Recession Ki Maar -रिसेशन की मार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:27

रिसेशन की मार पार्ट--21

गतान्क से आगे..........

एमडी का मोटा ताज़ा लंड. सोचो ज़रा कैसे चुदवाया होगा मैं ने ऐसे लंड से और मेरी चूत का क्या हाल हुआ होगा. कैसे भोसड़ा नही बनेगी ऐसे लंड से चुदवाने के बाद. चूत

मैं अपने दोनो हाथो से उनके मूसल को पकड़ के ऊपेर नीचे करने लगी. उनके लंड से खुशी के आँसू निकल पड़े और लंड के सुराख के ऊपेर बड़ी बड़ी बूँदें प्री कम की निकल के लंड के सुराख से बाहर आने लगी तो मैं ने झुक के अपनी ज़ुबान से उनके लंड से निकलते प्री कम को टेस्ट किया तो मुझे अछा लगा. उनका लंड किसी जलते हुए रोड की तरह गरम था जिसको पकड़ने से मेरा बदन भी गरम हो ने लगा था. चूत से कंटिन्यू जूस निकलने लगा. मैं ऐसे लंबे मोटे ख़तरनाक लंड से चुदने को बेचैन भी थी और डर भी लग रहा था.

डू यू शेव स्नेहा >> ?? एमडी की आवाज़ आई

यस सर ऑल्वेज़. मैने जवाब देने के लिए अपना मूह उनके लंड से हटा लिया लैकिन अपनी दोनो हाथो से पकड़ी रही.

हम्म गुड. आइ लाइक दट

थॅंक्स सर.

व्हेन डिड यू शेव लास्ट ?

दिस मॉर्निंग सर

वाउ तट'स नाइस. इसका मतलब है के अभी तो चूत एक दम से चिकनी सिल्की सॉफ्ट होगी ?

यस सर एक दम से बॉल्ड, बेबी चूत है. शराब का नशा मुझे चढ़ने लगा था और अब मैं भी खुल कर बात कर रही थी.

वाह बेबी चूत ?

यस सर.

ज़रा मुझे भी तो दिखाओ के तुम्हारी बेबी चूत कितनी चिकनी है.

ओके सर.

मैं उनका इशारा समझ गयी और उनके लंड से अपने हाथ हटा लिए और अपने स्कर्ट का हुक खोलने लगी. जैसे ही मैं ने उनके लंड को छोड़ा, एक ठप की आवाज़ आई और उनका लंड किसी स्प्रिंग की तरह से झटका मार के उनके पेट से जा लगा और लंड का हेड उनके सीने तक आ गया, उनका लंड उनके सीने पे इतना करीब था के अगर वो थोड़ा सा अपने सर को नीचे झुका देते तो शायद अपने लंड के हेड को चूस सकते थे.

लंड सीने तक आ रहा था इतना बड़ा था

मैने बैठे बैठे ही अपनी स्कर्ट का हुक खोल दिया और स्कर्ट को निकाल के करीब रखी एक टेबल पे डाल दिया और चेर पे अपने पैर थोड़ा और खोल के बैठी. ऐसे बैठ ने से मेरी चिकनी चूत एमडी को सॉफ दिखाई दे रही थी.

एमडी ने हाथ बढ़ा कर शराब का पेग उठा लिया और मेरे हाथ मे दे दिया और बोले के लो स्नेहा तुम इसे ख़तम करदो. मेरी तो जान ही निकल गयी क्यॉंके उस्मै अभी आधे से ज़ियादा शराब बाकी थी और मुझे तो एक ही घूँट शराब से मेरे हलाक मे अभी तक जलन हो रही थी. मुझे जॉब के लिए यह सब तो करना ही था और फिर एमडी ने खुद भी बोल दिया था के तुम जो जो कर सकती हो करो तो नॅचुरली मुझे अब कुछ करना ही था. मैं ने उनके हाथ से शराब का ग्लास ले लिया और एक घूँट पी लिया. बहुत ही कड़वा था लैकिन अब शाएद मैं भी शराब से अड्जस्ट हो रही थी और फिर थोड़ी देर तक स्लो स्लिप लिया फिर एक घूँट लिया तो हलक फिर से जलने लगा. मेरे एक हाथ मे उनका मोटा मूसल था दूसरे हाथ मे शराब का ग्लास. एक हाथ से उनके लंड का मूठ मार रही थी, दूसरे हाथ से शराब पी रही थी.

मैं फिर से झुक के उनके लंड के हेड को अपने मूह मे लेने की कोशिश करने लगी पर उनके लंड का सूपड़ा कुछ इतना मोटा था के मेरे मूह मे नही घुस रहा था तो मैं जितना मूह के अंदर था उतना ही चूसने लगी. एमडी का हाथ मेरे थाइ पे आ गया और वो मेरे थाइस को सहलाने लगे तो मुझे करेंट लगा और मेरे पैर ऑटोमॅटिकली चौड़े हो गये जिस से मेरी चूत सॉफ दिखाई देने लगी. मैं अपनी चेर को उनके टेबल के कुछ और करीब ले गयी. मैं ने अपना मूह उनके लंड से हटाया और उनके लंड पे शराब डाल के चाटने लगी तो एमडी को बोहोत मज़ा आने लगा. लंड अभी तक पूरा मेरे मूह के अंदर नही गया था इसी लिए मैं लंड के डंडे को ही ऊपेर से नीचे और नीचे से ऊपेर तक चूस रही थी और जो शराब लंड से नीचे उनके नवल और उनके बॉल्स पे टपक के आती तो मैं टपकती हुई शराब को वही से चूस लेती इस तरह से शराब भी पी रही थी और लंड भी चूस रही थी. मेरे ऐसा करने से एमडी मस्ती मे पागल जैसे हो रहे थे और अपनी गंद ऊपेर उछाल रहे थे. अब मुझे भी कुछ कुछ शराब का नशा चढ़ने लगा था, बदन मे एक रिलॅक्सेशन फील हो रहा था तो मैं ने शराब के ग्लास मे से बची हुई शराब को घट घट कर एक ही घूँट मे पी लिया और एक दम से मेरे दिमाग़ मे सनसनाहट महसूस होने लगी और अब मैं फुल चुदासी हो गयी थी और मैं लंड के ऊपेर अपना मूह रख के चूसने लगी तो एमडी का हाथ मेरे सर पे आ गया और वो मेरे सर को पकड़ के अपने लंड पे दबाने लगे लैकिन उनके लंड का सूपड़ा ही मेरे मूह मे बड़ी मुश्किल से घुस रहा था. थोड़ी देर की

कोशिश के बाद लंड का सूपड़ा और लंड का थोड़ा सा हिस्सा ही मूह के अंदर जा सका जिसे मैं चूसने लगी.

डीके का मोटा लंड मूह के अंदर नही जा रहा था.

इतना मोटा एमडी का लंड था जो मूह मे नही जा रहा था

लंड मेरे हलक के अंदर तक घुसा है

अब एमडी का हाथ मेरी चूत पे आ गया था और मेरी चूत एक दम से गीली हो गई थी. उंगली चूत के अंदर डाल के चूत के दाने से खेल रहे थे तो मेरी गंद ऑटोमॅटिकली चेर पे आगे पीछे होने लगी और एमडी मेरी चूत को अपनी उंगली से चोद रहे थे. उनकी उंगली भी किसी लंड से कम नही थी इतनी मोटी थी

उनकी उंगलियाँ. उन्हो ने मस्ती मे कहा के वाह स्नेहा यू आर सिंप्ली वंडरफुल ऐसे ही करो आआआहह और खुद मेरी क्लाइटॉरिस से खेलने लगे. चेर मेरी चूत के जूस से भीग गयी थी. अब मैं एक दम, से चुदासी हो गयी थी और शराब का नशा भी था. मैं अपनी चेर से ऊपेर उठी और अपना एक पैर उनकी लो हाइट वाली चेर के दूसरी तरफ डाल के उनके मूह पे अपनी चूत को रख दिया जिसे वो फॉरन ही चाटने लगे. अब हम दोनो पर्फेक्ट 69 की पोज़िशन मे थे और दोनो के पैर फ्लोर पे थे. वो अपनी गंद उचका उचका के मेर मूह को चोद रहे थे और मैं अपनी गंद ऊपेर उठा उठा के अपनी चूत को उनके मूह पे पटक पटक के अपनी चूत से उनके मूह को चोद रही थी. मैं उनके लंड को मूठ भी मार रही थी और चूस भी रही थी. वो अपने हाथ कभी मेरी बॅक पे फेरते तो कभी मेरी चूतदो को पकड़ के मसल देते तो कभी गंद को खोल के देखते और कभी मेरा सर पकड़ के सर को अपने लंड पे दबाते और साथ मे ही अपनी गंद उठा के अपने लंड को मेरे मूह के अंदर तक घुसाने की कोशिश करते. थोड़ी देर मे ही लगभग आधे लंड का सूपड़ा और उसके साथ के थोड़े भाग से ही मेरा मूह फुल हो गया था और लंड का मोटा सूपड़ा हलक के अंदर तक चला गया था. उनके लंड का सूपड़ा मेरे हलक मे अटक गया था जिस से मुझे एक दम से खाँसी आ गयी और मैं अपना मूह उनके लंड से बाहर निकलना चाहती थी पर उन्हो ने मेरा सर दबा के पकड़ा था जिस की वजह से मेरे गले की रगें फूल गयी थी और मुझे साँस लेने मे दिक्कत हो रही थी. फिर थोड़ी देर ऐसे ही रखने के बाद मैं ने उनके मूह मे अपनी चूत को ज़ोर से दबा दिया तो उन्हो ने मेरा सर छ्चोड़ दिया और फिर अपनी ज़ुबान को गोल करके मेरी चूत के अंदर बाहर करते चोदने लगे और एक ही मिनिट के अंदर मेरे बदन मे सन सनाहट हुई और मैं झड़ने लगी. जितनी देर झरती रही उनके लंड से अपना मूह हटा लिया और मज़े ले ले के झरती रही. वो मेरी चूत से फ्रेश जूस पीते रहे और फिर जैसे ही मेरा झरना ख़तम हुआ मैं ने फिर से उनके लंड के डंडे को पकड़ लिया और उनके आधे लंड को चूसने लगी. मेरा जूस निकल जाने के बाद मैं बड़े ही मस्त स्टाइल मे उनके लंड को चूस रही थी बिल्कुल किसी लॉली पोप की तरह और मुझे महसूस हुआ के उनका लंड मेरे मूह के अंदर कुछ ज़ियादा ही मोटा होने लगा है और उन्हो ने एक दम से पोज़िशन चेंज की और मुझे नीचे रिलॅक्सिंग चेर पे लिटा दिया और खुद चेर के दोनो तरफ पैर दल के मेरे मूह के सामने खड़े हो गये. मेरे मूह के सामने उनका मस्त लंड लहरा रहा था जिसे मैं ने फॉरन ही अपने हाथ से पकड़ लिया और अपनी ओर खेच के चूसने लगी. वो मेरे ऊपेर थोड़ा सा झुके हुए थे और मेरे मूह को फुल फोर्स से चोद रहे थे. जैसा के मैं पहले ही बता चुकी हू के वो बोहोत ही ताकतवर इंसान थे, उन्हो ने झुक के चेअर की रोड को पकड़ लिया और अपना मोटा लंड मेरे मूह के अंदर तक घुसेड दिया, वो तो अछा हुआ के मैं ने उनका लंड अपनी मुट्ठी मे पकड़ा हुआ था

नही तो उनका इतना लंबा और इतना मोटा लंड मेरे हलक के अंदर तक घुस्स के मुझे मार ही डालता, उन्हो ने एक ज़ोर से धक्का मारा और उनका लंड मेरे हाथो से फिसल गया और सच मे मेरे हलक के बोहोत अंदर तक घुस्स गया, मेरी तो साँस ही बंद हो गयी और फिर उनके लंड से बोहोत ही गरम और गाढ़ी चिप चिपि मलाई निकल के डाइरेक्ट मेरे हलक के अंदर चली गयी और मैं थोड़ी देर तक साँस रोके ऐसे ही पड़ी रही और उनके मलाई मेरा पेट भरती रही. वो थोड़ी देर तक अपना लंड मेरे हलक मे डाले मेरे ऊपेर गहरी गहरी साँसें लेते हुए पड़े रहे फिर अपना लंड मेरे मूह से बाहर निकाल लिया तो मेरा हाथ ऑटोमॅटिकली उनके लंड पे चला गया और मैं ने उसको ज़ोर से दबा दिया तो उस्मै से मलाई की एक और धार निकली जो मेरे बूब्स पे गिरी तो वो झुक गये और अपने लंड से मेरे बूब्स पे गिरी मलाई को मेरे बूब्स पे स्प्रेड करने लगे.

