एक अनोखा बंधन compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: एक अनोखा बंधन

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 04:08

एक अनोखा बंधन----2

गतान्क से आगे.............

“क्या मैं किसी तरह देल्ही पहुँच सकती हूँ, मेरी मौसी है वाहा?”

“चिंता मत करो, माहॉल ठीक होते ही सबसे पहला काम यही करूँगा”

ज़रीना अदित्य की ओर देख कर सोचती है, “कभी सोचा भी नही था कि जिस

इंसान से मैं बात भी करना पसंद नही करती, उसके लिए कभी खाना

बनाउन्गि”

आदित्य भी मन में सोचता है, “क्या खेल है किस्मत का? जिस लड़की को देखना

भी पसंद नही करता था, उसके लिए आज कुछ भी करने को तैयार हूँ. शायद

यही इंसानियत है”

धीरे-धीरे वक्त बीत-ता है और दोनो आछे दोस्त बनते जाते हैं. एक दूसरे के प्रति उनके दिल में जो नफ़रत थी वो ना जाने कहा गायब हो जाती है.

वो 24 घंटे घर में रहते हैं. कभी प्यार से बात करते हैं कभी तकरार से. कभी हंसते हैं और कभी रोते हैं. वो दोनो वक्त की कड़वाहट को

भुलाने की पूरी कॉसिश कर रहे हैं.

एक दिन अदित्य ज़रीना से कहता है, “तुम चली जाओगी तो ना जाने कैसे रहूँगा

मैं यहा. तुम्हारे साथ की आदत सी हो गयी है. कौन मेरे लिए

अछा-अछा खाना बनाएगा. समझ नही आता कि मैं तब क्या करूँगा?”

“तुम शादी कर लेना, सब ठीक हो जाएगा”

“और फिर भी तुम्हारी याद आई तो?”

“तो मुझे फोन किया करना”

ज़रीना को भी अदित्य के साथ की आदत हो चुकी है. वो भी वाहा से जाने के

ख्याल से परेशान तो हो जाती है, पर कहती कुछ नही.

आफ्टर वन मंथ: --

“ज़रीना, उठो दिन में भी सोती रहती हो”

“क्या बात है? सोने दो ना”

“करफ्यू खुल गया है. मैं ट्रेन की टिकेट बुक करा कर आता हूँ. तुम किसी

बात की चिंता मत करना, मैं जल्दी ही आ जाउन्गा”

“अपना ख्याल रखना अदित्य”

“ठीक है…सो जाओ तुम कुंभकारण कहीं की…हे..हे..हे….”

“वापिस आओ मैं तुम्हे बताती हूँ” --- ज़रीना अदित्य के उपर तकिया फेंक कर

बोलती है

आदित्य हंसते हुवे वाहा से चला जाता है.

जब वो वापिस आता है तो ज़रीना को किचन में पाता है

“बस 5 दिन और…फिर तुम अपनी मौसी के घर पर होगी”

“5 दिन और का मतलब? ……मुझे क्या यहा कोई तकलीफ़ है?”

“तो रुक जाओ फिर यहीं…अगर कोई तकलीफ़ नही है तो”

ज़रीना अदित्य के चेहरे को बड़े प्यार से देखती है. उसका दिल भावुक हो उठता

है

“क्या तुम चाहते हो कि मैं यहीं रुक जाउ?”

“नही-नही मैं तो मज़ाक कर रहा था बाबा. ऐसा चाहता तो टिकेट क्यों बुक

कराता?” -- ये कह कर अदित्य वाहा से चल देता है. उसे पता भी नही चलता

की उसकी आँखे कब नम हो गयी.

इधर ज़रीना मन ही मन कहती है, “तुम रोक कर तो देखो मैं तुम्हे छ्चोड़ कर कहीं नही जाउन्गि”

वो 5 दिन उन दोनो के बहुत भारी गुज़रते हैं. आदित्य ज़रीना से कुछ कहना चाहता है, पर कुछ कह नही पाता. ज़रीना भी बार-बार अदित्य को कुछ कहने के लिए खुद को तैयार करती है पर अदित्य के सामने आने पर उसके होन्ट सिल जाते हैं.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: एक अनोखा बंधन

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 04:09

जिस दिन ज़रीना को जाना होता है, उस से पिछली रात दोनो रात भर बाते

करते रहते हैं. कभी कॉलेज के दिनो की, कभी मूवीस की और कभी क्रिकेट

की. किसी ना किसी बात के बहाने वो एक दूसरे के साथ बैठे रहते हैं. मन ही मन दोनो चाहते हैं कि काश किसी तरह बात प्यार की हो तो अछा हो. पर बिल्ली के गले में घंटी बाँधे कौन ? दोनो प्यार को दिल में दबाए, दुनिया भर की बाते करते रहते हैं.

सुबह 6 बजे की ट्रेन थी. वो दोनो 4 बजे तक बाते करते रहे. बाते करते-करते उनकी आँख लग गयी और दोनो बैठे-बैठे सोफे पर ही सो गये.

