कंचन -बेटी बहन से बहू तक का सफ़र

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories, erotic stories. Visit dreamsfilm.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कंचन -बेटी बहन से बहू तक का सफ़र

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 15:10

" भाभी मैं जानता हूँ कि आप क्या जानना चाहती हैं. मेरी ग़लती क्या है, जब मैं घर आया तो आप बिल्कुल नंगी शीशे के सामने खड़ी थी. लेकिन आपको सामने से नहीं देख सका. सच कहूँ भाभी आप बिल्कुल नंगी हो कर बहुत ही सुन्दर लग रही थी. पतली कमर, भारी नितंब और गदराई हुई जंघें देख कर तो बड़े से बड़े ब्रहंचारी की नियत भी खराब हो जाए."

भाभी शर्म से लाल हो उठी.

" हाई राम तुझे शर्म नहीं आती. कहीं तेरी भी नियत तो नहीं खराब हो गयी है?"

" आपको नंगी देख कर किसकी नियत खराब नहीं होगी?"

" हे भगवान, आज तेरे भैया से तेरी शादी की बात करनी ही पड़ेगी" इससे पहले मैं कुकछ और कहता वो अपने कमरे में भाग गयी.

भैया को कल 6 महीने के लिए किसी ट्रैनिंग के लिए मुंबई जाना था. आज उनका आखरी दिन था. आज रात को तो भाभी की चुदाई निश्चित ही थी. रात को भाभी नींद आने का बहाना बना कर जल्दी ही अपने कमरे में चली गयी. उसके कमरे में जाते ही लाइट बंद हो गयी. मैं समझ गया कि चुदाई शुरू होने में अब देर नहीं. मैं एक बार फिर चुपके से भाभी के दरवाज़े पर कान लगा कर खड़ा हो गया. अंडर से मुझे भैया भाभी की बातें सॉफ सुनाई दे रही थी. भैया कह रहे थे,

"कंचन, 6 महीने का समय तो बहुत होता है. इतने दिन मैं तुम्हारे बिना कैसे जी सकूँगा. ज़रा सोचो 6 महीने तक तुम्हें नहीं चोद सकूँगा."

" आप तो ऐसे बोल रहें हैं जैसे यहाँ रोज़ …."

" क्या मेरी जान बोलो ना. शरमाती क्यों हो? कल तो मैं जा रहा हूँ. आज रात तो खुल के बात करो. तुम्हारे मुँह से ऐसी बातें सुन कर दिल खुश हो जाता है."

" मैं तो आपको खुश देखने के लिए कुकछ भी कर सकती हूँ. मैं तो ये कह रही थी, यहाँ आप कोन सा मुझे रोज़ चोद्ते हैं." भाभी के मुँह से चुदाई की बात सुन मेरा लंड फंफनाने लगा.

" कंचन यहाँ तो बहुत काम रहता है इसलिए थक जाता था. वापस आने के बाद मेरा प्रमोशन हो जाएगा और उतना काम नहीं होगा. फिर तो मैं तुम्हें रोज़ चोदुन्गा. बोलो मेरी जान रोज़ चुद्वओगि ना."

" मेरे राजा, सच बताउ मेरा दिल तो रोज़ ही चुदवाने को करता है पर आपको तो चोदने की फ़ुर्सत ही नहीं. कोई अपनी जवान बीवी को महीने में सिर्फ़ दो तीन बार ही चोद पाता है?"

" तो तुम मुझसे कह नहीं सकती थी?

" कैसी बातें करतें हैं? औरत ज़ात हूँ. चोदने में पहल करना तो मर्द का काम होता है. मैं आपसे क्या कहती? चोदो मुझे? रोज़ रात को आपके लंड के लिए तरसती रहती हूँ."

" कंचन तुम जानती हो मैं ऐसा नहीं हूँ. याद है अपना हनिमून, जब दस दिन तक लगातार दिन में तीन चार बार तुम्हें चोद्ता था? बल्कि उस वक़्त तो तुम मेरे लंड से घबरा कर भागती फिरती थी."

" याद है मेरे राजा. लेकिन उस वक़्त तक सुहाग रात की चुदाई के कारण मेरी चूत का दर्द दूर नही हुआ था. आपने भी तो सुहाग रात को मुझे बरी बेरहमी से चोदा था."