स्नेहा ऑन रिलॅक्सिंग चेअर विथ हॅंडल

उनका लंड थोड़ा भी सॉफ्ट नही हुआ था वो तो वैसे का वैसे ही आकड़ा हुआ फुल्ली एरेक्ट था और लोहे जैसा सख़्त मैं तो उसको देख के डर ही गयी अब वो कुछ ज़ियादा ही मोटा हो गया था और मेरे थूक से चिकना हो गया था और चमक रहा था. उन्हो ने मुझे ऐसे ही लेटने को कहा और खुद आगे बढ़ के दो बड़े ग्लास मे शराब भर के ले आए और एक मेरे हाथ मे थमा दिया और बोले के चलो इसे पी जाओ. इतना बड़ा ग्लास था के क्या बताउ. अब पीना तो था ही क्यॉंके जॉब भी तो पक्की करनी थी. मैं ने एक घूँट लिया तो मुझे हलक मे कुछ अजीब टेस्ट महसूस हुआ क्यॉंके हलक मे तो एमडी के लंड की चिप चिपि मलाई लगी हुई थी. एक दो घूँट मे उनकी मलाई का टेस्ट ख़तम हो गया और अब शराब

का टेस्ट आने लगा. मुझे अब नशा चढ़ने लगा था. एंडी मेरे थाइ के ऊपेर ऐसे बैठ गये के उनका मूसल मेरी चूत से टकरा रहा था और मेरा मन कर रहा था के वो जल्दी से मेरी चूत को अपने मूसल से फाड़ डाले. मेरी चूत बे इंतेहा गीली हो चुकी थी. एमडी ने अपना लंड अपने हाथ मे पकड़ा और मेरी चूत को अपने लंड से मारने लगे,मुझे ऐसा लगा जैसे कोई लोहे के डंडे से मेरी चूत को मार रहा हो और उनके मोटे लंड का सूपड़ा मेरी क्लाइटॉरिस से टकराया तो जैसे मैं दीवानी हो गयी और भारी लंड की मार के साथ ही मैं सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स कर के एक दम से झड़ने लगी मेरे जूस से मेरी चूत भर गयी. मेरा दिल चाह रहा था के खुद ही अपने हाथो से उनका लंड पकड़ कर अपनी चूत मे घुसेड लू. मैं इतने जोश मे थी के मेरी टाँगें ऊपेर उठने और उनकी कमर पे लपेटने को बेताब थी पर वो मेरी थाइस पे बैठे थे इसी लिए मेरी टाँगें ऊपेर नही उठ सकती थी बस मैं अपनी गंद उछाल कर ही उनको लंड मेरी चूत के अंदर डालने का सिग्नल दे रही थी. पर शाएद उनका कुछ और ही प्लान था. अब इस समय पोज़िशन ऐसी थी के मुझे जॉब नही यह उनका मोटा लोहे जैसा मूसल लंड मेरी चूत के अंदर चाहिए था अट एनी कॉस्ट. आइ डॉन'ट नीड दा जॉब राइट नाउ, आइ वॉंट हिम टू फक मी विथ हिज़ आइरन रोड हार्ड कॉक. मैं उनका लंड पकड़ कर अपनी चूत मे घुसाने की कोशिश करने लगी और साथ मे बिनती करती जा रही थी फक मी सर प्लीज़, प्लीज़ फक मी नाउ प्लीज़ मेरी आवाज़ रोने जैसी हो गयी थी मेरी चूत मे ज़बरदस्त खुजली और सरसराहट होने लगी थी मेरी चूत को इस टाइम एक मोटा और सख़्त लंड चाहिए था चोदने के लिए. आइ वॉंट युवर कॉक इन माइ पुसी नाउ. चोद डालो सर प्लीज़ फाड़ डालो सर यह साली चूत को मार मार के इसका भोसड़ा बना दो मुझे कुछ नही चाहिए बॅस यह तुम्हारे मोटे लोहे जैसे मूसल को मेरी चूत के अंदर पेल दो और चोद डालो यह साली भेन्चोद चूत को, इसे ऐसा मस्त लंड चाहिए, इसको डाल दो मेरी प्यासी चूत के अंदर सर प्लीज़ मेरी चूत चुदासी की आग मे जल रही है, मेरी चूत की आग को अपने मूसल लंड से ठंडा करदो सर प्लीज़. अब मुझे ऐसे तगड़े मोटे हेवी लंड से बिल्कुल भी डर नही लग रहा था बलके मुझे ऐसे मस्त लंड पे प्यार आ रहा था और मैं सोच रही थी के कितनी लकी होगी वो लड़की जो ऐसे मस्त मूसल से चुदवा लेगी तो और यह के ऐसे मूसल की तो हर कोई लड़की कल्पना करती होगी के उसके पति का भी इतना बड़ा और मोटा लोहे जैसा सख़्त लंड होता और यहा तो मुझे फ्री मे ऐसे मस्त लौदे से चुदवाने का मौका मिल रहा था तो मेरी चूत ख़ुसी से लाल हो गयी थी और मस्ती मे खुद बा खुद खुल बंद हो रही थी.

मेरा शराब का ग्लास आधा ख़तम हो गया था और मेरा दिमाग़ सातवें आसमान पे था. मैं अब बहेकने लगी थी और सब संस्कार और रेस्पेक्ट को फेंक के ऑटोमॅटिकली मेरी ज़ुबान से गंदी गलियाँ निकल रही थी मैं बोल

रही थी चोद डाल रे भोसड़ी के दिखाई नही देती क्या तेरे कू ऐसी चिकनी चूत. मार डाल साली को, चोद डाल, इसका भुर्ता बना दे अपने मूसल से. डाल दे रे भेन्चोद देख मेरी चूत तेरे लौदे की दीवानी हो गयी है. चोद डाल रे क्या देख रहा है चूत को ऐसे घूर घूर के. पहले कभी ऐसी चूत नही देखी क्या. मेरी ज़ुबान से ऐसे शब्द सुन के एमडी के होंठो पे मुस्कुराहट आ गयी और वो मेरे ऊपेर से उठ गये तो मैं जैसे दीवानी हो गयी. एमडी उठ के अंदर के कमरे की तरफ जाने लगे तो मैं ने पुकारा अरे भदवे इधर आ साले कहाँ जा रहा है तेरी मा को चोदु. मैं शराब के और चुदाई के नशे मे पागल हो गयी थी. एमडी मेरी बात को अनसुनी कर के अंदर चले गये तो मैं अपने रिलॅक्सिंग वाली चेर से उठ कर उनके पीछे भागने लगी. मुझे किसी भी कीमत पर उनका लंड अपनी चूत के अंदर चाहिए था बॅस. मुझे ऐसे मस्त लंड से चुदना था अभी और इसी वक़्त. मेरी चूत फुदकने लगी थी. मैं एमडी के साथ उनके पीछे पीछे जाने लगी. और अपने हाथ मे शराब के ग्लास मे बची हुई शराब को एक ही घूँट मे अपने हलक मे उंड़ेल लिया और एमडी के पीछे जाते जाते शराब के ग्लास को काउंटर पर रख दिया और उनके पीछे कमरे के अंदर आ गयी. देखा तो एमडी अपनी टेबल पे रखी केवाई जेल्ली और दूसरे जेल्ली के ट्यूब्स और एक चौड़े मूह वाला जेल्ली से भरा जार भी उठा के बाहर निकल ने लगे तो मैं समझ गयी के अब वो जेल्ली लगा कर चोदेन्गे. रूम से बाहर निकलते निकलते उन्हो ने मेरे चिकने चूतदो को मसलना शुरूकर दिया और मैं उनका खंबे जैसा लंड पकड़ के उनके साथ बाहर आ गयी. उन्हो ने फिर मेरे लिए एक बड़ा सा ग्लास शराब का बनाया यह शराब वो पहले वाली नही थी बलके दूसरे कलर की थी जिसे मैं ने अभी तक टेस्ट नही किया था पर अब मेरा ध्यान उस शराब मे कहा था मेरे दिल ओ दिमाग़ मे तो बॅस उनका मूसल लंड घूम रहा था जिस से मेरी चूत चुदने को तय्यार थी और अब मैं चुदवाने के लिए कुछ भी करने को तय्यार थी. मैं ज़िंदगी मे इतनी चुदासी कभी नही हुई थी जितनी अब हो गई थी. शाएद यह शराब का नशा था या इतना मोटा लंबा गरम मूसल देख के मैं चुदासी हो गयी थी.

दोस्तो क्या स्नेहा एमडी का मोटा मूसल लंड अपनी चूत मे ले पाई क्या एमडी ने अपना लंड स्नेहा की चूत मे घुसा कर उसकी प्यासी चूत की प्यास बुझाई इसी सभी सवालो के जबाब के लिए पार्ट २२ पढ़े आपका दोस्त राज शर्मा

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--21

gataank se aage..........

MD Ka mota taaza Lund. Socho zara kaise chudwaya hoga mai ne aise Lund se aur meri choot ka kia haal hua hoga. Kaise bhosda nahi banegi aise Lund se chudwane ke baad.

Mai apne dono hatho se unke musal ko pakad ke ooper neeche karne lagi. Unke Lund se khushi ke aansoo nikal pade aur Lund ke surakh ke ooper badi badi boondein pre cum ki nikal ke Lund ke surakh se baher aane lagi to mai ne jhuk ke apni zuban se unke Lund se nikalte pre cum ko taste kia to ke mujhe acha laga. Unka Lund kisi jalte hue rod ki tarah garam tha jiko pakadne se mera badan bhi garam ho ne laga tha. Choot se continue juice nikalne laga. Mai aise lambe mote khatarnaak Lund se chudne ko bechain bhi thi aur dar bhi lag raha tha.

Do you shave Sneha >> ?? MD ki awaz ayi

Yes sir always. Maine jawab dene ke liye apna muh unke Lund se hata lia laikin apni dono hatho se pakdi rahi.

