लंड से टपकता हुआ नीचे फ्लोर पे गिरने लगा. मेरी पीठ दीवार से लगी हुई थी और उनका लंड किसी हथौड़े की तरह से मेरी चूत को मार रहा था. वो तकरीबन आधा घंटा इसी स्टाइल मे चोद्ते रहे और मैं इतनी देर मे शाएद 10 टाइम झाड़ चुकी थी. अब उनकी साँसें भी तेज़ी से चल रही थी और एरकॉनडिशन के चलते भी उनके और मेरे बदन पसीने से भीग चुके थे. दोनो के बदन बोहोत ही गरम हो गये थे और फिर देखते ही देखते उनकी स्पीड बहुत तेज़ हो गयी और एक इतनी ज़ोर का झटका मारा के मेरे मूह से एक बार फिर से चीख निकल गयी ऊऊऊऊऊईईईईईईईईइ म्‍म्म्मममममाआआआआआआआआ म्‍म्म्ममाआआअरर्र्र्र्र्र्ररर गगगगगगगगगगगगाआआआआईयईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई और उनके

लंड से मलाई का फव्वारा ऐसे निकला जैसे फिरे होज़ के प्रेशर से आग भुजाने के लिए पानी निकलता है और उनकी मलाई का प्रेशर लगते ही मेरी चूत भी दीवानी होगयी और झड़ने लगी. मैं ने उनके गले मे हाथ और उनकी कमर पे पैर लपेट के पकड़ लिया था. वो झाड़ते रहे और मेरी चूत से उनकी मलाई ओवर फ्लो हो के नीचे गिरती रही.

मेरी चूत से मलाई निकल रही है

हम दोनो ही बुरी तरह से थक चुके थे. मुझे तो चलना ही नही आ रहा था चूत और गंद दोनो मे तकलीफ़ हो रही थी. मैं अभी भी उनके गले से झूल रही थी. वो धीरे धीरे नीचे बैठने लगे और अपने लंड को मेरी चूत के अंदर ही रखे रखे नीचे फ्लोर पे लेट गये. उनका मूसल अभी भी

सॉफ्ट नही हुआ था. मैं यह सोचने लगी के कही यह लंड कोई ड्यूप्लिकेट लंड तो नही जो तकरीबन 5 घंटे से लोहे जैसा आकड़ा हुआ है और अभी तक सॉफ्ट ही नही हुआ. सच ऐसा लंड कभी नही देखा था. लोगो से सुना था के मुस्लिम्स का लंड कटा हुआ होता है पर मुझे नही लग रहा था के उनका लंड कटा हुआ है वो तो स्ट्रक्चर मे वैसा ही था जैसा सतीश का और राज का था. इतना ज़रूर था के उनके लंड के सूपदे के ऊपेर वो प्रोटेक्टिव चॅम्डी नही थी जो राज के और सतीश के लंड के हेड पे होती है. उनका लंड तो किसी मिज़ाइल की तरह से रेडी था बिना प्रोटेक्टिव चॅम्डी के. अब मेरी समझ मे आ गया था के मुस्लिमस का लंड चॅम्डी के बिना हो होता है और ऐसा लगता है जैसे लंड चोदने को हमेशा ही तय्यार रहता है. मैं ने सिरकुंसीज़ेड लंड आज पहली बार देखा था और मुझे उनके लंड से प्यार हो गया था. वो मेरे नीचे चित्त लेटे हुए थे और मैं उनके लंड को अपने चूत के अंदर घुसाए बैठी थी. अब मेरी अंदर और हिम्मत नही थी के मैं और चुदवाती. मैं ने सोचा के अगर मैं सारी रात यही रही तो शाएद डीके पूरी रात ही मेरी चुदाई करते रहेंगे और शाएद एक ही दिन के अंदर मेरी चूत को चोद चोद कर भोसड़ा बना देंगे. मैं उनके लंड को अपनी चूत से निकालते हुए पीछे हटी और उनके लंड को चूसने लगी. मेरी और उनकी मिली जुली मलाई बहुत थी मज़े की थी. मैं उनके लंड को चूस्ति रही और वो मेरे सर को पकड़ के अपने लंड पे घुसाए रहे और अपनी गंद उठा कर मेरे मूह को चोद्ते रहे. थोड़ी देर मे उन्हो ने मुझे बगल से पकड़ के सिग्नल दिया के मैं उनके ऊपेर 69 पोज़िशन मे आ गयी. मैं ऊपेर थी और मेरी चूत से टपकते जूस को डीके बड़े मज़े से चाट रहे थे. उनके दाँत मेरी चूत के दाने को लगते ही मैं एक बार फिर से पागल हो गयी और अपनी गंद को ऊपेर उठा उठा के अपनी चूत को उनके मूह पे पटकती रही और उतने ही जोश से उनके मूसल को चूस्ति रही. उनका लंड आधे से भी कम मेरे मूह मैं जा रहा था पर वो पूरी कोशिश कर रहे थे के अपने लंड को मेरे हलक के अंदर तक उतार दे और इसी लिए अपने घुटने मोड़ के लेते थे और अपने दोनो हाथो से मेरे सर को पकड़ के अपने लंड पे दबा दिया और एक मिनिट के लिए उनका लंड मेरे हलक से ट्रकरा रहा था पर मैं ने फॉरन ही बाहर निकल लिया और उनके मूह पे अपनी चूत दबा के बैठ गयी और काँपते हुए उनके मूह मे ही झड़ने लगी. मेरी चूत के जूस को वो बड़े मज़े से चाटने लगे. जैसे ही मेरी चूत का झड़ना बंद हुआ उन्हो ने अपनी गंद उठा के अपना लंड मेरे मूह मे घुसाना शुरू कर दिया और मैं उनके लोहे के खंबे को बड़े प्यार से चूमती और चूस्ति रही. अपने हाथो से उनके बॉल्स को भी दबा के देख रही थी. उनके बॉल्स अभी तक बोहोत ही टाइट थे ऐसा लग रहा था जैसे उनके बॉल्स के अंदर मलाई की फॅक्टरी है जहा बोहोत माल स्टॉक मे रेडी है. मैं उनके बॉल्स से खेल रही थी और कभी उनकी गंद मे उंगली डाल रही थी तो वो इतनी मस्ती मे आ गये के एक ही फ्लश मे मुझे नीचे लिटा दिया और मेरे बूब्स पे बैठ गये और अपने लंड को मेरे मूह के अंदर तक घुसेड दिया और मुझे अपने हलाक मे उनके लंड का मोटा सूपड़ा महसूस हुआ और उनके लंड मे से मलाई की धारियाँ निकल ने लगी. जितनी देर तक उनके लंड से मलाई की धारियाँ निकलती रही उन्हो ने अपने लंड को मेरे हलक के अंदर घुसा के रखा जिसकी वजह से मेरी गले की रगें फूल गयी और मेरा चेहरा लाल होगया पर मैं कुछ नही कर सकती थी बॅस उनके नीचे पड़ी छटपटा रही थी. उनके लंड से मलाई निकलना कम हो गयी तो वो मेरे मूह के अंदर ही लंड को रखे मेरे ऊपेर गिर गये. मुझे लगा जैसे उनकी मलाई से मेरा पेट भर गया हो.