" उस वक़्त मैं अनाड़ी था मेरी जान"

" अनाड़ी की क्या बात थी? किसी लड़की की कुँवारी चूत को इतने मोटे, लंबे लंड से इतनी ज़ोर से चोदा जाता है क्या? कितना खून निकाल दिया था आपने मेरी चूत में से, पूरी चादर खराब हो गयी थी. अब जब मेरी चूत आपके लंड को झेलने के लायक हो गयी है तो आपने चोदना ही काम कर दिया है."

" अब चोदने भी दोगि या सारी रात बातों में ही गुज़ार दोगि." यह कह कर भैया भाभी के कपड़े उतारने लगे.

"कंचन, मैं तुम्हारी ये कछि साथ ले जाउन्गा."

" क्यों? आप इसका क्या करेंगे?"

" जब भी चोदने का दिल करेगा तो इसे अपने लंड से लगा लूँगा." कछि उतार कर शायद भैया ने लंड भाभी की चूत में पेल दिया, क्योंकि भाभी के मुँह से आवाज़ें आने लगीं

" अया….ऊवू…अघ..आह..आह..आह..आह"

" कंचन आज तो सारी रात लूँगा तुम्हारी"

" लीजिए ना आआहह….कों…. आ रोक रहा है? आपकी चीज़ है. जी भर के चोदिये….उई माआ…..."

“थोड़ी टाँगें और चौड़ी करो. हन अब ठीक है. आह पूरा लंड जड़ तक घुस गया है.”

“आआआ…ह, ऊवू.”

“ कंचन मज़ा आ रहा है मेरी जान?”

“ हूँ. आआआ..ह.”

“ कंचन.”

“जी.”

“ अब छे महीने तक इस खूबसूरत चूत की प्यास कैसे बुझओगि?”

“ आपके इस मोटे लंड के सपने ले कर ही रातें गुज़ारुँगी.”

“मेरी जान तुम्हें चुदवाने में सच मच बहुत मज़ा आता है?”

“ हां मेरे राजा बहुत मज़ा आता है क्योंकि आपका ये मोटा लंबा लंड मेरी चूत को तृप्त कर देता है.”

“कंचन मैं वादा करता हूँ, वापस आ कर तुम्हारी इस टाइट चूत को चोद चोद कर फाड़ डालूँगा.”

“फाड़ डालिए ना,एयेए…ह मैं भी तो यही चाहती हूँ .”

“ सच ! अगर फॅट गयी तो फिर क्या चुद्वओगि?”

“हटिए भी आप तो ! आपको सच मुच ये इतनी अच्छी लगती है?”

“ तुम्हारी कसम मेरी जान. इतनी फूली हुई चूत को चोद कर तो मैं धन्य हो गया हूँ. और फिर इसकी मालकिन चुदवाती भी तो कितने प्यार से है”

“ जब चोदने वाले का लंड इतना मोटा तगड़ा हो तो चुदवाने वाली तो प्यार से चुदेगि ही. मैं तो आपके लंड के लिए एयेए…ह.. ऊवू बहुत तरपुंगी. आख़िर मेरी प्यास तो ….आआ…. यही बुझाता है.”

भैया ने सारी रात जम कर भाभी की चुदाई की. सवेरे भाभी की आँखें सारी रात ना सोने के कारण लाल थी. भैया सुबह 6 महीने के लिए मुंबई चले गये. मैं बहुत खुश था. मुझे पूरा विषवास था की इन 6 महीनों में तो भाभी को अवश्य चोद पाउन्गा.

क्रमशः.........


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 15:18

Gataank se aage ......

Chori pakri jaane ke karan main sakpaka gaya aur " kuchh nahin bhabhi" kahata hua chhat par bhaag gaya. Ab to raat din bhabhi ki safed kachhi mein chipi hui choot ki yad satane lagi.