Hhmm Good. I like that

Thanks Sir.

When did u shave last ?

This morning Sir

Wow that's nice. Iska matlab hai ke abhi to choot ek dum se chikni silky soft hogi ?

Yes sir ek dum se bald, baby choot hai. Sharab ka nasha mujhe chhadhne laga tha aur ab mai bhi khul kar baat kar rahi thi.

Wah baby choot ?

Yes sir.

Zara mujhe bhi to dikhao ke tumhari baby choot kitni chikni hai.

OK Sir.

Mai unka ishara samajh gayee aur unke Lund se apne hath hata liye aur apne skirt ka hook kholne lagi. Jaise hi mei ne unke Lund ko chhora, ek thap ki awaz ayee aur unka Lund kisi spring ki tarah se jhatka maar ke unke pet se ja laga aur Lund ka head unke seene tak aa gaya, unka Lund unke seene pe itna kareeb tha ke agar who thoda sa apne sar ko neeche jhuka dete to shaid apne Lund ke head ko choos sakte the.

Lund seene tak aa raha tha itna bada tha

Mai baithe baithe hi apnd skirt ka hook khol dia aur skirt ko nikal ke kareeb rakhi ek table pe dal dia aur chair pe apne pair thoda aur khol ke baithi. Aise baith ne se meri chikni choot MD ko saaf dikhayee de rahi thi.

MD ne hath badha kar sharab ka peg utha lia aur mere hath mai de dia aur bole ke lo Sneha tum ise khatam kardo. Meri to jaan hi nikal gayee kyonke usmai abhi aadhe se ziada sharab baki thi aur mujhe to ek hi ghoont sharab se mere halak mai abhi tak jalan ho rahi thi. Mujhe job ke liye yeh sab to karna hi tha aur phir MD ne khud bhi bol dia tha ke tum jo jo kar sakti ho karo to naturally mujhe ab kuch karna hi tha. Mai ne unke hath se sharab ka glass le lia aur ek ghoont pi lia. Bohot hi kadwa tha laikin ab shaed mai bhi sharab se adjust ho rahi thi aur phir thodi der tak slow slip lia phir ek ghoont lia to halak phir se jalne laga. Mere ek hath mai unka mota musal tha doosre hath mai sharab ka glass. Ek hath se unke Lund ka muth mar rahi thi, doosre hath se sharab pi rahi thi.

Mai phir se jhuk ke unke Lund ke head ko apne muh mai lene ki koshish karne lagi par unke Lund ka supada kuch itna mota tha ke mere muh mai nahi ghus raha tha to mai jitna muh ke ander tha utna hi choosne lagi. MD ka hath mere thigh pe aa gaya aur wo mere thighs ko sehlaane lage to mujhe current laga aur mere pair automatically choude ho gaye jis se meri choot saaf dikhayee dene lagi. Mai apni chair ko unke table ke kuch aur kareeb le gayee. Mai ne apna muh unke Lund se hataya aur unke Lund pe sharab dal ke chaatne lagi to MD ko bohot maza aane laga. Lund abhi tak poora mere muh ke ander nahi gaya tha isi liye mai Lund ke dande ko hi ooper se neeche aur neeche se ooper tak choos rahi thi aur jo sharab Lund se neeche unke naval aur unke balls pe tapak ke aati to mai tapakti hui sharab ko wahi se choos leti iss tarah se sharab bhi pi rahi thi aur Lund bhi choos rahi thi. Mere aisa karne se MD masti mai pagal jaise ho rahe the aur apni gand ooper uchal rahe the. Ab mujhe bhi kuch kuch sharab ka nasha chadhne laga tha, badan mai ek relaxation feel ho raha tha to mai ne sharab ke glass mai se bachi hui sharab ko ghat ghat kar ek hi ghoont mai pi lia aur ek dum se mere dimagh mai sansanahat mehsoos hone lagi aur ab mai full chudasi ho gayee thi aur mai Lund ke ooper apna muh rakh ke choosne lagi to MD ka hath mere sar pe aa gaya aur wo mere sar ko pakad ke apne Lund pe dabaane lage laikin unke Lund ke supada hi mere muh mai badu mushkil se ghus raha tha. Thodi der ki

koshish ke bad Lund ka supada aur Lund ka thoda sa hissa hi muh ke ander ja saka jise mai choosne lagi.

DK Ka Mota Lund Muh ke ander nahi jar aha tha.

Itna Mota MD Ka Lund tha jo muh mai nahi jaa raha tha

Lund mere Halak ke ander tak ghusa hai

Ab MD ka hath meri choot pe aa gaya tha aur meri choot ek dum se geeli ho gai thi. Ungli choot ke ander dal ke choot ke dane se khel rahe the to meri gand automatically chair pe aage peeche hone lagi aur MD meri choot ko apni ungli se chod rahe the. Unki ungli bhi kisi Lund se kam nahi thi itni moti thi

unki ungliyan. Unho ne masti mai kaha ke wah Sneha you are simply wonderful aise hi karo aaaaaahhhhhhhhhhh aur khud meri clitoris se khelne lage. Chair meri choot ke juice se bheeg gayee thi. Ab mai ek dum se chudasi ho gayee thi aur sharab ka nasha bhi tha. Mai apni chair se ooper uthi aur apna ek pair unki low height wali chair ke doosri taraf dal ke unke muh pe apni choot ko rakh kdia jise wo foran hi chaatne lage. Ab ham dono perfect 69 ki position mai the aur dono ke pair floor pe the. Wo apni gand uchka uchka ke mer muh ko chod rahe the aur mai apni gand ooper utha utha ke apni choot ko unke muh pe patak patak ke apni choot se unke muh ko chod rahi thi. Mai unke Lund ko muth bhi mar rahi thi aur choos bhi rahi thi. Wo apne hath kabhi meri back pe pherte to kabhi meri chootado ko pakad ke masal dete to kabhi gand ko khol ke dekhte aur kabhi mera sar pakad ke sar ko apne Lund pe dabate aur sath mai hi apni gand utha ke apne Lund ko mere muh ke ander tak ghusane ki koshish karte. Thodi der mai hi lagbhag aadhe Lund ka supada aur uske sath ke thode bhag se hi mera muh full ho gaya tha aur Lund ka mota supada halak ke ander tak chala gaya tha. Unke Lund ka supada mere halak mai atak gaya tha jis se mujhe ek dum se khansi aa gayee aur mai apna muh unke Lund se baher nikalna chahti thi par unho ne mera sar daba ke pakda tha jis ki wajah se mere gale ki ragein phool gayee thi aur mujhe saans lene mei dikkat ho rahi thi. Phir thodi der aise hi rakhne ke bad mai ne unke muh mai apni choot ko zor se daba dia to unho ne mera sar chhod dia aur phir apni zuban ko gol karke meri choot ke ander baher karte chodne lage aur ek hi minute ke ander mere badan mai san sanahat hui aur mai jhadne lagi. Jitni der jharti rahi unke Lund se apna muh hata lia aur maze le le ke jharti rahi. Wo meri choot se fresh juice peete rahe aur phir jaise hi mera jharna khatam hua mai ne phir se unke lund ke dande ko pakad lia aur unke aadhe Lund ko choosne lagi. Mera juice nikal jane ke bad mai bade hi mast style mai unke Lund ko choos rahi thi bilkul kisi lolly pop ki tarah aur mujhe mehsoos hua ke unka Lund mere muh ke ander kuch ziada hi mota hone laga hai aur unho ne ek dum se position change ki aur mujhe neeche relaxing chair pe lita dia aur khud chair ke dono taraf pair dal ke mere muh ke samne khade ho gaye. Mere muh ke samne unka mast Lund lehra raha tha jise mai ne foran hi apne hath se pakad lia aur apni or khech ke choosne lagi. Wo mere ooper thoda sa jhuke hue the aur mere muh ko full force se chod rahe the. jaisa ke mai pehle hi bata chuki hu ke wo bohot hi takatwar insaan the, unho ne jhuk ke chiar ki rod ko pakad lia aur apna mota Lund mere muh ke ander tak ghused dia, wo to acha hua ke mai ne unka Lund apni muthi mai pakda hua tha

nahi to unka itna lamba aur itna mota Lund mere halak ke ander tak ghuss ke mujhe maar hi dalta, Unho ne ek zor se dhakka mara aur unka Lund mere hatho se phisal gaya aur sach mai mere halak ke bohot ander tak ghuss gaya, meri to saans hi band ho gayee aur phir unke Lund se bohot hi garam aur gaadhi chip chipi malayee nikal ke direct mere halak ke ander chali gayee aur mai thodi der tak saans roke aise hi padi rahi aur unke malayee mera pet bharti rahi. Wo thodi der tak apna Lund mere halak mei dale mere ooper gehri gehri saansein lete hue pade rahe phir apna Lund mere muh se baher nikal lia to mera hath automatically unke Lund pe chala gaya aur mai ne usko zor se daba dia to usmai se malayee ki ek aur dhar nikli jo mere boobs pe giri to wo jhuk gaye aur apne Lund se mere boobs pe giri malayee ko mere boobs pe spread karne lage.

Sneha on Relaxing Chair with handle

Unka Lund thoda bhi soft nahi hua tha wo to waise ka waise hi akda hua fully erect tha aur lohe jaisa sakht mai to usko dekh ke dar hi gayee ab wo kuch ziada hi mota ho gaya tha aur mere thook se chikna ho gaya tha aur chamak raha tha. Unho ne mujhe aise hi letne ko kaha aur khud aage badh ke do bade glass mai sharab bhar ke le aye aur ek mere hath mai thama dia aur bole ke chalo ise pi jao. Itna bada glass tha ke kia batau. Ab peena to tha hi kyonke job bhi to pakki karni thi. Mai ne ek ghoont lia to mujhe halak mei kuch ajeeb taste mehsoos hua kyonke halak mai to MD ke Lund ki chip chipi malayaa lagi hui thi. Ek do ghoont mai unki malayee ka taste khatam ho gaya aur ab sharab

ka taste aane laga. Mujhe ab nasha chhadhne laga tha. MD mere thigh ke ooper aise baith gaye ke unka musal meri choot se takra raha tha aur mera man kar raha tha ke wo jaldi se meri choot ko apne musal se phad dale. Meri choot be inteha geeli ho chuki thi. MD ne apna lund apne hath mai pakda aur meri choot ko apne Lund se marne lage,mujhe aisa laga jaise koi lohe ke dande se meri choot ko maar raha ho aur unke mote Lund ka supada meri clitoris se takraya to jaise mai deewani ho gayee aur bhaari Lund ke mar ke sathi hi mai ssssssssssssss kar ke ek dum se jhadne lagi mere juice se meri choot bhar gayee. Mera dil chah raha tha ke khud hi apne hatho se unka Lund pakad kar apni choot mai ghused lu. Mai itne josh mai thi ke meri tangein ooper uthne aur unki kamar pe lapetne ko betaab thi par wo meri thighs pe baithe the isi liye meri tangein ooper nahi uth sakti thi bas mai apni gand uchal kar hi unko Lund meri choot ke ander dalne ka signal de rahi thi. Par shaed unka kuch aur hi plan tha. Ab iss samay position aisi thi ke mujhe job nahi yeh unka mota lohe jaisa musal Lund meri choot ke ander chahiye tha at any cost. I don't need the job right now, I want him to fuck me with his iron rod hard cock. Mai unka Lund pakad kar apni choot mai ghusane ki koshish karne lagi aur sath mai binti karti ja rahi thi fuck me Sir please, please fuck me now please meri awaz rone jaisi ho gayee thi meri choot mai zabardast khujli aur sarsarahat hone lagi thi meri choot ko iss time ek mota aur sakht Lund chahiye tha chodne ke liye. I want your cock in my pussy now. chod dalo sir please phad dalo Sir yeh Sali choot ko maar maar ke iska bhosda bana do mujhe kuch nahi chahiye bass yeh tumhare mote lohe jaise Musal ko meri choot ke ander pel do aur chhod dalo yeh Sali bhenchod choot ko, Ise aisa mast Lund chahiye, isko dal do meri pyasi choot ke ander Sir please meri choot chudasi aag mai jal rahi hai, meri choot ki aag ko apne Musal Lund se thanda kardo Sir please. Ab mujhe aise tagde mote heavy Lund se bilkul bhi dar nahi lag raha tha balke mujhe aise mast Lund pe pyar aa raha tha aur mai soch rahi thi ke kitni lucky hogi wo ladki jo aise mast musal se chudwa legi to aur yeh ke aise musal ki to har koi ladki kalpana karti hogi ke uske pati ka bhi itna bada aur mota lohe jaisa sakht Lund hota aur yaha to mujhe free mai aise mast Loude se chudwane ka mouka mil raha tha to meri choot khusi se laal ho gayee thi aur masti mai khud ba khud khul band ho rahi thi.