डीके का सोया हुआ लंड ऐसा था

थोड़ी देर ऐसे ही पड़े रहने के बाद वो मेरे ऊपेर से उठे और एक बार फिर हम दोनो बाथरूम चले गये और शवर लेने लगे. उनका लंड अब कही जा के थोड़ा सा सॉफ्ट हुआ था पर उनका सॉफ्ट लंड भी सतीश के फुल्ली एरेक्ट लंड से ज़ियादा टाइट और बड़ा था. शवर ले के बाहर आए तो उन्हो ने फ्रिड्ज से केक निकाला और छुरी मेरे हाथ मे देते हुए बोले के स्नेहा मेरी जान आज इस केक को काट के अपना जॉब सेलेबरेट करो तो मुझे डीके पे बे इंतेहा प्यार आया ओरमेरी आँखो से एक बार फिर से खुशी के आँसू निकलने लगे और मैं उनको थॅंक्स फॉर एवेरतिंग डीके बोला और उन्हो ने छुरी मेरे हाथ मे थमा दी और मेरा हाथ पकड़ के हम दोनो ने मिल के केक काटा. मैं ने केक का एक पीस काट के ड्के के मूह मई रख दिया तो वो झुके के मेरे मूह मई अपने मूह से मुझे केक खिलाने लगे और केक खिलाना एक बहाना हो गया और हम एक दूसरे को दीवानो की तरह से किस करने लगे. हमारे बीचे से हिन्दी

मुस्लिम का भेद भाव ख़त्म हो गया था और मैं सच मे डीके से प्यार कर ने लगी थी और वो जितने टाइम चोदना चाहते थे मैं अपनी आपको उनसे चुदवाने के लिए तय्यार थी.