Mere dil mein vichar aya, kyon na bhabhi ko apne vishal lund ke darshan karaon. Bhabhi roz savere mujhe doodh ka glass dene mere kamare mein aati thi. Ek din savere main apni lungi ko ghutnon tak utha kar newspaper parhne ka natak karte hue is prakar baith gaya ki saamne se aati hui bhabhi ko mera latakta hua lund nazar aa jaye. Jaise hi mujhe bhabhi ke aane ki aahat sunai di,maine newspaper apne chehre ke saamne kar liya, tangon ko thora aur chaura kar liya taki bhabhi ko poore lund ke aasani se darshan ho saken aur newspaper ke beech ke chhed se bhabhi ki pratikriya dekhane ke liye ready ho gaya. Jaise hi bhabhi doodh ka glass lekar mere kamare mein dakhil hui, unki nazar lungi ke neeche se jhankte mere 8 inch lumbe mote hathore ke mafik latakte hue lund pe par gayi. Voh sakpaka kar ruk gayi, ankhen ashcharya se bari ho gayi aur unhonen apna neechla honth danton se daba diya. Ek minute baad unhonen hosh sambhala aur jaldi se glass rakh kar bhag gayi. Kareeb 5 minute ke baad phir bhabhi ke kadmon ki aahat sunai di. Maine jhat se pahle wala pose dharan kar liya aur sochne laga, bhabhi ab kya karne aa rahi hai. Newspaper ke chhed mein se maine dekha bhabhi haath mein poche ka kapra le kar under aayi aur mujhse kareeb 5 foot door zameen par baith kar kuchh saaf karane ka natak karne lagi. Voh neeche baith kar lungi ke neeche latakta hua lund theek se dekhna chahti thi. Maine bhi apni tangon ko thora aur chaura kar diya jisse bhabhi ko mere vishal lund ke saath meri balls ke bhi darshan achhi prakar se ho jayen. Bhabhi ki ankhen ektak mere lund par lagi hui thi, unhonen apne honth danton se itni zor se kaat liye ki unme thora sa khoon nikal aaya. Maathe par paseene ki bunden ubhar aayi. Bhabhi ki yah halat dekh kar mere lund ne phir se harkat shuru kar di. Maine bina newspaper chehre se hatay bhabhi se poochha

" kya baat hai bhabhi kya kar rahi ho?"

bhabhi harbara kar boli " kuchh nahin, thora doodh gir gaya tha use saaf kar rahi hun." Yeh kah kar voh jaldi se uth kar chali gayi. Main man hi man muskaya. Ab to jaise mujhe bhabhi ki choot ke sapne aate hain vaise hi bhabhi ko bhi mere vishal lund ke sapne aenge. Lekin ab bhabhi ek kadam age thi. Usne to mere lund ke darshan kar liye the par maine abhi tak unki choot ko nahin dekha tha.

Mujhe maloom tha ki bhabhi roz hamare jaane ke baad ghar ka sara kaam nipta kar nahane jaati thi. Maine bhabhi ki choot dekhne ka plan banaya. Ek din main college jaate samay apne kamare ki khuli chhor gaya. Us din college se main jaldi wapas aa gaya. Ghar ka darwaza under se bund tha. Main chupke se apni khirki ke raste apne kamare mein dakhil ho gaya. Bhabhi kitchen mein kaam kar rahi thi. Kaafi der intzar karne ke baad aakhir meri tapasya rang layi. Bhabhi apne kamare mein aai. Voh masti mein kuchh gunguna rahi thi. Dekhte hi dekhte usne apni nightie utar di. Ab voh sirf asmani rang ki bra aur kachhi mein thi. Mera lund hunkar bharne laga. Kya balaa ki sunder thi. Gora badan, patli kamar,uske neeche phailte hue bhari nitamb aur moti janghen kisi namard ka bhi lund khara kar den. Bhabhi ki bari bari chuchian to bra mein sama nahin pa rahi thi. Or phir vahi chhoti si kachhi, jisne meri raton ki neend ura rakhi thi. Bhabhi ke bhari chutar unki kachhi se bahar gir rahe the. Dono chutron ka ek chauthai se bhi kam bhag kachhi mein tha. Bechari kachhi bhabhi ke chutron ke beech ki darar mein ghusne ki koshish kar rahi thi. Unki janghon ke beech mein kachhi se dhaki phooli hui choot ka ubhar to mere dil o dimag ko pagal bana raha tha. Main saans thaame intzar kar raha tha ki kab bhabhi kachhi utare aur main unki choot ke darshan karun. Bhabhi sheeshe ke samne khari ho kar apne ko nihar rahi thi. Unki peeth meri taraf thi. Achanak bhabhi ne apni bra aur phir kachhi utar kar vahin zameen par phenk di. Ab to unke nange chaure chutar dekh kar mera lund bilkul jharne wala ho gaya.