Mera sharab ka glass aadhaa khatam ho gaya tha aur mera dimagh saatwein aasman pe tha. Mai ab behekne lagi thi aur sab sanskaar aur respect ko phenk ke me automatically meri zuban se gandi galiyan nikal rahi thi mai bol

rahi thi chod dal re bhosdi ke dikhayee nahi deti kia tere ku aisi chikni choot. Maar dal Sali ko, chod dal, iska bhurta bana de apne musal se. Daal de re bhenchod dekh meri choot tere Loude ki deewani ho gayee hai. chod dal re kia dekh raha hai choot ko aise ghoor ghoor ke. Pehle kabhi aisi choot nahi dekhi kia. Meri zuban se aise shabd sun ke MD ke hoto pe muskurahat aa gayee aur wo mere ooper se uth gaye to mei jaise deewani ho gayee. MD uth ke ander ke kamre ki taraf jane lage to mai ne pukara arey bhadwe idhar aa sale kaha ja raha hai teri maa ko chodu. Mai sharab ke aur chudai ke nashe mai pagal ho gayee thi. MD meri baat ko ansuni kar ke ander chale gaye to mai apne relaxing wali chair se uth kar unke peeche bhagne lagi. Mujhe kisi bhi keemat par unka Lund apni choot ke ander chahiye tha bass. Mujhe aise mast Lund se chudna tha abhi aur isi waqt. Meri choot phudakne lagi thi. Mai MD ke sath unke peeche peeche jane lagi. Aur apne hath mai sharb ke glass mai bachi hui sharab ko ek hi ghoont mai apne halak mai undel lia aur MD ke peeche jaate jaate sharab ke glass ko counter par rakh dia aur unke peeche kamre ke ander aa gayee. Dekha to MD apni table pe rakhe KY Jelly aur doosre jelly ke tubes aur ek choude muh wala jelly se bhara jar bhi utha ke baher nikal ne lage to mai samajh gayee ke ab wo jelly laga kar chodenge. Room se Baher nikalte nikalte unho ne mere chikne chootado ko masalna shurukar dia aur mai unka khambe jaisa Lund pakad ke unke sath baher aa gayee. Unho ne phir mere liye ek bada sa glass sharab ka banaya yeh sharab wo pehle wali nahi thi balke doosre colour ki thi jise mai ne abhi tak taste nahi kia tha par ab mera dhayan uss sharab mai kaha tha mere dil o dimagh mai to bass unka musal Lund ghoom raha tha jis se meri choot chudne ko tayyar thi aur ab mai chudwane ke liye kuch bhi karne ko tayyar thi. Mai zindagi mai itni chudasi kabhi nahi hui thi jitni ab ho gai thi. Shaed yeh sharab ka nasha tha ya itna mota lamba garam musal dekh ke mai chudasi ho gayee thi.

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:28

रिसेशन की मार पार्ट--22

गतान्क से आगे..........

एमडी ने मेरे हाथ मे वो शराब का ग्लास देते हुए कहा के इसे पी जाओ स्नेहा यह तुम्हारे बॉडी को मस्त कर देगा और तुम्हारी बॉडी एक दम से रिलॅक्स हो जाएगी तो मैं ने उसका एक सीप लिया तो मुझे कुछ मीठा मीठा लगा और मैं सारा ग्लास एक ही बारी मे घटक गयी और सच मे ही मेरे दिमाग़ मे एक सुकून जैसा आ गया और मुझे लगा जैसे मेरा बदन एक दम से रिलॅक्स हो गया हो पर साथ ही साथ मेरे बदन मे एक टाइप की आग लग गयी और मेरा बदन गरम हो गया. एमडी ने मुझे फिर से उसी रिलॅक्सिंग चेर पे बिठा दिया और कुछ लीवर्स दबाया तो वो चेर बॅक पे से एक शेप मे बन गयी जिस से कमर की

तरफ से मेरा बदन एक हल्के से "स" के शेप मे हो गया. मैं उसके चेर के दोनो तरफ अपने दोनो पैर डाल के, अपने पैरो को खोल के आराम से लेट गयी. मेरे पैर फ्लोर पे थे और टाँगें खुलने की वजह से चूत भी एक दम से सॉफ दिखाई देने लगी और कुछ ऊँची भी हो गयी. उसपे लेटने से मेरी चूत थोड़ी ऊपेर उठ गयी और मेरे बूब्स भी क्लियर सकिंग पोज़िशन मे आ गये. एमडी ने मुझे लिटा दिया और खुद एक बार फिर से मेरे दोनो थाइस के बीचे मे बैठ गये और मेरी थाइस को अपने थाइस पे रख लिया, ऐसा बैठने से उनका लंड किसी रेडी-टू-फाइयर मिज़ाइल की तरह से मेरी फड़कती चूत के सामने खड़ा था और मेरी चूत उस मिज़ाइल से फटने को बेचैन थी. वो झुक के मेरी चूत को किस करने लगे. थोड़ी देर ऐसे ही चूत को चाटने के बाद वो चेर के एंड पे आ गये पीछे हट के चेर से नीचे ही बैठ गये और मेरी चूत को चूसने लगे. शराब के असर से मेरा दिल ओ दिमाग़ चुदने को मचलने लगा. पता नही ऐसी कैसी शराब थी जो मुझे और ज़ियादा चुदासी बना रही थी. उनकी ज़ुबान अपने चूत के अंदर महसूस करते ही मेरा हाथ उनके सर पे आ गया और मैं अपनी गंद उठा के उनके मूह पे अपनी चूत को रगड़ने लगी. वो चूत को चाटने मे बड़े एक्सपर्ट लग रहे थे. ज़ुबान को गोल करके चूत के अंदर बाहर किया और एक ही मिनिट के अंदर मेरा बदन और मेरी चूत काँपने लगे और मैं झड़ने लगी. मेरा बदन एक मिनिट टाइट हुआ फिर ढीला पड़ गया. मैं तो झाड़ चुकी थी पर एमडी ने मेरी चूत को नही छोड़ा था वो लगातार मेरी चूत को चाट रहे थे और मुझे दीवाना बना रहे थे.

थोड़ी ही देर के अंदर, मैं एक बार फिर से फुल मूड मे आ गयी और पहले से ज़ियादा चुदासी हो गयी. एमडी ने अपना हाथ बढ़ा के करीब रखा शराब का ग्लास मेरे हाथ मे थमा दिया और बोले के इसे पी जाओ स्नेहा तो मैं ने टेस्ट किया तो वो थोड़ा बिट्टर था पर अब मैं एक ही दिन के अंदर शराब पीने से अड्जस्ट होने लगी थी इसी लिए मैं ने हल्की हल्की चुस्की लेते हुए शराब पीना स्टार्ट किया. यह शराब कुछ ज़ियादा ही स्ट्रॉंग लग रही थी. मुझे महसूस हो रहा था के मुझे अब बे इंतेहा नशा चढ़ने लगा था, मैं अपने आप मे नही थी और मेरा दिमाग़ अब गोल गोल घूमने लगा था. इधर उनके चाटने से मेरी चूत एक बार फिर से गरम और गीली हो चुकी थी और चुदने को बेताब थी. यह ग्लास की नयी शराब से मैं एक दम से मस्त हो गयी थी और एक बार फिर से बहेकने लगी. मैं ने एक बार फिर से एमडी को गलियाँ देनी शुरू कर दी. क्या चाट रहा है रे साले चोद डाल मेरी चूत को हरामी. देखता नही मेरी चूत तेरे लौदे को पुकार रही है. मेरी चूत को चाट ता ही रहेगा के इसे चोदेगा भी तेरे लंड से चल उठ और चोद डाल मेरी बेचैन चूत को. एमडी के ऊपेर मेरी गलियों का कोई असर नही दिखाई दिया और वो वैसे ही मेरी चूत को

चाट चाट के मुझे तय्यार करने लगे. जब उनको एहसास हो गया के अब मेरी चूत उनके लंड से चुद सकती है तो उन्हो ने करीब रखी केवाई जेल्ली का ट्यूब उठाया और मेरी गीली चूत के अंदर घुसा दिया. ओऊऊईईईइ माआआआअ जेल्ली का ऑलमोस्ट आधा ट्यूब घुसा दिया था मैं समझी के उनका लंड मेरी चूत के अंदर घुस गया है. और फिर देखते ही देखते उन्हो ने जेल्ली का ट्यूब ज़ोर से दबाया तो ठंडी और लूब्रिकॅंट जेल्ली ट्यूब से निकाल के मेरी चूत को भरने लगी. जेल्ली के अंदर निकलने से मुझे ऐसा लगा जैसे एमडी के लंड से मलाई निकल रही है और बॅस फिर क्या था मेरी चूत भी बे बस हो गयी और मैं झड़ने लगी. जब मेरी चूत जेल्ली से भर गयी और जेल्ली चूत के बाहर निकलने लगी तो उन्हो ने ट्यूब को बाहर निकाल लिया और ऊपेर चढ़ के आ गये और मेरे पैरो के दोनो तरफ अपने दोनो पैर डाल के खड़े हो गये. उनका लंबा मोटा और जोश मे लहराता हुआ मूसल जैसा लंड देख के मेरी गंद ही फॅट गयी पर मैं तो शराब के नशे मे थी दूसरे ही सेकेंड मुझे वो लंड बोहोत ही अछा और मस्त लगने लगा और मैं चुदने को बेताब होने लगी और मैने एमडी से बोला के मादरचोद क्या देख रहा है रे साले डाल दे ना इसको मेरी चूत के अंदर कब तक ऐसे ही खड़ा रहेगा रे भेन्चोद चल आ जा. एमडी मेरी बात सुन के मुझे देखते हुए मुस्कुराए और अपना हाथ बढ़ा के टेबल पे रखी चौड़े मूह वाले जार को उठा लिया और अपने हाथ से अपना लंड पकड़ा और अपने लंड को उस जर मे घुसा दिया और जार के अंदर गोल गोल घुमाने लगे जिस से सारी जेल्ली से उनका लंड भर गया. एमडी मेरे ऊपेर झुक के आ गये. अपने पैरो को मेरे पैरो के बीच रख के खड़े हो के मेरे ऊपेर झुक गये और अपनी ज़ुबान मेरे मूह मे डाल के किस करने लगे और मेरे बूब्स को मसल्ने लगे. उनका लंड मेरी चूत के पंखदिओं के बीच मे था. उन्हो ने एक धक्का धीरे से मारा तो उनका लंड मेरे चूत के दाने ( क्लाइटॉरिस ) को रगड़ता हुआ ऊपेर उठ गया, मैं तो जैसे दीवानी हो गयी. उनके लौदे का सख़्त सूपड़ा मेरी चूत के दाने को मारता हुआ ऊपेर फिसल गया था. मैं उनके किस से कुछ और मदहोश हो गयी और मेरा हाथ ऑटोमॅटिकली हमारे बदन के बीच मे आ गया और मैं ने उनका लंड अपने दोनो हाथो मे पकड़ लिया और अपनी चूत के अंदर ऊपेर से नीचे रगड़ने लगी तो उन्हो ने एक धक्का मारा तो एक बार फिर से उनका लंड चूत से फिसल कर ऊपेर निकल गया, शाएद लंड को मेरी चूत का सुराख दिखाई नही दे रहा था.