टाइम देखा तो रात के 9 बज रहे थे. डीके ने मेरे हाथ मे कांट्रॅक्ट पेपर दे दिए और मुझे चूमते हुए बोले के स्नेहा मेरी जान मैं ने कांट्रॅक्ट साइन कर दिया है तुम अपने रूम मे जाओ और इसे अछी तरह से पढ़ो और उसके बाद अची तरह से सोच समझ के साइन करो क्यॉंके अछी तरह से पढ़ना अछी बात है फिर बाद मे कोई प्राब्लम ना तुमको होगी ना हमको. मैं ने वही टेबल पे पड़े पेन को उठाया और साइन करने लगी तोडीके ने मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे चूमते हुए बोले के प्लीज़ स्नेहा मेरी बात मानो एक बार इसको पढ़ तो लो के तुमको सब कंडीशन्स आक्सेप्टबल है, अपने हज़्बेंड से और तुम अपने किसी फ्रेंड से डिसकस करना चाहो तो करो उसके बाद ही साइन करो. मैने बोला के ठीक है डीके जैसे आप कहोगे वैसे ही करूँगी तो उन्हो ने मुझे अपनी बाँहो मैं पकड़ लिया और मुझे अपने बदन से चिपकाते हुए किस करते करते बोले के आप नही तुम बोलना मुझे अछा लगेगा तो मैं मुस्कुरा दी और एक बार फिर से मेरी आँखो मे आँसू आ गये के कितने अछा इंसान है डीके. कितना कंफर्टबल फील करती हू मैं उनके प्रेज़ेन्स मे और वो मेरा कितना ख़याल रखते है. खैर घड़ी देखी तो पता चला के रात के 9:00 पीएम हो रहे है.

मैं जाने के लिए उठी तो मुझ से चला नही जा रहा था. डीके ने मुझ से कहा के स्नेहा मैं तुमको अपनी कार मे तुम्हारे होटेल तक ड्रॉप कर दूँगा पर पहले तुम यही ऑफीस के अंदर ही थोड़ा सा चलने की प्रॅक्टीस कर्लो नही तो शाएद होटेल के लोगो को डाउट हो जाएगा और शाएद वो समझ भी जाएँ के किसी ने तुम्हारे साथ सामॉहिक बलात्कार ( गॅंग बंग ) किया है. मेरी समझ मे यह बात आ गयी और थोड़ी देर ऐसे ही तकलीफ़ से चलने के बाद मेरी चाल कुछ ठीक हुई तो डीके मुझे सहारा दे के नीचे गॅरेज मे ले गये और मैं उनकी कार मे बैठ गयी. गॅरेज मे उनके कार के लिए एक अलग से स्पेस थी और उसको एक डोर भी लगा हुआ था जिसकी वजह से उनकी कार किसी को भी दिखाई नही दे सकती थी. उनके रूम से एक प्राइवेट लिफ्ट डाइरेक्ट उनकी कार के पास निकलती थी. हम उनकी कार मे बैठ गये. डीके ने कार स्टार्ट कर दी और फॉरन ही उसका एरकॉनडिशन भी चालू कर दिया जिसकी वजह से कार के अंदर गर्मी महसूस नही हो रही थी. मैं डीके की तरफ बोहोत प्यार से देखने लगी और मेरा बॅस नही चल रहा था के मैं यही कार के अंदर ही चढ़ के उनके ऊपेर बैठ जाउ और उनको किस करती ही रहू इतने प्यारे लग रहे थे वो मुझे. डीके ने पूछा ऐसे क्या देख रही हो स्नेहा तो मेरी आँखो मे एक बार फिर से आँसू आ गये और मैं ने बोला के मैं सारी उमर तुम्हारा एहसान मानुगी डीके तुमने मुझे जॉब दिया और

फिर मुझे इतना प्यार भी दिया और शरारत से मुस्कुराते हुए बोला के और चोद चोद के मेरी छोटी सी चूत का भोसड़ा भी तो बना दिया तो डीके ने बोला के क्यों तुम्है मेरा लंड और मेरी चुदाई पसंद नही आई क्या तो मैं ने बोला के अरे क्या बात करते है आप ऐसा लंड तो शाएद ही किसी के पास होगा और ऐसी शानदार चुदाई भी शाएद ही कोई कर सके. मेरा इतना बोलना था के उन्हो ने इशारे से मुझे अपने लंड की तरफ देखने को बोला. ओई मा देखा तो वो फिर से खड़ा हो चुका था. मैं तो दंग ही रह गयी के इतनी देर से साला उनका लंड खड़ा है और कंटिन्यू चूत को चोद रहा है या गंद को फाड़ रहा है और एक बार फिर से यह खड़ा हो गया. यह कोई रियल लंड है या आर्टिफिशियल. उन्हो ने मेरा हाथ पकड़ के अपने आकड़े हुए लंड पे रख दिया तो मैं उसको दबाने लगी और पूछने लगी के डीके कभी तुम्हारा लंड सोता भी है या हमेशा ही जागता और चूत या गंद मे घुसने का इंतेज़ार करता रहता है तो उन्हो ने बोला के नही अब यह लंड तुम्हारे यह प्यारे मूह का इंतेज़ार कर रहा है वो अपनी एक उंगली मेरे मूह के अंदर डालते बोले. मैं ने उनके लंड को पॅंट से बाहर निकाल लिया और उसको अपने हाथो मे पकड़ एक प्यार से दबाने लगी. लंड के डंडे को दबाते ही उस्मै से प्री कम की एक बूँद बाहर निकल गयी जिसे मैं ने अपनी ज़ुबान से चाट लिया. डीके ने मेरे सर पे अपना हाथ रख लिया और मेरे मूह को अपने लंड पे दबाने लगे. मेरा मूह ऑटोमॅटिकली खुल गया और मैं उनके लंड को चूसने लगी. मेरे मूह मे उनका लंड फँसा हुआ था और मैं अपना मूह ऊपेर नीचे कर के चूस रही थी. मेरी चूत ऐसे ही गीली होना शुरू हो गयी थी.