Mere man mein vichar aaya ki bhaiya zaroor bhabhi ki choot peeche se bhi lete honge or kya kabhi bhaiya ne bhabhi ki gaand mari hogi. Mujhe aisi lajabab aurat ki gaand mil jaaye to main swarg jane se bhi inkar kar dun. Lekin meri aaj ki yojna par tub pani phir gaya jab bhabhi bina meri tarf ghume bathroom mein nahane chali gayi. Unki bra aur kachhi vahin zameen par pari thi. Main jaldi se bhabhi ke kamare mein gaya aur unki kachhi utha laya. Maine unki kachhi ko soongha. Bhabhi ki choot ki mahak itni madak thi ki mera lund aur na sahan kar saka aur jhar gaya. Maine us kachhi ko apne paas hi rakh liya aur bhabhi ke bathroom se bahar nikalne ka intzar karne laga. Socha jab bhabhi naha kar nangi bahar niklegi to unki choot ke darshan ho hi jaenge. Lekin kismat ne phir saath nahin diya. Bhabhi jab naha ke bahar nikli to unhone kaale rang ki kachhi aur bra pahan rakhi thi. Kamare mein apni kachhi gayab pa kar soch mein par gayi. Achanak unhonen jaldi se nightie pahan lee aur mere kamare ki taraf aai. Shayad unhen shak ho gaya ki yah kaam mere ilava aur koi nahin kar sakta. Main jhat se apne bister par aise lait gaya jaise neend mein hun. Bhabhi mujhe kamare mein dekhkar sakpaka gayi. Mujhe hilate hue boli

" Ramu uth. Tu under kaise aaya?"

maine aankhen malte hue uthane ka natak karte hue kaha " kya karun bhabhi aaj college jaldi bund ho gaya. Ghar ka darwaza bund tha bahut khatkhatane par jab aapne nahin khola to main apni khirki ke raaste under aa gaya."

" tu kitni der se under hai?"

" yehi koi ek ghante se."

Ab to bhabhi ko shak ho gaya ki shayad maine unhen nangi dekh liya tha. Aur phir unki kachhi bhi to gayab thi. Bhabhi ne sharmate hue poocha " kahin tune mere kamare se koi cheese to nahin uthai?’

" are han bhabhi! Jab main aaya to maine dekha ki kuchh kapre zameen par pare hain. Maine unhen utha liya." Bhabhi ka chehra surkh ho gaya. Hichkichate hue boli

" wapas kar mere kapde."

Main takiye ke neeche se bhabhi ki kachhi nikalte hue bola " bhabhi ye to ab main wapas nahin doonga."

"kyon ab tu aurton ki kachhi pahanana chahata hai?"

" nahin bhabhi" main kachhi ko soonghta hua bola

" iski madak khushboo ne to mujhe diwana bana diya hai."

" are pagla hai? Yeh to maine kal se pahni hui thi. Dhone to de."

" nahin bhabhi dhone se to isme se aapki mahak nikal jayegi. Main ise aise hi rakhna chahata hun."

" dhat pagal! Achha tu kabse ghar mein hai?" bhabhi shayad janana chahati thi ki kahin maine use nangi to nahin dekh liya. Maine kaha

" bhabhi main janta hun ki aap kya janana chahati hain. Meri galti kya hai, jab main ghar aya to aap bilkul nangi sheeshe ke saamne khari thi. Lekin aapko saamne se nahin dekh saka. Sach kahun bhabhi aap bilkul nangi ho kar bahut hi sunder lag rahi thi. Patli kamar, bhari nitamb aur gadarayi hui janghen dekh kar to bare se bare brahamchari ki niyat bhi kharaab ho jaye."

Bhabhi sharm se laal ho uthi.

" hai Ram tujhe sharm nahin aati. Kahin teri bhi niyat to nahin kharab ho gayi hai?"

" aapko nangi dekh kar kiski niyat kharaab nahin hogi?"

" he bhagwan, aaj tere bhaiya se teri shaadi ki baat karni hi paregi" isse pahale main kucch aur kahata voh apne kamare mein bhag gayi.