कोई 5 बजे आदित्य की आँख खुलती है. उसे अपने पाँव पर कुछ महसूस होता है

वो आँख खोल कर देखता है कि ज़रीना ने उसके पैरो पर माथा टिका रखा है

“अरे!!!!!! ये क्या कर रही हो?”

“अपने खुदा की इबादत कर रही हूँ, तुम ना होते तो मैं आज हरगिज़ जींदा ना होती”

“मैं कौन होता हूँ ज़रीना, सब उस भगवान की कृपा है, चलो जल्दी तैयार हो जाओ, 5 बज गये हैं, हम कहीं लेट ना हो जायें”

ज़रीना वाहा से उठ कर चल देती है और मन ही मन कहती है, “मुझे रोक लो

अदित्य”

“क्या तुम रुक नही सकती ज़रीना...बहुत अछा होता जो हम हमेशा इस घर में एक साथ रहते.” अदित्य भी मन में कहता है.

एक अनोखा बंधन दोनो के बीच जुड़ चुका है.

----------------------

5:30 बजे अदित्य, ज़रीना को अपनी बाइक पर रेलवे स्टेशन ले आता है.

ज़रीना को रेल में बैठा कर अदित्य कहता है, “एक सर्प्राइज़ दूं”

“क्या? ”

“मैं भी तुम्हारे साथ आ रहा हूँ”

“सच!!!!”

“और नही तो क्या… मैं क्या ऐसे माहॉल में तुम्हे अकेले देल्ही भेजूँगा”

“तुम इंसान हो कि खुदा…कुछ समझ नही आता”

“एक मामूली सा इंसान हूँ जो तुम्हे…………”

“तुम्हे… क्या?” ज़रीना ने प्यार से पूछा

“कुछ नही”

आदित्या मन में कहता है, “……….जो तुम्हे बहुत प्यार करता है”

जो बात ज़रीना सुन-ना चाहती है, वो बात आदित्या मान में सोच रहा है, ऐसा अजीब प्यार है उष्का.

ट्रेन चलती है. आदित्य और ज़रीना खूब बाते करते हैं….बातो-बातो में कब वो देल्ही पहुँच जाते हैं….उन्हे पता ही नही चलता

ट्रेन से उतरते वक्त ज़रीना का दिल भारी हो उठता है. वो सोचती है कि पता

नही अब वो अदित्य से कभी मिल भी पाएगी या नही.

“अरे सोच क्या रही हो…उतरो जल्दी” अदित्य ने कहा.

ज़रीना को होश आता है और वो भारी कदमो से ट्रेन से उतारती है.

“चलो अब सिलमपुर के लिए ऑटो करते हैं” आदित्या ने एक ऑटो वाले को इशारा किया.

“क्या तुम मुझे मौसी के घर तक छोड़ कर आओगे?”

“और नही तो क्या… इसी बहाने तुम्हारा साथ थोड़ा और मिल जाएगा”

ज़रीना ये सुन कर मुस्कुरा देती है.

आदित्य के इशारे से एक ऑटो वाला रुक जाता है और दोनो उसमे बैठ कर सिलमपुर की तरफ चल पड़ते हैं.

क्रमशः............

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: एक अनोखा बंधन

Unread post by rajaarkey » 13 Oct 2014 04:09

Ek Anokha Bandhan----2

gataank se aage.............

“Kya main kisi tarah delhi pahunch sakti hun, meri mausi hai vaha?”

“Chinta mat karo, maahol theek hote hi sabse pehla kaam yahi karunga”

Zarina aditya ki aur dekh kar sochti hai, “kabhi socha bhi nahi tha ki jish

insaan se main baat bhi karna pasand nahi karti, uske liye kabhi khaana

banaaungi”

Aditya bhi man mein sochta hai, “kya khel hai kismat ka? jish ladki ko dekhna

bhi pasand nahi karta tha, uske liye aaj kuch bhi karne ko taiyaar hun. Shaayad

yahi insaaniyat hai”

Dheere-dheere vakt beet-ta hai aur dono ache dost bante jaate hain. Ek dusre ke prati unke dil mein jo nafrat thi vo na jaane kaha gaayab ho jaati hai.

Vo 24 ghante ghar mein rahte hain. Kabhi pyar se baat karte hain kabhi takraar se. kabhi hanste hain aur kabhi rote hain. Vo dono vakt ki kadvaahat ko

bhulaane ki puri kosish kar rahe hain.

Ek din aditya zarina se kahta hai, “tum chali jaaogi to na jaane kaise rahunga

main yaha. Tumhaare saath ki aadat si ho gayi hai. Kaun mere liye

acha-acha khaana banaayega. Samajh nahi aata ki main tab kya karunga?”

“Tum shaadi kar lena, sab theek ho jaayega”

“Aur phir bhi tumhaari yaad aayi to?”

“To mujhe phone kiya karna”

Zarina ko bhi aditya ke saath ki aadat ho chuki hai. Vo bhi vaha se jaane ke

khyaal se pareshaan to ho jaati hai, par kahti kuch nahi.