कार के अंदर चुदाई

थोड़ी ही देर मे मैं उनका आधा लंड चूस रही थी और उनके लंड का सूपड़ा मेरे थ्रोट मे लग रहा था. उनका हाथ मेरे बूब पे था और वो उसको स्क्वीज़ कर रहे थे. मेरी समझ मे नही आ रहा था के मैं एक बार फिर से ऐसे शानदार लंड से चुदवा लू या ऐसे ही उनका लंड चूस चूस कर लंड की क्रीम खा जाउ. उनका लंड चूस्ते चूस्ते मैं इतनी गरम हो गयी थी के मुझे अब अपनी चूत के अंदर उनका लंड चाहिए था. मैं अपनी सीट से थोड़ा ऊपेर उठी और अपनी एक टांग उठा के स्टेआरिंग के और उनके बीच मे डाल के उनके ऊपेर बैठने की कोशिश करने लगी तो वो मुस्कुरा दिए और अपना हाथ नीचे डाल के किसी लीवर को दबाया तो उनकी सीट पीछे जो गिर गयी और एक मिनी बेड की तरह से बह गयी. मैं एक ही सेकेंड के अंदर उनके ऊपेर चढ़ गयी और उनके लंड को पकड़ के अपनी चूत के सुराख से सटा दिया और एक ही झटके मे उनके ऊपेर बैठ गयी और उनका मूसल जो मेरे थूक से गीला हो चुका था मेरी चूत को चीरता हुआ एक घच की साउंड के साथ अंदर तक घुस गया और मेरे मूह से एक हल्की सी चीख निकल गयी ऊऊऊऊऊओह म्‍म्म्माआआआअ और मेरा सारा बदन दरद से अकड़ गया लैकिन फॉरन ही मुझे मज़ा आने लगा. डीके मेरे बूब्स को चूसने लगे और अपनी गंद ऊपेर उठा उठा के मुझे चोदने लगे. मैं भी कुछ इतनी उताओली हो चुकी थी के नीचे से वो धक्के मार रहे थे और ऊपेर से मैं उनके लंड के ऊपेर उछल कूद कर रही थी और कार मे एक रिदमिक म्यूज़िक चल रही थी. थोड़ी देर तक ऐसे ही चोदने के बाद हमारा रिदम तेज़ हो ने लगा. मैं तो शाएद 3 या 4 टाइम झाड़ चुकी थी और फिर जैसे ही मुझे उनका लंड अपनी चूत के अंदर फूलता महसूस हुआ मैं एक टाइम ज़ोर से ऊपेर उछली और उनके लंड को अपनी चूत के बोहोत अंदर तक घुसा के दबा के उनके लंड पे बैठ गयी. मेरी इस हरकत से उनका लंड नहाल हो गया और मेरी चूत के अंदर फव्वारा छोडने लगा. मुझे बोहोत ही मज़ा आ रा था, मेरे मूह से आआआआअहह ऊऊऊऊऊऊओह म्‍म्म्ममममाआआज़्ज़्ज़्ज़्ज़ाआअ एयाया र्र्ररराआआ ह्ह्ह्हाआ हहाअईईए आआअहह म्मीईईईरर्र्र्र्र्र्र्रृिईईईईईई न्न्न्नियैयीयिक्क्क्क्कययाऑल्ल्ल्न्न्नईयियी वव्वाअल्ल्लीए हहाआआऐययईईईई और उनका लंड अपनी बच्चे दानी के अंदर महसूस होने लगा था. उनकी क्रीम का फव्वारा जैसे ही मेरी बच्चे दानी पे लगा मेरे मूह से मस्ती भरी अबीयगग्ज्ज्ज्ज्ज्ग्च्च्च निकल, मेरी आँखें बंद हो गयी, साँस तेज़ी से चलने लगी और उसके साथ ही मैं एक बार फिर से काँपते हुए झाड़ गयी. थोड़ी देर तक मैं उनके लंड को अपनी चूत के अंदर ही दबाए उनके ऊपेर पड़ी रही. मैं ड्के के ऊपेर थी और जैसे ही थोड़ी देर के बाद मैं उनके मूसल से ऊपेर उठ, मेरी चूत के अंदर से उनकी और मेरी मलाई निकलके उनके पॅंट पे गिरी और उनके पॅंट को गीला कर दिया. वो मुस्कुरा के अपने गीले पॅंट को देखने लगे. मैं अपनी सीट पे वापस आ चुकी थी और