Bhaiya ko kal 6 maheene ke liye kisi training ke liye Mumbai jana tha. Aaj unka aakhari din tha. Aaj raat ko to bhabhi ki chudai nishchit hi thi. Raat ko bhabhi neend aane ka bahana bana kar jaldi hi apne kamare mein chali gayi. Uske kamare mein jaate hi light bund ho gayi. Main samajh gaya ki chudai shuru hone mein ab der nahin. Main ek baar phir chupke se bhabhi ke darwaze par kaan laga kar khara ho gaya. under se mujhe bhaiya bhabhi ki baten saaf sunai de rahi thi. Bhaiya kaha rahe the,

"Kanchan, 6 maheene ka samay to bahut hota hai. Itne din main tumhare bina kaise jee sakunga. Zara socho 6 maheene tak tumhen nahin chod sakunga."

" aap to aise bol rahen hain jaise yahan roz …."

" kya meri jaan bolo na. Sharmaati kyon ho? Kal to main jaa raha hun. Aaj raat to khul ke baat karo. Tumhare munh se aisi baten sun kar dil khush ho jata hai."

" main to aapko khush dekhne ke liye kucch bhi kar sakti hun. Main to ye kah rahi thi, yahan aap kon sa mujhe roz chodte hain." Bhabhi ke munh se chudai ki baat sun mera lund phanphanane laga.

" kanchan yahan to bahut kaam rahata hai isliye thak jata tha. Wapas aane ke baad mera promotion ho jayega aur utna kaam nahin hoga. Phir to main tumhen roz chodunga. Bolo meri jaan roz chudwaogi na."

" mere raja, sach bataon mera dil to roz hi chudwane ko karta hai par aapko to chodne ki phursat hi nahin. Koi apni jawan biwi ko maheene mein sirf do teen baar hi choda jata hai?"

" to tum mujhse kah nahin sakti thi?

" kaisi baaten karten hain? Aurat zaat hun. Chodne mein pahal karna to mard ka kaam hota hai. Main aapse kya kahati? Chodo mujhe? Roz raat ko aapke lund ke liye tarasti rahati hun."

" kanchan tum jaanti ho main aisa nahin hun. Yaad hai apna honeymoon, jab das din tak lagatar din mein teen char baar tumhen chodta tha? Balki us waqt to tum mere lund se ghabra kar bhagti phirti thi."

" yaad hai mere raja. Lekin us waqt tak suhaag raat ki chudai ke karan meri choot ka dard door nahinhua tha. Aapne bhi to suhaag raat ko mujhe bari berahami se choda tha."

" us waqt main anari tha meri jaan"

" anari ki kya baat thi? Kisi ladki ki kunwari choot ko itne mote, lumbe lund se itni jor se choda jata hai kya? Kitna khoon nikaal diya tha aapne meri chhot mein se, poori chaader kharab ho gayi thi. Ab jab meri choot aapke lund ko jhelne ke layak ho gayi hai to aapne chodna hi kam kar diya hai."

" ab chodne bhi dogi ya saari raat baaton mein hi guzaar dogi." Yah kah kar bhaiya bhabhi ke kapre utarne lage.

"Kanchan, main tumhari ye kachhi saath le jaaunga."

" kyon? Aap iska kya karenge?"

" jab bhi chodne ka dil karega to ise apne lund se laga lunga." Kachhi utar kar shayad bhaiya ne lund bhabhi ki choot mein pel diya, kyonki bhabhi ke munh se awazen aane lagin

" aaah….oooh…agh..ah..ah..ah..ah"

" kanchan aaj to saari raat lunga tumhari"

" lijiye na aaaahh….kon…. aah rok raha hai? Aapki cheese hai. Jee bhar ke chodiye….ui maaa…..."

“Thori tangen aur chauri karo. Haan ab theek hai. Ah poora lund jar tak ghus gaya hai.”

“aaaaaa…hh, ooooh.”

“ Kanchan maza aa raha hai meri jaan?”

“ hun. Aaaaaa..h.”

“ Kanchan.”

“jee.”

“ Ab chhe mahine tak is khoobsoorat choot ki pyas kaise bujhaogi?”

“ aapke is mote lund ke sapne le kar hi raaten guzarungi.”