एमडी का लंड चूत से फिसल गया

मैं उनके लंड को पकड़े अपनी चूत मे घिस्स रही थी, मेरी टाँगें उनके बॅक पे लपेटी हुई थी और ऐसे ही उनके लंड को चूत के अंदर घिसते ही घिसते उनके लंड का सूपड़ा मेरी चूत के सुराख मे फिट बैठ गया तो मैं ने अपना हाथ हटा लिया और उनके चूतदो को पकड़ के अपनी चूत के अंदर उनको लंड घुसाने का न्योता दिया. वो किस करते करते मेरी आँखो मे देख रहे थे, उनका लंड मेरी चूत के सुराख मे टाइट बैठा हुआ था. लंड जेल्ली से पूरी तरह से सना हुआ था. उनका इस तरह से घूर्ना मुझे अजीब लगा लैकिन मैं तो इतनी चुदासी थी के कुछ समझना नही चाहती थी. मैं एक बार फिर से गाली दे के बोली क्या देख रहा है रे भोसड़ी के चोद डाल रे देख मेरी चूत तेरे लंड का स्वागत करने को तय्यार है. उन्हो ने मेरी आँखो मे आँखें डाल के पूछा रेडी हो तो मैं ने बोला तो क्या समझता है मादर चोद तेरे नीचे नंगे लेट के मैं क्या करवाना चाहती हू.. चोद डाल रे डाल दे अंदर पेल दे अपने लंड को मेरी चूत के अंदर भेन्चोद. चल अब डाल ज़ियादा देर ना कर. देख मेरी चूत कैसे गीली हो गयी है. उन्हो ने अपना हाथ दोनो के बीच मे डाला और अपने लंड के सूपदे को जो चूत के सुराख मे धंसा हुआ था बाहर निकाल लिया तो मैं फिर से बेचैन हो गयी और बोली के क्यों निकाला रे साले डाल दे

अंदर और फिर मैं अपना हाथ बीच मे डाल के फिर से लंड को चूत के सुराख मे अटकाना चाहती थी लैकिन मेरे देखते ही देखते उन्हो ने अपने लंड को बाहर निकाला और जेल्ली के जार मे एक बार फिर से लंड डाल के गोल घुमाया और आव देखा ना ताव, एक सेकेंड के अंदर ही अपने मोटे ख़तरनाक मिज़ाइल से चूत के टारगेट का निशाना लिया और पूरी ताक़त से एक ही पॉवरफुल झटके मे मेरी चूत के अंदर घुसेड दिया. मेरी चूत के अंदर जलता हुआ मिज़ाइल घुस गया. मेरी चूत के अंदर 1000 वॉल्ट का करेंट दौड़ गया और मेरी चूत के अंदर एक ब्लास्ट हुआ और मेरे मूह से एक बोहोत ही लंबी चीख निकल गयी उउउउउउउउउउउउउउउउउउईईईईईईईईईईईइ म्‍म्म्मममाआआआआआअ म्‍म्म्ममाआआआअरर्र्र्र्र्र्ररर गगग्गगाआआआयययययईई र्र्र्र्र्र्र्र्रररीईईईईईईईईई मुझे लगा जैसे मेरे बदन के अंदर कोई गरम गरम लोहे का खंबा घुसा दिया गया हो. जैसे किसी ने मेरी चूत मे तलवार डाल के मेरे बदन के दो टुकड़े कर दिए हो, मेरी आँख से आँसू निकलने लगे, मेरे दिमाग़ मे जैसे सारे शहेर की दीवाली के लाखो करोड़ो ( क्रॉरेस ) पटाखे एक साथ ही फूटने लगे, फुलझारिया जलने लगी, मेरी आँखो के सामने कमरा घूमता नज़र आया और फिर सितारो भरा काला आसमान आ गया और मैं अमावस जैसी काली और अंधेरी रात मे हवाओ मे उड़ने लगी, दिमाग़ मे सायँ सायँ कर के आँधियाँ चलने लगी. मेरा बदन ढीला पड़ गया और हाथ पैर बेजान हो के चेर के दोनो तरफ झूलने लगे. मेरी साँसें बहुत ही गहरी और तेज़ चल रही थी, मेरा बदन पसीने से भीग गया था. उनका बोहोत ही मोटा और सख़्त लंड किसी मिज़ाइल की तरह से मेरी चूत को फाड़ता हुआ पूरा जड़ तक घुसता ही चला गया और मेरे हलक तक घुस के ही रुका. मैं तो एक मिनिट के लिए बेजान गुड़िया की तरह उनके बदन के नीचे दबी पड़ी रही. उनका लंड बहुत ही गरम था जिस से मेरी चूत अंदर ही अंदर पिघलने लगी. मेरी चूत एक बार फिर से फॅट गयी थी और खून निकलने लगा था. इस टाइम मेरी चूत तीसरी टाइम फटी थी. एक तो जब मेरी शादी हुई थी तो सतीश के लंड पर मेरी चूत क़ुरबान हो गयी थी फिर मुंबई के रास्ते मे राज के लंड से मेरी चूत दूसरी टाइम फटी और अब एमडी के हाथी लंड जैसे लंड से चुद के फटी थी.

एमडी का मोटा मूसल लंड चूत के अंदर फँस गया.

अपना मूसल मेरी चूत के अंदर डाले डाले वो मेरे बदन पे कुछ देर तक बिना धक्के लगाए ऐसे ही पड़े रहे. उनका लंड मेरी चूत के अंदर फूल रहा था जैसे गुस्से से फुनाक रहा हो. थोड़ी देर मे मेरे होश ठिकाने आए तो देखा के वो अपना लंड मेरी चूत मे घुसेडे मेरे ऊपेर पड़े है. जब मैं होश मे वापस आए तो पहले तो मेरी समझ मे नही आया के क्या हुआ है और यह के मैं कहा हू, फिर तीन चार सेकेंड्स के अंदर ही मेरी समझ मे आ गया के मैं यहा जॉब की तलाश मे आई थी और अब एमडी अपने लंड को मेरी चूत के अंदर तक घुसेड के मेरा इंटरव्यू ले रहे है. मेरी समझ मे नही आया के यह कैसा इंटरव्यू है, ऐसा इंटरव्यू आज से पहले ना कही देखा ना सुना. खैर अब मुझे फॉरन ही याद आ गया था के मुझे जॉब की ज़रूरत है और यह आदमी जो मुझे चोद रहा है मुझे एक

बोहोत ही अछा जॉब दे सकता है तो मैं ने अपनी चूत के दर्द को बर्दाश्त किया और एमडी को चूमने लगी. जब उन्हो ने देखा के मैं अब अपने होश ओ हवास मे वापस आ गयी हू तो वो मुस्कुराए, उनको देख के मैं भी मुस्कुरा दी. मेरा सारा नशा उतर चुका था और अब मुझे उनका मोटा लंड अपने हलक के अंदर तक महसूस हो रहा था. मेरी चूत जितनी चौड़ी हो सकती थी हो चुकी थी पूरी तरह से खुल गयी थी और शाएद सूज भी गयी थी क्यॉंके मुझे मेरी चूत का पेन महसूस हो रहा था. मुझे अपनी चूत इतनी फुल कभी भी महसूस नही हुई थी जितनी उनके लंड घुसने से हुई ईवन राज शर्मा का लंड भी एमडी के लंड के मुक़ाबले मे छोटा नज़र आ रहा था.

अभी तो आधा ही लंड चूत के अंदर है.

वो मेरी आँखो मे देखते हुए मुस्कुराने लगे तो मैण भी मुस्कुरा दी. उन्हो ने पूछा कैसा लग रहा है स्नेहा तो मैण ने बोला के अब ठीक है सर. उन्हो ने पूछा कुछ पिओगी तो मैं ने हा मे सर हिला दिया तो उन्हो ने करीब रखी टेबल से शराब का ग्लास मेरे हाथ मे दे दिया. उनका लंड अंदर ही डाले डाले मैं थोड़ा सा ऊपेर उठी और एक ही साँस मे सारी शराब पी गयी. जब शराब की जलन मेरे हलक मे ख़तम हुई तो मुझे सुकून महसूस हुआ और फिर मैने अपने पैर उनकी कमर से लपेट लिए और अपने हाथ उनकी गर्दन मे डाल के अपने ऊपेर झुका के किस करने लगी. अब वो धीरे से अपने लंड को बाहर निकालने लगे तो मेरी चूत की चॅम्डी उनके लंड के साथ बाहर आने लगी जिस से मेरी चूत मे आग लग गयी और जलन महसूस होने लगी. मेरी चूत के अंदर उनके लंड का एक एक इंच अंदर से बाहर निकलता हुआ मुझे महसूस हो रहा था. शराब ने अपना असर दिखना शुरू कर दिया था और मैं फिर से चुदासी हो गयी.

दोस्तो आपने देखा स्नेहा ने एमडी मूसल अपनी चूत मे लेलिया अब एमडी और स्नेहा की मस्त चुदाई अगले पार्ट मे पढ़े

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--22

gataank se aage..........