झुक के उनके हमारे जूस से चमकते लंड को अपने मूह मे लिया और चाट चाट के सॉफ किया. डीके ने अपनी सीट के लीवर ठीक किए और रिमोट का बटन दबाया तो सामने गॅरेज का डोर खुल गया और कार बाहर निकल गयी. कार के बाहर निकलते ही डोर ऑटोमॅटिकली बंद हो गया.

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--26

gataank se aage..........

Thodi der aisi position mai chodne ke bad unho ne mujhe ek bar phir se utha lia, unka Lund ek minute ke liye bhi meri choot se baher nahi nikla tha, unho ne utha ke mujhe deewar se laga dia aur ek bar phir se ghacha ghach chodne lage. Unke jhatke itne powerful the jaise wo kisi jack hammer se peeche ki deewar mai surakh kar denge. Mujhe laga jaise unka Lund meri choot phaat ke gand se baher nikal jayega. Mai bhi ab full mood mai aa gayee thi. Mere hath unke neck pe the aur pair kamar pe latepte hue the. Mai masti mai chilla rahi thi cccchhhhooooddddddooooo aaaaaaahhhhhhhhhhhhh aaaaaaaeeeeeesssssseeeeee hhhhhhhiiiiiiii zzzzzzzzooooooorrrrrrrrrr sssseeeee aaaaaahhhhhhhhhhhh mmmmmmaaaaaaaaazzzzzzzzzzaaaaaaaa aaaaa rrrrrrraaaaaaaahhhhhhhhhhaaaaaaaaaaa hhhhhhhhaaaaaaaaaaaaiiiiiii DDDDDKKKKKKKK kkkkkkiiiiittttttnnnnnnnnnaaaaaaaa pppppppyyyyyyaaaaaaarrrrrrrrrrraaaaaaaaaa llllllllllllluuuuuuuunnnnnnddddddd haaaaaaaaeeeeeeeeeeeee ooooooooooo mmmaaaaaaarrrrrr dddddddddddaaaaaaaaaaaaalllllllllllllaaaaaaaaaaaaa meri aisi batein sun ke unka josh bhi badhne laga aur wo buri tarah se meri choot mei apna musal ghused te rahe. Aaaaaaaaeeeeeeeesssssssssssssaaaaaaaaaaaa mmmmmaaaaaaaaaaazzzzzzzzzzzaaaaaaaaa kkkkkaaabbbbbbhhhhhhiiiiiiii nnnnnaaaaahhhhhiiiiii aaaayyyyaaaaa cccccccccchhhhhhhhoooooooooddddddoooooooo zzzzzzzzzoooooooorrrr zzzzzzzzooooooooooorrrrrrrrr ssssssssssssseeeeeeeeeeeeeeeee unke Lund pe mere badan ka wazan pad raha tha jiski wajah se meri clitoris unke mote Lund ke dande ke sath ragad khati hui ander baher ho rahi thi aur mai itni der mai 4 time jhad chuki thia aur meri choot ka rass unke Lund se tapakta hua neeche floor pe girne laga. Meri peeth deewar se lagi hui thi aur unka Lund kisi hathoude ki tarah se meri choot ko maar raha tha. Wo takreeban aadha ghanta isi style mai chodte rahe aur mai itni der mai shaed 10 time jhad chuki thi. Ab unki saansein bhi tezi se chal rahi thi aur aircondition ke chalte bhi unke aur mere badan paseene se bheeg chuke the. Dono ke badan bohot hi garam ho gaye the aur phir dekte hi dekhte unki speed bhot tez ho gayee aur ek tini zor ka jhatka mara ke mere muh se ek bar phir se cheekh nikal gayee ooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmmmaaaaaaaaaaaaaaaaaa mmmmmaaaaaaarrrrrrrrrr ggggggggggggaaaaaaaaaaiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii aur unke

Lund se malayee ka fawwara aise nikla jaise fire hose se pressure se aag nujhane ke liye pani nikalta hai aur unki malayee ka pressure lagte hi meri choot bhi deewani hogayee aur jhadne lagi. Mai ne unke gale mai hath aur unki kamar pe pair lapet ke pakad lia tha. Wo jhadte rahe aur meri choot se unki malayee over flow ho ke neeche girti rahi.