“Meri jaan tumhen chudwane mein such much bhut maza aata hai?”

“ Haan mere raja bahut maza aata hai kyonki aapka ye mota lumba lund meri choot ko tript kar deta hai.”

“Kanchan main vada karta hun, wapas aa kar tumhari is tight choot ko chod chod kar phaar daalunga.”

“Phaar daaliye na,aaa…h main bhi to yehi chaahti hun .”

“ Such ! Agar phat gayi to phir kya chudwaogi?”

“Hatiye bhi aap to ! Aapko such much ye itni achhi lagti hai?”

“ Tumhari kasam meri jaan. Itni phooli hui choot ko chod kar to main dhanya ho gaya hun. Aur phir iski malkin chudwati bhi to kitne pyar se hai”

“ Jab chodne wale ka lund itna mota tagra ho to chudwane wali to pyar se chudwaegi hee. Main to aapke lund ke liye aaa…h.. oooh bahut tarpungi. Aakhir meri pyas to ….aaaa…. yehi bujhata hai.”

Bhaiya ne saari raat jum kar bhabhi ki chudai ki. Savere bhabhi ki ankhen saari raat na sone ke karan laal thi. Bhaiya subah 6 maheene ke liye Mumbai chale gaye. Main bahut khush tha. Mujhe poora vishawas tha ki in 6 maheenon mein to bhabhi ko avashya chod paunga.

kramashah.........


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 15:19

गतान्क से आगे ......

हालाँकि अब भाभी मुझसे खुल कर बातें करती थी लेकिन फिर भी मेरी भाभी के साथ कुच्छ कर पाने की हिम्मत नहीं हो पा रही थी. मैं मोके की तलाश में था. भैया को जा कर एक महीना बीत चुका था. जो औरत रोज़ चुदवाने को तरसती हो उसके लिए एक महीना बिना चुदाई गुज़ारना मुश्किल था. भाभी को वीडियो पर पिक्चर देखने का बहुत शोक था. एक दिन मैं इंग्लीश की बहुत गंदी सी पिक्चर ले आया और ऐसी जगह रख दी जहाँ भाभी को नज़र आ जाए. उस पिक्चर में, 7 फुट लंबा, तगड़ा काला आदमी एक 16 साल की गोरी लड़की को कयि मुद्राओं में चोद्ता है और उसकी गांद भी मारता है. जब तक मैं कॉलेज से वापस आया तब तक भाभी वो पिक्चर देख चुकी थी. मेरे आते ही बोली

" रामू ये तू कैसी गंदी गंदी फ़िल्मे देखता है?"

" अरे भाभी आपने वो पिक्चर देख ली? वो आपके देखने की नहीं थी."

" तू उल्टा बोल रहा है. वो मेरे ही देखने की थी. शादीशुदा लोगों को तो ऐसी पिक्चर देखनी चाहिए. हाई राम ! क्या क्या कर रहा था वो लंबा तगड़ा कालू उस छ्होटी सी लड़की के साथ. बाप रे !"

" क्यों भाभी भैया आपके साथ ये सब नहीं करते हैं?"

" तुझे क्या मतलब? और तुझे शादी से पहले ऐसी फ़िल्मे नहीं देखनी चाहिए."

" लेकिन भाभी अगर शादी से पहले नहीं देखूँगा तो अनाड़ी रह जाउन्गा. पता कैसे लगेगा की शादी के बाद क्या किया जाता है."

" तेरी बात तो सही है. बिल्कुल अनाड़ी होना भी ठीक नहीं वरना सुहागरात को लड़की को बहुत तकलीफ़ होती है. तेरे भैया तो बिल्कुल अनाड़ी थे."

" भाभी, भैया अनाड़ी थे क्योंकि उन्हें बताने वाला कोई नहीं था. मुझे तो आप समझा सकती हैं लेकिन आपके रहते हुए भी मैं अनाड़ी हूँ. तभी तो ऐसी फिल्म देखनी पड़ती है और उसके बाद भी बहुत सी बातें समझ नहीं आतीं. आपको मेरी फिकर क्यों होने लगी?"