MD ne mere hath mai wo sharab ka glas dete hue kaha ke ise pi jao Sneha yeh tumhare body ko mast kar dega aur tumhari body ek dum se relax ho jayegi to mai ne uska ek sip lia to mujhe kuch meetha meetha laga aur mai sara glass ek hi bari mai ghatak gayee aur sach mai hi mere dimagh mai ek sukoon jaisa aa gaya aur mujhe laga jaise mera badan ek dum se relax ho gaya ho par sath hi sath mere badan mai ek type ki aag lag gayee aur mera badan garam ho gaya. MD ne mujhe phir se usi relaxing chair pe bitha dia aur kuch levers dabaya to wo chair back pe se ek shape mai ban gayee jis se kamar ki

taraf se mera badan ek halke se "S" ke shape mai ho gaya. Mai uske chair ke dono taraf apne dono pair dal ke, apne pairo ko khol ke araam se let gayee. Mere pair floor pe the aur tangein khulne ki wajah se choot bhi ek dum se saaf dikhayee dene lagi aur kuch oonchi bhi ho gayee. Uspe letne se meri choot thodi ooper uth gayee aur mere boobs bhi clear sucking position mai aa gaye. MD ne mujhe lita dia aur khud ek bar phir se mere dono thighs ke beeche mai baith gaye aur meri thighs ko apne thighs pe rakh lia, aisa baithne se unka Lund kisi ready-to-fire missile ki tarah se meri phadakti choot ke samne khada tha aur meri choot uss missile se phatne ko bechain thi. Woh jhuk ke meri choot ko kiss karne lage. Thodi der aise hi choot ko chaatne ke baad wo chair ke end pe aa gaye peeche hat ke chair se neeche hi baith gaye aur meri choot ko choosne lage. Sharab ke asar se mera dil o dimagh chudne ko machalne laga. Pata nahi aisi kaisi sharab thi jo mujhe aur ziada chudasi bana rahi thi. Unki zuban apne choot ke ander mehsoos karte hi mera hath unke sar pe aa gaya aur mai apni gand utha ke unke muh pe apni choot ko ragadne lagi. Wo choot ko chatne mai bade expert lag rahe the. Zuban ko gol karke choot ke ander baher kia aur ek hi minute ke ander mera badan aur meri choot kaanpne lage aur mai jhadne lagi. Mera badan ek minute tight hua phir dheela pad gaya. Mai to jhad chuki thi par MD ne meri choot ko nahi chhora tha wo lagataar meri choot ko chaat rahe the aur mujhe deewana bana rahe the.

Thodi hi der ke ander, mai ek bar phir se full mood mai aa gayee aur pehle se ziada chudasi ho gayee. MD ne apna hath badha ke kareeb rakha sharab ka glass mere hath mai thama dia aur bole ke ise pi jao Sneha to mai ne taste kia to wo thoda bitter tha par ab mai ek hi din ke ander sharab peene se adjust hone lagi thi isi liye mai ne halki halki chuski lete hue sharab peena start kia. Yeh sharab kuch ziada hi strong lag rahi thi. Mujhe mehsoos ho raha tha ke mujhe ab be inteha nasha chhadne laga tha, mai apne aap mai nahi thi aur mera dimagh ab gol gol ghoomne laga tha. Idhar unke chaatne se meri choot ek bar phir se garam aur geeli ho chuki thi aur chudne ko betaab thi. Yeh glass ki nayee sharab se mai ek dum se mast ho gayee thi aur ek bar phir se behekne lagi. Mai ne ek bar phir se MD ko galiyan deni shuru kar di. Kia chaat raha hai re sale chod dal meri choot ko harami. Dekhta nahi meri choot tere Loude ko pukar rahi hai. Meri choot ko chaat ta hi rahega ke ise chodega bhi tere Lund se chal uth aur chod dal meri bechain choot ko. MD ke ooper meri galiyon ka koi asar nahi dikhayee dia aur wo waise hi meri choot ko

chaat chaat ke mujhe tayyar karne lage. Jab unko ehsaas ho gaya ke ab meri choot unke Lund se chud sakti hai to unho ne kareeb rakhe KY Jelly ka tube uthaya aur meri geeli choot ke ander ghusa dia. Oooooiiiiiii maaaaaaaaa Jelly ka almost aadha tube ghusa dia tha mai samjhi ke unka Lund meri choot ke ander ghus gaya hai. Aur phir dekhte hi dekhte unho ne Jelly ka tube zor se dabaya to thandi aur lubricant jelly tube se nikal ke meri choot ko bharne lagi. Jelly ke ander nikalne se mujhe aisa laga jaise MD ke Lund se malayee nikal rahi hai aur bass phir kia tha meri choot bhi be bas ho gayee aur mai jhadne lagi. Jab meri choot jelly se bhar gayee aur jelly choot ke baher nikalne lagi to unho ne tube ko baher nikal lia aur ooper chhad ke aa gaye aur mere pairo ke dono taraf apne dono pair dal ke khade ho gaye. Unka lamba mota aur josh mai lehraata hua musal jaisa Lund dekh ke meri gand hi phat gayee par mai to sharab ke nashe mai thi doosre hi second mujhe wo Lund bohot hi acha aur mast lagne laga aur mai chudne ko betaab hone lagi aur MD se bola ke matherchod kia dekh raha hai re sale dal de na isko meri choot ke ander kab tak aise hi khada rahega re bhenchod chal aa ja. MD meri bat sun ke mujhe dekhte hue muskuraye aur apna hath badha ke table pe rakhi choude muh wale jar ko utha lia aur apne hath se apna Lund pakda aur apne Lund ko us jar mai ghusa dia aur jar ke ander gol gol ghumane lage jis se sari jelly se unka Lund bhar gaya. MD mere ooper jhuk ke aa gaye. Apne pairo ko mere pairo ke beech rakh ke khade ho ke mere ooper jhuk gaye aur apni zuban mere muh mai dal ke kiss karne lage aur mere boobs ko masalne lage. Unka Lund meri choot ke pankhadion ke beech mai tha. Unho ne ek dhakka dheere se mara to unka Lund mere choot ke dane ( clitoris ) ko ragadta hua ooper uth gaya, mai to jaise deewani ho gayee. Unke Loude ka sakht supada meri choot ke dane ko marta hua ooper phisal gaya tha. Mai unke kiss se kuch aur madhosh ho gayee aur mera hath automatically hamare badan ke beech mai aa gaya aur mai ne unka Lund apne dono hatho mai pakad lia aur apni choot ke ander ooper se neeche ragadne lagi to unho ne ek dhakka mara to ek bar phir se unka Lund choot se phisal kar ooper nikal gaya, shaed Lund ko meri choot ka surakh dikhayee nahi de raha tha.

MD Ka Lund Choot Se Phisal Gaya

Mai unke Lund ko pakde apni choot mai ghiss rahi thi, meri tangein unke back pe lapeti hui thi aur aise hi unke Lund ko choot ke ander ghiste hi ghiste unke Lund ka supada meri choto ke surakh mai fit baith gaya to mai ne apna hath hata lia aur unke chootado ko pakad ke apni choot ke ander unko Lund ghusane ka neota dia. Wo kiss karte karte meri aankho mai dekh rahe the, unka Lund meri choot ke surakh mai tight baitha hua tha. Lund jelly se poori tarah se sana hua tha. Unka iss tarah se ghoorna mujhe ajeeb laga laikin mai to itni chudasi thi ke kuch samajhna nachi chahti thi. Mai ek bar phir se gali de ke boli kia dekh raha hai re bhosdi ke chod dal re dekh meri choot tere Lund ka swagat karne ko tayyar hai. Unho ne meri aankho mai aankhein dal ke poocha ready ho to mai ne bola to kia samajhta hai mather chod tere neeche nange let ke mai kia karwana chahti hu.. chod dal re dal de ander pel de apne Lund ko meri choot ke ander bhenchod. Chal ab dal ziada der na kar. Dekh meri choot kaise geeli ho gayee hia. Unho ne apna hath dono ke beech mai dala aur apne Lund ke supade ko jo choot ke surakh mai dhansa hua tha baher nikal lia to mai phir se bechain ho gayee aur boli ke kyon nikala re sale dal de

ander aur phir mai apna hath beech mai dal ke phir se Lund ko choot ke surakh mai atkaana chahti thi laikin mere dekhte hi dekhte unho ne apne lund ko baher nikala aur jelly ke jar mai ek bar phir se lund dal ke gol ghumaya aur aao dekha na tao, ek second ke ander hi apne mote khatarnaak missile se choot ke target ka nishana lia aur poori takat se ek hi powrful jhatke mai meri choot ke ander ghused dia. Meri choot ke ander jalta hua missile ghus gaya. Meri choot ke ander 1000 volt ka current doud gaya aur meri choot ke ander ek blast hua aur Mere muh se ek bohot hi lambi cheekh nikal gayee uuuuuuuuuuuuuuuuuuiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmaaaaaaaaaaaaa mmmmmaaaaaaaaarrrrrrrrrr gggggaaaaaaaayyyyyeeeeeee rrrrrrrrrrreeeeeeeeeeeeeeeeeeee mujhe laga jaise mere badan ke ander koi garam garam lohe ka khamba ghusa dia gaya ho. Jaise kisi ne meri choot mei talwar dal ke mere badan ke do tukde kar diye ho, meri aankh se aansoo nikalne lage, mere dimagh mai jaise sare sheher ki deewali ke laakho karooron ( crores ) pataakhe ek sath hi phootne lage, phuljhariya jalne lagi, meri aankho ke saamne kamra ghoomta nazar aaya aur phr sitaro bhara kaala aasmaan aa gaya aur mai amawas jaisi kaali aur andheri raat mai hawao mai udne lagi, dimagh mai sayen sayen kar ke aandhiyan chalne lagi. Mera badan dheela pad gaya aur hath pair bejaan ho ke chair ke dono taraf jhoolne lage. Meri saansein bohto hi gehri aur tez chal rahi thi, mera badan paseene se bheeg gaya tha. Unka bohot hi mota aur sakht Lund kisi missile ki tarah se meri choot ko phaadta hua poora jad tak ghusta hi chala gaya aur mere halak tak ghus ke hi ruka. Mei to ek minute ke liye bejaan gudya ki tarah unke badan ke neeche dabi padi rahi. Unka Lund bohot hi garam tha jis se meri choot ander hi ander pighalne lagi. Meri choot ek bar phir se phat gayee thi aur khoon nikalne laga tha. Iss time meri choot teesri time phati thi. Ek to jab meri shadi hui thi to Satish ke lund per meri choot qurban ho gayee thi phir Mumbai ke raaste mai Raj ke lund se meri choot doosri time phati aur ab MD ke hathi Lund jaise Lund se chud ke phati thi.

MD Ka Mota Musal Lund Choot ke ander phans gaya.

Apna musal meri choot ke ander dale dale wo mere badan pe kuch der tak bina dhakke lagaye aise hi pade rahe. Unka Lund meri choot ke ander phool raha tha jaise gusse se phunak raha ho. Thodi der mai mere hosh thikaane aye to dekha ke wo apna Lund meri choot mai ghusede mere ooper pade hai. Jab mai hosh mai wapas aye to pehle to meri samajh mai nahi aaya ke kia hua hai aur yeh ke mai kaha hu, phir teen chaar seconds ke ander hi meri samajh mai aa gaya ke mai yaha job ki talash mai ayee thi aur ab MD apne Lund ko meri choot ke ander tak ghused ke mera Interview le rahe hai. Meri samajh mai nahi aaya ke yeh kaisa interview hai, aisa interview aaj se pehle na kahi dekha na suna. Khair ab mujhe foran hi yaad aa gaya tha ke mujhe job ki zaroorat hai aur yeh aadmi jo mujhe chod raha hai mujhe ek

bohot hi acha job de sakta hai to mei ne apni choot ke dard ko bardasht kia aur MD ko choomne lagi. Jab unho ne dekha ke mei ab apne hosh o hawaas mai wapas aa gayee hu to wo muskuraye, unko dekh ke mai bhi muskura di. Mera sara nasha utar chuka tha aur ab mujhe unka mota Lund apne halak ke ander tak mehsoos ho raha tha. Meri choot jitni choudi ho sakti thi ho chuki thi poori tarah se khul gayee thi aur shaed sooj bhi gayee thi kyonke mujhe meri choot ka pain mehsoos ho raha tha. Mujhe apni choot itni full kabhi bahi mehsoos nahi hui thi jitney unke Lund ghusne se hui even Raj ka Lund bhi MD ke Lund ke mukable mai chota nazar aa raha tha.