Meri Choot se Malayee nikal rahi hai

Ham dono hi buri tarah se thak chuke the. Mujhe to chalna hi nahi aa raha tha choot aur gand dono mai takleef ho rahi thi. Mai abhi bhi unke gale se jhool rahi thi. Wo dheere dheere neeche baithne lage aur apne Lund ko meri choot ke ander hi rakhe rakhe neeche floor pe let gaye. Unka musal abhi bhi

soft nahi hua tha. Mai yeh sochne lagi ke kahi yeh Lund koi duplicate Lund to nahi jo takreeban 5 ghante se lohe jaisa akda hua hai aur abhi tak soft hi nahi hua. Sach aisa Lund kabhi nahi dekha tha. Logo se suna tha ke muslims ka Lund kata hua hot hai par mujhe nahi lag raha tha ke unka Lund kata hua hai wo to structure mai waisa hi tha jaisa Satish ka aur Raj ka tha. Itna zaroor tha ke Unke Lund Ke supade ke ooper wo protective chamdi nahi thi jo Rajj ke aur Satish ke Lund ke head pe hoti hai. Unka Lund to kisi missile ki tarah se ready tha bina protective chamdi ke. Ab meri samajh mai aa gaya tha ke muslims ka Lund chamdi ke bina ho hota hai aur aisa lagta hai jaise Lund chodne ko hamesha hi tayyar rehta hai. Mai ne circumsized Lund aaj pehli bar dekha tha aur mujhe unke Lund se pyar ho gaya tha. Wo mere neeche chitt lete hue the aur mai unke Lund ko apne choot ke ander ghusaye baithi thi. Ab meri ander aur himmat nahi thi ke mai aur chudwati. Mai ne socha ke agar mai sari raat yahi rahi to shaed SK poori raat hi meri chudai karte rahenge aur shaed ek hi din ke ander meri choot ko chod chod kar bhosda bana denge. Mai unke Lund ko apni choot se nikalte hue peeche hati aur unke Lund ko choosne lagi. Meri aur unki mili juli malayee boho thi maze kit hi. Mai unke Lund ko choosti rahi aur wo mere sar ko pakad ke ape Loude pe ghusaye rahe aur apni gand utha kar mere muh ko chodte rahe. Thodi der mai unho ne mujhe baghal se pakad ke signal dia ke mai unke ooper 69 position mai aa gayee. Mai ooper thi aur meri choot se tapakte juice ko DK bade maze se chaat rahe the. Unke daant meri choot ke dane ko lagte hi mai ek bar phir se pagal ho gayee aur apni gand ko ooper utha utha ke apni choot ko unke muh pe patakti rahi aur utne hi josh se unke musal ko choosti rahi. Unka lund aadhe se bhi kam mere muh mai ja raha tha par wo poori koshish kar rahe the ke apne Lund ko mere halak ke ander tak utar de aur isi liye apne ghutne mod ke lete the aur apne dono hatho se mere sar ko pakad ke apne Lund pe daba dia aur ek minute ke liye unka Lund mere halak se trkraha par mai ne foran hi baher nikal lia aur unke muh pe apni choot daba ke baith gayee aur kaanpte hue unke muh mai hi jhadne lagi. Meri choot ke juice ko wo bade maze se chaatne lage. Jaise hi meri choot ka jhadna band hua unho ne apni gand utha ke apna Lund mere muh mai ghusana shuru kar dia aur mai unke lohe ke khambe ko bade pyar se choomti aur choosti rahi. Apne hatho se unke balls ko bhi daba de dekh rahi thi. Unke balls abhi tak bohot hi tight the aisa lag raha tha jaise unke balls ke ander malayee ki factory hai jaha bohot maal stock mei ready hai. Mei unke balls se khel rahi thi aur kabhi unki gand mai ungli dal rahi thi to wo itni masti mai aa gaye ke ek hi flash mai

mujhe neeche lita dia aur mere boobs pe baith gaye aur apne Lund ko mere muh ke ander tak ghused dia aur mujhe apne halak mai unke Lund ka mota supada mehsoos hua aur unke Lund mei se maalayee ki dhaariyan nikal ne lagi. Jitni der tak unke Lund se malayee ki dhariyan nikalti rahi unho ne apne Lund ko mere halak ke ander ghusa ke rakha jiski wajah se meri gale ki ragein phool gayee aur mera chehra laal hogaya par mai kuch nahi kar sakti thi bass unke neeche padi chatpata rahi thi. Unke Lund se malayee nikalna kam ho gayee to wo mere muh ke ander hi Lund ko rakhe mere ooper gir gaye. Mujhe laga jaise unki malayee se mera pet bhar gaya ho.