" रामू, मैं जितनी तेरी फिकर करती हूँ उतनी शायद ही कोई करता हो. आगे से तुझे शिकायत का मोका नहीं दूँगी. तुझे कुच्छ भी पूछना हो, बे झिझक पूछ लिया कर. मैं बुरा नहीं मानूँगी. चल अब खाना खा ले."

" तुम कितनी अच्छी हो भाभी." मैने खुश हो कर कहा. अब तो भाभी ने खुली छ्छूट दे डी थी. मैं किसी तरह की भी बात भाभी से कर सकता था. लेकिन कुच्छ कर पाने की अब भी हिम्मत नहीं थी. मैं भाभी के दिल में अपने लिए चुदाई की भावना जाग्रत करना चाहता था. भैया को गये अब करीब दो महीने हो चले थे. भाभी के चेहरे पर लंड की प्यास सॉफ ज़ाहिर होती थी.

एक बार ऐतवार को मैं घर पर था. भाभी कपड़े धो रही थी. मुझे पता था की भाभी छत पर कपड़े सुखाने जाएगी. मैने सोचा क्यों ना आज फिर भाभी को अपने लंड के दर्शन कराए जाएँ. पिछले दर्शन 3 महीने पहले हुए थे. मैं छत पर कुर्सी डाल कर उसी प्रकार लूँगी घुटनों तक उठा कर बैठ गया. जैसे ही भाभी के छत पर आने की आहट सुनाई दी, मैने अपनी टाँगें फैला दी और अख़बार चेहरे के सामने कर लिया. अख़बार के छेद में से मैने देखा की छत पर आते ही भाभी की नज़र मेरे मोटे, लंबे साँप के माफिक लटकते हुए लंड पे गयी. भाभी की साँस तो गले में ही अटक गयी. उनको तो जैसे साँप सूंघ गया. एक मिनिट तो वो अपनी जगह से हिल नहीं सकी, फिर जल्दी कपड़े सूखाने डाल कर नीचे चल दी.

" भाभी कहाँ जा रही हो, आओ थोड़ी देर बैठो." मैने कुर्सी से उठाते हुए कहा. भाभी बोली

" अच्छा आती हूँ. तुम बैठो मैं तो नीचे चटाई डाल कर बैठ जाउन्गि." अब तो मैं समझ गया कि भाभी मेरे लंड के दर्शन जी भर के करना चाहती है. मैं फिर कुर्सी पर उसी मुद्रा में बैठ गया. थोरी देर में भाभी छत पर आई और ऐसी जगह चटाई बिच्छाई जहाँ से लूँगी के अंडर से पूरा लंड सॉफ दिखाई दे. हाथ में एक नॉवेल था जिसे पढ़ने का बहाना करने लगी लेकिन नज़रें मेरे लंड पर ही टिकी हुई थी. 8 इंच लंबा और 4 इंच मोटा लंड और उसके पीछे अमरूद के आकर के बॉल्स लटकते देख उनका तो पसीना ही छ्छूट गया. अनायास ही उनका हाथ अपनी चूत पर गया और वो उसे अपनी सलवार के उपर से रगड़ने लगी. जी भर के मैने भाभी को अपने लंड के दर्शन कराए. जब मैं कुर्सी से उठा तो भाभी ने जल्दी से नॉवेल अपने चेहरे के आगे कर लिया, जैसे वो नॉवेल पढ़ने में बड़ी मग्न हो. मैने कई दिन से भाभी की गुलाबी कछि नहीं देखी थी. आज भी वो नहीं सूख रही थी. मैने भाभी से पूछा

" भाभी बहुत दिनों से अपने गुलाबी कछि नहीं पहनी?"

" तुझे क्या?"

" मुझे वो बहुत अछि लगती है. उसे पहना करिए ना."

" मैं कोन सा तेरे सामने पहनती हूँ?"

" बताइए ना भाभी कहाँ गयी, कभी सूख्ती हुई भी नहीं नज़र आती."

" तेरे भैया ले गये. कहते थे कि वो उन्हें मेरी याद दिलाएगी." भाभी ने शरमाते हुए कहा.

" आपकी याद दिलाएगी या आपके टाँगों के बीच में जो चीज़ है उसकी?"

" हट मक्कार ! तूने भी तो मेरी एक कछि मार रखी है. उसे पहनता है क्या? पहनना नहीं, कहीं फॅट ना जाए." भाभी मुझे चिढ़ाती हुई बोली.