Abhi to Aadha hi Lund choot ke ander hai.

Wo meri aankho mei dekhte hue muskurane lage to mai bhi muskura di. Unho ne poocha kaisa lag raha hai Sneha to mai ne bola ke ab theek hai sir. Unho ne poocha kuch piogi to mai ne haa mai sar hila dia to unho ne kareeb rakhi table se sharab ka glass mere hath mei de dia. Unka Lund ander hi dale dale mai thoda sa ooper uthi aur ek hi saans mai sari sharab pi gayee. Jab sharab ki jalan mere halak mai khatam hui to mujhe sukoon mehsoos hua aur phir mai apne pair unke kamar se lapet liye aur apne hath unki gardan mei dal ke apne ooper jhuka ke kiss karne lagi. Ab wo dheere se apne Lund ko baher nikalne lage to meri choot ki chamdi unke Lund ke sath baher aane lagi jis se meri choot mai aag lag gayee aur jalan mehsoos hone lagi. Meri choot ke ander uke Lund ka ek ek inch ander se baher nikalta hua mujhe mehsoos ho raha tha. Sharab ne apna asar dikhana shuru kar dia tha aur mai phir se chudasi ho gayee.

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Recession Ki Maar -रिसेशन की मार

Unread post by rajaarkey » 13 Dec 2014 16:29

रिसेशन की मार पार्ट--23

गतान्क से आगे..........

अब मुझे इस बात की भी परवाह नही थी के इतने लंबे मोटे लंड से

चुदवाना कोई बच्चो का खेल नही पर अब मैं चुदने को तय्यार थी. अपनी गंद उठा के ऊपेर की तरफ एक धक्का मारा तो उनका बाहर निकलता हुआ लंड अंदर ही रुक गया और उन्हो ने वापस अपने मूसल को मेरी ज़ख़्मी चूत के अंदर घुसेड दिया. एमडी अब मुझे चोदने लगे था. मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था. अब मैं बोलने लगी थी आअहह आईसीईए ह्हाइयीयीयियी उउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ आआआआहह कककककककककककचूऊऊद्ददडूऊऊ फ्फ्व्यूक्क्क म्‍म्म्मीईए ह्चेयेयेयायार्रर्डड्डड्ड हीईईईई प्प्प्प्प्प्प्प्फ्ह्ह्ह्ह्ह्हाआआआद्द्द्द्द द्द्द्द्द्द्दाआआआल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लूऊऊऊऊ ईईईईहह स्स्स्स्साआआआआअल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लीईईईइ कककककककचूऊऊऊथतत कूऊव. हहाअईई ब्ब्ब्बूओह्ह्ह्हूओत्त्त्त म्‍म्म्माआज़्ज़्ज़्ज़ाआ आआ राअयाया हहाआईईए अओउर्र्र ज़्ज़्ज़ूओररर सस्सीए कक्चहूओददडूऊ. ऐसा मज़ा मुझे ज़िंदगी मे कभी नही आया था. इतने बड़े और मोटे लंड को चूत के अंदर लेने की ख़ुसी का नशा था जिस से मेरी आँखें मस्ती मे बंद हो गयी थी. अब मेरी चूत उनके लंड से अड्जस्ट हो गयी थी और मेरी चूत के अंदर उनका लंड आसानी से अंदर बाहर हो रहा था. अब वो मस्ती मे धक्के मार मार के मुझे चोद रहे थे, 8 – 10 धक्के आधा लंड बाहर निकाल के धीरे से मारते और फिर 2 – 3 धक्के पूरी ताक़त से मारते. 2 – 3 मिनिट के अंदर ही मैं तो झड़ने लगी. चूत मेरे रस से भर गयी थी और अंदर से तो बोहोत ही स्लिपरी हो गयी थी. केवाई जेल्ली की चिकनाहट और मेरा रस और फिर उनके लंड की जेल्ली भी तो चूत के अंदर चली गयी थी. उन्हो ने चेर के हॅंडल को पकड़ के चोदना शुरू किया और दीवानो की तरह से चोदने लगे पूरी ताक़त से चोद रहे थे. ऐसा लग रहा था जैसे आज पहली बार किसी चूत के अंदर लंड डाल के चोद रहे हो. मेरी चूत का कचूमर निकल रहा था और वो बिन दास चोद रहे थे. मैं फिर से झड़ने लगी. मैं ने उनको टाइट पकड़ लिया. वो अपने पैर फ्लोर पे जमाए अपने हाथो को मेरी बगल से अंदर डाल के चेर के डंडे को पकड़ के पूरी ताक़त से चोद रहे थे बोहतो ही पवरफुल झटके मार रहे थे. मेरा बदन ऐसे हिल रहा था जैसे मानो कोई अर्तक्वेक आया हो. ऐसी पोज़िशन मे मैं हिल भी नही सकती थी और उनके धक्को से मेरे सारे बदन मे एलेक्ट्रिक के झटके महसूस हो रहे थे. थोड़ी ही देरमे उनके झटके तूफ़ानी रफ़्तार से लगने लगे वो फुल स्पीड से चोद रहे थे. उनका बदन पसीने से भर गया था. पसीने की एक बूँद उनकी नाक पे आ गयी और इस से पहेल के वो बूँद नीचे टपके मैं थोड़ा सा उठी और अपनी ज़ुबान उनकी नाक तक ले गयी और उनकी टपकती बूँद को चाट लिया. थोड़ी देर ऐसे ही तूफ़ानी धक्के लगाने के बाद उनका मूसल लंड मुझे अपनी चूत के अंदर फूलता हुआ महसूस होने लगा मैं समझ गयी के अब वो भी अपनी मलाई निकालने वाले है. और हुआ भी वोही. उनके धक्के किसी रेलवे एंजिन के शॅफ्ट की तरह से चल रहे थे और, मैं भी अपनी चूतड़ उठा उठा के

मस्ती मैं चुद रही थी. फ्री एक इतनी ज़ोर से झटका मारा के मेरी मूह से चीख निकल गये ऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊीीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई म्‍म्म्ममाआआ माआआआआआररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्रृिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स उउउउउउउउउउउउउउउउउह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह, मेरा बदन टाइट हो गया मैं ने उनके बदन को बहुत ज़ोर से पकड़ लिया. उन्हो ने अपने लंड को फाइनली एक झटके मे अंदर जड़ तक घुसेड दिया और उनके लंड से मलाई के फव्वारे निकलने लगी. मलाई निकलती ही चली गयी इतनी निकली के मुझे डाउट होने लगा के यह उनकी मलाई निकल रही है या मेरी चूत के अंदर पेशाब कर रहे है. उनकी मलाई की पहली धार के साथी ही मेरी चूत ने मेरा साथ छोड़ दिया और मैं बड़े ज़ोर से झड़ने लगी ऐसे झड़ी जैसे मैं कभी नही झड़ी थी मानो मेरी चूत का सारा रस आज ही ख़तम हो जाएगा. मेरी चूत के अंदर ही अंदर अपने लौदे को डाले डाले वो गहरी गहरी साँसें लेते हुए मेरे बदन पे कोलॅप्स हो गये.

मलाई का फव्वारा निकला ऐसे निकला जैसे पिसाब कर रहे हो

थोड़ी देर तक हम दोनो ऐसे ही लेटे गहरी गहरी साँसें लेते हुए लेते रहे. उनका लंड अभी तक आकड़ा हुआ फुल्ली एरेक्ट मेरी चूत के अंदर ही फूल रहा था और शाएद ऐसी छोटी चूत को चोद चोद के फाड़ने का और ऐसी मस्त चुदाई का जशन मना रहा था. दोनो के बदन पसीने से शरबूर थे. पसीना ऐसे बह रहा था जैसे हम शवर ले के निकले है. उन्हो ने हाथ बढ़ा के अपनी चेर से छोटा सा टवल उठाया और मेरे बदन के पसीने को सॉफ करने लगे. यह देख के मुझे उनपे बोहोत ही प्यार आया और मैं सोचने लगी के अगर यह मुझे जॉब ना भी दे और अपने साथ ऐसी ही रख ले तो भी मैं बिना जॉब के उनके साथ रहने को तय्यार हू. अब मुझे उनसे और उनके लंड से प्यार हो गया था. इनका लंड राज के लंड से भी ज़ियादा लंबा, ज़ियादा मोटा और ज़ियादा ही सख़्त और ताकतवर था. मेरे सीने और पेट से पसीने की बूँदें

सॉफ कर के अपने बदन का पसीना भी पोंछने लगे. जब पसीना पूरा सॉफ हो गया तो पता चला के रूम मे एरकॉनडिशन भी चल रहा है और कमरा ठंडा भी है जिसका हमै ऐसी गरमा गरम चुदाई मे महसूस ही नही हुआ. पसीना पोछने के बाद उन्हो ने वही करीब टेबल से एक पेपर और पेन उठाया और पेपर को मेरे नंगे बूब्स पे रख दिया और पेन खोल के मेरी आँखो मे देखते हुए बोले के तुम इंटरव्यू का एक पड़ाव तो पार कर चुकी हो और पेपर पे साइन कर के मुझे दिखाने लगे. यह अपायंटमेंट लेटर था. मुझे अपने अपायंटमेंट लेटर के साइन से बहुत ही ख़ुसी हुई और मैं ख़ुसी से झूमने लगी और मन ही मन सोचने लगी के चलो अब हमारे बुरे दिन ख़तम हो जाएँगे और सारे दुख दरद दूर हो जाएगे. मैं ख़ुसी से पागल हो गयी थी और फॉरन ही उनके गले मे अपनी बाहें डाल के उनको झुकाया और उनके चेहरे पे किस की बारिस करदी. फिर फॉरन ही मैं अपनी ख़ुसी से बाहर आ गयी और मैं ने पूछा एक पड़ाव का क्या मतलब है सर ? तो उन्हो ने बोला के यह तो सिर्फ़ अपायंटमेंट लेटर है, अभी तो कांट्रॅक्ट पेपर भी साइन करना है ना, तो मैं ने पूछा के वो कब करेंगे तो उन्हो ने बोला के जब तुम अपना दूसरा सुराख मेरे हवाले करदोगी तब. तो मैं हैरानी से उनको देखने लगी और पूछा क्या मतलब ? तो उन्हो ने बोला के जब तुम्हारी गंद मार लूँगा तब कांट्रॅक्ट साइन करूँगा तो मैं दंग रह गयी और हैरत से खाली खाली आँखो से उन्है देखने लगी और यह सुन कर के वो अपने इतने लंबे मोटे लोहे जैसे खंबे से मेरी गंद मारने का इरादा रखते है तो मेरी गंद तो बिना मरवाए ही फॅट गयी. पर क्या कर सकती थी मुझे तो जॉब चाहिए था ना तो मैं ने ठीक है सर कह दिया तो उन्हो ने बोला के अब सर नही अब तुम मुझे सिर्फ़ डीके कहोगी, मेरा नाम दिलदार ख़ान है सब लोग मुझे डीके कहते है तुम भी आज से मुझे डीके कहोगी ) तो मैं ने ओके सर बोला तो उन्हो ने फिर से बोला के सर नही तो मैं ने फिर बोला के ठीक है डीके मार लेना मेरी गंद जब चाहे तो उन्हो ने कहा के मेरा इरादा तो अभी तुम्हारी गंद मारने का है तो मैं ने बोला के थोड़ा वेट करेंगे क्या डीके आप तो उन्हो ने कहा कोई बात नही और अपना लंड जो अभी तक मेरी चूत के अंदर अपनी जीत का जशन मना रहा था. मेरी चूत के अंदर ही अंदर उनका लंड हरकत मे आ गया था और इस से पहले के मैं संभालती, देखते ही देखते एक बार फिर से डीके मुझे चोदने लगे. मेरी टाँगें ऑटोमॅटिकली ऊपेर उठ गयी और मैं ने उनके कमर पे लपेट ली और उनको झुका के किस करने लगी और बोली के बोहोत ताकतवर है आपका लंड डीके तो वो मुस्कुरा दिए और बोले के पसंद नही आया तुम्हे तो मैं ने उनको एक ज़बरदस्त चुंबन दे डाला और बोला के ऐसे लंड पे तो मैं अपनी ज़िंदगी क़ुरबान करने को तय्यार हू डीके. मुझे किसी का भी लंड नही चाहिए आपके लंड से चुदने के बाद कोई मुझे मुझे सॅटिस्फाइ नही कर सकती और कोई वो मज़ा नही दे सकता जो आप ने दिया है. जो इतनी देर से उनका लंड मेरी चूत के