DK Ka soya hua Lund aisa tha

Thodi der aise hi pade rehne ke bad wo mere ooper se uthe aur ek bar phir ham dono bathroom chale gaye aur shower lene lage. Unka Lund ab kahi ja ke thoda sa soft hua tha par unka soft Lund bhi Satish ke fully erect Lund se ziada tight aur bada tha. Shower le ke baher aye to unho ne fridge se cake nikala aur churi mere hath mei dete hue bole ke Sneha meri jaan aaj iss cake ko kaat ke apna job celeberate karo to mujhe DK pe be inteha pyar aaya aurmeri aankho se ek bar phir se khushi ke aansoos nikalne lage aur mai unko thanks for everything DK bola aur unho ne churi mere hath mai thama di aur mera hath pakad ke ham dono ne mil ke cake kata. Mai ne cake ka ek piece kaat ke DK ke muh mai rakh dia to wo jhuke ke mere muh mai apne muh se mujhe cake khilane lage aur cake khilana ek bahana ho gaya aur ham ek doosre ko deewano ki tarah se kiss karne lage. Hamare beeche se Hindi

Muslim ka bhed bhao khatm ho gaya tha aur mai sach mei DK se pyar kar ne lagi thi aur wo jitney time chodna chahte the mai apni aapko unse chudwane ke liye tayyar thi.

Time dekha to raat ke 9 baj rahe the. DK ne mere hath mai contract paper de diye aur mujhe choomte hue bole ke Sneha meri jaan mai ne contract sign kar dia hai tum apne room mai jao aur ise achi tarah se padho aur uske bad acho tarah se soch samajh ke sign karo kyonke achi tarah se padhna achi bat hai phri bad mai koi problem na tumko hogi na hamko. Mai ne wahi table pe pade pen ko uthaya aur sign karne lagi to DK ne mera hath pakad lia aur mujhe choomte hue bole ke please Sneha meri baat mano ek bar isko padh to lo ke tumko sab conditions acceptable hai, apne husband se aur tum apne kisi friend se discuss karna chaho to karo uske bad hi sign karo. Mei ne bola ke theek hai DK jaise aap kahoge wiase hi karungi to unho ne mujhe apni baho mai pakad lia aur mujhe apne badan se chipkaate hue kiss karte karte bole ke AAP nahi TUM bolna mujhe acha lageg to mai muskura di aur ek bar phir se meri aankho mia aansoo aa gaye ke kitne acha insaan hai DK. Kitna comfortable feel karti hu mai unke presence mai aur wo mera kitna khayal rakhte hai. Khair ghadi dekhi to pata chala ke raat ke 9:00 pm ho rahe hai.

Mai jaane ke liye uthi to mujh se chala nahi ja raha tha. DK ne mujh se kaha ke Sneha mai tumko apni car mai tumhare hotel tak drop kar dunga par pehle tum yahi office ke ander hi thoda sa chalne ki practice karlo nahi to shaed hotel ke logo ko doubt ho jayega aur shaed wo samajh bhi jayen ke kisi ne tumahre sath Samohik Balatkar ( Gang Bang ) kia hai. Meri samajh mai yeh bat aa gayee aur thodi der aise hi takleef se chalne ke bad meri chaal kuch theek hui to DK mujhe sahara de ke neeche garage mai le gaye aur mai unki car mai baith gayee. Garage mai unke car ke liye ek alag se space thi aur usko ek door bhi laga hua tha jiski wajah se unki car kisi ko bhi dikhayee nahi de sakti thi. Unke room se ek private lift direct unki car ke pas nikalti thi. Ham unki car mai baith gaye. DK ne car start kar di aur foran hi uska aircondition bhi chalu kar dia jiski wajah se car ke ander garmi mehsoos nahi ho rahi thi. Mai DK ki taraf bohot pyar se dekhne lagi aur mera bass nahi chal raha tha ke mai yahi car ke ander hi chhad ke unke ooper baith jau aur unko kiss karti hi rahu itne pyare lag rahe the wo mujhe. DK ne poocha aise kia dekh rahi ho Sneha to meri aankho mai ek bar phir se aansoo aa gaye aur mai ne bole ke mai sari umar tumahra ehsaan manugi DK tumne mujhe job dia aur