After one month: --

“Zarina, utho din mein bhi shoti rahti ho”

“Kya baat hai? shone do na”

“Curfew khul gaya hai. Main train ki ticket book kara kar aata hun. tum kisi

baat ki chinta mat karna, main jaldi hi aa jaaunga”

“Apna khyaal rakhna aditya”

“Theek hai…sho jao tum kumbhkaran kahin ki…he..he..he….”

“Vaapis aao main tumhe bataati hun” --- zarina aditya ke upar takiya fenk kar

bolti hai

Aditya hanste huve vaha se chala jaata hai.

Jab vo vaapis aata hai to zarina ko kitchen mein paata hai

“Bas 5 din aur…phir tum apni mausi ke ghar par hogi”

“5 din aur ka matlab? ……Mujhe kya yaha koyi takleef hai?”

“To ruk jao phir yahin…agar koyi takleef nahi hai to”

Zarina aditya ke chehre ko bade pyar se dekhti hai. Uska dil bhaavuk ho uthta

hai

“Kya tum chaahte ho ki main yahin ruk jaaun?”

“nahi-nahi main to majaak kar raha tha baba. Aisa chaahta to ticket kyon book

karaata?” -- ye kah kar aditya vaha se chal deta hai. Use pata bhi nahi chalta

ki uski aankhe kab nam ho gayi.

Idhar zarina man hi man kahti hai, “tum rok kar to dekho main tumhe chhod kar kahin nahi jaaungi”

Vo 5 din un dono ke bahut bhaari gujarte hain. Aditya zarina se kuch kahna chaahta hai, par kuch kah nahi paata. Zarina bhi baar-baar aditya ko kuch kahne ke liye khud ko taiyar karti hai par aditya ke saamne aane par uske hont sil jaate hain.

Jish din zarina ko jaana hota hai, us se peechli raat dono raat bhar baate

karte rahte hain. Kabhi college ke dino ki, kabhi movies ki aur kabhi cricket

ki. kisi na kisi baat ke bahaane vo ek dusre ke saath baithe rahte hain. man hi man dono chaahte hain ki kaash kisi tarah baat pyar ki ho to acha ho. Par billi ke gale mein ghanti baandhe kaun ? Dono pyar ko dil mein dabaaye, duniya bhar ki baate karte rahte hain.

Subah 6 baje ki train thi. vo dono 4 baje tak baate karte rahe. Baate karte-karte unki aankh lag gayi aur dono baithe-baithe sofe par hi sho gaye.

koyi 5 baje Aditya ki aankh khulti hai. use apne paanv par kuch mahsus hota hai

Vo aankh khol kar dekhta hai ki zarina ne uske pairo par maatha tika rakha hai

“Arey!!!!!! ye kya kar rahi ho?”

“apne khuda ki ibaadat kar rahi hun, tum na hote to main aaj hargiz jeenda na hoti”

“Main kaun hota hun zarina, sab us bhagvaan ki kripa hai, chalo jaldi taiyaar ho jao, 5 baj gaye hain, hum kahin late na ho jaayein”

Zarina vaha se uth kar chal deti hai aur man hi man kahti hai, “mujhe rok lo

aditya”

“Kya tum ruk nahi sakti zarina...bahut acha hota jo hum hamesa ish ghar mein ek saath rahte.” aditya bhi man mein kahta hai.

Ek anokha bandhan dono ke beech jud chuka hai.

----------------------

5:30 baje aditya, zarina ko apni bike par railway station ley aata hai.

Zarina ko rail mein baitha kar aditya kahta hai, “ek surprise dun”

“Kya? ”

“Main bhi tumhaare saath aa raha hun”

“Sach!!!!”

“Aur nahi to kya… main kya aise maahol mein tumhe akele delhi bhejunga”

“Tum insaan ho ki khuda…kuch samajh nahi aata”

“Ek maamuli sa insaan hun jo tumhe…………”

“Tumhe… kya?” zarina ne pyar se pucha

“Kuch nahi”

Aditya man mein kahta hai, “……….jo tumhe bahut pyar karta hai”

Jo baat zarina sun-na chaahti hai, vo baat aditya man mein soch raha hai, aisa ajeeb pyar hai ushka.

Train chalti hai. Aditya aur zarina khub baate karte hain….baato-baato mein kab vo delhi pahunch jaate hain….unhe pata hi nahi chalta

Train se utarte vakt zarina ka dil bhaari ho uthta hai. Vo sochti hai ki pata

nahi ab vo aditya se kabhi mil bhi paayegi ya nahi.

“Arey soch kya rahi ho…utro jaldi” aditya ne kaha.

Zarina ko hosh aata hai aur vo bhaari kadmo se train se utarti hai.

“Chalo ab silampur ke liye auto karte hain” aditya ne ek auto waale ko ishaara kiya.

“Kya tum mujhe mausi ke ghar tak chod kar aaoge?”

“Aur nahi to kya… isi bahaane tumhaara saath thoda aur mil jaayega”

Zarina ye sun kar muskura deti hai.

Aditya ke ishaare se ek auto waala ruk jaata hai aur dono usme baith kar silampur ki taraf chal padte hain.

kramashah............