" फटेगी क्यों? मेरे नितंब आपके जीतने भारी और चौड़े तो नहीं हैं".

" अरे बुधहू, नितंब तो बड़े नहीं हैं, लेकिन सामने से तो फॅट सकती है. तुझे तो वो सामने से फिट भी नहीं होगी."

" फिट क्यों नहीं होगी भाभी?" मैने अंजान बनते हुए कहा.

" अरे बाबा, मर्दों की टाँगों के बीच में जो वो होता है ना, वो उस छ्होटी सी कछि में कैसे समा सकता है, और वो तगड़ा भी तो होता है कछि के महीन कपड़े को फाड़ सकता है."

" वो क्या भाभी?" मैने शरारत भरे अंदाज़ में पूछा. भाभी जान गयी कि मैं उनके मुँह से क्या कहलवाना चाहता हूँ.

" मेरे मुँह से कहलवाने में मज़ा आता है?"

" एक तरफ तो आप कहती हैं कि आप मुझे सूब कुच्छ बताएँगी,और फिर सॉफ सॉफ बात भी नहीं करती. आप मुझसे और मैं आपसे शरमाता रहूँगा तो मुझे कभी कुच्छ नहीं पता लगेगा और मैं भी भैया की तरह अनाड़ी रह जाउन्गा. बताइए ना !"

" तू और तेरे भैया दोनो एक से हैं.मेरे मुँह से सब कुच्छ सुन कर तुझे खुशी मिलेगी?"

" हाँ भाभी बहुत खुशी मिलेगी. और फिर मैं कोई पराया हूँ."

" ऐसा मत बोल रामू. तेरी खुशी के लिए मैं वही करूँगी जो तू कहेगा."

" तो फिर सॉफ सॉफ बताइए आपका क्या मतलब था."

" मेरे बुद्धू देवर जी, मेरा मतलब ये था कि मर्द का वो बहुत तगड़ा होता है, औरत की नाज़ुक कछि उसे कैसे झेल पाएगी ? और अगर वो खड़ा हो गया तब तो फॅट ही जाएगी ना."

" भाभी आपने वो वो लगा रखी है, मुझे तो कुच्छ नहीं समझ आ रहा."

" अच्छा अगर तू बता दे उसे क्या कहते हैं तो मैं भी बोल दूँगी." भाभी ने लाजते हुए कहा.

" भाभी मर्द के उसको लंड कहते हैं."

" हाया…..!, मेरा भी मतलब यही था.”

“क्या मतलब था आपका?”

“ कि तेरा लंड मेरी कछि को फाड़ देगा. अब तो तू खुश है ना.?"

" हाँ भाभी बहुत खुश हूँ. अब यह भी बता दीजिए कि आपकी टाँगों के बीच में जो है उसे क्या कहते हैं"

"उसे? मुझे तो नहीं पता. ऐसी चीज़ तो तुझे ही पता होती हैं. तू ही बता दे.”

“भाभी उसे चूत कहते हैं.”

“हाया! तुझे तो शरम भी नहीं आती. वही कहते होंगे.”

“ वही क्या भाभी?”

“ ओह हो बाबा, चूत और क्या.” भाभी के मुँह से लंड और चूत जैसे शब्द सुन कर मेरा लंड फंफनाने लगा. अब तो मेरी हिम्मत और बढ़ गयी. मैने भाभी से कहा.

" भाभी इसी चूत की तो दुनिया इतनी दीवानी है.”

“ अच्छा जी तो देवेर्जी भी इसके दीवाने हैं.”

“ हां मेरी प्यारी भाभी किसी की भी चूत का नहीं सिर्फ़ आपकी चूत का दीवाना हूँ.”

“तुझे तो बिल्कुल भी शरम नहीं है. मैं तेरी भाभी हूँ.” भाभी झूठा गुस्सा दिखाते हुए बोली.

“अगर मैं आपको एक बात बताउ तो आप बुरा तो नहीं मानेंगी?"

" नहीं रामू. देवर भाभी के बीच तो कोई झिझक नहीं होनी चाहिए. और अब तो तूने मेरे मुँह से सब कुच्छ कहलवा दिया है.लेकिन मेरी कछि तो वापस कर दे."