phir mujhe itna pyar bhi dia aur shararat se muskurate hue bola ke aur chod chod ke meri choti si choot ka bhosda bhi to bana dia to DK ne bola ke kyon tumhai mera Lund aur meri chudai pasand nahi ayi kia to mei ne bola ke arey kia baat karte hai aap aisa Lund to shaed hi kisi ke pas hoga aur aisi shandar chudai bhi shaed hi koi kar sake. Mera int bolna the ke unho ne ishare se apne mujhe apne Lund ki taraf dekhne ko bola. Oyi maa dekha to wo phir se khada ho chuka tha. Mai to dang hi reh gayee ke itni der se sala unka Lund khada hai aur continue choot ko chod raha hai ya gand ko phad raha hai aur ek bar phir se yeh khada ho gaya. Yeh koi real Lund hai ya artificial. Unho ne mera hath pakad ke apne akde hue Lund pe rakh dia to mai usko dabane lagi aur poochne lagi ke DK kabhi tumhara Lund sota bhi hai ya hamesha hi jaagta aur choot ya gand mai ghusne ka intezar karta rehta hai to unho ne bola ke nahi ab yeh Lund tumhare yeh pyare muh ka intezar kar raha hai wo apni ek ungli mere muh ke ander dalte bole. Mai ne unke Lund ko pant se baher nikal lia aur usko apne hatho mai pakad ek pyar se dabane lagi. Lund ke dande ko dabaate hi usmai se pre cum ki ek boond baher nikal gayi jise mai ne apni zuban se chaat lia. DK ne mere sar pe apna hath rakh lia aur mere muh ko apne Lund pe dabane lage. Mera muh automatically khul gaya aur mia unke Lund ko choosne lagi. Mere muh mai unka Lund phansa hua tha aur mai apna muh ooper neeche kar ke choos rahi thi. Meri choot aise hi geeli hona shuru ho gayee thi.

Car Ke ander chudai

Thodi hi der mai mai unka aadha lund choos rahi thi aur unke Lund ka supada mere throat mai lag raha tha. Unka hath mere boob pe tha aur wo usko squeeze kar rahe the. Meri samajh mai nahi aa raha tha ke mai ek bar phir se aise shandar Lund se chudwa lu ya aise hi unka Lund choos choos kar Lund ki cream kha jau. Unka Lund chooste chooste mai itni garam ho gayee thi ke mujhe ab apni choot ke ander unka Lund chahiye tha. Mai apni seat se thoda ooper uthi aur apni ek tang utha ke stearing ke aur unke beech mai dal ke unke ooper baithne ki koshish karne lagi to wo muskura diye aur apna hath neeche dal ke kisi lever ko dabaya to unki seat peeche jo gir gayee aur ek mini bed ki tarah se bah gayee. Mai ek hi second ke ander unke ooper chad gayee aur unke Lund ko pakad ke apni choot ke surakh se sata dia aur ek hi jhatke mai unke ooper baith gayee aur unka musal jo mere thook se geela ho chuka tha meri choot ko cheerta hua ek ghach ki sound ke sath ander tak ghus gaya aur mere muh se ek halki si cheekh nikal gayee ooooooooooohhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh mmmmaaaaaaaaa aur mera sara badan darad se akad gaya laikin foran hi mujhe maza aane laga. DK mere boobs ko choosne lage aur apni gand ooper utha utha ke mujhe chodne lage. Mai bhi kuch itni utaoli ho chuki thi ke neeche se wo dhakke mar rahe the aur ooper se mai unke Lund ke ooper uchal kood kar rahi thi aur car mai ek rhythmic music chal rahi thi. Thodi der tak aise hi chodne ke bad hamara rhythm tez ho ne laga. Mai to shaed 3 ya 4 time jhad chuki thi aur phir jaise hi mujhe unka Lund apni choot ke ander phoolta mehsoos hua mai ek time zor se ooper uchli aur unke Lund ko apni choot ke bohot ander tak ghusa ke daba ke unke Lund pe baith gayee. Meri iss harkat se unka Lund nehaal ho gaya aur meri choot ke ander fawwara chhorne laga. Mujhe bohot hi maza aa rha tha, mere muh se aaaaaaaaahhhhhhhhhhhhh ooooooooooooohhhhhhhhhhh mmmmmmmaaaaaazzzzzaaaaa aaaaa rrrrraaaaaa hhhhaaaa hhhhaaaeeeee aaaaahhhhhhhhhhh mmeeeeeeeeerrrrrrrrrriiiiiiiiii nnnniiiikkkkkaaaalllnnneee wwwaaallleee hhhhhaaaaaaaiiiiiii aur unka Lund apni bache dani ke ander mehsoos hone laga tha. Unki cream ka fawwara jaise hi meri bache dani pe laga mere muh se masti bhari aaaagggggggghhhhhhhhhhhhh nikal, meri aankhein band ho gayee, saans tezi se chalne lagi aur uske sath hi mai ek bar phir se kaanpte hue jhad gayee. Thodi der tak mai unke Lund ko apni choot ke ander hi dabaye unke ooper padi rahi. Mai DK ke ooper thi aur jaise hi thodi der ke bad mai unke musal se ooper uth, meri choot ke ander se unki aur meri malayee nikalke unke pant pe giri aur unke pant ko geela kar dia. Wo muskura ke apne geele pant ko dekhne lage. Mai apni seat pe wapas aa chuki thi aur

jhuk ke unke hamare juice se chamakte Lund ko apne muh mai lia aur chaat chaat ke saaf kia. DK ne apni seat ke lever theek kai aur remote ka button dabaya to samne garage ka door khul gaya aur car baher nikal gayee. Car ke baher nikalte hi door automatically band ho gaya.

kramashah......................