अंदर घुसा हुआ था तब से अब तक चूत के पूरा बाहर नही निकला था. शाएद 40 – 45 मिनिट से मेरी चूत के अंदर ही था और आभी तक थोड़ा भी नरम नही हुआ था वैसे का वैसा ही लोहे जैसा सख़्त मूसल बना हुआ था.

क्रमशः......................

Recession Ki Maar part--23

gataank se aage..........

Ab mujhe iss baat ki bhi parwah nahi thi ke itne lambe mote Lund se

chudwana koi bacho ka khel nahi par ab mai chudne ko tayyar thi. Apni gand utha ke ooper ki taraf ek dhakka mara to unka baher nikalta hua Lund ander hi ruk gaya aur unho ne wapas apne musal ko meri zakhmi choot ke ander ghused dia. MD ab mujhe chodne lage tha. Mujhe bohto hi maza aa raha tha. Ab mai bole lagi thi aaahhhhh aiseeeee hhhiiiiii uuuuuuffffffff aaaaaaaahhhhhhhhhhh cccccccccccchooooooddddoooooo ffffuuucckkk mmmmeeeee hhaaaaaaarrrrdddddddd hhhhhhhhhheeeeeeeeeee ppppppppphhhhhhhaaaaaaaaddddd dddddddaaaaaaaalllllllloooooooooo yeeeeeeeehhhhhh sssssaaaaaaaaaaalllllllliiiiiiiii cccccccchhhhhhoooooooottt kooooo. Hhhaaaeeee bbbbooohhhhoootttt mmmmaaazzzzaaaa aaaa rrraaahhhaaaa hhhhaaaaeeeee aauurrr zzzooorrr ssseee ccchhhooodddoooo. Aisa maza mujhe zindagi mai kabhi nahi aaya tha. Itne bade aur mote lund ko choot ke ander lene ki khusi ka nasha tha jis se meri aankhein masti mai band ho gayee thi. Ab meri choot unke Lund se adjust ho gayee thi aur meri choot ke ander unka Lund aasaani se ander baher ho raha tha. Ab wo masti mai dhakke maar maar ke mujhe chod rahe the, 8 – 10 dhakke aadha lund baher nikal ke dheere se marte aur phir 2 – 3 dhakke poori takat se marte. 2 – 3 minute ke ander hi mai to jhadne lagi. Choot mere ras se bhar gayee thi aur ander se to bohot hi slippery ho gayee thi. KY Jelly ki chiknahat aur mera rass aur phir unke Lund ki jelly bhi to choot ke ander chali gayee thi. Unho ne chair ke handle ko pakad ke chodna shuru kia aur deewano ki tarah se chodne lage poori takat se chod rahe the. Aisa lag raha tha jaise aaj pehli baar kisi choot ke ander Lund dale ke chod rahe ho. Meri choot ka kachoomar nikal raha tha aur wo bin das chod rahe the. Mei phir se jhadne lagi. Mai ne unko tight pakad lia. Wo apne pair floor pe jamaye apne hatho ko meri baghal se ander dal ke chair ke dande ko pakad ke poori takat se chod rahe the bohto hi powerful jhatke mar rahe the. Mera badan aise hil raha tha jaise mao koi earthquake aaya ho. Aisi position mai mai hil bhi nahi sakti thi aur unke dhakko se mere sare badan mei electric ke jhatke mehsoos ho rahe the. Thodi hi der mai unke jhatke toofani raftaar se lagne lage wo full speed se chod rahe the. Unka badan paseene se bhar gaya tha. Paseene ki ek boond unki naak pe aa gayee aur iss se pehel ke wo boond neeche tapke mai thoda sa uthi aur apni zuban unki naak tak le gayee aur unki tapakti boond ko chat lia. Thodi der aise hi toofani dhakke lagane ke bad unka Musal Lund mujhe apni choot ke ander phoolta hua mehsoos hone laga mai samajh gayee ke ab wo bhi apni malayee nikalne wale hai. Aur hua bhi wohi. Unke dhakke kisi railway engine ke shaft ki tarah se chal rahe the aur, mai bhi apni chootad utha utha ke

masti mai chud rahi thi. phri ek itni zor se jhatka mara ke meri muh se cheek nikal gaye ooooooooooooooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmaaaaaa maaaaaaaaaaaarrrrrrrrrrrrrrrrrriiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii ssssssssssssssssssssssss uuuuuuuuuuuuuuuuuhhhhhhhhhhhhhhhhh, mera badan tight ho gaya mai ne unke badan ko bohot zor se pakad lia. Unho ne apne Lund ko finally ek jhatke mai ander jad tak ghused dia aur unke Lund se malayee ke fawware nikalne lagi. Malayee nikalti hi chali gayee itni bohot nikli ke mujhe doubt hone laga ke yeh unki malayee nikal rahi hai ya meri choot ke ander peshab kar rahe hai. Unki malayee ki pehli dhar ke sathi hi meri choot ne mera sath chhor dia aur boho zor se jhadne lagi aise jhadi jaise mai kabhi nahi jhadi thi mano meri choot ka sara rass aaj hi khatam ho jaega. Meri choot ke ander hi ander apne Loude ko dale dale wo gehri gehri saansein lete hue mere badan pe collapse ho gaye.

Malayee ka fawwara nikla aise nikla jaise pisab kar rahe ho

Thodi der tak ham dono aise hi lete gehri gehri saansein lete hue lete rahe. Unka Lund abhi tak akda hua fully erect meri choot ke ander hi phool raha tha aur shaed aisi choti choot ko chod chod ke phadne ka aur aisi mast chudai ka jashan mana raha tha. Dono ke badan paseene se sharaboor the. Paseena aise beh raha tha jaise ham shower le ke nikle hai. Unho ne hath badha ke apni chair se chota sa towel uthaya aur mere badan ke paseene ko saaf karne lage. Yeh dekh ke mujhe unpe bohot hi pyar aaya aur mai sochne lagi ke agar yeh mujhe job na bhi de aur apne sath aisi hi rakh le to bhi mai bina job ke unke sath rehne ko tayyar hu. Ab mujhe unse aur unke Lund se pyar ho gaya tha. Inka Lund Raj ke Lund se bhi ziada lamba, ziada mota aur ziada hi sakht aur takatwar tha. Mere seene aur pet se paseene ki boondein

saaf kar ke apne badan ka paseena bhi poochne lage. Jab paseena poora saaf ho gaya to pata chala ke room mai aircondition bhi chal raha hai aur kamra thanda bhi hai jiska hamai aisi garma garam chudai me mehsoos hi nahi hua. Paseena pochne ke bad unho ne wahi kareeb table se ek paper aur pen uthaya aur paper ko mere nange boobs pe rakh dia aur pen khol ke meri aankho mai dekhte hue bole ke tum Interview ka ek padao to paar kar chuki ho aur paper pe sign kar ke mujhe dikhane lage. Yeh appointment letter tha. Mujhe apne appointment letter ke sign se boho hi khusi hui aur mai khusi se jhoomne lagi aur man hi man sochne lagi ke chalo ab hamare bure din khatam ho jayenge aur sare dukh darad door ho jayege. Mai khusi se pagal ho gayee thi aur foran hi unke gale mai apni bahein dal ke unko jhukaya aur unke chehre pe kiss ki baris kardi. Phir foran hi mai apni khusi se baher aa gayee aur mai ne poocha ek padao ka kia matlab hai Sir ? to unho ne bola ke yeh to sirf appointment letter hai, abhi to contract paper bhi sign karna hai na, to mai ne poocha ke wo kab karenge to unho ne bola ke jab tum apna doosra surakh mere hawale kardogi tab. To mai hairani se unko dekhne lagi aur poocha kia matlab ? to unho ne bola ke jab tumhari gand mar lunga tab contract sign karunga to mai dang reh gayee aur hairat se khaali khaali aankho se unhai dekhne lagi aur yeh sun kar ke wo apne itne lambe mote lohe jaise khambe se meri gand marne ka irada rakhte hai to meri gand to bina marwaye hi phat gayee. Par kia kar sakti thi mujhe to job chahiye tha na to mai ne theek hai Sir keh dia to unho ne bola ke ab Sir nahi ab tum mujhe sirf DK kahogi, Mera Naam Dildar Khan hai Sab log mujhe DK kahte hai tum bhi aaj se mujhe DK kahogi ) to mai ne OK Sir bola to unho ne phir se bola ke Sir nahi to mai ne phir bola ke theek hai DK mar lena meri gand jab chahe to unho ne kaha ke mera irada to abhi tumari gand marne ka hai to mai ne bola ke thoda wait karenge kia DK aap to unho ne kaha koi bat nahi aur apna Lund jo abhi tak meri choot ke ander apni jeet ka jashan mana raha tha. Meri choot ke ander hi ander unka Lund harkat mai aa gaya tha auriss se pehle ke mai sambhalti, dekhte hi dekhte ek bar phir se DK mujhe chodne lage. Meri tangein automatically ooper uth gayee aur mai ne unke kamar pe lapet li aur unko jhuka ke kiss karne lagi aur boli ke bohot takatwar hai aapka Lund DK to wo muskura diye aur bole ke pasand nahi aaya tumai to mai ne unko ek zabardast chumban de dala aur bola ke aise Lund pe to mei apni zindagi qurbaan karne ko tayyar hu DK. Mujeh kisi ka bhi Lund nahi chahiye aapke Lund se chudne ke bad koi mujhe mujhe satisfy nahi kar sakti aur koi wo maza nahi de sakta jo aap ne dia hai. Jo itni der se unka Lund meri choot ke

ander ghusa hua tha tab se ab tak choot ke poora baher nahi nikla tha. Shaed 40 – 45 minute se meri choot ke ander hi tha aur aabhi tak thoda bhi naram nahi hua tha wiase ka waisa hi lohe jaisa sakht musal bana hua tha.

kramashah......................